Betel leaves / pan ke patte & health benefits – पान के पत्ते / मुरलीवाला पान और उसके स्वास्थ्य के लिए फायदे

पान के पत्ते पाइपर बेटेल (Piper betle) के बेल की पत्तियां होती है, ये बेल दिल के आकार में पत्तियां देती है जिनका रंग गहरा हरा होता है। पान के पत्ते के लाभ, आयुर्वेदा में असीम औषधीय गुणों के चलते इसकी अहम भूमिका होती है। भारत में पान को रस्मों-रिवाज़ों में भी इसका इस्तेमाल (paan ke patte ka upyog) किया जाता है। इसी के साथ लोग आपको पान खाने के दीवाने भी खूब मिलेंगे। लेकिन क्या आप जानते है कि सिर्फ इसका सेवन करने से ये आपको अनगिनत फायदे देती है। हालांकि जो लोग पान के पत्तों में तंबाकू पाउडर, सुपारी और अन्य सामग्री डालकर खाते है वो सेहत के लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। लेकिन सिर्फ पान के पत्ते को चबाने से स्वास्थ्य से जुड़ी कई समस्याओं को हल करती है। भारत के कई राज्यों में इस पत्ते का सेवन किया जाता है और इसको मान्यता भी दी जाती है। तो चलिए जानते है इन पत्तियों से जुड़े स्वास्थ्य संबंधी फायदों के बारे में…

पाचन क्रिया को बेहतर करता है (Promotes better digestion)

खाना खाने के बाद पान की पत्ते (paan ke patte) को खाने से पाचन क्रिया सुचारु रुप से काम करती है। आपको बात दें कि पान का पत्ता सलाइवा (saliva) के उत्पादन को उत्तेजित करता है जिससे सलाइवा (saliva) में मौजूद डाइजेस्टिव एन्जाइम्स (enzymes) खाने को जल्दी पचाता है। पान के पत्ते आपके पूरे पाचन प्रणाली को भी उत्तेजित करता है जिसका सीधर आपके स्वास्थ पर पड़ता है।

आपके ओरल हाइजीन को बेहतर बनाता है (Helps in maintaining better oral hygiene)

बीन्स खाने के अदभुत स्वास्थ्य लाभ

आपको बता दें कि पान के पत्ते एंटी-बैक्टेरियल (anti-bacterial) गुण से युक्त होते है जो मुंह में मौजूद सभी जर्म्स (germs) को खत्म करते है जिससे आपके मुंह से बदबू आती है। इसी के साथ पान के पत्ते आपके मुंह में एसिड लेवल (acid level) पर भी नियंत्रण रखता है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि पान के पत्ते चबाने के बाद पानी की मदद से अपने मुंह को साफ कर लें अन्यथा ये आपके दातों पर दाग छोड़ सकता है। आप हफ्ते में 2 से 3 बार पान के पत्तों का सेवन कर सकते है।

पान के पत्ते खासी-सर्दी में मदद करते है (Betel leaves help in cough and cold)

आज के समय में खासी-सर्दी बहुत ही आम समस्या मानी जाती है। लेकिन क्या आप जानते है कि पान के पत्ते का सेवन करने से आप सीने में फंसे बलगम को खत्म कर सकते है। इसके सेवन से आपको राहत की सांस मिलती है और गले को आराम मिलता है। जो लोग ग्रसनीशोथ और टॉनसीलाइटिस (tonsillitis) जौसी समस्याओं से ग्रसित है वो पान के पत्तों को चबाकर अपनी इस परेशानी से छुटकारा पा सकते है। पान के पत्तों का माइल्ड एंटी बैक्टेरिय (mild anti-bacterial) गुण गले के संक्रमण का इलाज करता है और सामान्य सर्दी-खासी से राहत पहुचाता है।

पान के पत्ते डायबिटिज का है उपचार (Betel leaves can treat diabetes)

आप शायाद ये जानकर हैरान हो कि पान के पत्ते (paan ke patte) डायबिटिज (diabeties) जैसी गंभीर बीमारी का भी उपचार माना जाता है। आपको बता दें कि एक अध्ययन के तहत पान के  पत्तों में सक्रिय यौगिक पाए जाते है जो ब्लड शुगर लेवल (sugar level) पर नियंत्रण करके डायबिटिज रोगियों को मुक्ति दिला सकता है। पान के पत्तों की एंटी-डायबिटिक (anti-diabetic) गुण ने एक अध्य्यन में साबित किया है कि नियमित रुप से इसका सेवन करने से ब्लड शुगर (sugar level) नियंत्रित रहता है।

करी पत्तों के स्वास्थ्य पर लाभ

पान के पत्तें छालों के लिए कारगर (Betel leaves are ideal for treating gastric ulcers)

पान के पत्ते के फायदे (paan ke patte ke fayde), आपको बता दें कि छाले पाचन तंत्र की कुछ गड़बड़ी की वजह से होते है। पहले पेट में थोड़ा दर्द शुरु होता है फिर पाचन में परेशानी होती है और उसके बाद एसिडिटी (acidity) हो जाती है जिसकी वजह से गैस्ट्रिक अल्सर (ulcer) हो जाते है। इस समस्या के उपचार के लिए पान के पत्ते कारगर साबित हुए है। एक अध्ययन ने साबित किया है कि इन पत्तों में गैस्ट्रोप्रोटेकटिव प्रोपर्टीज (gastroprotective properties) मौजूद होती है जो गैस्ट्रिक अल्सर से आपको निजात दिलाती है।

पान के पत्ते सरदर्द करें गायब (Betel leaves for headache)

कई लोगों का मानना है कि पान के पत्ते या फिर उसके अर्क सर दर्द को खत्म करने के लिए बेहद प्रभावी होते है। हालांकि किसी भी वैज्ञानिक ने अभी तक इस बात को साबित नहीं किया है। सरदर्द को कम करने के लिए आप पान के पत्तों का पेस्ट बनाकर माथे पर लगाने से आपको सरदर्द से छुटकारा मिल सकता है।

पान के पत्तों में है विषहरण गुण (Betel leaves has detoxification properties)

आपको जानकर हैरानी होगी कि पाने के पत्तों का सेवन करने से शरीर के मौजूद सारी गंदगी निकल जाती है और ये बेहतर स्वास्ख्य के लिए उपयोगी होता है। दरअसल पान के पत्ते आपके शरीर के सारे टॉक्सिन्स (toxins) को बाहर का रास्ता दिखा देते है। इसी के साथ ये फूड प्यॉइसनिंग (food poisoning) में भी कारगर साबित हुए है। आपको बात दें कि जब शरीर से टॉक्सिन्स (toxins) बाहर निकलते है उससे आपका पेट साफ होता है। इसी के साथ आप वजन कम होने की भी संभावना रहती है।

त्वचा, बाल और स्वास्थ्य देखभाल के लिये अमरूद के लाभ

पान के पत्तें घाव भरने में करते है मदद (Betel leaves for wound healing)

आजकल लोग इतनी भागा-दौड़ी में लगे रहते है कि वो चोट का शिकार हो जाते है। पान के पत्ते के गुण, ऐसे में आपको डॉक्टर के पास जाने की जरुरत नहीं है। क्योंकि पान के पत्ते घाव भरने के लिए वरदान माने गए है। इसके लिए पहले घाव को साफ करें और उस पान के पत्तों का पेस्ट बनाकर घाव पर लगाकर पट्टी बांध लें। इसी के साथ पान के पत्तों का  पेस्ट लगाने से घाव से पहता खून भी कुछ ही सेकंड में रुक जाता है। पान के पत्तों की खास बात ये भी है कि आप इसको किसी किड़े के काट जाने पर भी लगा सकते है। इसके लिए आप बस पत्तों का  पेस्ट बनाएं और प्रभावी हिस्से पर लगा लें। इससे वो दर्द और घाव दोनों जल्द ठीक हो जाते है।

