Hindi remedies to stop hiccups – हिचकी रोकने के सर्वोच्च घरेलू उपाय

हिचकियाँ आने से व्यक्ति काफी परेशानी महसूस करता है। इसी वजह से आप कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे अपना सकते हैं, जो आपको हिचकियों से बचा सकते हैं। हिचकियाँ किसी भी मौके पर आ सकती हैं। कई बार ये इतनी गंभीर हो जाती हैं कि आपको बातें करने और ध्यान लगाने में भी काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। इसी वजह से आपको ऐसी विधियों का ज्ञान होना चाहिए, जिससे आप इन हिचकियों पर काबू पा सकें और इस समस्या से छुटकारा प्राप्त कर सकें।

हिचकी आने के कारण, हिचकियाँ असल में डायाफ्राम के द्वारा निरंतर उत्पन्न किये गए म्योक्लोनिक झटके हैं जिसके कई कारण हो सकते है जैसे जल्दी-जल्दी खाना, डायाफ्राम में असहजता, व्याकुलता इत्यादि। हिचकी रोकने के कई उपाय हैं हिचकी क्यों आती है, जिनमें से कुछ घरेलू उपाय यहाँ बताये जा रहे हैं।

हिचकियाँ दूर करने के प्रभावी उपाय (The trusted home remedies for hiccups)

हथेली को अंगूठे से दबाना (Pressing the palm with the thumb can stop hiccups)

साइनस के घरेलू उपचार, सुझाव और नुस्खे

जब आपको हिचकियाँ आ रही हों तो अपनी दाईं हथेली को बाएं हाथ के अंगूठे से दबाएँ और यही प्रक्रिया दूसरे हाथ से भी करें। आप अपने बाएं अंगूठे की गोलाई को भी दबा सकते हैं। इसके लिए अपने अंगूठे और तर्जनी के बीच इस गोलाई को दबाएँ। इससे आपकी नसों पर प्रभाव पड़ेगा और इससे होने वाले दर्द से आपका ध्यान बंट जाएगा एवं हिचकियाँ बंद हो जाएंगी। आप ये सारी प्रक्रिया मेज़ के नीचे भी संपन्न कर सकते हैं, जिससे आपको कोई देख ना पाए।

लंबी सांसें लें (Take a deep breath to control hiccups)

जब भी आपको हिचकियाँ आएं तो लंबी सांसें लें। अपनी सांसों को कुछ देर तक रोककर रखें। जब भी आप ऐसा करते हैं तो आपके फेफड़े कार्बन डाइऑक्साइड (carbon dioxide) से भर जाते हैं और इस प्रक्रिया के फलस्वरूप आपके डायाफ्राम (diaphragm) को काफी आराम मिलता है। एक बार जब ये आराम मिलने लगता है तो काफी अच्छा लगता है और आपकी हिचकियाँ भी बंद हो जाती हैं।

लोगों की नज़रों से दूर हो जाएँ (Just move out of sight to control hiccups)

अगर आप हिचकियों को रोकना चाहते हैं तो कहीं छिप जाएँ। इस समय अपनी उँगलियों के द्वारा अपने कान अच्छी तरह से बंद कर लें। आप अपने कान के पीछे के हिस्से, जो कि खोपड़ी के ठीक नीचे स्थित होते हैं, को दबा भी सकते हैं। इससे आपको कुछ देर के लिए शांति मिलेगी जिसका सीधा असर आपके डायाफ्राम पर पड़ेगा। कुछ समय के बाद आपको आराम का अनुभव होगा और आपकी हिचकियाँ ठीक हो जाएंगी।

जीभ बाहर निकालकर रखें (Stick out your tongue to cure hiccups)

अगर आपको हिचकियाँ आ रही हैं और आप इन्हें जल्दी से जल्दी रोकना चाहते हैं तो आपके लिए यही सही होगा कि एक बार लोगों की नज़रों से दूर जाकर आप अपनी जीभ कुछ देर बाहर निकालकर रखें। ऐसा करते समय आप काफी अजीब और असभ्य दिखेंगे। ऐसा कई अभिनेताओं और गायकों द्वारा किया जाता है क्योंकि इससे गले के बीच के भाग को आराम मिलता है और यह अच्छे से खुल जाता है। इससे आप आसानी से सांस ले पाते हैं और इसी प्रक्रिया के फलस्वरूप आपकी हिचकियाँ आनी बिलकुल बंद हो जाती हैं। यह  एक ऐसा व्यायाम है जिसकी मदद से आपकी हिचकियाँ पूरी तरह ख़त्म हो जाती हैं।

सिरके से हिचकियाँ रोकें (Cider vinegar can cure hiccups)

साँसों की बदबू के घरेलू उपचार

सिरके का सेवन करने से भी हिचकियों में काफी रूकावट आती है। सिरके का स्वाद निश्चित रूप से अच्छा नहीं होता है, पर आपकी हिचकियों को कम से कम समय में ठीक करने में यह काफी कारगर सिद्ध होता है। आप डिल (dill) के अचार को चूसकर भी अपनी हिचकियाँ दूर कर सकते हैं।

हिचकियाँ दूर करने के अन्य नुस्खे (The best things to do in order to avoid hiccups)

जब भी आपको हिचकियाँ आएं तो ठन्डे पानी का सेवन कर लें। इससे आपके शरीर की प्रणाली को झटका लगेगा और हिचकियाँ भी रूक जाएंगी। झटका लगने से ध्यान भटक जाता है और इसी वजह से आपको समय पर पानी पी लेना चाहिए। इसके लिए एक गिलास में ठंडा पानी लें और इसमें शहद का मिश्रण करें। इसका सेवन करने से आपकी हिचकियाँ जल्द से जल्द पूरी तरह रूक जाएंगी। हिचकियों को दूर करने के लिए आप ठन्डे पानी से गरारा भी कर सकते हैं। इससे आपकी हिचकी हमेशा के लिए चली जाएगी। आप एक छोटे बर्फ का टुकड़ा लेकर इसे चूस भी सकते हैं। इस प्रक्रिया की मदद से भी आपकी हिचकियाँ ठीक हो जाएंगी। अगर आप हिचकियों की समस्या को जल्दी से ठीक करना चाहते हैं, तो उल्टा होकर पानी पीने से भी आपको काफी लाभ होगा।

हिचकी आने पर क्या करें शक्कर से (Sugar se hichki rokne ke upay in hindi)

हिचकी आने पर थोड़ी शक्कर खा लीजिये। इसे मक्खन के साथ भी खाया जा सकता है। शक्कर डायाफ्राम की असहजता को दूर करके हिचकी बंद कर देती है।

हिचकी रोकने के उपाय पानी से (Water)

पानी पीने से डायाफ्राम अपने निश्चित स्थान पर पहुँच जाता है और हिचकियाँ रुक जाती हैं।

हिचकी का इलाज श्वसन से (Breathing)

कुछ समय के लिए श्वास रोक लीजिये जिससे मस्तिष्क तक ऑक्सीजन नहीं पहुँचेगी और डायाफ्राम निष्क्रिय हो जायेगा। यह बहुत पुराना तरीका है पर कारगर है।

घरेलू उपचार के साथ जुकाम का इलाज

हिचकी की दवा खटाई (Sour)

खट्टी चीज़ें जैसे नीबू, सिरका इत्यादि हिचकियाँ रोक देती हैं। ये श्वसन को रोक देती हैं जिससे डायाफ्राम निष्क्रिय हो जाता है और हिचकियाँ रुक जाती हैं।

हिचकी का घरेलू उपचार चौंकाना (Startling se hichki rokne ke gharelu upay)

किसी व्यक्ति को अचानक से डराने या चौंकाने से उसका ध्यान भंग हो सकता है। जिससे श्वसन में अवरोध होगा और हिचकियाँ ख़त्म हो जाएँगी।