Best Hindi ayurvedic remedies to control and prevent hair loss – बालों को झड़ने से बचने के घरेलू उपाय

प्राकृतिक रूप से अच्छे बाल सुन्दरता की एक पहचान है। पर कई लोग बालों की समस्या जैसे बालों का झड़ना, तैलीय बाल, रूसी, रूखे बालों से परेशान रहते है।

सिर में घने और स्वस्थ बाल होना काफी आकर्षक दृश्य होता है। लेकिन बालों का झड़ना एक ऐसी समस्या है, जिसके शिकार कई लोग होते हैं। बालों के झड़ने के पीछे कई कारण होते हैं, जैसे उम्र का बढ़ना, अतिरिक्त धूम्रपान, काफी ज़्यादा तनाव, पर्यावरण के प्रभाव, हॉर्मोन में असमानता (hormonal imbalance), आनुवांशिक विकृतियां, गम्भीर बीमारियां आदि।

इन सभी में बालों का झड़ना सबसे बड़ी समस्या है जिसके कई कारण हो सकते हैं जैसे बालों का पतला होना, गंजापन, कंघी करते समय बालों का झड़ना इत्यादि। बालों की देखभाल के नुस्खे:-

बाल गिरने का कारण – बाल झड़ने के कारण (Reasons for hair loss and hair fall)

हारमोंस में असंतुलन (Hormonal imbalances) – यह बाल झड़ने का सबसे आम कारण हैं। पुरुषो में टेस्टोस्टेरोन और स्त्रियों में एस्ट्रोजन सबसे महत्वपूर्ण हारमोंस हैं बाल झड़ने का।

थाइरोइड की समस्या (Thyroid problem) – थाइरोइड ग्रंथि हारमोंस को नियंत्रित करती है। अगर ये ठीक से काम न करे तो शरीर के हारमोंस में असंतुलन होगा जिससे बाल झड़ने की समस्या हो सकती है।

रूखे दोमुहें बालों/स्प्लिट एंड्स के लिए सर्वोत्तम हेयर पैक

सिर की त्वचा में संक्रमण (Scalp infections) – इससे बालों की जडें कमज़ोर होती हैं।

शरीर में लोहे की कमी (Iron deficiency) – लोहे की कमी से बालों की जड़ो में केरोटीन की कमी हो जाती है जिससे बाल झड़ने लगते हैं।

बालों की शैली (Hair styles) – बालों को रंगने और अत्यधिक शैली परिवर्तन से बालों की जडें कमज़ोर हो जाती हैं। अप्राकृतिक रंगो में अमोनिया होता है जो बालों को हानि पहुचाता हैं।

असंतुलित भोजन (Improper diet) – इससे भी बाल झड़ते हैं इसलिए भोजन में प्रोटीन्स, विटामिन ई, ओमेगा 3 फैटी अम्ल अवश्य लें।

बाल झड़ने को रोकने के उपाय के लिए घरेलु नुस्खे – बाल झड़ना कैसे रोके (Home remedies for the hair loss/hair fall – balo ka jhadna in hindi)

  1. 100 ग्राम आंवले को 20 मिनट तक नारियल के तेल में उबाल लें। अब छन्नी से तेल को छान ले और किसी ठण्डे स्थान पर संभल कर रख दें। इसे लगाने से बाल फिर से बढ़ने लगेंगे।
  2. 100 ग्राम मेहँदी के पत्तों को नारियल के तेल में 20 मिनट तक उबल लें और चान कर किसी ठन्डे स्थान पर रख दें| इसे बालों की जड़ो में लगायें।
  3. बाल झड़ने के घरेलू उपाय, नारियल तेल को बालों की जड़ो में लगाने से क्षतिग्रस्त बालों को फिर से ठीक किया जा सकता है।
  4. ½ कप दही, 1 चम्मच पुदीना पाउडर और एक चम्मच जैतून का तेल मिला कर सिर में लगाने से बालों का झड़ना नियंत्रित किया जा सकता है।
  5. बालों की मजबूती के लिए 1 चम्मच बादाम के तेल और 1 चम्मच नारियल के तेल को साथ में मिलाकर लगायें।
  6. 2 चम्मच जैतून के तेल में 1 चम्मच नीबू का रस मिला कर लगाने से सर में खुजली और संक्रमण को कम किया जा सकता है।
  7. 2 चम्मच काले चने के पाउडर में 1 चम्मच मेथी दाना पाउडर मिलाकर बाल धोने से बाल साफ़ हो जाते हैं और उनमे रूसी भी नहीं होती।

भारतीय बाजार में 10 सबसे अच्छे एलोवेरा शैम्पू

बालों के तेल से मालिश (Massage with hair oil)

