Feet and toenails tips in Hindi for women – महिलाओं के पैर एवं नाखून सुंदर रखने के नुस्खे

आपके पैर आपके शरीर के पूरे वज़न का भार उठाता है। पैर 26 हड्डियों और 100 लिगामेंट्स (ligaments) से बना हुआ होता है। पैरों की त्वचा में सबसे ज़्यादा नसें – करीब 7000 होती हैं। हमारे हर पैर में करीब 125000 पसीने की ग्रंथियां होती हैं, जिनसे रोजाना करीब 1 कप जितना पसीना निकलता है।

पैरों की बनावट की इस जटिलता को देखते हुए इसके साथ कई तरह की समस्याओं के आने की संभावना भी होती है। अतः पैरों और शरीर को स्वस्थ रखने के लिए ख़ास देखभाल की आवश्यकता होती है। आमतौर पर आपके पैर आपके शरीर के सबसे ज़्यादा प्रयोग में लाए जाने वाले तथा सबसे ज़्यादा थकने वाले अंग होते हैं। आपके पैर आपका इतना काम करने के बाद थोड़े आराम के हकदार अवश्य होते हैं।

मैनीक्योर पेडीक्योर, पैरों की अच्छी देखभाल करने से पैरों से जुडी समस्याएं जैसे एथलीट्स फुट या अन्य प्रकार के बैक्टीरियल संक्रमण होने की संभावना काफी कम रहती है। आपको हर प्रकार के मौसम में अपने पैरों एवं अपने नाखूनों (pairon ke nakhunon) की देखभाल करनी चाहिए। गर्मी के मौसम में आपके पैर आमतौर पर बाहर खुले में ही रहते हैं, अतः इस मौसम में पैरों को दुलार और प्यार की ज़्यादा दरकार होती है।

ठण्ड में भी जब आपके पैर मोज़ों के अंदर लिपटे होते हैं तो उनपर बराबर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है। मैनीक्योर पेडीक्योर, नाखूनों एवं पैरों पर ध्यान देने की आवश्यकता सिर्फ औरतों को नहीं बल्कि मर्दों को भी होती है, अतः अपने पैरों की देखभाल को नज़रअंदाज़ न करें।

ऱोजाना अपने पैरों को साफ़ करें (Always clean your feet daily)

रोज़ाना काफी चलने की वजह से या खुले में रहने के कारण पैरों के ऊपर काफी गन्दगी जमा हो जाती है। अतः काम से वापस आने के बाद नहाने के साथ अपने पैर अवश्य धोएं एवं इस चीज़ को नियमित आचरण में शामिल कर लें। पैरों की सफाई अच्छे से किसी साबुन द्वारा करें जिससे की सारी गन्दगी पानी में बह जाए। पैरों को अच्छे से धोने के बाद एक साफ़ तौलिये से पोंछ लें। पैरों को धोने के पीछे स्वास्थ्य सम्बन्धी कारण के अतिरिक्त अन्य एक कारण भी है और वो यह कि पैर धुलने से आप गंदे पैर अपने बिस्तर पर नहीं चढ़ेंगे जिससे कि कई बीमारियां पनपने से बचेंगी।

नेल पॉलिश हटाने के विकल्प

हर 14 दिन में पैरों का पेडीक्योर करें (Give feet a pedicure every fourteen days)

हर एक व्यक्ति पेडीक्योर का लाभ नहीं जानता लेकिन यह बात बिलकुल सच है कि नियमित रूप से पेडीक्योर करने से पैर नरम और मुलायम हो जाते हैं। इसके लिए आपको बहुत सारा पैसा खर्च करके किसी सलून में जाने की आवश्यकता नहीं है बल्कि आप घर बैठे ही अपना पेडीक्योर खुद कर सकते हैं।

एक पात्र में पानी भरकर उसे हल्का गर्म करें और उसमें अपने पैर डुबोकर 5 से 10 मिनट तक बैठें। आप पानी में त्वचा सम्बन्धी तेल एवं निर्जीव मरीन नमक भी मिला सकते हैं जिससे कि आपके पैरों से सुगंध आए और वे मुलायम बनें। अगर आप चाहें तो 5 से 10 मिनट से ज़्यादा भी पानी में पैरों को डुबोये रख सकते हैं और इससे आपको फायदा ही होगा।पैरों की मृत कोशिकाएं निकालने के लिए फ़ीट वाश का प्रयोग करें जो कि आपके पैरों से निर्जीव त्वचा को बाहर निकाल देगा और आपकी त्वचा को नमी भी प्रदान करेगा।

जब मन करें तो अपने नाखूनों को चमकाएं (When desired, use shine for your toe nails)

एक बार पेडीक्योर करने के बाद इस प्रक्रिया का प्रयोग करें जिससे नाखून चमकाने के लिए आपके पास सुन्दर नाखून भी हों। इसे चमकाने से पहले पैरों के नाखूनों को टोनेल एनहान्स रिमूवर से साफ़ करें। यह रिमूवर आपके नाखूनों से अतिरिक्त हर्बल तेल सोख लेता है जिससे कि आपके नाखूनों को नया रंग देने की प्रक्रिया सुचारू रूप से हो सके।

बॉटम सपोर्टर के द्वारा पैरों के नाखूनों में दूरियां बनाएं रखें जिससे कि उन्हें नया रंग देने की प्रक्रिया काफी आसान हो जाएगी। शेड के नीचे बेस कोट देने से रंग उड़ने की समस्या से भी छुटकारा मिलता है।

अपनी पसंद के रंग नाखूनों पर लगाने के समय नाखूनों पर असली एनहान्स ही लगाएं। थ्री सेरेब्रो वैस्कुलर इवेंट मेथड के अनुसार चलने का प्रयास करें। नाखूनों पर 2 बार एनहान्स का प्रयोग करें।

रोज़ाना पैरों एवं नाखूनों को मॉइस्चराइस करें (Moisturize feet & toenails daily)

नाखूनों के आसपास के कालेपन को दूर करने के घरेलू नुस्खे

सुबह पैरों पर क्रीम लगाकर अपनी दिनचर्या की शुरुआत करें। नरम और कोमल पैर पाने के लिए सोने से पहले पेट्रोलियम जेली लगाकर तथा मोज़े पहनकर सोएं। अगली सुबह उठकर आप खुद ही अपने पैरों में आया फर्क महसूस करेंगे। ध्यान रखें कि उँगलियों के बीच की खाली जगह को कभी भी अतिरिक्त रूप से नम ना होने दें क्योंकि इससे फंगस होने का भय बना रहता है।

नाखून की देखभाल, पैरों और नाखूनों की देखभाल के नुस्खे (Feet and toenail tips)

  • पैरों को धोने के बाद उन्हें सुखाना काफी आवश्यक है। पैरों की उँगलियों के बीच के भाग, जो गीले और रोशनी से रहित रहते हैं, जीवाणुओं और बैक्टीरिया (bacteria) के जन्म के लिए सबसे बेहतर जगह बन जाते हैं। इससे आपको एथलीट्स फुट (athlete’s foot) की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है। पैरों में फंगस (fungus) के संक्रमण से खुद को बचाने के लिए पैरों की साफ़ सफाई काफी आवश्यक है। अपने पैरों को किसी अच्छे मोइस्चराइसिंग लोशन या क्रीम (moisturizing lotion or cream) की मदद से अच्छे से नमी प्रदान करें।
  • पेडीक्योर करने का तरीका, पैरों की मृत और कठोर त्वचा (pairon aur nakhunon ki dekhbhal) को एक प्युमिस पत्थर (pumice stone) की मदद से धीरे धीरे निकालें, तथा अंदरूनी रूप से नाखूनों के बढ़ने की समस्या को दूर करने के लिए नाखूनों को अच्छे से काट लें। नाखूनों को समान रूप से काटें और क्यूटिकल्स (cuticles) को पीछे की ओर कर दें। नाखूनों पर विटामिन इ के तेल (vitamin E oil) का प्रयोग करके उन्हें स्वस्थ रखा जा सकता है।
  • पैरों को साफ सुथरा रखें। इसके लिए बेहतर यह होगा कि गर्म पानी में 15 मिनट तक अपने पैरों को डुबोकर रखें। इससे त्वचा में नरमाहट आएगी और इसके बाद मोटी त्वचा को निकालने के लिए प्युमिस पत्थर का प्रयोग करें।
  • फलों के स्क्रब (scrub) या केमिकल एक्स्फोलियेटर्स (chemical exfoliators) की मदद से मृत त्वचा निकालने के लिए पैरों को अच्छे से स्क्रब करें। पैरों को स्क्रब कर लेने के बाद उन्हें एड़ियों की क्रीम या सैलिसिलिक एसिड (salicylic acid) युक्त लोशन (lotion) की मदद से नमी प्रदान करें।
  • गर्मियों में खुले जूते पहनते समय पैरों पर सनस्क्रीन लोशन (sunscreen lotion) का प्रयोग करें, जिससे कि आपके पैर टैनिंग (tanning) से बच सकें।
  • ऐसा कहा जाता है कि हमेशा दोपहर के वक़्त ही आपको जूते खरीदने चाहिए, क्योंकि इस समय पैरों का आकार सारे दिन में सबसे बड़ा रहता है।
  • पेडीक्योर करने का तरीका, काम पर जाने के लिए जूतों का चुनाव काफी सावधानी से करना चाहिए। कहीं आने जाने के समय पहने जाने वाले जूते आरामदायक होने चाहिए, जिसे अच्छा लुक (look) देने के लिए दफ्तर में भी बदला जा सके। अतिरिक्त सहारे के लिए जूतों के अन्दर प्लास्टिक शेल्स वाले इन्सोल्स (insoles with plastic shells) का प्रयोग करें। ये पैरों को ज़्यादा आराम प्रदान करते हैं।
  • दफ्तर पहनकर जाने के लिए एक आरामदायक हील (heel) का चुनाव करें। नुकीले और ऊँची हील के जूते सिर्फ ख़ास मौकों पर ही पहने जाने चाहिए। सारा दिन फ्लिप फ्लॉप्स (Flip-flops) पहनकर भी समय ना बिताएं, क्योंकि ये आपके पैरों को पूरा सहारा नहीं देते और इससे आपकी एड़ियों और पैरों में तकलीफ हो सकती है।
  • पेडीक्योर करने का तरीका, पैरों की दुर्गन्ध को दूर करने तथा उन्हें गीलेपन के फलस्वरूप हुए फंगस के संक्रमण से बचाने के लिए रोज़ मोज़े बदलकर पहनें।
  • पैरों की उँगलियों को एक सुन्दर स्वरुप देने के लिए नाखूनों पर नेल पॉलिश (nail polish) का प्रयोग करें। सबसे पहले बेस कोट (base coat) लगाएं और उसके बाद मुख्य रंग के दो कोट और लगाएं। अब इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें, जिससे कि ये सुन्दर दिखें और लम्बे समय के लिए चल सकें। नेल पॉलिश को नाखूनों पर समान भाव से लगाने के लिए थ्री स्ट्रोक विधि (three stroke method) का प्रयोग करना उचित रहेगा। इसके अंतर्गत नाखूनों के हर  तरफ एक स्ट्रोक तथा इनके बीच में एक स्ट्रोक लगाएं। नाखूनों के रंग को पीला पड़ने से बचाने के लिए कुछ दिनों के बाद नेल पॉलिश को हटा दें। कई नेल पॉलिश रीमूवर्स (nail polish removers) में एसीटोन (acetone) होता है, जिससे त्वचा काफी रूखी हो जाती है। अतः ऐसे रीमूवर्स का प्रयोग ना करें।

पैरों की कुछ सामान्य समस्याएं (Some common foot problems)

नेल पॉलिश के छूटने की समस्या से निपटने के उपाय

पैरों के अंदरूनी नाखून (Ingrown toenail) : यह पैरों की एक काफी सामान्य समस्या है, जिसका निदान करने के लिए नाखूनों को सीधे सीधे अच्छे से काट लें। इसे गहराई से बढ़ने देने से रोकने के लिए इसकी कटाई कोने से करें। अगर आपको किसी तरह का कोई संक्रमण नज़र आ रहा है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

पैरों का फंगस (Foot fungus) : इसे  औषधीय क्रीम्स की मदद से ठीक किया जा सकता है। अगर संक्रमण काफी गंभीर हो, तो अपने डॉक्टर से सलाह करें।

बनियन (Bunion) : यह भी पैरों की एक समस्या है, जो तब पैदा होती है जब हड्डी बाहर की ओर बढ़ने लगती है और इससे पैरों पर दबाव बढ़ता है। यह स्थिति आमतौर पर आनुवांशिक (genetic) होती है, परन्तु पैरों में ठीक से ना आने वाले ऊँची एडी के नुकीले जूतों के पैरों पर दबाव डालने की वजह से भी यह समस्या आ सकती है। बनियन पैड्स (pads) इनकी बढ़त को रोकने में सहायक होते हैं। अगर बनियन काफी दर्दनाक हो तो इसे हटाने के लिए शल्य क्रिया की आवश्यकता होती है।

किसी भी तरह के पैरों के दर्द का तुरंत उपचार करें, क्योंकि पैरों में कई छोटी हड्डियां होती हैं, जो आसानी से टूट सकती हैं। इस चोट लगे पैर से काफी समस्याएं जन्म ले सकती हैं।

loading...