Surprising health benefits of fasting – उपवास करने के फायदे, व्रत के महत्व

प्राचीन समय से ही उपवास या व्रत (Fasting) को धार्मिक दृष्टि से महत्व दिया जाता रहा है जिसे एक आध्यात्मिक कार्य माना जाता है लेकिन उपवास के बहुत ही असाधारण फ़ायदों से कुछ ही लोग परिचित है, तो आइये जानें किस तरह एक निश्चित समय अवधि तक भोजन से दूर रहकर किया गया व्रत (fasting) हमारी सेहत के लिए कितना लाभकारी है।

स्वास्थ्य के लिए उपवास के लाभ (Health benefits of Fasting in Hindi/Upvas karne ke fayde in Hindi)

डीटॉक्सीफिकेशन के लिए (Promotes Detoxification)

शरीर के फैट या वसा को जलाकर उपवास के माध्यम से डीटॉक्सीफिकेश की प्रक्रिया को तेज किया जा सकता है। टॉक्सिन (Toxin) या हानिकारक तत्वों के शरीर में जमाव से कोई खास जगह चर्बीयुक्त हो जाती है। जब हम प्रोसेस्ड फूड खाते हैं तो यह वसा के रूप में शरीर में जमती रहती है जो सेहत के लिए हानिकारक भी होती है। उपवास के द्वारा इन हानिकारक तत्वों को शरीर से बाहर निकालने में आसानी होती है। जब यह डीटॉक्सीफिकेश की प्रक्रिया चलती रहती है तो लीवर, किडनी और शरीर के कुछ अन्य अंग टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

पाचन तंत्र को आराम (Gives rest to digestive system)

जब हम व्रत करते हैं तो पाचन तंत्र को आराम मिलता है। इस दौरान पाचक रस का स्त्राव रुकता तो नहीं लेकिन धीमा ज़रूर हो जाता है। यह प्रक्रिया शरीर के अन्तःस्त्राव को नियमित और बेहतर रूप से संचालित होने के लिए प्रेरित करती है।

पेप्टिक अल्सर से पीड़ित लोगों को उपवास ना करने की हिदायत दी जाती है क्योंकि उपवास के दौरान भी पेट में अम्ल निर्माण की प्रक्रिया चलती रहती है, इसीलिए ऐसे लोगों को व्रत नहीं करना चाहिए।

प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर करता है व्रत (Fasting benefits in Hindi – Boosts immunity)

व्रत करने के दौरान बहुत ही संतुलित भोजन लेने की वजह से यह हमारे प्रतिरक्षा तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। जब आप उपवास छोड़ने जाएँ तो इसकी शुरुआत फल आदि खाकर करें। इससे शरीर अधिक मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स ग्रहण कर पाता है। एंटीओक्सीडेंट्स से भरपूर फल जैसे विटामिन ए और विटामिन ई आदि का सेवन सबसे बेहतर होता है।

मोटापा घटाने में व्रत के फायदे (upvas ke fayde in Hindi – Increases fat breakdown)

जब कोई महिला या पुरुष व्रत करते हैं तो इससे शरीर का मोटापा भी कम होता है। जो लोग नियमित रूप से उपवास करते हैं यह उन पर लागू होता है इसके विपरीत जो लोग रुक रुक कर या अनियमित ढंग से इसका पालन करते हैं उन पर व्रत का प्रभाव नहीं पड़ता।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,327 other subscribers

उत्तेजक रोगों में सहायक उपवास (Resolves inflammatory response)

उपवास के लाभ (हिन्दी में) अनेक हैं, इसकी मदद से शरीर में होने वाले कई रोग दूर हो जाते हैं। इन रोगों में आर्थराइटिस, त्वचाजन्य रोग जैसे सोरयसिस, गठिया वात आदि प्रमुख हैं। विशेषज्ञों का मत है कि उपवास द्वारा आंतों और पेट से संबन्धित रोगों में भी राहत मिलती है।

ब्लड शुगर लेवल को कम करता है व्रत (Lowers blood sugar level)

उपवास के दौरान शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए बॉडी ग्लूकोस टूटते हैं ग्लूकोज को तोड़ने में ग्लूकागॉन (Glucagon) मदद करता है। इस दौरान पेंक्रियाज़ को आराम मिलता है और इंसुलिन का निर्माण कम होता है। शुगर लेवल को कम करने में भी उपवास का महत्व है

उच्च रक्तचाप से राहत (vrat ke fayde in Hindi – Corrects high blood pressure)

ऐसे लोग जिन्हें हाइ ब्लड प्रेशर (High blood pressure) की शिकायत है उनके लिए उपवास रखने के फायदे कई हैं, यह धमनियों में जमी वसा को प्राकृतिक रूप से बाहर निकालने में मदद करता है। फास्टिंग या उपवास के द्वारा शरीर के हार्मोन्स को भी संतुलित किया जाता है।

loading...