बालों को झड़ने से रोकने के लिए सबसे पहले अपने बालों पर किसी तेल से मालिश अवश्य करें। सिर और बालों की अच्छी मालिश से बालों की जड़ों में रक्त का संचार काफी अच्छे से होता है और वे काफी मज़बूत हो जाते हैं। इससे तनाव भी दूर होता है और आपको काफी सुकून प्राप्त होता है। आप जैतून के तेल, बादाम के तेल, आंवले के तेल, कैस्टर ऑइल (olive oil, almond oil, gooseberry oil, castor oil) आदि का प्रयोग कर सकते हैं। आप जो भी तेल प्रयोग में ला रहे हैं, उसमें रोजमेरी के तेल (rosemary essential oil) का मिश्रण कर लें, जिससे की आपको बेहतर और तेज़ परिणाम प्राप्त हों। आप आर्गन ऑइल, एमु के तेल और वीटजर्म के तेल (argan oil, emu oil, and wheat germ oil) का प्रयोग भी कर सकते हैं। ऊपर बताये गए तेलों में से किसी का भी प्रयोग अपने सिर और बालों पर करें। ऐसा करने के लिए अपनी उँगलियों का प्रयोग करें। इस विधि का प्रयोग हफ्ते में कम से कम एक बार अवश्य करें।

एलोवेरा (Aloevera se hair fall rokne ke upay in hindi)

एलोवेरा एंजाइम (enzyme) से युक्त होता है, जिसकी वजह से बालों की बढ़त स्वास्थयकर तरीके से होती है। इसके अल्कलाइजिंग (alkalizing) गुण सिर एवं बालों के ph स्तर को एक सामान्य स्तर तक ले आते हैं। इससे बालों की बढ़त में काफी वृद्धि देखी जा सकती है। रोज़ाना एलो वेरा का प्रयोग करने से सिर का लालपन दूर होता है, सिर की खुजली दूर होती है और बालों को मज़बूती मिलती है। इससे डैंडरफ (dandruff) से भी छुटकारा मिलता है। इसमें एलोवेरा का रस और जेल आपकी मदद करेंगे। इसे अपने सिर पर कुछ घंटों के लिए छोड़ दें और फिर सिर को गर्म पानी से धो लें। इस प्रक्रिया का प्रयोग हफ्ते में 2 से 3 बार करें। अगर आपको अच्छे परिणाम चाहिए तो खाली पेट में रोज़ाना एक चम्मच एलोवेरा जेल का सेवन करें।

नारियल का दूध (Coconut milk)

नारियल का दूध बालों के झड़ने को रोकने में काफी लाभदायक साबित होता है। यह उन पोषक तत्वों में से एक है, जो बालों के तंतुओं को पोषण प्रदान करता है। किसे हुए नारियल को पीस लें और इससे रस निचोड़कर निकाल लें। बाल झड़ने से रोकने के लिए अपने सिर पर नारियल के दूध की मालिश करें।

बालों की देखभाल के लिये करेले का जूस

नीम का उपचार (Neem treatment)

नीम भारत में प्रयोग में आने वाली प्रसिद्ध जड़ीबूटियों में से एक है। इसके काफी स्वास्थ्य और सौंदर्य गुण भी होते हैं। नीम के एस्ट्रिंजेंट (astringent) के गुण जुएं और डैंडरफ को दूर करने में सहायक होता है। नीम के कुछ पत्तों को पानी में उबालें और तब तक प्रतीक्षा करें जब तक पानी आधा ना हो जाए। इसे कमरे के तापमान तक ले आएं। इस मिश्रण से हफ्ते में एक बार अपने बालों को धो लें।

लहसुन (Garlic se baal jhadne se rokne ke upay)

लहसुन में प्याज की ही तरह सल्फर (sulphur) की मात्रा होती है। यह कोलेजन (collagen) के उत्पादन में वृद्धि करके बालों की बढ़त में काफी सहायता करता है। लहसुन के रस का बालों तथा सिर पर प्रयोग करने से बाल झड़ने में काफी कमी आती है। इसके लिए लहसुन के कुछ फाहे मसल लें। इन फाहों में नारियल का तेल मिश्रित कर लें। इस मिश्रण को 15 मिनट तक उबाल लें। इसे अपने सिर पर आधे घंटे के लिए छोड़ दें और फिर अपने बालों को धो लें। अच्छे परिणामों के लिए इस उपचार का प्रयोग हफ्ते में कम से कम 2 बार करें।

प्याज़ का रस (The juice of onion)

इसमें मौजूद सल्फर की ज़्यादा मात्रा के कारण प्याज का रस बाल झड़ने से रोकने में आपकी काफी सहायता करता है। यह बालों के फॉलिकल्स (follicles) को दोबारा क्रियाशील बनाता है, उनमें रक्त के संचार में वृद्धि करता है तथा जलन को काफी कम कर देता है। प्याज को किसकर उसका रस निकाल लें और बाद में इसे छान लें। इस रस का प्रयोग अपने सिर पर कर लें। इसे करीब आधे घंटे के लिए छोड़ दें और इसके बाद इसे धोने के लिए शैम्पू (shampoo) का प्रयोग करें। इन घरेलू नुस्खों का प्रयोग कुछ हफ़्तों तक हफ्ते में 2 से 3 बार करें।