Advantages and disadvantages of using contact lens in Hindi – कांटेक्ट लेंस प्रयोग करने के फायदे एवं नुकसान

कांटेक्ट लेंस के फायदे (Advantages of contact lenses)

1. कांटेक्ट लेन्स का प्रयोग करके आप चश्मों की तुलना में ज़्यादा अच्छे तरीके से आसपास की चीज़ें देख सकते हैं।

2. आप अलग अलग व्यक्ति की ज़रुरत के आधार पर कांटेक्ट लेंस ले सकते हैं।

3. इससे आपको हमेशा चश्मे पहनने की पीड़ा से मुक्ति मिलती है।

4. कांटेक्ट लेन्स से आपके आँखों की समस्या सुलझने की ज़्यादा संभावना होती है।

5. इनकी कीमत भले ही चश्मे से ज़्यादा होती है परन्तु शल्य क्रिया से कम (हालांकि शल्य क्रिया भी सस्ती हो सकती है अगर इस दौरान आपको बिना चश्मे या कांटेक्ट लेंस के बुलाया गया तो)।

आकर्षक दिखें (Look presentable)

कांटेक्ट लेन्स चश्मे का विकल्प है जो आपके चेहरे को आधा ढककर रखते हैं। अब समय आ गया है कि आप उन भारी चश्मों को छोड़कर कांटेक्ट लेंस का प्रयोग करें। चाहे आप किसी सामूहिक कार्यक्रम में जाएं या किसी दोस्त की शादी में, कांटेक्ट लेंस आपकी प्राकृतिक सुंदरता बाहर लाते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

आँखों की सुरक्षा के आसान और प्राकृतिक तरीके

आँखों की समस्या को छिपाना  (Hiding eyesight problem)

अगर आप चश्मा पहनते हैं तो लोगों को देखकर ही यह पता चलता है कि आपको आँखों की समस्या है। पर आँखों पर कांटेक्ट लेंस लगाने से कोई बता ही नहीं पाएगा कि आपको ऐसी कोई समस्या भी है। इससे आप अपनी आँखों की पावर भी छिपा सकते हैं।

बेहतरीन लुक (Trendy look hai contact lens ke fayde)

कुछ लोग आकर्षक लुक पाने के लिए ही रंगीन कांटेक्ट लेंस लेते हैं। इससे आपकी आँखों की पुतली का रंग बदल जाता है और आपका नया व्यक्तित्व उभरकर सबके सामने आता है। लेंस की क्षमता, जिस तरह आप विभिन्न रंग के चश्मे चुनते हैं, ठीक उसी तरह आप कांटेक्ट लेंस लेंस के प्रकार भी चुन सकते हैं।

किफायती (Affordability)

लेंस की क्षमता, एक समय था जब कांटेक्ट लेंस काफी महंगे आते थे। सिर्फ पैसे वाले लोग ही कांटेक्ट लेंस खरीद सकते थे। पर अब विज्ञान ने उन्नति कर ली है और हर श्रेणी का व्यक्ति कांटेक्ट लेंस खरीद सकता है। कुछ पावर वाले लेंस भी चश्मों से सस्ते होते हैं।

नुकसान (Disadvantages – contact lens ke nukshan)

1. इससे आँखों की कॉर्निया में संक्रमण तथा खरोंच का ख़तरा रहता है।

क्या उम्र और लम्बाई के साथ आंखों की रौशनी भी बदलती है?

2. लेंस आसानी से खराब हो सकते हैं या गिर सकते हैं।

3. आपके वर्तमान लेंस को साफ करना काफी मुश्किलों भरा काम है। आपको इसे काफी सावधानी से साफ़ करके आँखों पर लगाना होगा।

4. कुछ लोग इसे पहनकर आराम महसूस नहीं करते हैं। शुरूआती दौर में इसे पहनकर होने वाली पीड़ा और दुश्वारी के बाद लोग इसे लेकर हमेशा शंकित रहते हैं।

सफाई में झंझट (Complication in cleaning, contact lens ki dekhbhal)

जब भी धुल या अन्य गन्दगी कांच पर आकर लगती है तो उसे निकालकर साफ़ करना और फिर दुबारा आँख में लगाना सुनने में आसान अवश्य लगता है पर आसान है नहीं। अगर आपकी आँख में कुछ चला गया तो इससे काफी जलन हो सकती है तथा कान्‍टैक्‍ट लेंस के छोटे होने और पारदर्शी फाइबर का बने होने की वजह से सफाई के दौरान यह आपके हाथ से फिसल भी सकता है।

लेंस पहनने में तकलीफ (Difficulty in lens insertion)

लेंस पहनने की तकनीक काफी जटिल होती है। क्योंकि आँख शरीर का नाज़ुक हिस्सा होती है और कान्‍टैक्‍ट लेंस को आपको आँखों के अंदर लगाना होता है, अतः इसे सही प्रकार से लगाने के लिए धैर्य और प्रैक्टिस की आवश्यकता होती है। लेंस को आँखों के बिलकुल बीचों बीच लगाएं अन्यथा आप ठीक से देख नहीं पाएंगे।

लेंस बदलना (Changing the lens, contact lens kaise use kare)

जब भी आप कांटेक्ट लेन्स (कान्‍टैक्‍ट लेंस) का प्रयोग करने की सोचें तो यह ध्यान रखें कि आप एक लेंस को एक निर्धारित समय तक ही प्रयोग में ला सकते हैं। एक बार समय सीमा समाप्त होने पर आपको लेंस बदलनी पड़ेगी, अतः यह आपके लिए बार बार का खर्चा बन जाएगा।

बच्चों के लिये बेहतरीन आंखों की देखभाल 

शुरूआती असुविधा (Initial discomfort, contact lenses ka prayog)

जो लोग सालों से चश्मे का प्रयोग कर रहे हैं उनके लिए शुरुआत में लेंस लगाना काफी तकलीफ का काम होता है क्योंकि उन्हें इस बदलाव के साथ खुद को ढालने में समय लगता है। कई बार लोग भूल जाते हैं कि उन्होंने लेंस लगाया हुआ है और वे अपनी आँख रगड़ देते हैं जिसके फलस्वरूप लेंस गिर जाती है।

loading...