Pimple treatment in Hindi – मुंहासों का इलाज – Hindi tips for pimples

मुंहासे (pimples) की समस्या से काफी लोग परेशान रहते हैं। यह तैलीय त्वचा वाले लोगों में ज़्यादा होता है। पर ऐसे कई लोग हैं जिनकी त्वचा तैलीय न होने के बावजूद भी उन्हें मुहांसों की समस्या(muhase ki samasya) होती है। किशोरावस्था में मुहांसे होना स्वाभाविक है इन मुहांसों का इलाज (Muhase ka ilaj) भी संभव है पर कई बार उस अवस्था को पार करने के बाद भी मुहांसों (pimples / पिंपल) की समस्या बरकरार रहती है।

त्वचा ज्यादा तैलीय (ऑयली) हैं यह उन कॉलेज जाने वाली युवतियों के लिए बड़ी परेशानी का कारण बन जाती है जो बाहर निकलते वक्त अपने मुहांसे किसी को दिखाना नहीं चाहती हैं। मुहांसे त्वचा में होने वाली एक प्रकार की सूजन है जो तब होती है जब त्वचा की तेल ग्रन्थियां बैक्टीरिया से ग्रस्त हो जाती हैं। आप अब मुहांसों को हटाने के लिए घरेलू नुस्खों (muhase hatane ke gharelu nuskhe) का प्रयोग कर सकते हैं।

मुंहासे, त्वचा की सामान्य स्थितियां हैं जो, लड़के और लड़कियों को किशोरावस्था में होता है। ये त्वचा की सूजन की स्थिति है जो गले और पीठ पर होते हैं। ये दर्दनाक गांठे भी हो जाती है और इसमें प्राय: मवाद भी आ जाती है। ये छूत की बिमारी नहीं है, लेकिन युवा लड़के और लड़कियों को शर्मिंदगी देती हैं। युवा अपने रूप के प्रति बहुत जागरुक रहते हैं और इसके कारण अपने आत्म-विश्वास में कमी महसूस करते हैं। चेहरे पर दाने के उपाय :-

मुंहासों के कारण / मुहांसे के कारण (muhase ke karan)

त्वचा ज्यादा तेलिया (ऑयली) हैं यह तेल ग्रंथियों से तेल का अधिक उत्सर्जन त्वचा के छिद्रों को बंद कर मुंहासों को जन्म देता है। मृत त्वचा को न हटाना भी छिद्रों को बंद कर देता है। शारीरिक और हार्मोन में बदलाव लड़कियों और लड़कों में सिबेसियस ग्रंथि को उत्तेजित करता है जिससे अधिक तेल का उत्पादन होता है। सीबम में पनपने वाले बैक्टीरिया भी छिद्रों को बंद करके मुंहासों को विकसित होने में मदद करते हैं। कुछ डेयरी उत्पादों में उच्च मात्रा में कैल्शियम और चीनी पाया जाता है जो कुछ लोगों में मुंहासों को विकसित करता है। एस्ट्रोजेन युक्त दवाइयां भी मुंहासे का कारण है। मेकअप उत्पादों में शामिल रसायनों को ठीक से साफ न करने के कारण भी मुंहासे होते हैं। सभी मेकअपों को रात को अच्छी तरह से साफ करना चाहिये।

पिम्पल के उपाय / मुंहासों का इलाज के लिये घरेलू उपायों की सूची (pimple treatment for oily skin)

पिम्पल हटाने के पुदीना (Mint)

रॉसेसिया का घरेलू उपचार, चेहरे की लालिमा दूर करने के प्राकृतिक उपाय

पुदीना रोमछिद्रों को बंद करने वाले तेल को हटाने का काम करता है। मुहांसों को दूर करने के लिए, 2 चम्मच बारीक कटे पुदीने को दो चम्मच सादे योगर्ट (yogurt) एवं दलिए के साथ मिश्रित करें।  इस मिश्रण में प्रयोग करने के लिए दलिए को पीसकर पाउडर का रूप दे दें।  इस मिश्रण को अपने चेहरे पर 10 मिनट के लिए रखें और इसके बाद पानी से धो लें।

एकिनासी (Echinacea)

एकिनासी का पारंपरिक रूप से घावों को तेज़ी से भरने एवं सर्दी बुखार की रोकथाम के लिए किया जाता रहा है, पर इसके एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) एवं जलनरोधी गुण मुहांसों को दूर करने(muhase ko dur karne) में भी आपकी मदद करते हैं।  एकिनासी की चाय का प्रयोग रोज़ाना फेस वाश (face wash) के रूप में करें और इसके लिए इसमें एक साफ़ कपड़ा डुबोकर चेहरे पर रखें, या रुई में टिंक्चर (tincture) की कुछ बूँदें डालकर इसे मुहांसों पर लगाएं।

पिम्पल की दवा एस्प्रिन(Asprin)

एस्प्रिन में मौजूद सैलिसिलिक एसिड (salicylic acid) मुहांसों के इलाज(muhase ka ilaj) के लिए काफी लाभदायक होता है।  एस्प्रिन मुहांसों को सुखाकर सूजन को कम करता है।  एस्प्रिन के फायदों का लाभ लेने के लिए थोड़े से पानी में एस्प्रिन मसलकर एक पेस्ट बनाएं, या 2 चम्मच पानी में चार गोलियां मिश्रित करें।

पिम्पल हटाने के कैमोमाइल (Chamomile)

कैमोमाइल त्वचा से मुहांसों की सूजन को काफी हद तक कम करता है।  एक ब्लेंडर या कॉफ़ी ग्राइंडर (blender or coffee grinder) में कैमोमाइल के टीबैग  (teabag) को पर्याप्त पानी के साथ मिश्रित करके एक पेस्ट निर्मित करें तथा इसका प्रयोग मुहांसों पर करें।  वैकल्पिक तौर पर कैमोमाइल के दो टीबैग्स को 1 कप उबले पानी में 15 मिनट के लिए डुबोकर रखें।  चाय को ठंडा होने दें और फिर रुई की सहायता से त्वचा साफ़ करने के बाद इसका प्रयोग अपने चेहरे पर करें।

अम्लीय भोजन (Acidic foods)

अम्लीय भोजन जैसे साइट्रस (citrus) फलों के रस या सिरका रोमछिद्रों को साफ़ करते हैं।  इनकी थोड़ी सी मात्रा रुई पर डालकर मुहांसों से लड़ने के लिए प्रयोग करें;प्रभावित भाग को रुई से प्यार से साफ़ करें।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,899 other subscribers

मुहासों के दाग हटाने के उपाय (muhase ke daag hatane ke upay with Masoor)

मसूर की दाल का प्रयोग पिम्पल हटाने के उपाय (Pimple hatane ke upay) के रूप से किया जाता है. मसूर की दाल को पानी में भिगो कर पीस लें और इस पेस्ट में 1 चुटकी हल्दी मिलाकर चेहरे में लगायें. इससे चेहरे का रंग साफ़ होता है और पिम्पल के दाग भी चले जाते हैं. इसे रोजाना चेहरे पर लगाने से चेहरे के पिम्पल ठीक हो जाते हैं.

हल्दी बेसन का फेस मास्क मुंहासे के घरेलु upay (Muhason ke liye gharelu upay – Haldi besan face mask)

काले घुटनों और कोहनी से छुटकारा पाने के लिए प्राकृतिक और घरेलू उपचारों का करें इस्तेमाल

बेसन त्वचा के लिए बहुत गुणकारी होने के साथ मुंहासों को दूर करने का प्राकृतिक उपाय भी है. 2 चम्मच बेसन में ¼ चम्मच पीसी हुई हल्दी मिला लें. इसमें गुलाब जल और कच्चा दूध मिलाकर पेस्ट बना लें. अगर आपकी त्वचा अधिक तैलीय है तो दूध की जगह पानी का इस्तेमाल करें. इसे चेहरे में रोजाना लगायें. इससे पिम्पल की समस्या में जल्दी राहत मिलेगी.

पिम्पल के घरेलु इलाज में लहसुन (Garlic for Acne)

अगर आपको पिम्पल की समस्या बहुत दिनों से हो रही है और यह कील आदि के रूप में चेहरे पर दिखाई देती है तो ऐसे मुंहासों के प्राकृतिक इलाज में लहसुन का प्रयोग फायदेमंद होता है. कुछ लहसुन की कलियों को पीसकर रस निकाल लें और इसमें 3 से 4 बूँदें नींबू के रस की मिलाकर पिंपल वाली जगह पर लगा कर 10 मिनट तक रखें.

मुहांसे से छुटकारा – मुंहासों का इलाज घर पर बर्फ से (muhase ki chutkara with Ice for pimples)

आप इसे आसानी से फ्रिज से प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप मुहांसों(pimples/पिंपल) से छुटकारा पाना चाहते हैं तो बर्फ के कुछ टुकड़े लें और इसे अपने मुहांसों पर लगाएं। इससे आपके मुहांसों वाले भाग में रक्त का संचार तेज़ होता है। आप बर्फ के टुकड़ों को कपडे में लपेटकर मुहांसों पर लगा सकते हैं। अगर आपको इस प्रक्रिया में ज़्यादा ठण्ड महसूस होती है, तो कुछ देर प्रतीक्षा करके दुबारा इस प्रक्रिया का प्रयोग करें।

पिम्पल्स का इलाज – मुंहासों का इलाज घर पर शहद से (muhase ki chutkara with Honey to remove pimples)

जो लोग खुद को स्वस्थ रखना चाहते हैं, वे चीनी के विकल्प के तौर पर अपनी रसोई में शहद रखते हैं। अगर आपके घर में भी शहद है, तो इससे आपको मुंहासे का ईलाज,मुहांसे दूर भगाने में आसानी होगी। यह एक बेहतरीन उत्पाद है जो पिंपल्स पर तुरंत असर करता है। शहद में रुई के फाहे डुबोकर मुहांसों (pimples / पिंपल्स) वाली त्वचा पर लगाएं। इसे आधे घंटे तक रखें और धो लें। अगर इसे गुनगुने पानी से धोया जाए तो असर ज़्यादा होता है।

पिम्पल्स के दाग , मुँहासे के उपचार के लिए – नींबू (Lemon remedy se pimple ke upay)

सौंदर्य एवं स्वास्थ्य को बरकरार रखने में नींबू आपकी काफी मदद करता है। मुंहासे का ईलाज,मुहांसे ठीक करने में भी नींबू का योगदान अहम है। क्योंकि नींबू में विटामिन सी की काफी मात्रा होती है, अतः इससे मुहांसे काफी जल्दी सूखते हैं। नींबू का रस निकालने के लिए केवल ताज़े नींबू का प्रयोग करें। बोतल में बंद नींबू के रस में केमिकल पदार्थ होते हैं जो कि त्वचा के लिये हानिकारक होते हैं।

मुहांसे से छुटकारा – मुंहासों का इलाज के लिए – भाप (Steam for muhase ka ilaj / पिंपल्स cure)

प्रभावित जगह पर भाप देने से त्वचा के रोमछिद्र खुल जाते हैं। इससे त्वचा को साँस लेने में आसानी होती है। यह एक बेहतरीन प्रक्रिया है जिसकी वजह से त्वचा की सारी गन्दगी एवं अतिरिक्त तेल जो कील मुंहासे(pimples/पिंपल्स) के रूप में चेहरे पर जमा होते हैं, कम हो जाते हैं। इससे त्वचा के सारे संक्रमण भी ठीक हो जाते हैं। इसके लिए एक बड़ा पात्र लें तथा पानी को उबालें। एक बार पानी उबल जाने पर उस बर्तन को अपने चेहरे के सामने रखें तथा चेहरा नीचे झुकाएं, जिससे भाप आपके चेहरे पर आए। अब अपने चेहरे को गुनगुने पानी से धोएं तथा चेहरे पर तेल मुक्त मॉइस्चराइज़र लगाएं। अगर इसका प्रयोग रोज़ाना किया जाए तो चेहरे के मुंहासे आसानी से दूर हो सकते हैं।

कील मुंहासे का उपचार – कुछ और घरेलू उपचार मुंहासों के ईलाज के लिये (keel muhase ka gharelu upchar)

मुंहासे का ईलाज और मुंहासों से छुटकारा पाने के लिये कुछ घरेलू उपाय नियमित अपनाना सरल, सुरक्षित और प्रभावकारी है। ये उपाय हैं

  • पिंपल्स का इलाज ( pimple ka ilaj hindi me), रातभर एक कप चावल को भिगोयें। सुबह पानी को छानकर बचे अनाज को पीसकर लेप बना लें। इसमें कुछ बूंदें नींबू रस की मिला लें। इस लेप को कील मुंहासों पर लगाकर 20 मिनट छोड़ने के बाद धुल दें।
  • जायफल को पीसकर इसमें कच्चा दूध मिला लें। इसे प्रभावित क्षेत्र पर एक पैक की तरह लगा लें। आधा घंटा बाद इसे धुल दें।
  • दालचिनी पाउडर, नींबू रस और शहद का लेप बनायें और रात में पिंपल्स पर लगा लें। सुबह इसे पानी से धुल दें।
  • सूखे संतरे के छिलके के पाउडर में पानी मिलाकर लेप बनायें और मुहासों पर लगायें।
  • कील मुहासों के काले दाने हटाने के लिये नींबू रस और मूंगफली के तेल को लगा सकते हैं।
  • नीम की पत्तियों का पाउडर और हल्दी एक साथ मिलाकर मुंहासों से छुटकारा पाने के लिये उपयोग कर सकते हैं।
  • मसले हुए अदरक को पिंपल्स पर रगड़ना मुंहासों से छुटकारा पाने के लिये बहुत प्रभावकारी होगा।
  • बेकिंग सोडा अतिरिक्त तेल और धूल को त्वचा से हटाने में मदद करता है जो मुंहासों से छुटकारा पाने में सहायता करता है। बेकिंग सोडा और नींबू रस का लेप बनाकर मुंहासों पर लगायें और कुछ मिनट बाद इसे साफ कर दें।

चेहरे की त्वचा संरचना को बढ़ाने के लिये घरेलू उपचार

  • पिंपल्स का इलाज(pimples ka ilaj), सेब आसव सिरके को भी पानी या नींबू रस मिलाकर हल्का करने के बाद मुंहासों पर लगा दें। 2 से 3 बार ही लगाने के बाद मुंहासे गायब होते दिखायी पड़ेंगे।
  • कील और मुंहासों पर सरसों का तेल लगाना आश्चर्यजनक कार्य करता है। सरसों में विटामिन सी, ओमेगा 3 और 6, वसा अम्ल, सैलीसाइक्लिक अम्ल और ज़िंक होता है जो त्वचा के लिये अच्छा होता है। सरसों पाउडर या सरसों लेप को खाना बनाने और मुंहासों पर लेप बनाने के लिये उपयोग किया जाता है। फेस पैक के रूप में इसका इस्तेमाल करने से पहले कुछ मात्रा में इसमें शहद मिलायें।
  • ठंडी कड़क चाय मुंहासों का उपचार(muhase ka upchar) करने में लाभकारी है।
  • टमाटर के गूदे को दिन में 2 से 3 बार लगाना भी मुंहासों को हटायेगा।
  • पिंपल्स का इलाज, सादे लैवेंडर और चाय तेल को मुंहासों पर लगा सकते हैं। यह भी सलाह दी जाती है कि इन आवश्यक तेलों को बिना हल्का किये त्वचा पर रगड़े नहीं।
  • कैलामाइन लोशन को प्राकृतिक कषाय जैसे गुलाब जल या नींबू रस से त्वचा साफ करने के बाद मुंहासों पर लगायें। कैलामाइन लोशन त्वचा को स्वस्थ रखने में सहायता करता है।
  • एस्प्रिन टैबलेट कील पिंपल्स के लिये अच्छा रोगहारी है। एस्प्रिन टैबलेट को पीसकर पानी मिलाकर लेप बना लें। इसे मुंहासों पर लगाकर रातभर के लिये छोड़ दें।
  • घृत कुमारी मुंहासों के उपचार के लिये एक अच्छी सामग्री है। ऐसा सूजनविरोधी और बैक्टीरिया विरोधी गुण के कारण होता है। पिंपल्स को घृत कुमारी के गूदे से पूरा ढ़क दें।
loading...