Hindi remedies for burping – डकार से बचने के घरेलू उपचार

डकार क्या है? (What is burping)

क्या आपने अपने आप को डकार लेते हुए ध्यान दिया है! प्रतिदिन किसी न किसी को यह स्वाभाविक क्रिया होती है। लेकिन डकार पेट में गैस के बनने की स्थिति के कारण सामान्यतया अधिक होती है। आइये जाने की डकार वस्तविक्ता में क्या है? डकार अधिक मात्रा में हवा के निगलने के कारण होती है,जब हम हवा निगलते हैं तो उसी तरह बाहर भी निकलती है, इसलिये जब यह मुंह से बाहर निकलती है तो हम इसे डकार कहते हैं। यह पेट से गैस के बाहर निकलने का प्राकृतिक तरीका है, अगर पेट से गैस बाहर न निकले तो यह कई पेट की समस्याओं को रास्ता देता है जैसे पेट में बहुत दर्द और पेट फटने जैसा आदि।

इसलिये डकार के कारण उत्पन्न बुरी स्थिति से बचने के लिये, व्यक्ति को सीमा में हवा का उपभोग करना आवश्यक है।

इन सलाहों और घरेलू उपचारों का प्रयोग करें जो आपकी डकार की समस्या को प्रभावी तरीके से ठीक करेगा।

डकार के कारण (Causes of burping)

  • नर्वस (nervous) आदतें, पोषक पूरक पदार्थ और किसी प्रकार की शारीरिक समस्या
  • अलसर (ulcer) या गाल ब्लैडर (gall bladder) की समस्या
  • हवा का निकलना जो हाजमे की प्रणाली से गुज़रती है और पृष्ठ भाग से गैस (gas) के रूप में निकलती है।
  • कई प्रकार के भोजन और पेय पदार्थ
  • दूध तथा दुग्ध उत्पादों में पाई जाने वाली एक प्रकार की चीनी जो दुग्ध उत्पादों से एलर्जी (allergy) रखने वाले लोगों को हज़म नहीं होती।
  • यह महिलाओं में हॉर्मोन (hormone) के स्तर में बदलाव आने की स्थिति में भी आता है।

डकार और पेट की सूजन से बचने के प्राकृतिक नुस्खे (Simple home remedies to treat burping and abdominal bloating)

अगर खाने के बाद आपको लगातार डकार आती हो और आप इसकी वजह से परेशान हो जाते हैं तो डकार रोकने के लिए हिंग का सेवन पानी के साथ करना आरामदायक हो सकता है. भोजन करने के बाद जब आपको महसूस हो कि डकार आ रही है तो गुनगुने पानी में आधा चम्मच हिंग मिला दें और इसे पी लें. इससे डकार आनी बंद हो जाएगी.

अदरक (Ginger)

दाद क्या और कैसे होती हैं ?

डकार रोकने के उपाय, अदरक के अच्छे चिकित्सकीय गुण आपकी डकार की समस्या के लिये समाधान प्रस्तुत करते है। अदरक के छोटे टुकड़े को तब तक चबायें जब तक की आपके मुंह में रस न आ जाये। अगर आप तीखी गंध को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं तो स्वाद को बदलने के लिये शहद का प्रयोग साथ में करें, आप अदरक की चाय का भी प्रयोग कर सकते हैं जो अदरक लेने के जैसा परिणाम देगा।

चाय (Tea)

डकार का उपचार, चाय दिन की शुरुआत के लिये अच्छा संकेत है। जब आप चाय बना रहे है तो मिश्रण में मिंट की पत्तियों को मिलायें। इसके एंटीऑक्सीडेंट पेट से निकलने वाले गैस को कम करने में सहायता देगा। खट्टी डकार का इलाज, भोजनोपरांत हर्बल चाय डकार से बचने में सहायता कर सकता है।

दही (Yogurt)

डकार से बचने के लिए दही एक आसान घरेलू नुस्खा है और यह एक प्रभावी नुस्खा है जो आपको डकार की समस्या से बचने में मदद करता है। पेट की समस्या का उपचार करने के लिए अपने रोजाना के खानपान में दही को शामिल करें। दही में जीवित बैक्टीरिया (bacteria) होते हैं जो पेट की समस्याओं से आपको निजात दिलाते हैं और आपके पेट में अच्छे बैक्टीरिया का सृजन भी करते हैं। दही का प्रयोग दूध और दुग्ध उत्पादों के स्थान पर किया जा सकता है जो कि एक अच्छी बात है, क्योंकि दुग्ध उत्पादों से डकार में वृद्धि होती है। आपके लिए यही अच्छा होगा कि छाछ में दही को मिश्रित कर लें। छाछ का प्रयोग भी डकार आने से रोकने के लिए किया जाता है। पानी के साथ दही का मिश्रण करें और इन दोनों को अच्छे से मिलाएं। इसमें थोड़ा सा जीरा मिलाएं जिससे  पेट का स्वास्थ्य बना रहेगा और डकार भी नहीं आएगी।

पपीता (Papaya)

डकार रोकने के उपाय, पपीते में पपेन नामक महत्वपूर्ण एंज़ाइम पाया जाता है जो आपके पाचन तंत्र को अच्छी स्थिति में रखता है। यह प्राय: उन व्यक्तियों द्वारा उपभोग में लाया जाता है जो अपनी त्वचा की देखभाल करते हैं लेकिन यह पाचन और डकार को ठीक करने की एक दवा है।

नींबू और बेकिंग सोडा (Lemon and baking soda)

जलने के छोटे घाव ठीक करने के लिए घरेलू उपाय

अगर आप बहुत अधिक डकार की समस्या, डकार आना से परेशान हैं तो डकार में प्रभावी कमी के लिये इस घरेलू उपचार को अपनाने का प्रयास कर सकते हैं। एक चम्मच नींबू रस और ¼ चम्मच बेकिंग सोडा को लेकर इसे 2 ग्लास पानी के साथ मिश्रण बनाकर हिलाकर इसे पी डालें। यह रसोई आधारित सलाह डकार (dakar ke upay) से आपको राहत दिलायेगा।

सौंफ (Anise seeds)

डकार का उपचार, सौंफ के बीजों में पेट को अकड़ से छुटकारा दिलाने वाले गुण होते हैं। यह आपके हाजमे की प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने में मदद करता है, जिससे आपको व्यर्थ की परेशानियों से गुज़रना नहीं पड़ता। तनावमुक्त रहने और रोजाना व्यायाम करने से भी मरोड़ों की समस्या हल हो जाती है। कार्मिनेटिव (Carminative) भ पेट की जमी हुई गैस को निकालने का एक बेहतरीन तरीका है। यह पेट की सूजन को दूर करने में भी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक कप उबला पानी लेकर इसमें 1 चम्मच अच्छे से पिसे हुए सौंफ के बीजों का मिश्रण करें। इसे 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इस मिश्रण को छान लें। इस मिश्रण का सेवन हर भोजन के पहले और बाद में करें। इससे पेट की गैस तेज़ी से बाहर निकलती है।

दालचीनी (cinnamon)

डकार का उपचार, दालचीनी बेहतरीन प्राकृतिक नुस्खा है। यह पेट की समस्याओं को दूर करता है और आपके हाजमे को दुरुस्त करता है। यह आपको डकार और पेट में गैस की समस्याओं से भी छुटकारा दिलाता है। अपने द्वारा बनाई जा रही सब्जियों में भुनी हुई दालचीनी अवश्य डालें। आप चावल पका लेने से पहले इसमें भी दालचीनी भी डाल सकते हैं। इससे गैस की समस्या से आपका पीछा छूटता है। वैकल्पिक तौर पर दिन में 2 से 3 बार दालचीनी चबाएं। इससे भी गैस की परेशानी से निजात प्राप्त होती है। वैकल्पिक तौर पर चाय बनाएं और इसमें थोड़ी सी दालचीनी मिलाएं। इसमें थोड़ा सा ताज़ा अदरक भी मिश्रित करें। उबलते हुए पानी में एक चम्मच सौंफ डालें। इन्हें कुछ देर तक उबलने दें। इसके बाद इसे थोड़ा सा ठंडा होने दें और हल्की गर्म अवस्था में इसे पियें। इसका सेवन दिन में कई बार करने से पेट में गैस की समस्या से छुटकारा प्राप्त होता है।

जीरा (Cumin seeds)

डकार का उपचार, अजवायन और सौंफ के साथ जीरा भी आपके पेट को काफी लाभ पहुंचाता है। 2 चम्मच भुना हुआ जीरा  लें और इसे एक गिलास पानी में मिश्रित करें। इसे 5 मिनट तक अच्छे से घुलने दें और इस मिश्रण को छान लें। डकार से छुटकारा पाने के लिए इस मिश्रण युक्त पानी का सेवन दिन में कई बार करें।

पानी (Water)

साँसों की बदबू के घरेलू उपचार

पानी हमारे दैनिक जीवन में सबसे ज़रूरी वस्तु है। पानी आपके हाजमे की प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने में मदद करता है। डकार से बचने के लिए आपको रोजाना कम से कम 8 गिलास पानी पीना ही चाहिए। इससे पेट की सूजन से छुटकारा मिलता है और पेट से अतिरिक्त गैस भी बाहर निकल जाती है। अतः सारे दिन और खाना खाने के पहले और बाद पर्याप्त मात्रा में पानी पियें। अगर आप चाहें तो अपने रोजाना के परिमाण से अधिक पानी का सेवन भी कर सकते हैं। इससे आपकी त्वचा, सुन्दरता और स्वास्थ्य में काफी निखार आता है।

भोजन करते समय अपना मुँह बंद करें (Be calm and closed mouth during meals)

अब तक आपने साधारण घरेलू उपचार के बारे में सीखा और अब आप कुछ शिष्टाचार सुझाओं पर ध्यान दें जो आपकी डकार की समस्या में बदलाव लाते है। आप अपना भोजन करते समय अपना मुंह बंद रखें और भोजन करे, अगर आप मुंह खोल कर भोजन करते है तो आप हवा को पेट में जाने का रस्ता देंगें। हम लोगों में से कुछ लोग जल्दी में होते है और वे भोजन को बजाय चबाने के सीधे निगल जाते हैं, इस तरह की छोटी चीज़ें भी डकार की समस्या को बढ़ा सकती हैं।

धूम्रपान बंद करें (Quit smoking)

डकार रोकने के उपाय, धूम्रपान करने वालों लोगों की श्रृन्खला जो डकार के बादल में होते है अधिक मात्रा में निगलते है बजाय छोड़ने के। डकार के कारण, धूम्रपान एजेंटों में निकोटीन शामिल होता है और इसका शरीर में भण्डारण अधिक संख्या में डकार को जन्म देता है। इसलिये, डकार के समाधान का पता लगाने के लिये धूम्रपान को कम करना चाहिये।

डकार आने का कारण – आपकी दंतावलियां (Due to denture problem)

घरेलू उपायों द्वारा छींक का उपचार

कुछ लोगों को डकार उनकी खराब दंतावलियों के कारण होता है, अगर किसी को गलत कृत्रिम दंतावलियां लगी हैं तो यह मुंह के रास्ते हवा आसानी से अंदर जायेगी जिसके द्वारा यह पेट तक पहुंचेगी और वहाँ पर इकट्ठा हो जायेगी। इसलिये डॉक्टर की सहायता से सही उपचार लेकर दंतावलियों को ठीक करायें अगर आपको यह महसूस होता है कि यह भयंकर डकारों का परिणाम हो सकता है।