How to remove dandruff fast in hindi – Quick home remedies for dandruff – डैंड्रफ दूर करने के बेहतरीन घरेलू उपाय

डैंड्रफ या रूसी सिर की एक काफी आम समस्या है जो सूखी और खुजली वाली तैलीय त्वचा, बैक्टीरिया तथा सिर पर फंगल इन्फेक्शन से होती है। यह एक ऐसी स्थिति है जो तब पैदा होती है जब आपके सिर की त्वचा ज़्यादा तैलीय या चिकनाई से भरपूर हो जाती है।

डैंड्रफ के सबसे प्रबल लक्षण हैं सिर में खुजली तथा पपड़ीदार त्वचा का निर्माण जिसके आपके ऊपर गिरने से आपको काफी शर्मिंदगी का अनुभव होता है। डैंड्रफ को जल्दी और हमेशा के लिए दूर करने के कई प्राकृतिक उपाय मौजूद हैं।

रूसी एक बहुत ही आम बालों की समस्या है। अपने जीवन में कम से कम एक बार हर इंसान डैंड्रफ या रूसी से पीड़ित होता ही है। रूसी का वैज्ञानिक नाम सेबोर्रहेइक ड्मेटिटिस है। बालों मे रूसी तेलिय त्वचा के कारण,सिर की अधिक रूखी त्वचा के कारण या किसी प्रकार की फफूंदी के संक्रमण के कारण भी हो सकती है। यह सिर की त्वचा मे खुजली और सूजन का कारण बन सकती है।

पहले हमे रूसी क्या है पता करने की जरूरत है। जब सिर की त्वचा मे फफूंदी लग जाती है तो इससे रूसी होने लगती है। और जब यह ज़्यादा बढ़ जाती है तो इसे मलाशिया कहा जाता है। रूसी 2 प्रकार  से होती है एक तो यह बहुत अधिक मात्रा मे सिर की त्वचा के रूखे होने से और दूसरी बीमारी के कारण।

अब आप अपने रूसी की चिंताओं से बाहर निकल जाए, हम कुछ सरल घरेलू सुझाव देगे जिससे की स्वाभाविक रूप से रूसी से छुटकारा पाने मे मदद मिलेगी हैं।

 रुसी का उपचार (Best tips to remove dandruff)

बालों की देखभाल के नुस्खे

  • 250 ग्राम नारियल के तेल मे 50 ग्राम गेंदे के फूल मिलाकर 15 मिनिट तक चूल्‍हे पर गर्म करे और आखरी मे 2 चुटकी कपूर मिलाए फिर थोड़ा ठंडा करके सिर की त्वचा पर लगाए। कपूर बेकटीरिया व संक्रमण को रोकता है।
  • 2 चम्मच मेथी दानो को रातभर पानी मे भिगो कर रखे फिर सुबह पीस ले फिर इसमे 2 चम्मच एप्पल साइडर सिरका मिलाए और 20 मिनिट तक बालों की त्वचा मे लगाए फिर शैम्पू से धो ले। एप्पल साइडर सिरका अगर नही है तो नीबू का उपयोग भी कर सकते है।
  • 2 बड़े चम्मच मुंग की दाल का पावडर , 4 बड़े चम्मच दही , 2 चम्मच जेतून तेल लेकर सभी को मिलाकर बालो की जड़ो मे 15 मिनिट लगाकर रखने के बाद धो ले।
  • डैंड्रफ के उपाय, 2 बड़े चम्मच बेकिंग सोडा को 2 बड़े चम्मच पानी के साथ मिलाकर सिर की त्वचा मे 15 मिनिट लगाने के बाद धो ले। इससे जो भी संक्रमण होगा वो निकल जाएगा।
  • इन उपायो का पालन तब तक करे जब तक की रूसी से छुटकारा ना मिल जाए।
  • 3 चम्मच नींबू का रस + 1 कप मुलतानी मिट्टी + पानी इससे बना लेप हफ्ते मे एक बार बालो की जड़ो मे लगाए।

साइडर सिरका (Cider Vinegar)

3 बड़े चम्मच सिरका + 3 बड़े चम्मच पानी मिलाकर रूई की साहयता से सिर की जड़ो मे लगाए। या सादा सिरका भी उपयोग कर सकते है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,340 other subscribers

एलोवेरा (Aloe Vera for dandruff – dandruff ka ilaj Hindi)

एलओवेरा जेल बालो की जड़ो मे लगाए फिर नहाते समय पानी से धो ले।

जैतून तेल (Olive Oil – Desi ilaaj for rusi in Hindi)

