Guava for skin, hair and health care tips in Hindi – त्वचा, बाल और स्वास्थ्य देखभाल के लिये अमरूद के लाभ

अमरुद भारतीय घरों में पाया जाने वाला एक स्सामान्य फल है। यह इतनी आसानी से प्राप्त होता है कि लोग इसके स्वास्थ्य गुणों को नज़रंदाज़ कर देते हैं। एक अमरुद एक सेब से कम स्वास्थ्यकर नहीं होता और यह आपके लिए काफी फायदेमंद सिद्ध होता है। अरूद के फल के अलावा इसकी पत्तियों में भी बेहतरीन औषधीय गुण होते हैं और इनकी मदद से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं तथा त्वचा की परेशानियों को पुरातन काल से दूर किया जाता रहा है।

अमरुद विटामिन ए, विटामिन सी (vitamin A, vitamin C) तथा कॉपर, मैंगनीज एवं मैग्नीशियम ( copper, manganese and magnesium) जैसे खनिज पदार्थों से भरपूर होता है। अमरुद में कैंसर (cancer) से लड़ने वाले फ़्लवोनोइडस तथा फाइटोकेमिकल्स (flavonoids and phytochemicals) मौजूद होते हैं जो अच्छे स्वास्थ्य का प्रतीक होते हैं। यह सुनने में आश्चर्यजनक लग सकता है, पर अमरुद में संतरे से  ज़्यादा विटामिन सी होता है एवं इसमें मौजूद पोटैशियम (potassium) की मात्रा केले से भी ज़्यादा होती है।

इस लेख में हम अमरुद के त्वचा, बालों और स्वास्थ्य पर होने वाले गुणों पर प्रकाश डालेंगे।

अमरुद के स्वास्थ्य से जुड़े गुण (Benefits of guava for health)

अमरुद कैंसर से लड़ने में सक्षम (Guava can fight cancer hai amrood ke gun)

अमरुद एंटीऑक्सीडेंटस (anti-oxidants) से भरपूर होता है जो कैंसर तथा शरीर की अन्य असामान्य समस्याओं को ठीक करने में सक्षम होते हैं। इसमें पर्याप्त मात्रा में लाइकोपीन (lycopene) मौजूद होता है, जो प्रोस्टेट (prostate) एवं स्तनों के कैंसर से लड़ने में आपकी मदद करता है। लाइकोपीन के अलावा अमरुद में विटामिन सी, फ़्लवोनोइडस, बीटा कैरोटिन, क्रिप्टोज़न्थिन और लूटेन (beta-carotene, cryptoxanthin and lutein) भी मौजूद होता है जो फ्री रेडिकल्स (free radicals) से लड़कर आपको कैंसर से सुरक्षा प्रदान करता है। ये एंटीऑक्सीडेंटस कैंसर की कोशिकाओं के ख़त्म होने के ज़िम्मेदार भी बन सकते हैं।

अमरुद के रस के स्वास्थ्य लाभ

अमरुद प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए (Amrood khane ke fayde it boosts the immunity)

अमरुद एक ऐसा फल है जिसमें विटामिन ए और विटामिन सी के साथ अन्य पोषक तत्व भी होते हैं जो आपकी प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करते हैं। शरीर की प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होने से आप सामान्य संक्रमणों से बचे रहते हैं और बीमारियों से रहित जीवन जी पाते हैं। अपने रोजाना के खानपान में 1 अमरुद को शामिल करने पर आप इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि आपकी प्रतिरोधक क्षमता अपने चरम पर है। इससे आप सामान्य सर्दी खांसी और बुखार से दूर रह पाएंगे।

दिल के अच्छे स्वास्थ्य के लिए अमरुद (Guava for a better heart health)

