Best birth control pills with few side effects – कुछ साइड इफेक्ट के साथ शीर्ष गर्भनिरोधक गोलियां क्या हैं?

गर्भनिरोधक गोली क्या है? गर्भनिरोधक दवायें गर्भावस्था को रोकने के लिए हैं। इन गोलियों को मौखिक गर्भ निरोधक दवायें भी कहा जाता है। मौखिक बर्थ कंट्रोल पिल्स में हार्मोन एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन का संयोजन हो सकता है या केवल प्रोजेस्टिन हो सकता है। वे मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि से हार्मोन को छोड़कर गर्भ को रोकने में मदद करते हैं।

गर्भनिरोधक गोलियों का मुख्य कार्य एक महिला को गर्भ धारण करने से रोकना होता है। खुद के बच्चे को अपनी गोद में खिलाना काफी प्रसन्नता से भरा लम्हा होता है। पर ऐसे कई कारक होते हैं, जिनकी वजह से एक महिला गर्भवती होना नहीं चाहती है। कुछ जोड़े अपने पेशेवर जीवन के शिखर पर होते हैं और इस समय अतिरिक्त ज़िम्मेदारी का भार अपने कन्धों पर लेने का उन्हें कोई शौक नहीं होता।

कुछ जोड़े ऐसे भी होते हैं, जो आर्थिक दृष्टि से सुखी नहीं होते और इसलिए एक और व्यक्ति को दुनिया में लाकर वे अपनी तकलीफें बढ़ाना नहीं चाहते। क्योंकि वे अपने बच्चे को हर प्रकार की सुख सुविधा प्रदान करना चाहते हैं, अतः वे चाहते हैं कि उसका इस दुनिया में आना कुछ और समय के लिए टल जाए। गर्भनिरोधक गोलियां का चयन करते समय ऐसी गोलियों का चुनाव करें, जिनके साइड इफेक्ट्स (side effects) कम से कम हों।

बर्थ कंट्रोल पिल्स / गर्भनिरोधक गोलियां के प्रकार (Types of birth control pills)

गर्भनिरोधक गोलियां के विभिन्न प्रकार के होते हैं जिन्हें “मोनोफेसिक”, “बाईफेसिक” और “ट्राईफेसिक” भी सम्बोधित किया जाता है।

मिनी गोलियां (Mini pills)- मिनी गोलियों को मोनोफेसिक भी कहते हैं जो केवल प्रोजेस्टीन हार्मोन को शामिल करते हैं। यह सामान्य रूप से स्तनपान करा रही महिलाओं के लिए या उन महिलाओं के लिए है जो एस्ट्रोजेन के प्रभाव को सहन नहीं कर सकती हैं। प्रतिदिन इसका उपयोग अंडों के उत्सर्जन को रोकता है। ये मानक गर्भनिरोधक गोलियां से भी कम प्रभावी है।

मिनी गोलियां की अच्छाइयां और बुराइयां (Pros and cons of the minipill)

गर्भनिरोधक गोलियों के लाभ (Pros)

ब्रेस्‍ट को लूज होने से रोकने के लिए टिप्स

  • मिनी गोलियाँ ली जा सकती है यदि किसी को हृदय रोग, रक्त के थक्के, सिरदर्द या उच्च रक्तचाप की स्वास्थ्य समस्या है
  • यह स्तनपान के दौरान इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • यह प्रजनन के लिए पुन: तैयार कर देता है जब आप चाहें।

गर्भनिरोधक गोली के नुकसान (Cons)

  • यौन संचरित संक्रमणों से कोई सुरक्षा नहीं है।
  • यह गर्भनिरोधक गोलियां के बजाय कम प्रभावी है।
  • यह प्रतिदिन एक ही समय पर लिया जाना चाहिए।
  • दुष्प्रभाव अनियमित माहवारी रक्तस्राव, डिम्बग्रंथि अल्सर, सिर दर्द, स्तन कोमलता, मुँहासे, वजन और अवसाद शामिल करता है।

बहुअवस्था गोलियाँ बाइफेसिक, ट्राइफेसिक और क़्वाड्राफेसिक के रूप में भी जानी जाती है। वे हार्मोन एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टीन दोनों का संयोजन हैं। वे चक्र के चरणों पर निर्भर करते हैं। अधिकांश बहु चरण गोली चक्र में सात हार्मोन मुक्त होते हैं। वे गर्भाशय की पतली दीवारों को अधिक मोटा करते हैं और गर्भाशय से अंडों के उत्सर्जन को रोकते है।

बहुचरण माध्यम गोलियों का पक्ष और विपक्ष (Pros and cons of multiphase pills)

पक्ष (Pros)

  • डिम्बग्रंथि और एंडोमेट्रियल कैंसर का खतरा कम हो जाता है।
  • मुँहासे में सुधार होता है।
  • गंभीर मासिक धर्म ऐंठन कम होता है।
  • रजोनिवृत्ति के बाद संभव हिप फ्रैक्चर जोखिम रोकता है।
  • भारी रक्तस्राव कम होता है और संबंधित एनीमिया में मदद करता है।

विपक्ष (Cons)

वैक्सिंग के पहले और बाद में त्वचा की देखभाल के नुस्खे

  • यह यौन संचरित संक्रमणों के विरुद्ध कोई सुरक्षा प्रदान नहीं करता।
  • रक्त के थक्के, दिल के दौरों और स्ट्रोक का खतरा बढ़ता है।
  • अनियमित रक्तस्राव, सूजन, मिचली और सिरदर्द, स्तन कोमलता जैसे दुष्प्रभाव होते है।

