Amazing health benefits of coriander / parsley – धनिये के चमत्कारी स्वास्थ्य लाभ

शरीर और सेहत के लिए धनिया और पार्सले दोनों ही एक बहुत गुणकारी हरी पत्तियाँ है जो दिखने में लगभग एक समान ही होती हैं। धनिये को त्वचा में होने वाली जलन को कम करने में उपयोगी माना जाता है साथ ही कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाने पर उसे नियंत्रण में करने के लिए भी धनिया बहुत सहायक होता है।

मुंह के छालों को ठीक करने और डायरिया, मासिक धर्म संबंधी परेशानी, चेचक, एनीमिया, त्वचा संबंधी रोग, आँख आना और डायबिटीज़ आदि में धनिया बहुत ही लाभदायक माना जाता है। यह आँखों के लिए तो खास रूप से फायदेमंद होता है। दवा रूपी इस गुणकारी औषधि का प्रयोग हमारे रोज़ के खाने में मसाले के रूप में भी किया जाता है। इसके साथ ही भोजन को सजाने के लिए हम धनिये की हरी पत्तियों का खास इस्तेमाल करते हैं।

इसे भोजन में डालने से उसकी खुशबू औए लज़्ज़त बढ़ जाती है, जिसे देख कर ही हमें भूख का एहसास होने लगता है। धनिये या पार्सले की हरी खूबसूरत पत्तियाँ दिखने में जितनी सुंदर होती हैं, सेहत के लिए उतनी ही मात्रा में लाभकारी भी होती है।

त्वचा की जलन को कम करने में सहायक धनिये की पत्ती (Coriander can heel skin inflammation)

त्वचा की जलन को कम करने के लिए धनिया एक बहुत ही गुणकारी घरेलू औषधि है। इसमें सीनिओल (cineole) और लाइनोलिक (linoleic) जैसे अम्ल पाये जाते हैं जो एसेंशियल ऑइल में भी मौजूद होते हैं। इसी वजह से धनिये के प्रयोग को त्वचा के उपचार के लिए सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक उपाय माना जाता है। किडनी की खराबी की वजह से त्वचा पर जो सूजन आती है उसके इलाज में भी यह बहुत लाभदायक होता है। जब आप धनिये की इन सेहतमंद पत्तियों का सेवन करते हैं तो आपके शरीर में जमा अतिरिक्त पानी बाहर निकल जाता है।

त्वचा की मरम्मत में सहायक धनिया (The skin healing properties of coriander)

धनिया त्वचा पर एक किटाणुनाशक की तरह कार्य करता है साथ ही इसमें एंटीफंगल (antifungal) और एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) के भी गुण होते हैं जो त्वचा में जमा किटाणुओं को बाहर कर उसे साफ औए स्वस्थ रखती है। धनिये की सेहतमंद पत्तियों का उपयोग आप त्वचा की बनावट व रंगत को बेहतर करने के लिए भी कर सकते हैं। शीत ऋतु में त्वचा अक्सर रूखी हो जाती है, अगर आपको भी रूखी त्वचा की समस्या है और चेहरे की ताज़गी खत्म होती जा रही है तो आपको इसका प्रयोग करना चाहिए। इसे चेहरे पर लगाने से त्वचा सामान्य होकर फ्रेश नज़र आती है। इसके साथ त्वचा संबंधी विकारों जैसे एक्ज़िमा, फंगल इन्फेक्शन और शुष्कता (dryness) से बचने के लिए भी इसका प्रयोग उत्तम होता है।

धनिये का प्रयोग दिल की बिमारियों के उपचार में (Coriander treat heart ailments)

यह रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है जिसकी मुख्य वजह इसमें मौजूद ऑलिक एसिड (oleic acid), लिनोलिक (linoleic), स्टीरिक (stearic) और पल्मिटिक एसिड (palmitic acid) हैं जो दिल के खतरे से बचाने में हमारी मदद करते हैं। इन सब के अलावा इसमें एस्कोर्बिक एसिड (भी पाया जाता है जो विटामिन सी का ही दूसरा नाम है। यह ऐसा घटक है जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने में मदद करता है। धनिया हमारे शरीर पर बुरा परभाव डालने वाले उन कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक होता है जो हमारी रक्त नलिकाओं और धमनियों के भीतरी दिवारों में मौजूद होकर शरीर को नुकसान पहुँचाते हैं। यह दिल से संबंधी रोगों जैसे हार्ट अटैक या स्ट्रोक आदि का खतरा कम करते हैं।  इसका एक और लाभ यह है की ये शरीर के लिए फायदेमंद कोलेस्ट्रॉल को बढ़ावा देते है जो शरीर में रह कर दिल की बिमारियों से लड़ते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

पाचन क्रिया को बेहतर करने में लाभदायक (Coriander can improve digestion)

धनिये में बहुत से एसेंशियल ऑइल होते हैं जो पेट की क्रियाओं को बेहतर करने में मदद करते है, इसमें मौजूद एसेंशियल ऑइल जैसे बोर्नियाल (borniol) और लिनालूल (linalool) पाचन को सुचारु रख कर शरीर से पेट संबंधी समस्याओं को दूर रखने में सहायक होते हैं। ये घटक डायरिया जैसे रोग से बचने और उसे ठीक करने में भी मदद करते हैं। लीवर और आंतों को सही तरीके से कार्य करने हेतु प्रेरित करने में धनिये का विशेष योगदान होता है। अपने जीवाणुरोधी या कितनुरोधी क्षमताओं की वजह से यह शरीर में होने वाले फंगल इन्फेक्शन (fungal infection) को रोकता है। यही कारण है कि, आपको इसकी पत्तियों का नियमित सेवन करना चाहिए। आप इसे अपने भोजन के साथ सलाद और चटनी के रूप में भी खा सकतें हैं, इसके अलावा रोज के खाने को इसकी पत्तियों द्वारा सजाकर या सूप आदि की तरह भी लिया जा सकता है।

उच्च रक्त चाप में धनिये का घरेलू उपचार (Coriander helps in treating high blood pressure)

उच्च रक्त चाप या ब्लड प्रेशर को कम करने में भी धनिये का प्रयोग किया जाता है। अगर आप हाइपरटेंशन (hypertension) की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको रोज इन पत्तियों को खाना चाहिए। इसकी पत्तियों में मौजूद घटक आपको हल्का महसूस करने में मदद करेंगे और आपकी रक्त धमनियों से रक्त आसानी से बहाने लगेगा जो दिल के रोगों को कम करने में बहुत लाभदायक होता है।

एंटीसेप्टिक गुणों से भरपूर धनिया (Coriander is antiseptic)

धनिये में एंटीसेप्टिक (antiseptic) का गुण होता है। मुंह में होने वाले ऐसे छाले जो बढ़कर बहुत ही भयावह हो जाते हैं, उनके उपचार में धनिये से बहुत राहत मिलती है। यह छालों या रोगों को जल्दी भरने का काम करता है। इसीलिए आपको इसका प्रयोग अपने खाने के साथ ज़रूर करना चाहिए।

loading...