अमरुद के सेवन से दिल का स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है। इसमें फाइबर (fiber) की उच्च मात्रा होती है जो शरीर के खराब कोलेस्ट्रोल (cholesterols) को सोखकर अच्छे कोलेस्ट्रोल की मात्रा में इजाफा करते हैं। इस फल में चीनी की मात्रा कम होती है, जिससे शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा नियंत्रित होती है। अमरुद में मौजूद पोटैशियम की उच्च मात्रा से दिल का स्वास्थ्य अच्छा होता है और दिल का दौरा पड़ने की संभावना भी कम हो जाती है। अतः अगर आपको दिल की बीमारी है या फिर आप उच्च रक्तचाप की समस्या से गुज़र रहे हैं तो अपने रोज़ाना के भोजन में अमरुद को शामिल करें।

अमरूद के लाभ – हाजमे को सुधारे (Promotes digestive health hai amrood ke faide in hindi)

अमरुद में काफी मात्रा में फाइबर होता है जो हाजमे को दुरुस्त रखने में आपकी मदद करता है और कब्ज़ जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाता है। अमरुद के बीज प्राकृतिक लैक्सेटिव (laxative) माने जाते हैं जो हाज़मे की प्रणाली को साफ़ करने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसके सेवन से हाजमे की प्रणाली में हुआ संक्रमण भी ठीक होता है। अमरुद में उच्च मात्रा में मौजूद अघुलनशील फाइबर मलाशय से मल की हलचल करवाते हैं और पेट में पोषक तत्वों को समाने में मदद करते हैं। स्वस्थ जीवन के लिए हाजमे का सही होना काफी आवश्यक है और इसके लिए अमरुद काफी अच्छा विकल्प है।

मधुमेह का इलाज करे (Amrood ke fayde can treat diabetes)

लम्बे समय से दंतकथाओं में अमरुद की पत्तियों से मधुमेह को ठीक करने के बारे में कहा जाता रहा है। शोधों से भी साबित हुआ है कि अमरुद के छिलके और पत्ते शरीर में सुक्रोज तथा माल्टोज़ (sucrose and maltose) को अच्छे से सोखकर रक्त में चीनी की मात्रा को कम करते हैं। जापान में प्राचीन समय से सूखे अमरुद के पत्तों से बनी चाय से मधुमेह के इलाज की कहानी चली आ रही है। विश्व के कई हिस्सों में अमरुद के छिलकों से भी मधुमेह को दूर किया जाता रहा है।एक शोध के अनुसार अमरूद की पत्तियां एल्फा-ग्लूकोसाइडिस एंज़ाइम की क्रिया द्वारा रक्त शर्करा को कम करती है।  दूसरी तरफ सुक्रोज़ और लैक्टोज़ को सोखने से शरीर को रोकती है जिससे शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है।

अमरुद खाने से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

आँखों की रोशनी बढ़ाए (Promotes eyesight)

अमरुद में काफी मात्रा में विटामिन ए होता है जो आँखों की रोशनी ठीक करने का काफी अच्छा उपाय है। रोजाना अमरुद का सेवन करने से रतौंधी जैसी समस्या से आप बच सकते हैं। इससे आँखों में मोत्याबिंद भी पैदा नहीं होता और मैकुलर डीजेनेरशन (macular degeneration) से बचाव करने में भी यह काफी प्रभावी साबित होता है। अमरुद बच्चों और बड़ों दोनों के लिए आदर्श फल का काम करता है, क्योंकि इससे आपके आँखों की रोशनी तेज़ होती है।

अमरूद के फायदे – वज़न घटाने में (Amrood ke patte ke fayde helps to lose weight)

अमरूद की पत्तियां जटिल स्टार्च को शुगर में बदलने की प्रक्रिया को रोकता है जिसके द्वारा शरीर के वज़न को घटाने में सहायता मिलती है।

अमरूद के पत्ते के फायदे – कोलेस्ट्रॉल को कम करना (Lowers cholesterol)

कुछ शोधकों ने इस बात का पता लगाया है कि अमरूद की पत्तियों की चाय बना कर पीने से शरीर के अंदर की खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। इस प्रक्रिया में यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल पर कोई प्रभाव नहीं छोड़ता है। इन सब के अलावां यह यकृत का अच्छा टॉनिक है और महत्तवपूर्ण अंगों से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालता है। आंखों के परिणाम के लिये अमरूद की पत्तियों की चाय प्रतिदिन कम से कम तीन महीनों तक प्रयोग करें।

ज्ञान सम्बन्धी क्रियाएं अच्छे से करने में सहायक (Helps in better cognitive functions)

अमरुद में बी विटामिन्स (B vitamins) होते हैं। यह नियासिन तथा पैरीडोक्सिन (niacin and pyridoxine) से युक्त होता है, जो दिमाग में रक्त का संचार अच्छा करने के लिए जाने जाते हैं। इससे आपका दिमाग अच्छे से काम करता है। ये विटामिन्स तनाव को भी दूर करते हैं जिससे दिमाग की कार्यशीलता बढ़ती है। अमरुद में मौजूद मैग्नीशियम नसों और मांसपेशियों को आराम देता है। अमरुद आपके दिमाग में अच्छा महसूस करवाने वाले हॉर्मोन (hormone) पैदा करता है जिससे बेचैनी और स्वभाव में बदलाव की समस्या से छुटकारा प्राप्त होता है।

अमरूद खाने के फायदे – अमरुद गर्भावस्था के लिए अच्छा फल (Guava the right fruit for pregnancy)

अमरुद में फोलिक एसिड (folic acid) होता है जो बच्चे के नाड़ी स्वास्थ्य में काफी बड़ी भूमिका निभाता है। होने वाली माँ के शरीर में फोलिक एसिड की कमी होने से बच्चे के नसों का विकास ठीक से नहीं हो पाता। इसके फलस्वरूप गर्भपात की संभावना भी बढ़ जाती है। फोलिक एसिड भ्रूण की नाड़ी के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करता है एवं  गर्भावस्था की प्रक्रिया को काफी सहज और सुगम बनाता है। अतः गर्भवती महिलाओं के लिए अमरुद का सेवन करना काफी लाभ का सौदा साबित होगा।

बवासीर के दौरान क्या खाएं और क्या नहीं ?

दांतों के दर्द और स्वस्थ मसूड़ों के लिए अमरुद की पत्तियां (Guava leaves for toothache and healthy gums)

अमरुद की पत्तियां अपने एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) एवं जलनरोधी गुणों की वजह से जानी जाती हैं। ये दांतों के संक्रमण को दूर करके आपको दांतों के दर्द से मुक्ति दिलाते हैं। अमरुद के पत्ते मसूड़ों के लिए भी काफी अच्छे होते हैं और ये पायरिया (pyorrhea) जैसे मसूड़ों के संक्रमण को ठीक करने के लिए  भी जाने जाते हैं। ये सूजे हुए मसूड़ों को ठीक करने के लिए भी जाने जाते हैं तथा मुंह का स्वास्थ्य बरकरार रखते हैं।

अमरूद के लाभ – पाचन में लाभ (Aids digestion hai amrud ke fayde)

एक अन्य अद्भुत लाभ अमरूद की पत्तियों से बनायी गयी चाय में यह है कि यह पाच को नियमित करता है इसके लिये यह चाय पाचक एंजाइमों के उत्पादन को शरीर में बढ़ाता है। अमरूद पत्ती में पाया जाने वाला एंटीबैक्टीरियल गुण पेट के बैक्टीरिया को नष्ट करता है। अमरूद की पत्ती फूड प्वाइज़निंग में लाभ पहुंचाता है और उल्टी तथा चक्कर की समस्या को खत्म करता है। पेट दर्द में आराम पाने के लिये पानी में मुट्ठी भर अमरूद की पत्तियों को उबाल लें। इसमें से पानी निकालकर दिन में 3 या 4 बार इसे पियें।

त्वचा पर अमरुद के गुण (Benefits of guava for skin)

उम्र बढ़ने के निशानों से लड़े (Fights signs of skin aging)

