Khujli ka gharelu ilaj – खुजली के कारण और घरेलू उपाय

खुजली एक काफी खराब समस्या है जो कि कई कारणों से हो सकती है। खुजली के कारण, किसी कीड़े के काटने से, मौसम में बदलाव से, किसी प्रकार की एलर्जी से, त्वचा के साथ साबुनों में तथा अन्य सौंदर्य प्रसाधनों में मौजूद केमिकल पदार्थों के सम्पर्क में आने से ये खुजली हो सकती है। पर चिंता न करें। ये खुजली कुछ घरेलू नुस्खों से दूर हो सकती है।

खुजली के कारण, खुजलीदार त्वचा के कारण (Khujli ke karan)

  • किसी चीज़ से एलर्जी (allergy) होना
  • कीड़े का काटना
  • त्वचा का संक्रमण
  • रूखा मौसम
  • साबुन और डिटर्जेंट्स (detergents)
  • कई प्रकार की दवाइयां
  • संक्रमण सहित त्वचा की अन्य समस्याएँ जैसे फंगल इन्फेक्शन
  • हेपेटाईटिस A,B,C,D आदि
  • किडनी की बिमारी
  • डायबिटीज

खुजली का घरेलू नुस्खे (Khujli ka gharelu nuskhe)

नारियल तेल (Coconut Oil)

जॉक खुजली के इलाज के लिए घरेलू उपचार

नारियल के तेल में मध्यम चेन फैटी एसिड्स (medium-chain fatty acids) होते हैं जिनमें एंटीहिस्टामिन (antihistamine) एवं जलनरोधी गुण होते हैं, जो खुजली को शांत करने में काफी सहायता करते हैं। यह तेल काफी नमी प्रदान करता है एवं खुजली के एक प्रमुख कारण – रूखी त्वचा – से लड़ने में मदद करता है। खुजली से छुटकारा प्राप्त करने के लिए हल्के गुनगुने पानी से स्नान करके शरीर अच्छे से पोंछ लें एवं प्रभावित भागों पर नारियल के तेल का प्रयोग करें। यदि आपको शरीर के हर भाग में खुजली की समस्या सता रही है तो सारे शरीर पर नारियल के तेल से मालिश करना भी एक अच्छा विकल्प है। इसका रोज़ाना प्रयोग करें।

नीम (Neem)

नीम एक काफी प्रभावी एवं औषधीय जड़ीबूटी है, जो खुजली से युक्त त्वचा से काफी कौशल से लड़ने की क्षमता रखती है। यह एक शक्तिशाली एंटीमाइक्रोबियल (antimicrobial) एवं जलनरोधी तत्व है जो खुजली की समस्या को दूर करने में काफी आपकी सहायता करती है। नहाने का पानी काफी गर्म करें एवं इसमें थोड़ी सी नीम की पत्तियां डाल दें। एक बार जब पानी हल्का सा गुनगुना हो जाए तो इस पानी से स्नान कर लें। आप इस पद्दति का प्रयोग हर दूसरे दिन कर सकते हैं।

तिल का तेल (Sesame Seed Oil)

तिल का तेल एंटीऑक्सिडेंट्स (antioxidants)का काफी बड़ा स्त्रोत होता है, जिसके फलस्वरूप आपकी त्वचा के लिए काफी अच्छा होता है। यह जलन को कम करने के अपने गुणों के लिए जाना जाता है जो आपकी त्वचा का लालपन एवं खुजली कम करने में प्रभावी साबित होते हैं। पर्याप्त मात्रा में तिल का तेल लें और एक बार स्नान कर लेने के बाद शरीर के खुजली से प्रभावित भागों पर इस तेल का प्रयोग करें। आप अपने शरीर पर इस तेल से अच्छे से मालिश भी कर सकते हैं। आप इस पद्दति का प्रयोग रोज़ाना या हर दूसरे दिन कर सकते हैं।

स्किन इचिंग के लिए बेकिंग सोडा (Baking soda sukhi khujali ke liye)

