Ayurvedic home remedies for flaky skin – सिर की पपड़ीदार त्वचा के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

बालों की सतह या सिर की त्वचा से पपड़ी का निकालना एक ऐसी समस्या है जिसके कारण गहरे रंग के कपड़े पहनने में खासकर तब शर्मिंदगी महसूस होती है जब आप किसी सामाजिक उत्सव या कोई औपचारिक मुलाक़ात में शामिल हो रहें हों।

त्वचा की परतों से युक्त पपड़ीदार सिर त्वचा अत्यधिक सूखी होकर ढीली हो जाती है और इस तरह ये मृत या सूखी त्वचा निश्चित ही बर्फ की तरह आपके सिर से आपके कंधों पर आ गिरती है और सचमुच यह एक शर्मिंदगी भरी स्थिति पैदा कर देते हैं। बालों की समस्या, इन मृत त्वचा की सिर में उपस्थिति को रोकने के लिए इनका सही उपचार ज़रूरी है।

और यहाँ तक की कुछ बहुत मशहूर निर्माता कंपनियाँ इस समस्या के उपचार के लिए उत्पाद बनाने की कोशिश कर रहीं हैं ताकि उनके उत्पाद की मदद से इस समस्या को खत्म किया जा सके। पर अगर आपको भी इस तरह की शिकायत है तो आप आयुर्वेद के उपचार का सहारा ले सकते हैं, ये सुरक्षित और घर पर ही किए जाने वाले साधारण प्रयोग हैं।

सिर की त्वचा का एक निश्चित समय होता है जब वह सूख कर मृत हो जाती है और उसके उपरांत झड़ कर गिरती है। पर पपड़ीदार त्वचा के साथ ऐसा नहीं होता, यह समय से पहले ही अत्यधित सूखी (dry) अवस्था में जाकर सामान्य त्वचा की अपेक्षा बहुत जल्दी ही निकलने लगती है।

पपड़ीदार त्वचा के कारण (Causes of flaky skin)

  • डैंड्रफ या रूसी
  • लक्षण जैसे सूखी पपड़ी, लाल धब्बों और सिर की त्वचा में खुजली सिबोरिक डर्मेटाइटिस (seborrhoeic dermatitis) का परिणाम है
  • बालों को सुखाने के लिए ब्लोअर का इस्तेमाल
  • सर्दी के दिनों में बालों का रूखापन
  • गंदगी, कार्बन आदि

पैरों से आने वाली दुर्गंध को दूर करने के घरेलू उपचार

पपड़ीदार त्वचा के लिए कुछ कुछ घरेलू उपाय (Home remedies for flaky skin)

हर्बल शैंपू (Herbal or Ayurvedic shampoo)

सिर की खुजली, आपको अपने बालों के लिए किसी बेहतर किस्म के हर्बल शैंपू का प्रयोग करना चाहिए, अगर आपके सिर की त्वचा से इस तरह की पपड़ी निकाल कर गिर रही हो तो ऐसे में बालों को केमिकल युक्त शैंपू से नहीं धोना चाहिए। यह भी त्वचा की एक अवस्था है जो ड्राइ स्किन और अति सूक्ष्म जीवाणुओं के संक्रमण से होती है, ऐसे में केमिकल युक्त शैंपू आपकी त्वचा को अन्य प्रकार से प्रभावित करेगा जो और भी खतरनाक हो सकता है। अतः हर्बल शैंपू, बालों में कंडीशनर का प्रयोग ही बेहतर होता है जो आपके बालों से अतिरिक्त तेल को बाहर निकालता है और बालों को साफ करता है।

गर्मी के मौसम में टोपी का करें इस्तेमाल (Hat during summer)

सिर की त्वचा से पपड़ी निकालने की मुख्य वजह अत्यधिक सूखापन होता है, और ज़्यादा ताप और गर्मी की वजह से यह स्थिति बनती है। गर्मी के दिनों में सूर्य की किरणें आपके बालों में से होती हुई आपकी सिर की त्वचा में प्रवेश कर सकती है जो आपके सिर की त्वचा में सूखापन और पपड़ी को जन्म देता है। इसीलिए अपने सिर को हमेशा तेज़ गर्मी और ताप से बचाने की कोशिश करें। गर्मी में जब भी धूप में जाएँ तब हमेशा सिर को ढक कर ही निकलें। अपने सिर पर टोपी का इस्तेमाल करें और बाहर निकलते वक़्त टोपी पहनने की आदत बनाएँ।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

मेथी के दाने (Fenugreek seeds)

आप एक घरेलू तरीका अपना सकते हैं। 2 से 3 चम्मच मेथी के दानों को रात भर पानी में भिगो के रख दीजिये। रात भर भीग जाने के बाद सुबह इसे अच्छी तरह पीस कर पेस्ट बना लीजिये। जब पेस्ट बन कर तैयार हो जाए तो उसमें अपनी सुविधानुसार पानी मिलाकर थोड़ा पतला कर लें ताकि सिर पर लगाने में आसानी हो। अब इस पेस्ट को सिर की त्वचा पर अच्छी तरह लगा लें और बालों पर भी लगा सकते हैं। इसे 30 मिनट तक यूं ही रहने दें और फिर पानी से धोकर साफ कर लें। आप महसूस करेंगे की ड्राइनेस (Dryness) और पपड़ी बालों से बिल्कुल खत्म हो चुकी है।

कीलोइड के उपचार के सबसे प्रभावी और घरेलू उपाय

एलोवेरा की पत्तियाँ (Aloe Vera)

अगर आपके बगीचे में एलोवेरा (aloe vera)का पौधा है तो यह आपके लिए बहुत लाभदायक हो सकता है। एलोवेरा के पौधे को ध्यान से देखिये, इसकी पत्तियाँ मांसल और रस से भरी होती है। अब इसकी पत्ती को बीच से काटकर उसमें मौजूद जेल (Gel) को निकाल लें। अपनी खोपड़ी में इस जेल को लगाकर अपनी उँगलियों की मदद से हल्की मसाज करें। लगभग 20 मिनट लगे रहने देने के बाद ठंडे पानी से सिर को धो लें। यह आपके सिर की त्वचा को मॉश्चराइज़ करता है और सूखापन दूर करता है इसके साथ ही आपकी त्वचा अच्छी तरह से सांस ले पाती है। आप इसे रोजाना प्रयोग में ला सकते हैं। यह आपके सिर की त्वचा से निकालने वाली पपड़ी को आसानी से दूर करने में प्रभावी होता है।

गुड़हल की पत्तियाँ (Hibiscus leaves)

गुड़हल (Hibiscus) एक सामान्य पौधा है जो आसानी से हमारे आस पास पाया जाता है। आप गुड़हल के फूलों के साथ कुछ पत्तियाँ भी तोड़ लें। अब इनके छोड़े टुकड़े कर थोड़ा पानी मिलाकर पीस लें। इस हरे भरे पेस्ट को अपने बालों और सिर की त्वचा पर ठीक तरह से लगा लें और 40 मिनट तक रहने दें फिर पानी की सहायता से दो लें। यह एक बहुत ही प्रभावकारी आयुर्वेदिक नुस्खा है जो बालों का सूखापन दूर कर उन्हें पोषण देता है जिसका असर लंबे समय तक रहता है। इसके साथ ही यह सिर की त्वचा को भी पोषित करता है।

loading...