फोड़े को भी जल्द ठीक करता है पान के पत्ता (Betel leaves for treating boils)

आयुर्वेद में फोड़े के उपचार के रूप में संतरे का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन आप पान के पत्तों से फोड़े को जल्द ठीक कर सकते है। पान के पत्तों को फोड़े पर लगाने के लिए उन पत्तों को गरम करें और फिर उस पर कैस्टर ऑयल (castor oil) लगा लें। इसके बाद उन पत्तों को फोड़े के ऊपर आराम से लगाकर पट्टी बांध दें। फोड़े में मौजूद पस पान के पत्तों की मदद से सूख जाता है। इसी के साथ कुछ दिनों में फोड़ा भी जल्द ठीक हो जाता है।

मस्से का भी उपचार है पान के पत्तें (Betel leaves for treating warts)

पान के पत्तें सिर्फ फोडें और छालों में ही मददगार नहीं होते है बल्कि आप इससे अपने शरीर पर मस्सें भी हटा सकते है। इन  पत्तों से आप आसनी से मस्सों से निजात पा सकते है वो भी बिना किसी दुष्प्रभाव से.. आप पान के पत्तों या फिर उसके अर्क को सीधी उन मस्सों पर लगा सकते है। इस उपचार कि खास बात ये है कि ये त्वाच पर कोई दाग नहीं छोड़ता है। पान के पत्तों का पेस्ट रोजाना मस्से पर लगाएं इससे धीरे धीरे मस्सा सुकड़ कर खत्म हो जाएगा।

छाछ के स्वास्थ्य और सौंदर्य लाभ

मुंह के कैंसर से दिलाता है छुटकारा (Betel leaves can be helpful to prevent oral cancer)

पान के पत्ते के स्वास्थ्य लाभ, कैंसर शरीर के किसी भी हिस्से में हो इससे व्यक्ति की जान जोखिम में तो पड़ ही जाती है। लेकिन अगर आपके मुंह में कैंसर है तो आपको पान के पत्ते बचा सकते है। पान के पत्ते सलाइवा (saliva) में मौजूद एसकॉर्बिक एसिड (ascorbic acid) को बनाए रखता है। दरअसल एसकॉर्बिक एसिड (ascorbic acid) एंटी-ऑक्सीडेंट (anti- oxidant) के रूप में काम करता है जो कि आपको कैंसर से बचाने में मदद करता है।

पान के पत्ते इरेक्टाइल डिसफंक्शन का भी उपचार होते है (Betel leaves may treat erectile dysfunction)

आयुर्वेदा में पान के पत्तों का इरेक्टाइल डिसफंक्शन (erectile dysfunction) के लिए इस्तेमाल किया जाता है। कहा जाता है कि इसमें एफ्रोडिसीएक प्रोपर्टी (aphrodisiac property) होती है जो इस समस्या को आसानी से खत्म कर देती है। हालांकि इस पर भी कोई वैज्ञानिक अध्ययन नहीं किया गया है।

एक्ने की समस्या को करता है दूर (Betel leaves for treating acne)

इस बात का हम दावा कर सकते है कि पान के पत्तों का ये फायदा (paan khane ke fayde) सुनकर हर लड़की खुश हो जाएगी। क्योंकि पान के पत्ते से चेहरे की एक्ने (acne) की समस्या से निजात पा सकते है। जब आप पान के पत्तों के अर्क ऐक्ने पर इस्तेमाल करते है जब समय के साथ ये समस्या कम हो जाती है। पान के पत्तों में माइल्ड एंटी-सेप्टिक (mild anti-septic) गुण होते है जो स्किन (skin) पर मौजूद दानों को खत्म कर देते है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday