Hindi health tips during monsoon – मानसून में खुद को स्वस्थ रखने के उत्तम नुस्खे

मानसून एक ऐसा मौसम है जो हमारे जीवन में खुशियां लेकर आता है, क्योंकि यह गर्मियों की झुलसा देने वाली धूप के बाद वातावारण को बिलकुल ठंडा कर देता है। परन्तु मानसून की ठंडक का मज़ा लेने के बावजूद ऐसी कुछ बातें हैं, जिनसे आपको सावधान रहने की आवश्यकता है। मानसून अपने साथ कुछ ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं लेकर आता है, जिससे बचाव के उपाय ढूंढना काफी ज़रूरी होता है।

अगर आपके घर में बच्चे और बूढ़े लोग हैं तो वे एलर्जी (allergy), सर्दी, खांसी आदि स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार हो सकते हैं। जब आप भोजन भी कर रहे हों तो ऐसे खाद्य पदार्थों को अपने खानपान में शामिल करने का प्रयास करें, जो आपको बीमार ना बनाएं।

मानसून के मौसम में बारिश की पहली बूँदें सारे वातावरण को काफी खुशगवार बना देती हैं। यह मौसम उन रैशेस (rashes) का इलाज करता है, जो घमौरियों की वजह से हमें गर्मियों में होते हैं। हमें मानसून के मौसम में अपने खानपान और अपनी गतिविधियों का काफी ध्यान रखना चाहिए। मानसून के समय हमें कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं। खासकर बच्चे इस मौसम में कई तरह की समस्याओं का शिकार होते हैं।

यह वह मौसम है जब पानी से पैदा हुआ बैक्टीरिया (bacteria) हम पर आक्रमण करता है और हमारी प्रतिरोधक क्षमता में काफी गिरावट आ जाती है। इस समय लोग आमतौर पर बदहज़मी, एलर्जी और कई तरह के संक्रमणों से पीड़ित होते हैं। नीचे कुछ ऐसे नुस्खे दिए गए हैं, जो मानसून के मौसम में हमारा बचाव कर सकते हैं।

बरसात के दिनों में हमें अपने शरीर का ख्याल रखने की अधिक आवश्यकता होती है। इन दिनों में बढ़े हुये मच्छर और उनसे उत्पन मलेरिया और डेंगू जैसे रोग हमें बीमार बना सकते हैं साथ ही वायरल फीवर होने का भी इन दिनों खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में ज़रूरत होती है खुद का ख़याल रखने की और स्वस्थ बने रहने के लिए आवश्यक उपायों को अपनाने की। इस मौसम के लिए ज़रूरी टिप्स नीचे दिये जा रहे हैं जिन्हें अपनाएँ और स्वस्थ रहते हुये मानसून का आनंद लें।

बरसात के दिनों में स्वस्थ बने रहने के ज़रूरी टिप्स (Tips stay healthy in monsoon season or monsoon mai health)

  • बरसात में स्वास्थ्य, अगर आप रोड के किनारे लगी हुयी दुकानों पर खाने के आदी हैं तो इस मौसम में अपनी इस आदत को रोक कर रखें क्योकि इन दिनों में इन्फेक्शन का खतरा बढ़ा होता है और असुरक्षित पानी आपको नुकसान पहुँचा सकता है।
  • मानसून में रहें स्वस्थ, इन दिनों मच्छरों को अपने आसपास भी न भटकने दें और मच्छरों से बचाने वाली औषधियों का उपयोग करें।
  • बरसात के दिनों में भीगने से बचें, इस मौसम में वातावरण में बैक्टीरिया अधिक होते हैं जो आपको बीमार बना सकते हैं और आपको फंगल इन्फेक्शन हो सकता है । इसलिये इस मौसम में बरसात के पानी में न भीगें।
  • बरसात से बचाने वाली सामग्री साथ रखें। छाता अपने बैग में रख कर चलें साथ ही रेन कोट भी एक बेहतर विकल्प होता है। अच्छी क्वालिटी का रेनकोट पहने।

इस सर्दी मे त्वचा की सुरक्षा के लिए घरेलू बॉडी लोशन

  • बारिश में यूँ रहें स्वस्थ, मानसून से मौसम गर्म चीजें ज्यादा खायें।
  • बरसात में स्वास्थ्य, बरसात के पानी में बच्चों को खेलने से दूर रखें।
  • रोड पर बहने वाला पानी वाहनो द्वारा आप पर भी आ सकता है अतः ऐसी जगहों से देख कर ही निकलें या बेहतर होगा कि ऐसी जगहों पर जाने से बचें ।
  • बारिश में यूँ रहें स्वस्थ, गीलें होने पर पैरों को अच्छी तरह से सुखा लें।
  • अपने शरीर को सूखा और गर्म रखकर सर्दी और खांसी से दूर रहें।
  • गीले शरीर और बालों के साथ एयर कंडीशनर वाले रूम में न जाएँ।
  • अगर आप अस्थमा या मधुमेह के मरीज हैं तो गीली दीवारों के पास न बैठें क्योकि यहाँ फंगल बैक्टीरिया अधिक होते हैं जो आपको नुकसान पहुँचा सकते हैं।
  • मानसून में स्वस्थ रहने के लिए गर्म हर्बल चाय पीयें क्योकि इनमे जीवाणुरोधी शक्ति होती है।

ऊपर दिये गये तरीकों को अपना कर आप अपना व अपने परिवार का इस मौसम में भी बेहतर ख्याल रख सकते हैं और स्वस्थ बने रह सकते हैं। इन तरीकों को अपनाएं और बरसात के मौसम में बेफ़िक्र होकर जियें।

मानसून के दौरान खानपान (Choice of diet during monsoon)

मानसून के मौसम के दौरान रास्ते में बिक रही तली हुई चीज़ें और फ़ास्ट फ़ूड (fast food) का सेवन ना करें। इससे पेट का संक्रमण हो सकता है। कई बार लोग मानसून के मौसम में बदहज़मी का शिकार हो जाते हैं, क्योंकि इस मौसम में पानी से पैदा हुआ बैक्टीरिया काफी सक्रिय रहता है और आपके भोजन के साथ आपके शरीर में भी प्रवेश कर सकता है। क्योंकि मानसून के समय आर्द्रता का स्तर काफी ऊंचा रहता है, अतः आपके शरीर को भोजन पचाने में दिक्कतें पेश आती हैं। रास्ते में बिक रहे तैलीय भोजन से परहेज़ करें। सिर्फ घर पर बना हुआ स्वास्थ्यकर भोजन करें।

फल (Fruits)

वर्षा-ऋतु में शिशुओं और बच्चों के स्वास्थ्य की देखभाल हेतु नुस्खे

मानसून के दौरान पर्याप्त फलों का सेवन करें, क्योंकि इससे आपको भरपूर शक्ति मिलती है। लेकिन सही फलों का चुनाव करना भी आपके लिए काफी आवश्यक है। नाशपाती, आम, सेब तथा अनार जैसे फलों का सेवन करें। ऐसे भी कई फल हैं, जो आपके चेहरे पर मुहांसे पैदा कर देते हैं। चेहरे से मुहांसों को दूर करने के लिए मस्क मेलन (musk melon) तथा तरबूज से परहेज़ करें। अतिरिक्त आम का सेवन करने पर भी चेहरे पर मुहांसे पैदा हो सकते हैं।

सूखे भोजन (Dry food)

इस मौसम में बाहर मिल रहे तरल पदार्थों का सेवन ना करें। रास्ते पर बिक रहे फलों के रस, लस्सी और पानी युक्त फल जैसे उत्पाद आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसकी बजाय मटर, आटे तथा मकई जैसे सूखे खाद्य पदार्थों का सेवन करें। क्योंकि इस समय ज्यादा तरल भोजन का सेवन करने से शरीर में सूजन आ जाती है, अतः इससे परहेज़ करना ही ठीक है।

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं (Increase your immunity)

मानसून के मौसम में लोगों के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता भी काफी मात्रा में कम हो जाती है। आजकल आप घरेलू नुस्खों की मदद से आसानी से अपने शरीर की प्रतिरोदक क्षमता में बढ़ोत्तरी कर सकते हैं। जब भी आप सूप (soup) बना रहे हों तो शुरुआत में तेल गर्म रहने की स्थिति में ही इसमें लौंग का मिश्रण कर दें। इससे मानसून के दौरान आपकी प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होगा।

पानी (Water se barsaton me dekhbhal)

क्योंकि इस मौसम में पानी से जुड़ी बीमारियाँ होना काफी आम है, अतः बिना उबला हुआ या अशुद्ध पानी ना पियें। पानी को फ़िल्टर (filter) करने के बाद भी इसे उबाल लेना ज़्यादा अच्छा रहेगा, क्योंकि इससे पानी के सारे जीवाणु और बैक्टीरिया ख़त्म हो जाएंगे।

सर्दियों के मौसम के फल जो स्वास्थ्य की देखभाल के लिए उपयोगी हैं

उच्च रक्तचाप से दूर रहें (Stay away from high blood pressure)

अगर आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है तो अपने खाने में काफी कम नमक का इस्तेमाल करें, अन्यथा आपके उच्च रक्तचाप में काफी बढ़ोत्तरी हो जाएगी। इस मौसम में ऐसे  उत्पादों से परहेज करें, जिनमें काफी मात्रा में नमक मौजूद रहता है।

कड़वी सब्जियां (Bitter vegetables)

अपने खानपान में नीम, करेले आदि कड़वी सब्जियों को शामिल करें क्योंकि ये आपको त्वचा के संक्रमण और एलर्जी से बचाते हैं। अगर आप इनका उबले स्वरुप में सेवन करना नहीं चाहते तो इसमें स्वाद डालने के लिए इन्हें तलकर खाएं। यह त्वचा के हर तरह के संक्रमण को दूर करने की काफी प्रभावी औषधि है।

जमे पानी से दूर रहें (Stay away from stagnation)

मानसून के दौरान आपको काफी आसानी से घर में तथा बाहर पानी जमा हुआ दिख जाएगा। जमे हुए पानी से बचकर रहें, क्योंकि इससे मलेरिया और डेंगू (malaria and dengue) जैसी बीमारियाँ पैदा होती हैं। पानी की टंकी, फूलों के गमलों और कूलर (cooler)  में जमा हुआ पानी नियमित रूप से फेंकते रहें। क्योंकि इस जमे हुए पानी में मछार पनपते हैं, अतः इस पानी को मानसून के मौसम में फेंकना काफी अनिवार्य होता है। इसके अलावा रात को सोते समय मच्चार्दानी या रिपेलेंट (repellent) का प्रयोग करें।

मध्यम या कम नमक वाला भोजन (Medium low salt food)

मानसून के दौरान जब आप अपनने परिवार के लिए खाना बना रही होती हैं, तो इसमें कम नमक का इस्तेमाल करें। इस मौसम में नमक युक्त खाने की वजह से लोगों का रक्तचाप बढ़ जाता है। पानी का जमाव भी एक ऐसी समस्या है, जिसके उपचार हेतु कम नमक वाले भोजन का प्रयोग करना चाहिए।

अखरोट खाने के बेहतरीन स्वास्थ्य लाभ

दूध के अन्य प्रकार (Other forms of milk)

मानसून के दौरान दूध से परहेज करना अच्छा होता है। इस समय दूध के अन्य उत्पादों जैसे दही, योगर्ट (yogurt), मिठाइयों आदि का सेवन करें। अगर आप दूध पीना चाहते हैं तो इसे 100 डिग्री में उबालकर इसका सेवन करें। इससे आपको उन हानिकारक जीवाणुओं से छुटकारा मिलेगा जो आपके शरीर पर हमला कर सकते हैं।

मसालेदार भोजन से परहेज करें (Avoid spicy food)

मानसून के दौरान मौसम ना ज़्यादा गर्म रहता है ना ठंडा, अतः आपको मसालेदार भोजनों का सेवन करने की इच्छा ज़रूर होगी। पर यह बिलकुल गलत होगा। मानसून के दौरान मसालेदार भोजन से परहेज करें। इससे त्वचा की एलर्जी और अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

loading...