बालो की जड़ो मे जेतून का तेल लगाए फिर गर्म तोलिये (गर्म पानी से भीगा हुआ) को बालो के उपर लपेट ले।

नारियल तेल (Coconut Oil)

बालों की देखभाल में सामान्य गलतियाँ और इनसे बचाव

नारियल का तेल रूसी से लड़ने मे आपकी मदद करता है। नारियल तेल से बालो की जड़ो मे मसाज करे।

दही (Curd treatment for dandruff)

2 से 3 दिन पुराना दही को बालो की जड़ो मे लगाए फिर 20 मिनिट के बाद शेम्पू कर ले।

बालों की देखभाल के नुस्खे, बाजार मे कई तरह के ,रूसी के लिए शेम्पु उपलब्ध है उन्हे भी आप उपयोग कर सकते है। लेकिन पूरी तरह से ये रूसी को नही निकाल पाते।

भारतीय बकाइन (एक तरह का पेड़) या नीम (Neem)

भारतीय बकाइन एक बहुत अच्छा एंटीसेप्टिक उत्पाद है। इसे नीम के रूप में जाना जाता है।

1 मुट्ठि नीम की पत्तियो को 4 कप पानी के साथ उबाल ले फिर इस घोल को ठंडा होने के बाद बालो को इसी से धोए। कम से कम हफ्ते मे 3 बार इस विधि का पालन करे।

डेंड्रफ के कारण – रूसी होने के कारण (Reasons for dandruff)

तेलिय बाल (Oily hair & scalp)

बालो के तेलिए होने से गंदगी और धूल सिर की त्वचा या जड़ो मे चिपक जाती है जो की रूसी का कारण बनती है।

रोज शेम्पु करना (Not shampooing regularly)

रोजाना शेम्पु करना बालो के लिए ठीक नही होता है जो लोग घर मे ही रहते है उन्हे 5 से 4 दिन के बाद और जो लोग बाहर जाते रहते उन्हे 3 से 4 दिन के बाद शेम्पु करना चाहिए।

सर्दियों में बालों की देखभाल

त्वचा रोग (Skin disorders)

त्वचा की समस्याओं में से कुछ रूसी का कारण बनते है जिनमे से सोरायसिस  त्वचा रोग प्रमुख रूप से रूसी का कारण बनता है।

असंतुलित आहार (Poor diet)

अनुचित आहार भी हमे रूसी की ओर ले जाता है। हमे अपने भोजन में उचित आहार जेसे हरी सब्जियों, नट और बीज को प्राथमिकता देनी चाहिए।

त्वचा एक्जिमा और कवक (Skin eczema & fungus)

सिर की त्वचा पर जमी हुई कवक और एक्जिमा भी रूसी का कारण होते है। कवक रूसी की संभावना बढ़ा देता है।

मेथी का प्रयोग (Fenugreek)

आप मेथी की मदद से आसानी से डैंड्रफ को दूर कर सकते हैं। 2 चम्मच मेथी को रातभर पानी में डुबोकर रखें। अगली सुबह मेथी को ग्राइंड करके इसका एक महीन पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने सिर पर लगाएं, इसे आधे घंटे तक छोड़ें तथा इसके बाद धो दें। आप मेथी के इस पेस्ट में नींबू का रस या दही भी मिला सकते हैं। जिस पानी में आपने मेथी को भिगोया था, उसे न फेंकें। इस पानी से अंत में बाल धोएं या आफ्टर शावर हेयर टॉनिक की तरह इस्तेमाल करें।

सिरका (Vinegar)

पानी और सिरके को बराबर मात्रा में मिलाएं। इस मिश्रण को रुई का प्रयोग करके अपने सिर पर लगाएं तथा रात भर छोड़ दें। अगली सुबह अपने बालों को एक सौम्य शैम्पू से धो लें। क्योंकि विनेगर में प्राकृतिक एसिडिक गुण होते हैं, अतः इसके प्रयोग से आपकी त्वचा और सिर से आसानी से गन्दगी और डैंड्रफ दूर हो जाते हैं।

रूसी हटाने के उपाय – डैंड्रफ हटाने की घरेलू विधियां (Home remedies to remove dandruff)

बालों की देखभाल के लिए सोप नट

लैवेंडर का तेल (Lavender oil to treat itchy scalp & dandruff)

