Hindi tips to prevent bad breath from mouth – साँसों की बदबू हटाने के घरेलू नुस्खे और पाए ताजी सांसे

साँसों की बदबू, जिसे हैलिटोसिस भी कहते हैं,जो कि किसी भी व्यक्ति को शर्मसार जो कि कर सकता है। जिसे भी यह समस्या होती है उसके आत्मविश्वास को काफी चोट पहुँचती है। साँसों में बदबू कई कारणों से हो सकती है जैसे दांतों में सड़न, मसूड़ों की परेशानी, खराब ओरल हाइजीन, खानपान में गड़बड़, स्मोकिंग या साइनस की परेशानी।

हमारे मुंह में करोड़ों बैक्टीरिया का वास है एवं उनकी वजह से साँसों में बदबू की समस्या सबसे ज़्यादा होती है। अन्य कारणों में कुपोषण, मधुमेह और शरीर की अन्य बीमारियां जैसे सीने में जलन और अलसर प्रमुख है। कुछ खाद्य पदार्थों से भी सांसों में बदबू की समस्या बढ़ती है जैसे प्याज, लहसुन, कॉफ़ी एवं शराब।

सांसों में बदबू व्यक्ति को सामाजिक परेशानियों का भी शिकार बनाती हैं। इसकी वजह से किसी से बात करना तो दूर,किसी के पास जाने में भी शर्म महसूस होती है। लोग ऐसे व्यक्तियों का साथ छोड़ देते हैं और वह ज़िन्दगी में अकेला रह जाता है। अतः इस समस्या को दूर करने के लिए नीचे दिए गए नुस्खे अपनाने की कोशिश करें।

साँसों की बदबू लोगों को आपसे दूर कर सकती है आर आपको लोगों की टीका टिप्पणी और मज़ाक का शिकार बनना पड़ सकता है। किसी सामाजिक कार्यक्रम में यह आपके आत्मविश्वास को कम कर सकता है। यह एक काफी आम समस्या है, जिससे हर तीसरा व्यक्ति प्रभावित है। भले ही आपकी सांसों से बदबू आ रही हो, पर यह कोई ऐसी समस्या नहीं है जिसे लेकर रातों की नींद उड़ाई जाए। ऐसी कई घरेलू विधियां हैं, जिनका प्रयोग आप घर बैठे कर सकते हैं।

ताजा महसूस करने के लिए पालन करें (Follow to feel fresh)

मुंह की बदबू, मसालेदार खाना छोड़ें (Spicy food) : यह साँसों की बदबू बढ़ाने का सबसे अहम कारण है अतः जितना हो सके तीखा और मसालेदार खाना ना खाएं।

मुंह में छाले या नासूर घावों का इलाज करने के लिए घरेलू उपचार

मुंह से बदबू आना, जीभ साफ़ करें (Clean your tongue) : रोज़ाना जीभ ना साफ़ करने की वजह से भी साँसों में बदबू की परेशानी सामने आ सकती है। खाने के पहले और बाद दांतों के साथ जीभ की भी सफाई करें और आप साँसों की परेशानी से बच सकते हैं।

मुँह की दुर्गन्ध, अच्छे से ब्रश करें (Brush it right) : दांतों की सफाई अच्छे ढंग से करें। आमतौर पर हम अपने सामने के दांत तो अच्छे से साफ़ करते हैं परन्तु पीछे की तरफ ध्यान नहीं देते। दांतों की सफाई करते वक़्त पूरे मुंह की अच्छे से सफाई करें।

मुंह से बदबू आना, गला खखारें (Gargling) : नींबू पानी से गला खखारना काफी फायदेमंद सिद्ध होता है। रोज़ाना ऐसा करने से आपको साँसों की बदबू (mooh ki badboo) गायब होने में ज़्यादा वक़्त नहीं लगेगा।

मुँह की दुर्गंध, ब्लैक या ग्रीन टी (चाय) पियें (Drink black / green tea) : सुबह सुबह ब्लैक या ग्रीन टी पीने से आपको साँसों की बदबू से छुटकारा मिलता है। इनमें पॉलीफेनोल्स होते हैं जो कि सांसों की समस्या से लड़ने में एंटी ऑक्सीडेंट्स की भूमिका निभाते हैं।

सांस की दुर्गंध, भरपूर मात्रा में पानी पियें (Hydrate your body) : एक सदाबहार नुस्खा जिससे साँसों की बदबू से छुटकारा मिलता है वो है नियमित अंतराल पर खूब पानी पीना। बहुत बार मुंह सूखा रह जाने से बदबू उत्पन्न होती है अतः पानी पीते रहें।

साँसों की बदबू के कारण, टूथपेस्ट में बेकिंग सोडा मिलाएं (Baking soda with toothpaste) : खराब सांस होने की समस्या इस नुस्खे से ठीक हो सकती है। बस ब्रश करते वक़्त अपने टूथपेस्ट में थोड़ा बेकिंग सोडा छिड़क लें।

माउथवाश के रूप में सेब के सिरके का प्रयोग (Apple cider vinegar as mouthwash) : सेब का सिरका साँसों की बदबू (muh ki badboo) को रोकता है। आधे चम्मच सिरके को पानी से भरे गिलास में डालिये और इस पानी से गरारा करके बदबूदार सांस को दूर भगाइए।

कैसे बुखार की दवाइयों के दौरान मुंह गले में कड़वे स्वाद से छुटकारा पायें?