बेकिंग सोडा खुजली वाली त्वचा को ठीक करने का सबसे बढ़िया उत्पाद,खुजली की दवा है। इसमें जलन से बचाने वाले गुण होते हैं जो खुजली से आपकी रक्षा करते हैं। 2 चम्मच बेकिंग सोडा लें और उसे 1 चम्मच पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट को खुजली वाली जगह पर लगाएं तथा 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दें। सादे पानी से धो लें और अच्छे से पोंछ लें। बेकिंग सोडा का प्रयोग सावधानी से करें। इसे किसी कटी फ़टी जगह पर प्रयोग न करें।

दलिया से देसी इलाज (Oatmeal se desi ilaaj for itching skin in Hindi)

दलिये में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट्स त्वचा को राहत देते हैं तथा खुजली से बचाते हैं। अच्छे परिणामों के लिए अपरिष्कृत दलिये का प्रयोग करें। 2 से 3 चम्मच दलिये को पर्याप्त पानी में मिलाएं तथा खुजली वाले भाग पर लगाएं। उस भाग को एक कपडे से ढ़क दें और 30 मिनट तक ऐसे ही रखें। इसके बाद इसे पानी से धो दें तथा एक साफ़ कपडे से पोंछ लें।

ठंडा पानी से घरेलू इलाज (Khujli ka gharelu ilaj with cool water in Hindi)

खुजलीदार त्वचा ठीक करने के घरेलू नुस्खे

खुजली और ठंड दोनों ही एक ही नस से शरीर में विचरण करते हैं। अतः खुजली वाली त्वचा पर ठंडा पानी लगाने से खुजली की समस्या जल्दी ठीक हो जाएगी। बर्फ के कुछ टुकड़े लें तथा उन्हें एक सूती के कपडे में बाँध लें। अब इस कुछ मिनटों तक त्वचा पर घिसते रहे। आप ठन्डे पानी से अपनी त्वचा को धो भी सकते हैं। पर ध्यान रखें कि ज़्यादा ठंडा पानी प्रयोग में ना लाएं।

एलोवेरा से खुजली को दूर करने के घरेलू उपचार (Khujli ka gharelu upchar with aloe vera in Hindi)

खुजली वाली त्वचा को ठीक करने का खुजली का आयुर्वेदिक इलाज एलोवेरा एक आयुर्वेदिक उपाय है। इसमें कई औषधीय गुण होते हैं तथा यह त्वचा की कई समस्याओं जैसे रैशेस,जलना, खुजली तथा एलर्जी को दूर करता है। एलो वेरा के पौधे को काटकर उसका जेल निकालें। इस जेल को खुजली वाली जगह पर लगाकर कुछ मिनटों तक रखें और उसके बाद इसे धो लें। अगर आपके घर में एलो वेरा का पौधा नहीं है तो पास के मेडिकल स्टोर से एलो वेरा का जेल ले आएं।

एसेंशियल ऑइल से खुजली का घरेलू उपाय (Home remedies with essential oils for itching skin in Hindi)

खुजली ठीक करने के उपाय, जलन से बचाने वाले गुणों से युक्त आवश्यक तेल त्वचा को आराम देते हैं जिससे आपको जलन से मुक्ति मिलती है। कोई भी आवश्यक तेल जैसे तुलसी का तेल, जेरनियम का तेल, कैमोमाइल का तेल, कैलेंडुला का तेल या अग्रिमोनी का तेल कारगर साबित होंगे। तेल की कुछ बूँदें लें और प्रभावित जगह पर लगा दें, या फिर नहाने के पानी में तेल की बूँदें मिलाकर अच्छे से स्नान करें।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,899 other subscribers

नींबू से खुजली का आयुर्वेदिक इलाज (Ayurvedic treatment with lemons for itching skin in Hindi)

नींबू में मौजूद सिट्रिक एसिड और एसिटिक एसिड में पाये जाने वाले एंटीसेप्टिक गुणों की वजह से खुजली में कमी आती है। नींबू अपने जलन से बचाने वाले गुणों के कारण जाने जाते हैं। खुजली ठीक करने के उपाय, आधा नींबू निचोड़ें तथा इसे प्रभावित जगह पर लगाएं। इसे सूखने दें और फिर ठंडे पानी से धो लें। यह घर बैठे खुजली दूर करने का काफी असरदार नुस्खा है। hinditips.com

खुजली ठीक करने के उपाय सेब का सिरका से (Apple cider vinegar se khujli dur karne ke gharelu upay)

सेब के सिरके में एंटीसेप्टिक, एंटीफंगल, एंटीबैक्टीरियल तथा खुजली को दूर करने वाले (antiseptic, antifungal, antibacterial, and anti-itching) गुण होते हैं। यह आपके शरीर में होने वाली खुजली को पूर्ण रूप से दूर करता है। 2 से 3 कप सेब के सिरके को नहाने के गुनगुने पानी में मिश्रित करें। इसे पानी में 15 से 30 मिनट तक डुबोकर रखें। इसके बाद अपनी त्वचा को अच्छे से पोंछ लें और एक हलके मॉइस्चराइजर (moisturizer) का प्रयोग करें। सेब के सिरके का इस्तेमाल रोज़ाना करें। वैकल्पिक तौर पर सेब के सिरके में रुई का कपड़ा डुबोकर खुजली से प्रभावित भागों पर लगाएं। इसे आधे घंटे के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से धो लें। इस प्रक्रिया का प्रयोग कुछ दिनों के लिए रोज़ाना 1 से 2 बार करें।

तुलसी की पत्तियां (Basil leaves se khujli ka gharelu ilaj in hindi)

प्राकृतिक घरेलु फेस पैक्स रूखी और शुष्क त्वचा

तुलसी की पत्तियों का प्रयोग खुजलीदार त्वचा से बचने के लिए किया जा सकता है। तुलसी में काफी मात्रा में युजेनॉल (eugenol) होता है, जो कि काफी प्रभावी एसेंशियल ऑइल (essential oil) और एक बेहतरीन एनेस्थेटिक (anesthetic) भी साबित होता है। इसमें कपूर और थाईमॉल (thymol) जैसे अन्य तत्व भी होते हैं, जो खुजली को प्रभावी रूप से रोकते हैं। दो कप उबलते हुए पानी में एक चम्मच सूखी तुलसी की पत्तियां डालें। अब पतीले को कुछ देर के लिए ढक लें और इस मिश्रण को ठंडा होने दें। इस मिश्रण को एक रुई के कपड़े की सहायता से खुजली से प्रभावित भागों पर। लगाएं। इसके बाद बाकी बचे मिश्रण को एक पात्र में बाद में प्रयोग में लाने के लिए रख दें। इस प्रक्रिया का पालन जितनी बार हो सके, उतनी बार करें। एक वैकल्पिक तरीके के अनुसार तुलसी की कुछ पत्तियों को पीस लें और इन्हें सीधे अपने शरीर की प्रभावित त्वचा पर रगड़ें। इसे कुछ देर तक सूखने के लिए छोड़ दें और इसके बाद गुनगुने पानी से धो लें। पूरी तरह आराम प्राप्त करने के लिए इसका प्रयोग ज़्यादा से ज़्यादा बार करें।

खुजली का इलाज मिट्टी से (Clay se khujli ka desi aur gharelu ilaj)

मिटटी खुजली तथा त्वचा की अन्य समस्याओं जैसे एक्ने (acne) को दूर करने में काफी मददगार साबित होती है। यह ज़हरीले कीड़ों जैसे मधुमक्खी, वास्प तथा मधुमक्खियों के काटने के घाव को भरने में काफी प्रभावी साबित होती है। यह त्वचा से ज़हर निकालने में मदद करती है और दर्द कम करके डंक की चोट को जल्दी से जल्दी भरने का काम करती है। एक कप मिट्टी लें और इसे फ़िल्टर्ड (filtered) पानी के साथ मिश्रित करके एक गाढ़ा पेस्ट बनाएं। यह पीनट बटर (peanut butter) की तरह होता है। इसके बाद मिट्टी के इस पेस्ट को खुजली वाले स्थानों पर अच्छे से लगाएं और इसे सूखने दें। इसके बाद इसे धोकर हटा लें।

loading...