Custard apple health benefits in Hindi – सीताफल के स्वास्थ्य लाभ

सीताफल स्वाद मे मीठा है और दिखने मे एक दिल के आकार का होता है। यह बाहर से सख़्त और अंदर से नरम और चबाने वाला होता है। इसका गूदा सफेद रंग का और मलाईदार होता है। इसमे चमकदार काले बीज होते है पर थोड़ा जहरीला होने की वजह से बीज का सेवन नहीं कर सकते। सीताफल खाने के बाद मिठाई और पौष्टिक नाश्ते के रूप में उपयोग किया जाता है। इसे मिल्कशेक और आइसक्रीम बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है।

यह स्वस्थ रहने के लिए सही प्रकार का फल है। सीताफल ऊष्मांक में उच्च है। लेकिन लोहा, फास्फोरस, कैल्शियम और राइबोफ्लेविन जैसे खनिज इसमे शामिल हैं। सीताफल मे प्रोटीन, फाइबर, खनिज, विटामिन, ऊर्जा है और यह कम वसा युक्त फल है। एक सीताफल मे लगभग 237 ऊष्मांक होती है, लेकिन कम ग्लाइसेमिक सूचकांक और लोड होता है।

सीताफल उच्च कैलोरी के साथ, प्राकृतिक शर्करा और स्वादिष्ट स्वाद देता है और इसे एक मिठाई के रूप में और एक पौष्टिक नाश्ते के रूप में खाया जाता हैं। इसे मिल्कशेक और आइसक्रीम बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है। यह उन लोगों के लिए अच्छा है जिन्हे उच्च गलग्रंथि होता है जो वजन हासिल करना चाहते है। कैलोरी बढ़ाने के लिए शहद और सीताफल फल के मिश्रण मददगार माना जाता है। चलो सीताफल के कुछ अन्य पोषक विवरण देखते हैं।

सीताफल के लाभ और सीताफल खाने के स्वास्थ्य लाभ (Health benefits of eating custard apples)

भिन्डी के श्रेष्ठ स्वास्थ्य लाभ

  • सीताफल के गुण, सीताफल में विटामिन सी के समृद्ध स्रोत है जो शरीर में मुक्त कण का मुकाबला कर सकते हैं।
  • इसके अलावा इसमे विटामिन ए है जो की स्वस्थ त्वचा, बेहतर दृष्टि और स्वस्थ बालों के लिए उत्तम है।
  • इसमे मैग्नीशियम है जो हृदय रोगों से दिल की रक्षा कर सकते हैं और मांसपेशियों को आराम दिला सकते हैं।
  • सीताफल खाने के फायदे, सीताफल मे विटामिन बी6 और पोटेशियम भारी मात्रा मे हैं।
  • शरीफा फल तांबे में अमीर हैं और पाचन तंत्र के आयोजन के लिए अच्छा है। स्वस्थ पाचन और कब्ज रोकने मे समर्थ है। यह आहार फाइबर से भरा है।
  • सीताफल खाने के लाभ, सीताफल (sitafal) स्वास्थ्य के लिए अच्छा है क्योकि इसमे वसा की मात्रा कम होती है।
  • सीताफल खाने के फायदे (sitaphal ke fayde), यह माना जाता है की इस फल की मलाईदार गूदे को फोड़ो और अल्सर पे उपयोग किया जा सकता है।
  • सीताफल को धूप में सुखाकर चूर्ण बनाकर इसका सेवन करने से पेचिश और दस्त ठीक हो सकते है।
  • सीताफल शीतलक, उत्तेजक और एक्षपेक्टोरांटस के रूप में काम करता हैं। ये फल रक्तहीनता के इलाज के लिए अच्छा होता हैं।
  • सीताफल खाने के लाभ, आप इसे दूध के वैकल्पिक मे पेय के रूप में इसका सेवन कर सकते हैं।
  • सीताफल (sitafal) के पेड़ कि छाल मे जो स्तंभक और टैनिन होता है वह दवाओं को बनाने में प्रयोग किया जाता है। इसके पेड़ के पत्तों को कैंसर और ट्यूमर जैसी बीमारी के उपचार के लिए अच्छा माना जाता हैं। इसकी छाल मसूडो और दातो के दर्द को कम कर करने मे इस्तेमाल की जा सकती हैं।
  • स्वस्थ त्वचा और बाल (Healthy skin and hair)– सीताफल मे विटामिन ए के उच्च स्तर की वजह से आप स्वस्थ त्वचा, स्वस्थ बाल और बेहतर दृष्टि पा सकते है।
  • रक्तहीनता (Hyper-Thyroidism)– सीताफल के गुण (sitaphal ke gun), सीताफल वजन हासिल करने वाले लोगो के लिए अच्छा हैं।
  • गर्भावस्था के दौरान (During pregnancy) – सीताफल गर्भ में पल रहे भ्रूण के मस्तिष्क, स्नायुओं की प्रणाली और प्रतिरोधक प्रणाली (nervous system and immune system) के विकास में मदद करता है। गर्भावस्था के दौरान सीताफल का रोज़ाना सेवन करने से गर्भपात (miscarriage) की सम्भावना काफी कम होती है और बच्चे के जन्म के दौरान लेबर का दर्द (labor pain) भी अपेक्षाकृत कम होता है। कई लोग इसे गर्भावस्था के समय का चमत्कारी फल कहते हैं जो मॉर्निंग सिकनेस (morning sickness), मतली, चिड़चिड़ेपन और स्वभाव में अचानक परिवर्तन की समस्या से लड़ने में सहायक होता है। सीताफल बच्चे के जन्म के बाद माँ के स्तनों में दूध का अधिक उत्पादन करने में भी सक्षम साबित होता है।

चकोतरे के स्वास्थ्य लाभ – चकोतरे के सौंदर्य लाभ

  • दमा से राहत (Prevents asthma) – सीताफल में विटामिन बी -6 जैसे पोषक तत्व होने की वजह से ब्रोन्कियल सूजन और दमा के हमलों को रोकने मे मदद मिलती है।
  • दिल के दौरे को रोकता है (Prevents heart attacks) – सीताफल के गुण (sitaphal ke labh), सीताफल मे मैग्नीशियम है जो हृदय का दौरा पड़ने पर दिल की रक्षा करता है और मांसपेशियों को आराम दिलाता हैं। इसके साथ विटामिन बी-6 दिल की बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए मदद करता है।
  • हाज़मे में सहायक (Aids digestion) – सीताफल में मौजूद डाइटरी फाइबर और कॉपर (dietary fiber and copper) हाज़मे को दुरुस्त करता है, मलत्याग की प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सहायता करता है और कब्ज़ की समस्या से मुक्ति दिलाता है। सीताफल को धूप में अच्छे से सुखा लें और इसका पाउडर बना लें। इस पाउडर का सेवन पानी के साथ करने पर दस्त की समस्या से निजात प्राप्त होती है।
  • रक्तचाप नियंत्रित करे (Controls blood pressure) – सीताफल आपके रक्तचाप को नियंत्रित करने में आपकी सहायता करता है।
  • कोलेस्ट्रॉल कम करे (Reduces cholesterol) – सीताफल में मौजूद नियासिन (niacin) और डाइटरी फाइबर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में आपकी सहायता करता है।
  • अनीमिया का उपचार (Treating anemia) – सीताफल एक स्टीमुलेंट, ठंडक प्रदान करने वाले तत्व, एक्सपेक्टरेंट और हेमाटिनिक (stimulant, coolant, expectorant and hematinic) का काम करता है। इसके अलावा इसमें मौजूद आयरन (iron) की मात्रा भी अनीमिया से आपको बचाती है। सीताफल कॉपर का भी काफी अच्छा स्त्रोत है, जिससे शरीर को हीमोग्लोबिन (hemoglobin) का उत्पादन करने में आसानी होती है।
  • गठिया और जोड़ों का दर्द (Rheumatism and arthritis) – गठिया और जोड़ों के दर्द के लक्षण मैग्नीशियम (magnesium) की मदद से कम किये जा सकते हैं। यह शरीर में पानी की मात्रा को नियंत्रित करता है और जोड़ों से विषैले पदार्थ निकालता है। यह मांसपेशियों की कमज़ोरी को भी दूर करने में सक्षम है।
  • फोड़े फुंसी और अलसर (Boils and ulcers) – ऐसा माना जाता है कि सीताफल के गूदे से बने पेस्ट का प्रयोग फोड़े फुंसियों और अलसर पर किया जा सकता है।
  • चिंता और तनाव (Stress and depression) – सीताफल विटामिन बी काम्प्लेक्स (vitamin B complex ) से भरपूर होती है, जिसकी सहायता से मस्तिष्क के GABA न्यूरॉन केमिकल्स (neuron chemicals) नियंत्रित होते हैं। यह मस्तिष्क को ठंडा रखता है और तनाव, चिंता तथा चिड़चिड़ेपन को दूर करता है।
  • मधुमेह रोगियों के लिए काफी फायदेमंद (Excellent for diabetics) – सीताफल में मौजूद डाइटरी फाइबर की वजह से शरीर के चीनी सोखने की क्षमता घट जाती है एवं टाइप 2 (type-2 ) मधुमेह का ख़तरा टल जाता है। विटामिन सी (vitamin C) वह मूल तत्व है, जो शरीर में चीनी के स्तर को नियंत्रित रखता है। सीताफल में काफी मात्रा में विटामिन सी होता है, जिससे आपको मधुमेह से लड़ने में सहायता प्राप्त होती है। इसमें मौजूद मैग्नीशियम इन्सुलिन (insulin) के उत्पादन में सहायता करता है तथा ग्लूकोज़ (glucose) को नियंत्रित करता है। इसमें काफी मात्रा में पोटैशियम (potassium) भी होता है, जिससे मधुमेह के रोगियों के शरीर में इन्सुलिन का स्तर बना रहता है। इसमें काफी मात्रा में आयरन भी होता है जो अनीमिया से लड़ता है और मधुमेह की स्थिति को नियंत्रित करता है।

बीन्स खाने के अदभुत स्वास्थ्य लाभ

निष्कर्ष (Conclusion)

सीताफल में मोजूद विरोधी अपचायक (एंटी ऑक्सिडेंट) ,शरीर मुक्त कण से लड़ने में मदद करते हैं। पोटेशियम और मैग्नीशियम हृदय रोग से हृदय की रक्षा करते है। सीताफल एक संतुलित आहार हैं इसमे प्रोटीन, फाइबर, खनिज, विटामिन, ऊर्जा और थोड़ा वसा होता हैं। उपरोक्त रूप से इसमे कई रोगों का मुकाबला करने की शक्ति होती है।