साँसों की बदबू के कारण, खट्टे फल खाएं (Eat citrus fruits) : मुंह सूखा रहने की वजह से कई बार साँसों की परेशानी होती है। इसके लिए रोज़ाना काफी मात्रा में रसभरे खट्टे फल जैसे संतरे आदि का सेवन करें।

अजवायन चबाएं (Chew parsley) : अजवायन में क्लोरोफिल पाया जाता है जो एक तरह से एंटीसेप्टिक का काम करता है। अजवायन की पत्तियों को चबाने से सांसें तरोताज़ा होती हैं।

अवोकेडो खाएं (Eat avocados) : इस बेहतरीन फल का सेवन करने से भी साँसों की बदबू दूर होती है, क्योंकि यह आँतों में जमा गन्दगी को साफ़ करता है जो कि खराब साँसों का कारण बनती है। यह आपको तरोताज़ा अहसास भी करवाता है। रोजाना इसका सेवन करने पर आपको अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे।

साँसों की बदबू दूर करने के घरेलू नुस्खे (Home remedies for bad breath)

  • सौंफ (Fennel) सौंफ में एंटी माइक्रोबियल (antimicrobial) गुण होते हैं जो सांसों की बदबू का इलाज करते हैं। सौंफ चबाने से मुंह में लार का उत्पादन ज़्यादा होता है। अगर आप काफी तेज़ गंध वाला भोजन करने के तुरंत बाद सौंफ, दालचीनी और लौंग का सेवन करें तो आपकी सांसों में ताजगी आ जाएगी।
  • मेथी (Fenugreek) मेथी की चाय कैटारल संक्रमण (catarrhal infections) के फलस्वरूप सांसों की बदबू होने पर काफी फायदा पहुंचाती है। मेथी के बीजों को पानी में उबालें तथा इन्हें छानकर इस चाय को पियें।
  • लौंग (Cloves) लौंग में शक्तिशाली एंटीसेप्टिक (antiseptic) गुण होते हैं, जिनकी मदद से साँसों की बदबू काफी प्रभावी रूप से दूर होती है। इसके लिए लौंग के कुछ टुकड़ों को चबाएं और कुछ मिनट में ही साँसों की बदबू से मुक्ति प्राप्त करें।
  • दालचीनी (Cinnamon) दालचीनी एक प्रकार का एसेंशियल तेल (essential oil) है, जो सांसों की दुर्गन्ध को रोकता है एवं लार में मौजूद बैक्टीरिया (bacteria) की मात्रा को कम करता है। दालचीनी के पाउडर, तेज पत्ते और इलायची पाउडर के मिश्रण को उबालें। इस मिश्रण से कुल्ला और गरारा करें तथा ताज़ी सांसें प्राप्त करें।
  • नींबू का रस (Lemon juice) सदियों से नींबू का रस साँसों की बदबू दूर करने के लिए प्रयोग में लाया जाता रहा है। नींबू में मौजूद उच्च अम्लीय तत्व (acidic contents) जीभ और मसूड़ों में बैक्टीरिया को पैदा होने से रोकते हैं। इसके लिए पानी में नींबू का रस मिश्रित करें और इससे कुल्ला करें।

मुंह के स्वास्थ्य के लिए दांतों को ब्रश करने के नुस्खे

  • टी ट्री ऑइल (Tea tree oil) इसमें एंटीसेप्टिक (antiseptic) गुण होते हैं, जो मुंह के अन्दर के सारे संक्रमणों को दूर करते हैं। दांतों को साफ करने के पहले टूथब्रश या टूथपेस्ट (toothbrush or toothpaste) पर टी ट्री ऑइल की कुछ बूँदें डालें। आप टी ट्री ऑइल, पुदीने के तेल तथा नींबू के तेल को एक गिलास पानी में मिश्रित करके एक माउथवाश (mouthwash) भी बना सकते हैं।

साँसों की बदबू को रोकने के आसान उपाय (Simple tips to control bad breath)

