Hindi tips for white discharge in women – महिलाओं में श्वेत प्रदर (सफ़ेद पानी) की समस्या के घरेलू नुस्खे

अलग अलग वर्ग की महिलाओं में सफ़ेद द्रव्य का निकलना कोई असामान्य बात नहीं है। मासिक धर्म के एक ख़ास दौर मे यह समस्या देखी जा सकती है। यह समस्या आमतौर पर किशोरी महिलाओं में ज़्यादा देखी जाती है। थोड़ी मात्रा में सफ़ेद पानी आना का निकलना कोई बीमारी नहीं है, पर इस सफ़ेद पानी आना से महिलाएं काफी परेशान रहती हैं।

ज़्यादा मात्रा में इस द्रव्य का निकलना चिंता की बात अवश्य है। इस द्रव्य को डॉक्टरी भाषा में लियुकोरिया , प्रदर रोग कहते हैं। इससे महिलाओं की प्रजनन प्रणाली को काफी नुकसान पहुँच सकता है।

महिलाएं ऐसी कई स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार होती हैं जिनका सम्बन्ध मुख्य रूप से प्रजनन प्रणाली और जननांगों से रहता है। सफेद द्रव्य निकलना ऐसी ही एक शारीरिक समस्या है जो महिलाओं के सम्पूर्ण स्वास्थ्य को बुरी तरह से प्रभावित करती है। इस  स्थिति के दौरान महिलाएं खुद को काफी कमज़ोर और थकी हुई सी महसूस करती हैं। कई बार पेट में दर्द होने के साथ ही महिलाओं में सफ़ेद द्रव्य निकलने की समस्या भी देखी जाती है।

इस स्थिति में महिलाओं की योनि से सफ़ेद या पीले रंग का द्रव्य निकलता है। यह स्थिति पैदा होने की ज़्यादा संभावना महिलाओं के मासिक धर्म के दौरान होती है। कई महिलाएं अपनी गर्भावस्था के समय में भी इस समस्या से पीड़ित होती हैं। इस स्थिति से निपटने के लिए नीचे कुछ घरेलू नुस्खों का वर्णन किया गया है।

प्रदर रोग (सफ़ेद पानी) निकलने से जुडी समस्याएं (Problem caused due to white discharge)

  • यौन क्रियाओं से फैलने वाली बीमारी
  • कूल्हे में जलन
  • हॉर्मोन की समस्याएं
  • योनि में संक्रमण
  • गर्भाशय का कैंसर
  • गर्भाशय का संक्रमण

प्रदर रोग के लक्षण (Symptoms of the disease)

सीने की जलन को ठीक करने के घरेलू नुस्खे

कुछ महिलाओं में ये द्रव्य बिना किसी लक्षण या परेशानी के निकलता है। पर ऐसी कई महिलाएं हैं जिनको सफ़ेद द्रव्य निकलने के साथ कब्ज़, लालपन, पेट में दर्द, कूल्हे में दर्द तथा खुजली जैसी समस्याएं पेश आती हैं। अगर आप भी इन सब समस्याओं से परेशान हैं तो डॉक्टर को दिखाने से पहले कुछ घरेलू नुस्खे अपनाएं।

श्वेत प्रदर के लक्षण, योनि से असामान्य रूप से द्रव्य का निकलना (Abnormal vaginal white discharge)

यह जानना काफी आवश्यक है कि किसी महिला के द्रव्य निकलने की प्रक्रिया सामान्य है या असामान्य। श्वेत प्रदर के लक्षण, सफ़ेद रंग का द्रव्य निकलना सामान्य माना जाता है, परन्तु अगर द्रव्य का रंग इनमें से कोई है:-

  • भूरापन लिए हुए सफ़ेद
  • जंग लगे हुए रंग का
  • हरा
  • पीला
  • भूरा

तो महिलाओं के लिए काफी समस्या की बात है और यह डॉक्टर को दिखाने का सही समय है। गाढ़ा सफ़ेद द्रव्य निकलना तथा साथ में खुजली योनि में संक्रमण के मुख्य कारण होते है। यह आमतौर पर योनि में फंगस या खमीर जमने की वजह से होता है। मधुमेह के शिकार रोगियों द्वारा लिए जाने वाला एंटीबायोटिक भी इस गाढ़े सफ़ेद रंग के द्रव्य का ज़िम्मेदार हो सकता है। हरे और पीले रंग का बदबूदार द्रव्य भी महिलाओं के लिए काफी खतरनाक होता है। इसे डॉक्टरी भाषा में ट्राइकोमोनिएसिस कहते हैं जो कि एक तरह का यौन संक्रामक रोग है।

लिकोरिया का देसी इलाज / घरेलू उपाय / प्राकृतिक उपाय (Natural remedies for white discharge in Hindi)

मुंहासों को दूर करने के प्राकृतिक घरेलू इलाज

मेथी के बीज (Fenugreek seeds se safed pani ka ilaj)

कई महिलाओं के सफ़ेद द्रव्य को रोकने के लिए लिकोरिया का इलाज यह घरेलू नुस्खे की भाँति प्रयोग में लाया जाता है। इसे गर्म पानी में मिलाकर इसका सेवन करें। इस पेय पदार्थ को पीने से आपमें अंदरूनी ताकत आएगी। आप 1 लीटर पानी में मेथी के बीजों को पका भी सकते हैं। 30 मिनट तक इसे बिना किसी बाधा के पकाएं। पानी ठंडा हो जाने के बाद इसका सेवन करें।

सफेद पानी का देसी इलाज भिन्डी से (Desi ilaj for white discharge with Lady finger in Hindi)

ज़्यादातर घरों में भिन्डी का एक सब्ज़ी के रूप में प्रयोग किया जाता है। आप भिन्डी को उबालकर इसकी गाढ़ी तरी को पीकर सफ़ेद द्रव्य का उत्पादन रोक सकती हैं। कुछ महिलाएं भिन्डी को दही और रुई के फाहों के साथ भिगोती हैं। दही का सेवन करने से योनि के आसपास के भागों में बैक्टीरिया का फैलना कम हो जाता है।

कई महिलाओं की योनि से थोड़ी मात्रा में द्रव्य अवश्य निकलता है। यह सेहत के लिए अच्छा भी होता है क्योंकि इससे योनि के आसपास के भागों में बैक्टीरिया और फंगस का आक्रमण नहीं होता। सम्भोग के समय भी योनि में उत्पन्न होने वाली चिकनाई सफ़ेद द्रव्य (shvet pradar ka gharelu upchar) की वजह से ही होती है। इसे सामान्य रूप से द्रव्य का निकलना कहते हैं।

सफेद पानी का इलाज धनिये के बीज से (Coriander seeds remedy for leucorrhoea ka desi ilaj)

इस विधि का फायदा उठाने के लिए पानी में कुछ चम्मच धनिये के बीज रातभर भिगोकर रख दें। सुबह इस मिश्रण से पानी निकाल लें और सुबह सुबह खाली पेट इस पानी को पियें। यह सफ़ेद द्रव्य निकलने की समस्या को ठीक करने का काफी प्रभावी तरीका है।

सफ़ेद पानी का घरेलू उपाय है आंवला (Safed paani ka gharelu upay  with Indian gooseberry / amla)

कान छिदने के स्थान पर संक्रमण का उपचार कैसे करें?

आंवला के प्रयोग द्वारा भी सफ़ेद द्रव्य का निकलना काफी कम हो सकता है। आंवले के टुकड़े करें और उन्हें सूरज की रौशनी में सूखने दें। कुछ दिनों में ये अच्छे से सूख जाएंगे। इसके बाद इन्हें पीसकर इनका पाउडर बना दें। अब इस पाउडर के 2 चम्मच लें और इसे 2 चम्मच शहद के साथ मिलाएं। एक बार यह मिश्रण बन जाने पर अच्छे परिणामों के लिए इसका सेवन करें। बेहतर नतीजों के लिए दिन में 2 बार इस मिश्रण का सेवन करें। इस मिश्रण को पतला करने के लिए आंवला पाउडर और शहद को पानी में मिलाएं और पियें।

श्वेत प्रदर का इलाज है अनार (Pomegranate se leucorrhoea ka ilaj)

अनार एक अद्भुत प्राकृतिक फल है जो कि ना सिर्फ स्वादिष्ट होता है बल्कि इसका स्वास्थ्य पर भी काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है। महिलाओं के सफ़ेद द्रव्य की समस्या को ठीक करने का यह एक काफी फायदेमंद उपचार है। अनार की पत्तियां भी सफ़ेद द्रव्य की समस्या को ठीक करने में मदद करती हैं। सिर्फ इनका पेस्ट बनाएं और पानी के साथ मिलाकर हर सुबह पियें।

श्वेत प्रदर का इलाज है तुलसी (Tulsi/ basil)

तुलसी एक काफी चमत्कारी जड़ीबूटी है जिसकी ना सिर्फ पूजा होती है, बल्कि इसके औषधीय गुण भी हैं। काफी उपयोग योनि के द्रव्य को ठीक करने के लिए किया जाता रहा है। तुलसी की पत्तियों का रस निकालें तथा इसमें थोड़ा शहद डालें। इस द्रव्य को रोज़ाना 2 बार पीने से आपकी योनि से द्रव्य निकलने की समस्या का उचित समाधान होगा। वैकल्पिक तौर पर आप इसका दूध के साथ भी सेवन कर सकते हैं। आप चीनी के घोल के साथ भी तुलसी की पत्तियों का सेवन करके सफ़ेद द्रव्य से छुटकारा पा सकते हैं।

चावल की माड़ी (Rice starch)

चावल पका लेने के बाद आप चावल की माड़ी निकाल सकते हैं। इसे ठंडा होने दें और इसे रोज़ाना पियें। इससे आपकी सफ़ेद द्रव्य की समस्या समाप्त हो जाएगी। सिर्फ चावल को उबालें और इसके पानी को निकाल लें। अगर आप सफ़ेद द्रव्य की समस्या से काफी दिनों से परेशान है तो आपके लिए ये माड़ी काफी उपयुक्त उपचार है।

वाइट डिसचार्ज के लिए अमरुद की पत्तियां (White discharge tips with guava leaves in Hindi)

सन टैन के लिए प्राकृतिक घरेलू उपचार

अमरुद की कुछ पत्तियां तोड़ें और उन्हें तब तक पानी में उबालें जब तक कि पानी आधा ना हो जाए। अब पानी से पत्तियां निकाल लें और सफ़ेद द्रव्य की समस्या से छुटकारा पाने के लिए इस पानी को पियें। इस पानी को दिन में दो बार पियें और स्वस्थ रहे।

अदरक (Ginger)

अदरक के टुकड़े करके उन्हें सुखा लें तथा इसके बाद उन्हें ग्राइंडर में डाल लें। इसका पाउडर बना लें तथा इसका सफ़ेद द्रव्य के उपचार के तौर पर इस्तेमाल करें। 2 चम्मच सूखे अदरक का पाउडर लें तथा इसे पर्याप्त मात्रा में मौजूद पानी में उबालें। पानी के आधे होने की प्रतीक्षा करें और इसके बाद इसे पी लें। इस पानी को रोज़ाना 3 हफ़्तों तक पीने से आपकी सफ़ेद द्रव्य की समस्या समाप्त हो जाएगी। यह सफ़ेद द्रव्य की परेशानी को ठीक करने का रामबाण इलाज है।

सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

ये उत्पाद आपके घर में अवश्य ही उपलब्ध होगा, और इसमें कई तरह की बीमारियों को ठीक करने के गुण होते हैं। अगर आपके घर में सेब का सिरका उपलब्ध नहीं है तो यही समय है कि आप इसे घर ले आएं। एक गिलास शुद्ध पानी लें और इसमें 1 चम्मच सेब का सिरका मिश्रित करें। इन्हें अच्छे से मिलाकर अपने योनि के भाग में लगाएं। सफ़ेद द्रव्य को निकलने से रोकने के लिए इस विधि का प्रयोग दिन में 2 बार करें।

केले की विधि (Banana remedy)

केले में कई तरह के खनिज और विभिन्न बीमारियों से लड़ने के तत्व पाए जाते हैं। अपने घर में पका हुआ केला अवश्य रखें। यह ल्यूकेरिया (leucorrhea) को ठीक करने की बेहतरीन औषधि साबित होता है। हर दिन 1 या 2 अतिरिक्त रूप से पके केले खाएं। इससे आप योनि से सफ़ेद द्रव्य निकलने की समस्या से छुटकारा प्राप्त कर पाएंगी।

अंजीर (Fig)

आप अंजीर की सहायता से भी योनि से निकलने वाले सफ़ेद द्रव्य को रोक सकती हैं। यह एक प्राकृतिक उत्पाद है जिसका आपके शरीर पर लेक्सेटिव (laxative) प्रभाव होता है। 2 से 3 सूखे अबजीरों को रातभर पानी में भिगोकर रखें। अगली सुबह उठें और इन अंजीरों को पानी में अच्छे से मिश्रित करके खाली पेट इसका सेवन करें। यह आपकी योनि से प्रभावी रूप से सफ़ेद द्रव्य निकलने से रोकता है। अगर आपके पास अंजीर का पाउडर है तो इसका एक चम्मच लेकर 2 कप पानी में डालें। इसे अच्छे से मिश्रित करके तब तब सेवन करें, जब जब आपको योनि से सफ़ेद द्रव्य निकलने की समस्या हो। चाहे यह समस्या मासिक धर्म के समय हो या गर्भावस्था के समय, अंजीर आपकी परेशानी का काफी अच्छा निदान साबित होता है।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday