Advices and tips in Hindi to manage period pain – मासिक धर्म/माहवारी की पीड़ा से निपटने के नुस्खे

मासिक धर्म / माहवारी की पीड़ा का सामना करना कोई हंसी खेल की बात नहीं है। अगर आपको भी इस पीड़ा का सामना करना पड़ता है तो आप अकेली नहीं हैं। करीब 70% महिलाओं को मासिक धर्म / माहवारी के समय पीड़ा का सामना करना पड़ता है। अच्छी बात यह है कि कुछ नुस्खों का प्रयोग करके आप इस पीड़ा से निजात पा सकती हैं।

मासिक धर्म/माहवारी की पीड़ा क्या है? (What are Period Cramps?)

अगर आपको मासिक धर्म / माहवारी के वक़्त दर्द के साथ मरोड़ उठने की भी समस्या होती है तो यह बिलकुल सामान्य है। मासिक धर्म / माहवारी की समस्या मरोड़ की समस्या जैसी ही है जो कि पेट के निचले भाग में उत्पन्न होती है।

मासिक धर्म के समय दर्द, आप महसूस करेंगी कि यह पीड़ा मासिक धर्म / माहवारी के रक्तपात के वक़्त के आसपास या उसके पहले होगी। यह दर्द एक दिन तक रहता है, हालांकि कई महिलाओं को यह दर्द दो दिनों तक रहता है। ज़्यादातर महिलाओं को पहले दिन ही सबसे ज़्यादा दर्द का अहसास होता है। ज़्यादातर महिलाएं यह दर्द सहन कर लेती हैं पर हर 5 महिलाओं में से 1 को इतनी भयानक पीड़ा होती है कि वे रोज़मर्रा के काम करने में भी खुद को असमर्थ पाती हैं।

पीरियड्स में दर्द – गर्माहट (Warmth for masik dharm me dard )

मेनोपॉज क्या है? महिलाओं में रजोनिवृति के लक्षण और कारण

आपको शायद अंदाज़ा नहीं होगा पर पेट के हिस्से में थोड़ी गर्माहट प्रदान करने से आपकी पीड़ा काफी कम हो जाएगी। पेट पर गर्म पट्टी या गर्म पानी की बोतल रखने से काफी आराम मिलेगा। गर्म पानी की बोतल रखते समय यह ध्यान रखें कि पानी उबला ना हो वरना इससे त्वचा को हानि पहुँच सकती है।

पीरियड्स में दर्द – व्यायाम (Exercise se period me pet dard ke upay)

मासिक धर्म के घरेलू उपाय, कई शोधों से पता चला है कि व्यायाम मासिक धर्म / माहवारी की पीड़ा को कम कर सकता है। आप किसी भी तरह का व्यायाम कर सकते हैं जैसे साइकिलिंग या जॉगिंग।

पीरियड की समस्या – मालिश (Massage for menses problem in hindi)

कुछ लोग अपने शरीर का दर्द दूर करने के लिए मालिश का प्रयोग करते हैं। पेट के दर्दभरे हिस्से पर हलकी गोलाकार मुद्रा में मालिश करने से आपको फायदा मिलेगा।

पीरियड्स के दर्द – दवाओं से दूर करें दर्द (Medicine for menustral period pain in Hindi)

अगर आपको दर्द से असरदार पर अस्थायी रूप से छुटकारा चाहिए तो दवाई की दुकानों पर मिलने वाली दवाइयाँ भी आपको लाभ पहुंचा सकती हैं। शध में पाया गया है कि जिन दवाइयों में 500 मिलीग्राम पेरासिटामोल एवं ६५ मिलीग्राम कैफीन होता है वे पेरासिटामोल से ज़्यादा शक्तिशाली होती हैं। यह ना सिर्फ पीठ का दर्द और मरोड़ को ठीक करती है बल्कि मासिक धर्म / माहवारी की पीड़ा को भी दूर करती है।

माहवारी का दर्द – डॉक्टर से कब संपर्क करें? (When to contact your doctor)

योनि यीस्ट संक्रमण

कभी कभी कूल्हों के अंदर का दर्द किन्हीं और कारणों से भी हो सकता है। अगर आप अपने दर्द को लेकर चिंतित हैं तो दवा की दूकान पर या किसी डॉक्टर से इस बारे में पूछताछ कर सकती हैं। इन स्थितियों में आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए:-

  • मासिक धर्म के घरेलू उपाय, आपको काफी भयंकर दर्द है और यह दर्द काफी दिनों से यूँ ही बना हुआ है।
  • आपके मासिक धर्म/माहवारी का समय ना होते हुए भी आपके पेट में दर्द हो रहा हो।
  • आपको मासिक धर्म/माहवारी के बीच में रक्तपात का सामना करना पड़ रहा हो और यह रक्तपात आम रक्तपात से ज़्यादा और लम्बे समय तक हो।
  • मासिक धर्म के घरेलू उपाय, आपकी योनि से कुछ अजीब सा द्रव्य निकल रहा हो,खासकर तब जब यह गाढ़ा हो और बदबूदार हो।
  • आपको चक्कर भी आ रहे हों।

महिलाओं के जीवन में मासिक धर्म/माहवारी की पीड़ा सामान्य है। शुरुआत में इसमें परेशानी अवश्य होती है पर सही तकनीकों का प्रयोग करके आप इस दर्द को कम कर सकती हैं।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday