What are the home remedies to treat toenail fungus? – पैर की उँगलियों में होने वाले फंगस को रोकने के उपाय

पैर की उँगलियों के नाखूनों में फंगस हों यह एक सामान्य रोग है जिसका उपचार भी मौजूद है. क्रीम या लोशन आदि के द्वारा आप कम समय में ही इस समस्या को ठीक कर सकते हैं जिसके प्रभावी उपचार बाज़ार में मौजूद हैं. पर इलाज के कुछ महीनों बाद यह आम तौर पर देखा जाता है कि यह संक्रमण दोबारा वापस आ गया है जिसके लिए फिर से उपचार शुरू करना पड़ता है. यह एक तरह का कवक संक्रमण होता है जो एक बार ठीक होने के बाद दोबारा अपन अप्रभाव शुरू कर सकता है.

पैर के नाख़ूनों में फंगस की समस्या को दूर करने के लिए कुछ प्राकृतिक उपाय भी मौजूद हैं जो समस्या पैदा करने वाले फंगस को दोबारा विकसित होने से रोकते हैं. यह उपाय आप घर पर आसानी से कर सकते हैं.

पैर के नाखूनों में होने वाले फंगस को ठीक करने के उपाय  (Home remedies to cure toenails fungus in Hindi)

ऑलिव लीफ़ एक्सट्रेक्ट (Olive leaf extract)

ऑलिव लीफ़ एक्सट्रेक्ट आसानी से कई घरों में पाया जाता है जिसका प्रयोग एंटीबायोटिक के रूप में बैक्टीरिया या फंगल इन्फेक्शन के इलाज में किया जाता है. अगर आपके पास यह उपलब्ध नहीं है तो आप इसे किसी सुपर मार्केट या ऑनलाइन शॉप से खरीद सकते हैं.

विटामिन सी, जिलेटिन, बायोटिन, सिलिका (Vitamin C, Gelatine, Biotine, silica)

विटामिन सी के लिए आप ताजे खट्टे या सिट्रिक फलों का सेवन कर सकते हैं जिनमें नींबू, संतरा, पपीता, अमरुद आदि शामिल है. सेवन के द्वार आपके शरीर में प्रतिरोधक बढती है जो किसी भी तरह के संक्रमणजनित रोगों के उपचार में सहायक होता है.इसके अलावा फैटी एसिड और जिलेटिनयुक्त भोजन लेकर आप इस लाभ को और अधिक बढ़ा सकते हैं. ये सभी तरह के विटामिन त्वचा, नाख़ून और बालों को सेहतमंद रखने में मदद करते हैं.

एप्पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar)

एप्पल साइडर विनेगर एक बेहतरीन एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता है. यह कवक या फंगल इन्फेक्शन को तेजी से ठीक करता है. इसके लिए पानी में एप्पल साइडर विनेगर मिलाकर पैरों को 10 से 15 मिनट तक डुबो कर रखें. इस प्रक्रिया को हफ्ते में 2 से 3 बार तक दोहराएं.

बेकिंग सोडा (Baking soda)

बेकिंग सोडा भी एक असरदार उपाय है बेकिंग सोडा को पानी में मिलाकर पेस्ट बना लें. इस पेस्ट को प्रभावित जगह के नाखूनों में 10 मिनट तक लगा रहने दें. इसके बाद इसे साफ़ पानी से धो लें. इस प्रयोग को दिन में एक बार नियमित रूप से करना फायदेमंद होता है.

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

टी ट्री ऑइल (Tea tree oil)

टी ट्री ऑइल किसी भी तरह के त्वचा संक्रमण में इस्तेमाल किया जाने वाला प्रभावी उपाय है. इसे नाखूनों पर सीधे लगा के प्रयोग किया जा सकता है. त्वचा में इसका प्रयोग करने से पहले पैरों को अल्कोहल से धोने से इसके प्रभावी फायदे नज़र आते हैं.

ऑरेंज ऑइल (Orange oil)

ऑरेंज ऑइल में एंटीफंगल गुण होते हैं. यह एक बहुत ही बढ़िया घरेलू उपचार है. इस ऑइल को ड्रॉपर की मदद से प्रभावित जगह पर लगाना चहिये. इसे लगभग एक घंटे तक लगा रहने दें. अगर आपकी त्वचा सेंसिटिव है तो भी इसके किसी तरह के दुष्प्रभाव नहीं होते.

नारियल का तेल (Coconut oil)

नारियल तेल भी बैक्टीरिया को ख़त्म करने वाले गुणों से भरपूर होता है. कुछ खास तरह के कवक नारियल तेल के प्रभाव को झेल नहीं पाते इसीलिए इसका प्रयोग फंगल इन्फेक्शन के उपचार में भी किया जाता है. नारियल के तेल को आप सीधे त्वचा पर लगाए रख सकते हैं. इसका प्रयोग दिन में 1 से 2 बार तक किया जा सकता है.

ऑरेगैनो ऑइल (Oregano oil)

ऑरेगैनो ऑइल औषधिय गुणों से भरपूर खास तेल है. किसी भी कैरियर ऑइल के साथ ऑरेगैनो ऑइल की कुछ बूँदें मिलाकर इसे पैरों के नाखूनों में लगाना चाहिए.

प्रो-बायोटिक (Pro-Biotic)

अपने आहार में प्रो-बायोटिक का इस्तेमाल करके आप कई तरह के फंगस का उपचार कर सकते हैं. यह शरीर में अच्छे बैक्टीरिया के विकास में मदद करता है और शरीर को नुकसान पहुँचाने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करता है.

loading...