बर्थ कंट्रोल पिल्स के साइड एफेक्ट – गोलियाँ कैसे प्रभाव डालती हैं? (birth pills ke side effects)

कोई गर्भनिरोधक गोली (garbh nirodhak tablets), अंडों के उत्सर्जन को रोकती है। प्रत्येक महिला की प्रजनन प्रणाली अलग होने के कारण एक मौखिक गर्भ निरोधकों का अनुभव अलग हो सकता है।

गर्भनिरोधक गोलियां के साइड इफेक्ट (Side effects of birth control pills)

कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हल्का खून बहना या मासिक धर्म के बीच में दाग, मिचली, कोमल स्तन और वजन शामिल हैं। अत: डॉक्टर साइड इफेक्ट की वजह से छोड़ने से पहले तीन से छह महीने के लिए गोलियाँ जारी रखने के लिए सलाह देते है।

नीचे पढ़ने जारी रखें

  • उन महिलाओं के लिए संयोजन गोलियां उपयुक्त नहीं हैं जिन्हें हृदय टी समस्याएं जैसे स्ट्रोक, खून के थक्के या जिन्हें जिगर या स्तन कैंसर है।
  • मौखिक गर्भनिरोधक एंटीबायोटिक दवाओं और एचआईवी दवाओं के साथ हस्तक्षेप कर सकते हैं।

गर्भनिरोधक गोलियां की सलाह दी जाती है (Birth control pills are prescribed for)

गर्भावस्था के दौरान अपनी खूबसूरती और अपनी देखभाल

  • गर्भ निरोधक उपाय, ये गोलियां आमतौर पर गर्भावस्था को रोकने के लिए दी जाती हैं।
  • ये उन दर्दों के इलाज के लिए भी दी जाती है जो मध्य-चक्र के दौरान महिलायें अनुभव करती हैं।
  • गर्भनिरोधक गोलियाँ मासिक धर्म चक्र को नियमित करने में मदद करती हैं।
  • यह मासिक धर्म ऐंठन और भारी रक्तस्राव को कम करने में मदद करता है।
  • गोलियां कुछ महिलाओं में एनीमिया को रोकने में मदद करते हैं।
  • गर्भनिरोध के उपाय, कभी कभी इस गोली की उच्च खुराक की सलाह दी जाती है। यह गर्भावस्था को रोकने के लिए असुरक्षित संभोग के 72 घंटे बाद ली जा सकती है।

सारांशत: जन्म नियंत्रण के लिए कई विकल्प हैं। किसी को भी सही प्रकार के गर्भ निरोधक का चयन डॉक्टर के परामर्श के आधार पर करना चाहिये।

कम साइड इफेक्ट्स वाली बेहतरीन गर्भनिरोधक गोलियां (Top best birth control pills with few side effects)

सामान्य गर्भनिरोधक गोलियां (Conventional birth control pills)

गर्भनिरोधक गोलियां कई तरह की होती हैं, जिनमें सामान्य से लेकर आजकल पायी जाने वाली गोलियां प्रमुख हैं। इस प्रकार की गोलियों में 21 तरह की गोलियां कार्यशील होती हैं और 7 गोलियां निष्क्रिय होती हैं। अन्य गर्भनिरोधक गोलियों में बनावट अलग तरह की हो सकती है। 24 कार्यशील और 7 निष्क्रिय गोलियां अन्य श्रृंखला में आती हैं। अगर आप मासिक धर्म की प्रक्रिया से गुज़रना चाहती हैं तो निष्क्रिय गर्भनिरोधक गोलियां लें।

मोनोफेज़िक गोलियां (Monophasic pills)

यह गर्भनिरोधक गोलियों का एक और प्रकार है जहां आप सिर्फ कार्यशील गोलियां ही ग्रहण कर सकती हैं। महिलाएं जिन कार्यशील गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करती हैं, उनमें बराबर मात्रा में प्रोजेस्टिन और एस्ट्रोजेन (progestin and estrogen) होता है। इन गोलियों का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह मशविरा करना काफी आवश्यक है।

कम खुराक वाली गोलियां (Low dose pills)

कई महिलाओं को गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करने के बाद कई प्रकार के साइड इफेक्ट्स अपने गिरफ्त में ले लेते हैं। उनके शारीरिक स्वास्थ्य को ध्यान में  रखते हुए विशेषग्य डॉक्टर कम खुराक वाली गोलियों का सेवन करने की सलाह देते हैं। मिश्रित गोलियां, जिनमें इस औषधि का मात्र 50 माइक्रोग्राम (microgram) होता है, एथिनाइल एस्ट्राडियोल (ethinyl estradiol) के नाम से जानी जाती हैं। और इन्हें ही कम खुराक वाली गर्भनिरोधक गोलियां कहा जाता है।

गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर या स्त्री रोग विशेषज्ञ से बात करें। उन्हें आपके शरीर की संरचना के अनुसार आपके लायक गर्भनिरोधक गोलियों के चयन का ज्ञान रहता है। वे आपसे आपका चिकित्सकीय इतिहास पूछेंगी, जिसके बाद आपको सही दवाई की पर्याप्त खुराक दी जाएगी।

loading...