रूसी हटाने के उपाय रोज़ाना लैवेंडर के तेल या अन्य किसी तेल जैसे ओलिव आयल और बादाम के तेल से मसाज करने से डैंड्रफ दूर होता है।यह तेल आपके सिर को नमी प्रदान करता है और डैंड्रफ के फलस्वरूप सिर में होने वाली खुजली को दूर करता है। लैवेंडर के तेल की विधि का प्रयोग करने के लिए एक चम्मच लैवेंडर का तेल लें और इसे अपनी हथेलियों पर रगड़ें। अब इसे धीरे धीरे अपने बालों और सिर पर लगाएं तथा उँगलियों को लैवेंडर के तेल में डुबोकर सिर की मालिश करें। इससे आप अवश्य ही डैंड्रफ से दूरी बनाए रखने में सफल होंगे।

Ph नियंत्रण के लिए टमाटर का रस (Tomato juice for Ph balance)

डैंड्रफ होने का एक कारण सिर के ph स्तर में असमानता आ जाना होता है। टमाटर का रस अपने एसिडिक तत्वों के माध्यम से ph के स्तर में सुधार ले आता है और इस तरह यह डैंड्रफ को भी दूर रखता है। टमाटर के रस को नारियल के तेल के साथ मिलाएं और इससे सिर पर मालिश करें। बालों को धोने से पहले इसे एक घंटे के लिए छोड़ दें। टमाटर एक ऐसा फल है जिसका रसेदार सब्ज़ियों में भी उनका स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आप इनका सेवन कच्चे रूप में भी सलाद के तौर पर कर सकते हैं। रूसी हटाने के उपाय, ताज़े टमाटर का रस निकालें और इसे डैंड्रफ के उपचार के रूप में इस्तेमाल करें।

दही और इसके एंटी बैक्टीरियल गुण (Curd with anti bacterial properties)

दही डैंड्रफ को हटाने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। इसमें प्राकृतिक गुण होते हैं जो सिर में बैक्टीरिया या फंगस द्वारा पैदा किये जाने वाले इन्फेक्शन से हमें बचाते हैं। सिर की त्वचा में मौजूद मृत कोशिकाओं को हटाने में यह बेहतरीन एक्सफोलिएट का काम करता है। यह डैंड्रफ हटाने की एक कारगर तथा भरोसेमंद घरेलू औषधि है। दुकान की ताज़ी या घर में बनी शुद्ध दही को सिर पर लगाएं तथा इसे 15 मिनट तक के लिए छोड़ दें। इसके बाद इसे सौम्य शैम्पू की मदद से धो लें।

बालों की बढ़त के लिए सेब (Apple for hair growth)

मर्दों की सूखी एवं तैलीय त्वचा के लिए घरेलू फेस पैक्स एवं मास्क

सेब विश्व भर में कई लोगों का सबसे पसंदीदा फल है। अतः भोजन के बाद खाने के लिए घर पर सेब आपको आसानी से मिल जाएगा। पर शायद आपको ना पता हो कि सिर से डैंड्रफ निकालने के लिए भी सेब एक कारगर औषधि है। यह बालों के लिए एक नया पदार्थ अवश्य है, पर ये पाया गया है कि कच्चे सेब में प्रोसायनिडीन B-2(Procyanidin B-2)पाया जाता है जो बालों की बढ़त में काफी सहायता करता है। दूसरी तरफ डैंड्रफ होने से काफी बाल झड़ते हैं, अतः सेब डैंड्रफ के साथ बालों के झड़ने की समस्या से भी निजात दिलाता है। रूसी हटाने के उपाय, सेब का पेस्ट बनाएं तथा इसमें थोड़ा पानी डालें और इसे अपने सिर पर लगाएं। 15 मिनट के बाद बालों को एक सौम्य शैम्पू की मदद से धो लें। सेब के पेस्ट की विधि तभी कारगर साबित होगी जब आप इसके लिए कच्चे सेब का प्रयोग करें। पेस्ट बनाने से पहले सेब को बिलकुल भी ना उबालें।

अदरक के डैंड्रफ दूर करने के गुण (Properties of Ginger for dandruff cure)

आप अदरक को तिल के तेल में मिश्रित करके इस बने हुए मिश्रण से डैन्ड्रफ को दूर कर सकते हैं। इसके जलनरोधी गुण बालों की बढ़त में सहायता करते हैं तथा रक्त संचार बढाते हैं। एक पतले कपड़े की मदद से अदरक को किसकर निचोड़ें तथा इसे तिल के तेल के साथ मिलाएं। इस तेल से अपने बालों और सिर पर मालिश करें एवं 15 मिनट के बाद बालों को धो लें। अगर आप तेज़ी से बालों से डैंड्रफ को निकालना चाहते हैं तो अदरक के द्वारा आप ये कर सकते हैं। यह dandruff के बेहतरीन उपचारों में से एक हाई क्योंकि यह सिर के ