What are the healthy baby food supplements? – स्वस्थ बच्चे के आहार पूरक क्या हैं? किस उम्र पर बच्चों को आहार पूरक दें?

बच्चों के आहार(bacche ka khana) पूरक पोषकों के सांद्रित स्रोत है और भोजन के अतिरिक्त दिये जाते हैं। वे ज्यादातर खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की उच्च मात्रा को शामिल करते हैं। वे खनिजों को जैसे लोहा एनीमिया से बचाने के लिये, और विटामिनों की सम्पूर्ण सूची ए से लेकर के तक को शामिल करते हैं।

किसे आहार पूरक की जरूरत है? (Who needs food supplements?)

मां का दूध या सूत्र अधिकांश बच्चों के जन्म से चार महीने तक पोषण के लिये पर्याप्त है। कभी कभी डॉक्टर उन बच्चों को विटामिन डी की पूरक सलाह देते हैं जो स्तन दूध पर आश्रित हैं या उनको जो प्रतिदिन दूध के कम से कम चार बोतलें या प्रति दिन 32 औंस से कम सूत्रित आहार को ग्रहण करते है। बच्चे का शुरुआती भोजन, जैसे जैसे बच्चा बढ़ता है तरल से ठोस आहारों में परिवर्तन होता है।

ऐसे बच्चे जो सभी प्रकार का आहार ग्रहण करते हैं सामान्य रूप से उन्हें किसी आहार पूरक की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन पूर्वविकसित बच्चों को आहार पूरक आवश्यक है।

यदि मां का स्वास्थ्य अच्छा नहीं है, तो उत्पादित दूध कम हो सकता है या पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। डॉक्टर बच्चे और मां के लिए इन पोषक तत्वों की कमी की देखभाल करने के लिए कुछ शिशु का आहार, आहार पूरकों को लिख सकते हैं।

बच्चे को चुप कैसे कराएं

आहार पूरक, शिशुओं और बढ़ते बच्चों में उनके महत्व (Food supplements and their importance in babies and growing children)

विटामिन और खनिज (Vitamins and Minerals)

सूत्रित आहार करने वाले बच्चों को अतिरिक्त विटामिन और खनिज की आवश्यकता नहीं होती है। शिशुओं को सामन्यतया विटामिन डी की खुराक की जरूरत है। लेकिन छ: महीने के बच्चों को चिकित्सक लौह प्रचुर आहार या लौह पूरक को शुरू करने की सलाह देते हैं।

लोहा (Iron)

6 महीने से 5 वर्ष तक के बढ़ते बच्चों को स्वास्थ्य विभाग द्वारा विटामिन बूँदें दी जाती है। ये बूंदें विटामिन ए, सी और डी के लिए पूरक हैं, अतिरिक्त विटामिन की खुराक हानिकारक हो सकती है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,296 other subscribers

विटामिन डी (Vitamin D)

विटामिन डी केवल कुछ खाद्य पदार्थों में स्वाभाविक रूप से होता है। वे मछली के तेल और अंडे में पाए जाते हैं। यह कुछ नाश्ता अनाज और रोटी में भी मिलता है। विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत गर्मियों में आपकी त्वचा पर सूरज की रोशनी है। सभी शिशुओं और छह महीने से लेकर पांच साल उम्र तक के युवा बच्चों के दैनिक आहार में विटामिन डी युक्त पूरक विटामिन बूँदों के रूप में लेना चाहिये। बच्चों का खाना, सूत्रित आहार लेने वाले बच्चों को किसी विटामिन की आवश्यकता नहीं है, केवल उनके लिये है जो प्रतिदिन 500 मिली से कम आहार ले रहे हैं। अगर मां बच्चे को स्तनपान कराती है और उसने गर्भवस्था के दौरा विटामिन डी को नहीं लिया है तो डॉक्टर बच्चे के जन्म के प्रथम माह में विटामिन डी की बूंदे प्रस्तावित कर सकती है।

विटामिन ए (Vitamin A)

अपने बच्चे को सुलाने के कुछ असरदार तरीके

बच्चों का आहार विटामिन ए शिशुओं और छोटे बच्चों के लिए महत्वपूर्ण है। यह मंद प्रकाश में उनकी दृष्टि में सहायता, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत, और स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने में मदद करता है। विटामिन ए का स्रोत डेयरी उत्पादों, वसा, गाजर, आलू, गोभी, पालक और ब्रोकोली हैं।

विटामिन सी (Vitamin C)

विटामिन सी बच्चे के सामान्य स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण है। यह शिशुओं के लिये आहार शरीर में लोहे को अवशोषित करने में मदद करता है। विटामिन सी का अच्छा स्रोत कीवी फल, संतरा, टमाटर, मिर्च और स्ट्रॉबेरी हैं।

शिशु का शुरुआती आहार – प्रोटीन की खुराक (Protein supplements)

यह बढ़ते बच्चों को दिया जा सकता है। यह अंडे, सोया और प्रोटीन पट्टियों में शामिल हैं।

अन्य पूरक (Other supplements)

यह हर्बल्स, प्रोबायोटिक्स और एंजाइमों को शामिल करता है जो कुछ आम बीमारियों और लक्षणों के उपचार और रोकने के लिए किया जाता है। बच्चों के लिये इन्हें अंदेखा करना चाहिये। शिशु का डाइट प्‍लान, चिकित्सक की सिफारिश के बिना कोई भी आहार पूरक नहीं देना चाहिये।

बढ़ते शिशुओं के लिए आहार (Food for growing infants)

  • सबसे पहला आहार लौह परिपूरित होना चाहिये जिसे चार महीने के समय से शुरू किया जा सकता । यह आसानी से पच जाता है और एलर्जी की प्रतिक्रिया की कम संभावना है।
  • छठे महीने से केला, नाशपाती, सेब, गाजर, कद्दू, आलू, और मीठा आलू शुरू किया जा सकता है।
  • तरल पदार्थ जैसे नारियल पानी, फलों का रस, सब्जियों के रस एक समयावधि में पेश किये जा सकता है।
  • घर में बने खाद्य पदार्थ सबसे सुरक्षित और स्वास्थ्यप्रद हैं।
loading...