  • मुंह से बैक्टीरिया को दूर रखने के लिए सुबह और रात को सोने से पहले दांतों को साफ़ करें। साँसों की बदबू को दूर हटाने के लिए रोज़ाना दांतों को फ्लॉस (floss) अवश्य करें। दांतों और मसूड़ों के बीच खाने के अंश जम जाने से भी साँसों की बदबू काफी बढ़ जाती है।
  • दांतों को ब्रश करते समय जीभ अवश्य साफ़ करें। इससे साँसों की समस्या दूर होगी।
  • दांतों के डेंचर्स (dentures) को रात में सोते समय निकाल लें और सुबह इन्हें अच्छे से साफ़ करके ही दोबारा प्रयोग में लाएं।
  • चीनी रहित पुदीने को चूसने से साँसों की बदबू कम हो जाएगी, क्योंकि यह लार के उत्पादन को प्रोत्साहित करता है
  • तनाव से मुंह सूख जाता है, जिससे साँसों की बदबू की समस्या सामने आती हैं। तनाव से परहेज करें या फिर तनाव को दूर करने वाले कार्यक्रमों में सम्मिलित होकर साँसों की बदबू की समस्या को दूर करें।
  • सुगन्धित जड़ीबूटियों और मसालों को चबाने से लार के उत्पादन में बढ़ोत्तरी होती है तथा मुंह सूखने के फलस्वरूप पैदा हुई साँसों की बदबू से निजात मिलती है।
  • धूम्रपान तथा तम्बाकू के अन्य किसी भी उत्पाद से परहेज करें। इससे मसूड़ों की तकलीफ और साँसों की समस्या दूर होगी।
  • साल में एक बार दांतों की जांच अवश्य करवाएं। इससे आप दांत और मुंह की कई समस्याओं से बचे रहेंगे।
  • सही अंतराल में भोजन करने का प्रयास करें। ऐसा ना करने पर बदहज़मी हो जाती है, जिससे साँसों में बदबू की शिकायत होती है।
  • चीनी युक्त पेय पदार्थ तथा ज़्यादा तेज़ गंध के खाद्य पदार्थों से परहेज़ करें।
  • काफी मात्रा में पानी पिएं। इससे मुंह के हानिकारक बैक्टीरिया दूर होते हैं और सांसों की बदबू से छुटकारा प्राप्त होता है। शरीर में पानी की कमी होना साँसों में बदबू का काफी बड़ा कारण है।भोजन के छोटे अंश सारा दिन मुंह में जमा होते रहते हैं, जिससे साँसों में बदबू की समस्या उत्पन्न होती है। मुंह के अंदर और जीभ में मौजूद मृत कोशिकाओं के सड़ जाने से मुंह सूख जाता है, जिससे साँसों में बदबू होती है। पानी पीने से मुंह साफ और बैक्टीरिया से मुक्त रहता है।

स्वस्थ मुँह की देखभाल की सलह अच्छी मुस्कान के लिए

साँसों की दुर्गन्द से बचने के तरीके (Ways to prevent bad breath)

अल्कोहलिक माउथवाश (Alcoholic mouth wash)

साँसों की समस्या पैदा होने के कई कारण हो सकते हैं। इनमें से एक कारण मुंह का सूख जाना है। जिन लोगों के मुंह में ज़्यादा लार पैदा नहीं होती, वे इस समस्या का शिकार हो सकते हैं। साँसों की बदबू या हेलीटोसिस की समस्या से बचने के लिए अल्कोहलिक माउथवाश का प्रयोग करें। इस माउथवाश की मदद से आप मुंह के अंदर मौजूद बैक्टीरिया का खात्मा कर सकते हैं।

भोजन में अत्याधिक मांस से बचें (Avoid excessive meat in meals)

ज़्यादातर लोग, खासकर जवान व्यक्ति और पुरुष अपने खानपान में मांस को शामिल करना काफी पसंद करते हैं। कई लोग तो ऐसे भी हैं जो रोज़ाना ही अपने भोजन में मांस की उपस्थिति चाहते हैं। परन्तु दांत के कोने या मसूड़ों के किनारों में मांस का टुकड़ा फंस जाने से दांतों की कई प्रकार की समस्या पैदा हो जाती है। मुंह की इन्हीं समस्याओं में से एक समस्या साँसों की बदबू की भी होती है। क्योंकि दांत में फंसे फंसे ये टुकड़ा सड़ जाता है, अतः इससे बदबू आने लगती है।

फाइबर युक्त फल और सब्ज़ियाँ (Fibrous fruit and vegetables)

मुंह और साँसों की बदबू को दूर करने का एक उपाय ऐसे फल और सब्ज़ियों का सेवन करना है, जो फाइबर से भरपूर हों। ऐसे फल आपके मुंह से बैक्टीरिया को निकालने में काफी मददगार साबित होते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर आप दिन में एक सेब का सेवन करें, तो इससे आपके मुंह में नमी की सृष्टि हो जाएगी। इसके सेवन से आपका मुंह सूखा नहीं रहेगा और इसके फलस्वरूप साँसों में होने वाली बदबू की समस्या से भी आप परेशान नहीं रहेंगे।

पूरक खाद्य पदार्थ (Dietary supplements)

शरीर की अशुद्धियों को दूर करने के लिए कुछ ख़ास विटामिन्स (vitamins) की आपको काफी ज़रुरत होती है। इन विटामिन्स में मुख्य हैं विटामिन बी, विटामिन डी, विटामिन सी और विटामिन इ (vitamin B, vitamin D, vitamin C and vitamin E) । यह आपके मुंह से अतिरिक्त म्यूकस (mucus) को निकालता है और साँसों की बदबू को पैदा होने से रोकता है।

loading...