अमरुद एंटीऑक्सीडेंटस तथा विटामिन ए एवं सी से युक्त होता है। एंटीऑक्सीडेंटस त्वचा पर से फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम कर देते हैं और चेहरे पर समय से पहले आ रहे उम्र के निशानों जैसे महीन रेखाओं और झुर्रियों को रोकते हैं। अमरुद में मौजूद लाइकोपीन त्वचा को प्रकृति के हानिकारक प्रदूषक तत्वों से बचाता है और त्वचा का अच्छा स्वास्थ्य बरकरार रखता है। मुक्त रैडिकल अणुओं की मात्रा में वृद्धि उम्र के बढ़ने और झुर्रियों के कारण है। ये एंटीऑक्सीडेंट की सहायता से कम किये जा सकते हैं जो अमरूद की पत्तियों में एक गुण है। पर्याप्त पानी में अमरूद की पत्तियों को उबालकर काढ़ा बना लें और अपने चेहरे पर त्वचा में कसाव और रंगत और बनावट में वृद्धि पाने के लिये इसे लगा लें।

अमरूद के फायदे – एक्ने का इलाज करे (Treats acne hai amrood ke labh)

अमरुद के पत्तों में प्राकृतिक एंटीबैक्टीरियल तथा जलनरोधी गुण होते हैं, जिसकी मदद से ये त्वचा के संक्रमणों जैसे मुहांसों और एक्ने से लड़ने की क्षमता रखते हैं। यह त्वचा के सामान्य संक्रमणों और एलर्जी (allergy) का इलाज भी प्रभावी रूप से करते हैं।

अपनी वास्तविक खूबसूरती को बढ़ाने के लिये त्वचा से मुंहासों के दागों की समस्या हटाने के लिये इसका प्रयोग कर सकती है। अपने एंटीसेप्टिक गुण के कारण यह मुंहासों को पैदा करने वाले कीटाणुओं को नष्ट करता है। कुछ देर तक छोड़ने के बाद धुल दें परिणाम प्राप्त होने तक इस प्रक्रिया को दोहरायें।

ग्रीन टी की मदद से त्वचा, बाल और शरीर की यूं करें देखभाल

आपकी नाक, ठुड्डी और अन्य क्षेत्रों पर होने वाले बलैक हेड को इससे आप हटा सकते हैं। अमरूद की पत्ती को पर्याप्त पानी में मिलाकर पीस लें और बलैकहेड के क्षेत्र में इससे स्क्रन करें।

UV किरणों से त्वचा को बचाए (Protects skin from UV radiation)

अमरुद में मौजूद लाइकोपीन त्वचा को UV के प्रभावों से बचाने में काफी कारगर सिद्ध होता है।

अमरूद के गुण – खुजलाहट (Itching se chutkara amrood ka faida)

अमरूद की पत्तियों में एलर्जी अवरोधक गुण पाया जाता है। एलर्जी बहुत सारे अन्य खुजलाहट का मुख्य कारण है। अत: एलर्जी को कम करने से खुजलाहट अपने आप कम हो जायेगी।

बालों की देखभाल के लिए अमरुद के गुण (Benefits of guava in hair care)

अमरुद के पत्ते बालों का झड़ना रोकने तथा नए बाल उगाने के लिए जाने जाते हैं। अमरुद के पत्तों की मदद से तैयार एक काढ़ा या पैक सिर पर लगाकर इसका आनंद लिया जा सकता है। अमरुद खाने से शरीर में कई तरह के विटामिन और खनिज पदार्थ जाते हैं और इस फल की मदद से आप भोजन से पोषक पदार्थ अपने शरीर में सोख सकते हैं। शरीर में पोषक तत्व अच्छे से समा जाने पर बालों और सिर की समस्या भी दूर हो जाती है।

अमरूद के गुण – बालों के झड़ने की समस्या में लाभ (Guava benefits for hair Aids to stop hair fall)

अमरूद में बालों को गिरने से रोकने की क्षमता है। मुट्ठी भर अमरूद पत्तियों को एक लीटर पानी में 15 से 20 मिनट तक उबालें। इस पानी को छानकर अपनी खोपड़ी और बालों की जड़ों पर लगाये और पानी के कमरे के तापमान पर आने पर धुल दें।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday