Stages of baby growth till one year – एक साल तक के बच्चों के विकास चरण – बेबी विकास चार्ट

यह एक बच्चे के विकास के लिए मानकों का मात्र दिशा निर्देश हैं। प्रत्येक बच्चे अद्वितीय है और वह अपनी गति से विकसित और महत्वपूर्ण बिंदुओं को पार करता है। एक बच्चे की ऊंचाई बहुत महत्वपूर्ण होती है क्योंकि ऊंचाई जीन से निर्धारित होता है।

बच्चे के विकास के लिए पहले और दूसरे महीने के महत्वपूर्ण बिंदु (Milestones of the first and second month me bachon ki growth)

बच्चे के साथ पहले कुछ दिनों तक बस डायपर बदलना, स्तनपान, सुलाना और उसके रोने पर ध्यान देना होता है। लेकिन कुछ ही हफ्तों में बच्चा मां का चेहरा, आवाज और स्पर्श पहचानने लगेगा। काले और सफेद पैटर्न बच्चे को आकर्षित करेंगे और वह कुछ परिचित आवाजों को पहचानने लगता है। बच्चा अपने सिर को उठा और अपने पेट पर थोड़ा मुड़ सकता है लेकिन उसकी गर्दन के लिये सहारा आवश्यक है।

बच्चे के विकास और अध्यापन में तीसरे महीने के महत्वपूर्ण बिंदु (Milestones of third month mei bacche ka vikas)

बच्चे मुस्कान देने के लिए तैयार है और दूसरों के चेहरे के भाव की नकल करने की कोशिश करते है। वह दूसरों के द्वारा बनाई गई बड़बड़ाहट पर जोर से बड़बड़ाता है। सिर को किसी सहारे की जरूरत नहीं होती है। वह पेट के बल मुड़कर अपने सिर को उठाता है जैसे मिनी पुश अप करने के लिए सक्षम हो सकता है। वह अपने हाथ से खिलौने को हिला और खोल और बंद कर सकता है। हाथ और आंख के बीच समन्वय में काफी सुधार हो जाता है। वह अपनी रुचि के खिलौने और वस्तुओं का पीछा कर सकता हैं।

बच्चे का पहला टुकड़ा – बच्चे का पहला ठोस आहार

बच्चों का विकास में 4 से 6 महीने के महत्वपूर्ण बिंदु (Milestones from 4 to 6 months – bacho ka vikas)

अब बच्चे पूरी तरह से अपने वातावरण में व्यस्त हो जाते है। वह मुस्कुराता है और खुद से ही बड़बड़ाकर बातचीत करने लगता है। छठवें महीने में बच्चा ठोस आहार लेने के लिए तैयार है। सातवें महीने तक बच्चे अपने पेट पर पलटकर वापस लौटने लगता है, और बिना किसी की मदद के बैठता हैं और हाथ पकड़ कर अपने पैरों पर खड़े हो जाने का सामर्थ्य आ जाता है। वह अब माँ से कुछ तरह के संकेतों को समझ सकता हैं। वह सभी रंगों को देख सकते हैं और उसकी आँखों सभी चलते खिलौनों और वस्तुओं का पीछा कर पायेंगी।

बच्चों के विकास के सिद्धांतों में 7-9 महीने के महत्वपूर्ण बिंदु (Milestones from 7-9 months)

बच्चे आगे और पीछे चलना सीख जाते हैं और जल्द ही रेंगना भी आ जाता है, बिना किसी सहारे के बैठते हैं, जानी पहचानी आवाज़ और भाषा पर जवाब देते हैं, ताली बजाते है और खेल खेलते हैं और खींचना सीख जाते हैं।

बाल विकास के चरण में 10-12 महीने के महत्वपूर्ण बिंदु (Milestones from 10-12 months me bachchon ka vikas)

प्रथम वर्ष के अंतिम दो महीनों में बच्चे में बड़ा परिवर्तन आता है। अब वह एक शिशु नहीं कहा जा सकता है। अब वह एक बच्चे से अधिक है। वह अपने दम पर भोजन करना सीख रहा है। फर्नीचर को पकड़ कमरे में चलता है मां या दादा जैसे कुछ प्रासंगिक शब्द बोलता है, वह जिन वस्तुओं को चाहता है उसको इंगित करता है, और वयस्कों की तरह नकल करके खेलने का नाटक करता है और वयस्कों की तरह मोबाइल पकड़कर बात करता है। वह अपने दम पर कुछ कदम चलने का प्रयास कर सकता है।

विकास के चरण – जन्म से 12 महीनों तक (Developmental Stages – Birth to 12 Months me bachchon ka vikas kaise kare)

बच्चे के स्तनपान को रोकने के सबसे अच्छे उपाय

सकल मोटर, बारीक मोटर, भाषा, संज्ञानात्मक और सामाजिक क्षेत्र में विकास है:

जन्म से 3 महीने तक3-6 महीने तक6-12 महीने तक
दूसरों की आंखों में देखता हैसाइकिल की तरह पैर चलाता है और पैर के अंगूठे से खेलता हैकिसी की सहायता से खड़े होने की कोशिश करता है
अचानक से हुए शोर पर रोता हैबिना किसी सहारे के सिर को उठाता हैएक हाथ से दूसरे में वस्तुओं को लेता है
मुस्कराहट या आवाज़ पर जवाब में मुस्कराता हैहाथों से खिलौने तक पहुंचना चाहता हैआवाज और शब्दों को नकल करता है
पेट के बल लेटाने पर सिर और छाती को उठाता हैपेट पर पलट कर फिर सीधा हो जाता हैस्वयं से भोजन कर सकता है
बोतल या स्तन को आसानी से चूस सकता हैपसंद और नापसंद को बताने की कोशिश करता हैसरल आदेशों और निर्देशों को समझ कर जवाब देता है

माता-पिता बच्चों की वृद्धि और विकास को खेल के द्वारा प्रोत्साहित करें।

बच्चे आश्चर्यजनक गति से बढ़ते है। कभी तो किसी एक महत्वपूर्ण बिंदु को पहले पा जाते हैं तो किसी बिंदु को देर से पाते हैं। इसलिये प्रत्येक बच्चा अद्वितीय है।

निष्कर्ष (Conclusion)

बच्चों का डाइट चार्ट, एक छोटे से शिशु, जो खुद से कुछ भी करने में सक्षम नहीं होता, को एक कार्यशील बच्चे के रूप में परिणत होने में सिर्फ 12 महीनों का समय लगता है। बच्चे काफी अदभुत गति से बड़े होते हैं। हर महीना उनके लिए काफी बेहतरीन और दिलचस्प विकास का चरण लेकर आता है। बच्चे को अपने हिसाब से बड़ा होने के लिए अकेला छोड़ देना चाहिए। कई बार बच्चे एक चरण तक समय से पहले पहुँच जाते हैं, पर कई अन्य चरणों तक पहुँचने में उन्हें ज़रुरत से ज़्यादा समय लगता है। इसी तरह हर बच्चा एक जैसा नहीं होता। कुछ बच्चे पहले महीने से बोलना शुरू कर देते हैं, वहीँ कई बच्चे तब तक नहीं बोल पाते, जब तक वे 1 वर्ष का चरण पूरा नहीं कर लेते। इसी तरह बच्चों के चलना शुरू करने का समय 8 से 18 महीनों के बीच का होता है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday