Hindi tips for cold & cough – सर्दी और खांसी के लिए घरेलू उपचार

सर्दियों के मौसम में जुकाम(Jukam) के अलावा खांसी(khasi) से आपके स्वास्थ्य को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इसके बजाय ऐसे बहुत सारे प्राकृतिक घरेलू उपचार हैं जो बिना किसी अवांछित दुष्प्रभावों के आपका उपचार करते हैं।

खांसी जुकाम के घरेलू नुस्खे (khasi jukam ka gharelu nuskhe)

गुनगुना पानी (gunguna pani khasi ke liye)

मुंह के छाले कम करने के लिए उत्तम घरेलू उपचार

नियमित रूप से गुनगुने पानी का सेवन करें क्योंकि यह सामान्य सर्दी, खांसी एवं गले की खराश से लड़ने में आपकी सहायता करता है। गर्म पानी गले में सूजन को कम करता है एवं शरीर में खोये हुए द्रव्यों की मात्रा की पूर्ति करने एवं शरीर से संक्रमण बाहर निकालने में मदद करता है।

घरेलू चिकित्सकीय लोज़ेंज (lozenges tablet for cough)

भारतीय घरों में प्राचीन काल से ही सर्दी खांसी के लिए अपनी खुद की बनायी हुई दवाइयां हुआ करती थीं। ना सिर्फ यह उपचार आपके गले में मौजूद चिड़चिड़ापन कम करता है, बल्कि खांसी ठीक करने का प्राकृतिक उपाय भी है। आप आसानी से इसका निर्माण कर सकते हैं। थोड़ी सी मात्रा में अदरक को काटें एवं इसका रस निकालें। इसके अलावा, काली मिर्च के कुछ कॉर्न्स (corns) को भूनकर इसे पाउडर का रूप दे दें। अदरक के रस, मिर्च के पाउडर, थोड़ी सी हल्दी एवं थोड़े से शहद को मिश्रित करें एवं इससे एक गाढ़ा पेस्ट बनाएं। अब इसे छोटा गोलाकार आकार दें जिससे ये टॉफ़ी (toffee) का आकार धारण कर सके। इसे अपने मुंह में डालें एवं करीब 10 से 15 मिनट तक इसे चूसते रहें।  राहत प्राप्त करने के लिए इस प्रक्रिया को दिन में दो से तीन बार दोहराएं।

अजवाइन की गर्म सेंक (sukhi khansi ke liye Warm Ajwain)

अजवाइन अपने जीवाणुरोधक एवं एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) गुणों के लिए जाना जाता है। केवल यह सुनिश्चित करें कपड़ा ज़्यादा गर्म ना हो, अन्यथा इससे आपकी त्वचा जल भी सकती है। अच्छे परिणामों के लिए इस प्रक्रिया का पालन 2-3 दिनों के लिए करें। पोटली से गर्म अजवाइन की सुगंध आपकी छाती में मौजूद कफ़ को भी दूर करेगी।

सर्दी और खांसी के लिए ग्रीन टी (khansi ke liye green tea)

टीबैग (tea bag) को 3-5 मिनट के लिए प्रयोग में लाकर थोड़ी सी ग्रीन टी तैयार करें। इसमें स्वाद के लिए शहद और/या नींबू का रस मिश्रित करें एवं इस स्वास्थ्यकर आयुर्वेदिक चाय का सेवन करें। इसका सेवन दिन में 2-3 बार करें।

शहद काली मिर्च द्वारा सर्दी का घरेलू इलाज (Honey Pepper – Sardi khansi ke liye honey & pepper)

डकार से बचने के घरेलू उपचार

सर्दी और खांसी में काली मिर्च (Black pepper) का प्रयोग बहुत लाभदायक होता है। शहद वैसे ही प्राकृतिक रूप से एंटीओक्सिडेंट का काम करता है और हमारी इम्युनिटी को मजबूत करता है जिससे हम रोगों का सामना करने के लिए तैयार रहते हैं। 6 से 8 काली मिर्च को पीस कर चूर्ण बना लें इसे शहद के साथ मिलाकर सुबह खाली पेट या रात को सोने के पहले लें। इसके सेवन के आगे पीछे आधे घंटे पानी नहीं पीना चाहिए।

सर्दी खांसी के लिए शहद, दालचीनी और नींबू का मिश्रण (khasi jukam ke liye honey cinnamon and lemon)

यह भी सर्दी खांसी दूर करने की एक प्रभावी औषधि है। आप इन तीनों तत्वों को मिश्रित करके एक सिरप (syrup) बना सकते हैं। इससे आपको सामान्य सर्दी और खांसी से लड़ने में काफी आसानी हो जाएगी। इस सिरप को बनाने के लिए एक सबसे पहले एक कढ़ाही लें और इसमें थोड़ा सा शहद डालें। शहद को तब तक डालते रहें जब तक कि आधी कढ़ाही भर ना जाए। इसके बाद एक डबल बायलर (double boiler) का प्रयोग करें और शहद को पतला बनाने का प्रयास करें। इसमें थोड़ा सा नींबू और एक चुटकी दालचीनी मिलाएं। इस सिरप का सेवन अपने बच्चे को करवाएं तथा उसे सर्दी खांसी और ज़ुकाम से बचाकर रखें।

सर्दी का इलाज के लिए ब्रांडी और शहद (Brandy and honey se jukam ke desi ilaj)

सामान्य सर्दी और खांसी से लड़ने के लिए आप शहद और ब्रांडी का भी प्रयोग कर सकते हैं। ब्रांडी से आपकी छाती गर्म रहती है और इससे शरीर के ताप को बढाने में भी काफी मदद मिलती है। इसी के साथ साथ, शहद में कफ से लड़ने के प्राकृतिक गुण मौजूद होते हैं। अतः जब यह ब्रांडी के साथ मिश्रित हो जाती है तो इसका प्रभाव काफी अच्छा होता है। इस मिश्रण की मदद से आप आसानी से सर्दी और ज़ुकाम से प्रभावी रूप से निपट सकते हैं।

खांसी का इलाज के लिए आंवला (khansi ke liye Amla)

आंवले को इम्यूनोमोड्यूलेटर (immunomodulator) कहा जाता है और यह आपको कई प्रकार की बीमारियों से ग्रसित होने से बचाता है। आंवले में विटामिन सी (vitamin C) की काफी मात्रा होती है और यही कारण है कि यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा होता है। जब आप आंवले का नियमित रूप से सेवन करते हैं तो आपका लिवर (liver) अच्छे से कार्य करता है और इससे आपके रक्त का संचार भी काफी अच्छे से होता है। आंवला आपकी प्रतिरोधक क्षमता को काफी मज़बूत कर देता है और यही कारण है कि आपको इसका सेवन रोज़ करना चाहिए। यह सामान्य कफ और ठण्ड से लड़ने का काफी प्रभावी तरीका है।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,877 other subscribers

सर्दी खांसी के लिए शहद, गर्म पानी और नींबू के रस का मिश्रण (sardi jukam ke liye honey warm water and lime juice)

शहद, नींबू के रस तथा गर्म पानी का मिश्रण सामान्य सर्दी और खांसी की समस्या को दूर करने का काफी अच्छा उपाय है। आप नींबू पानी का सेवन करके अपना हाजमा भी दुरुस्त कर सकते हैं। यह शरीर के रक्त संचार के लिए भी काफी प्रभावी साबित होता है। जब आप शहद और नींबू पानी को आपस में मिलाते हैं, तो इस समय पानी गर्म होना चाहिए। इससे सर्दी और खांसी के समय काफी आराम प्राप्त होता है। ये वैसे पदार्थ हैं, जो आपकी समस्या का निदान करने में सक्षम हैं।

सर्दी खांसी के लिए पटसन के बीज (sardi jukam ke liye Flax seeds)

सूखे बालों के लिए रूसी का घरेलू उपचार

पटसन के बीज के प्रयोग से भी आपकी सर्दी खांसी की समस्या का निदान अच्छे से हो सकता है। इसके लिए सबसे पहले पटसन के बीजों को उबाल लें तथा एक बार मिश्रण गाढा बन जाने पर इसे छान लें। अब इसमें शहद और नींबू का रस मिश्रित करें। आप इस मिश्रण का सेवन सर्दी और खांसी को दूर भगाने के लिए कर सकते हैं। आप इस मिश्रण में और भी तत्व मिला सकते हैं और ये सारी चीज़ें आपको रसोई में ही प्राप्त हो जाएंगी।

तुलसी, अदरक और काली पीपर की चाय (sardi jukam ke liye tulsi ginger and black pepper ka chai)

सर्दी ज़ुकाम का शिकार होने पर आप अपने लिए मसालेदार चाय भी बना सकते हैं। इस चाय को बनाने के लिए इसमें तुलसी, अदरक और काली मिर्च डालें। ये तत्व इतने प्रभावी हैं कि इनके सेवन मात्र से आपको अंदर से काफी आराम मिलने लगेगा। इन तत्वों को चाय के साथ मिश्रित करने पर सर्दी और खांसी की समस्या से निजात मिलती है और इस तरह आपको आराम प्राप्त होता है।

खांसी की दवा अदरक, तुलसी और शहद (sardi jukam ke liye tulsi aur shahad)

अदरक और तुलसी का मिश्रण सर्दी और ज़ुकाम से लड़ने में सहायक साबित होता है। सबसे पहले तुलसी की पत्तियों को पीस लें और इसमें अदरक का रस मिलाएं। इस मिश्रण को बेहतर बनाने एक लिए इसमें शहद का भी मिश्रण किया जा सकता है। खांसी से छुटकारा दिलाने में यह मिश्रण काफी बढ़िया काम करता है। अदरक का रस और तुलसी के अंश स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छे होते हैं और यही कारण है कि इनके सेवन से आप स्वस्थ रह सकते हैं।

सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार गुड़ से (Jaggery se sardi jukam ke gharelu nuskhe in hindi)

आपके लिए यह जानना काफी दिलचस्प होगा कि गुड़ सर्दी और खांसी की समस्या को दूर करने में आपकी मदद करता है। हालांकि इस मिश्रण को बनाने के लिए आपको पानी उबालना होगा और इसमें काली मिर्च, जीरा और गुड़ का मिश्रण करना होगा। छाती में जमे कफ को निकालने के लिए यह मिश्रण श्रेष्ठ है। यह सर्दी और खांसी का भी काफी अच्छा उपचार है। अतः जब आपको यह पता चले कि आपका बच्चा लगातार बहती नाक से परेशान है तो आप इस मिश्रण का इस्तेमाल करके उसे सर्दी और खांसी की समस्या से दूर रख सकते हैं।

सर्दी खांसी के इलाज गाजर से (sardi khasi ke liye gajar)

ज़्यादातर लोग इस बात को नहीं जानते, पर यह सच है कि गाजर का रस सर्दी और खांसी की समस्याओं को दूर करने में पूरी तरह सक्षम है। यह थोड़ा अजीब अवश्य लग सकता है, पर यह रस स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। यह बात भी ज़्यादा लोग नहीं जानते कि गाजर के रस से सर्दी खांसी दूर होती है। हालांकि इस रस के प्राकृतिक गुण आपको स्वस्थ रहने और साथ ही साथ अपनी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में काफी मदद करते हैं।

सर्दी खांसी के उपाय हर्बल चाय से (The herbal tea is a remedy)

अगर आप सर्दी और खांसी से दूर रहना चाहते हैं तो हर्बल चाय का सेवन करें। ये ख़ास हर्बल पेड़ की पत्तियां होती हैं और इनमें सर्दी और खांसी से लड़ने के सारे गुण मौजूद होते हैं। इन पत्तियों में कई औषधीय गुण होते हैं  और ये सर्दी और खांसी से आपको मुक्ति दिलाते हैं। यही कारण है कि एक बार जब आपको पता चले कि आप गंभीर सर्दी खांसी के शिकार हैं तो इस चाय का सेवन अवश्य करें।

सरसों तेल से सर्दी जुकाम का इलाज (Cold and cough ke gharelu upay Hindi me)

सरसों का तेल एक बहुत ही सामान्य सी चीज़ है जो हमारी रसोई में पाई जाती है। पर क्या आप जानते हैं कि यह सरसों तेल सर्दी जुकाम में कितना उपयोगी होता है। अगर आपको सर्दी या नजला जुकाम आदि हुआ है और आप इसके लिए दवा लेने से बच रही हैं तो आपको इस साधारण से उपाय को ज़रूर करना चाहिए। सरसों का तेल रक्त संचार को तेज करने वाला और गर्मी प्रदान करने वाला होता है। रात को सोने के पहले अपनी हथेलियों और पैर के तलवों में गुनगुने सरसों तेल को अच्छी तरह रगडें। ऐसा करते हुए तब तक तेल को मलें जब तक तेल त्वचा में पूरी तरह सूख न जाये। ऐसा करने से सर्दी जुकाम जल्दी सुधर जाता है और बंद नाक में राहत मिलती है।

साइनस के घरेलू उपचार, सुझाव और नुस्खे

गीले मोज़े (Wet socks can cure cold and cough)

यह बात सही है कि अगर आप गीले मोज़े पहनकर सोने जाएँ तो इससे आपके पैरों में रक्त का संचार होता है और आप स्वस्थ और गर्म रहते हैं, जिसके फलस्वरूप आपकी सर्दी और खांसी भी दूर हो जाती है। यह रक्त का संचार बढ़ाने का काफी अच्छा तरीका है और इसके प्रयोग के बाद सुबह उठकर आप बिलकुल स्वस्थ महसूस करते हैं। इसके लिए सूखे ऊन के मोज़े लें, इन्हें गर्म पानी में डुबोएं और तुरंत पहन लें। इसके बाद इसे पहनकर सोने चले जाएँ। इससे आपको काफी आराम मिलेगा और आपकी नाक भी बार बार बंद नहीं होगी।

सरसों से पैर धोना (Mustard foot bath can be a remedy)

सर्दी और खांसी से निजात पाने के लिए अपने पैरों को आप सरसों के स्नान का अनुभव भी करवा सकते हैं। इसके लिए एक पात्र में पानी लें और इसमें एक चम्मच सरसों का पाउडर मिलाएं। इसे एक लीटर गर्म पानी में मिश्रित किया जाना काफी आवश्यक है। सरसों पैर में रक्त के संचार में सहायक होता है और इससे नाक बंद होने की समस्या से भी छुटकारा मिलता है।

सर्दी जुकाम और खांसी के लिए भाप लेना (Steam breathing can help you have relief)

अगर आप सर्दी खांसी की समस्या से जूझ रहे हैं तो इसके अंतर्गत नाक भी बंद हो जाती है। अतः इस समय भाप लेते रहें। इसके लिए एक बड़े पात्र में गर्म उबलता पानी लें और और अपने सिर को एक बड़े तौलिए से ढक लें। अब धीरे धीरे भाप लेते रहें। इस प्रक्रिया के पालन से आपकी नाक पूरी तरह खुल जाएगी और आपको साँस लेने में कोई तकलीफ नहीं होगी। इससे आपको सर्दी और खांसी की समस्या होने की भी काफी कम संभावनाएं होंगी।

कान में दर्द और कान में संक्रमण के लिए घरेलू उपचार

सर्दी जुकाम का घरेलू/देसी इलाज (Sardi jukam ka gharelu / desi ilaj in hindi)

  • हल्दी, अदरक की पाउडर और 1 बड़ा चम्मच शहद मिलाकर खाएं। यह खांसी के इलाज के साथ साथ शरीर दर्द और सिर दर्द से राहत दिलाता है।
  • गरम पानी में 1 चुटकी नमक मिलाकर गरारा करने से गले का दर्द कम होता है।
  • इनमे विटामिन सी (vitamin C) की अधिक मात्रा होती है जो जुकाम और खांसी से लड़ने की ताकत देती है।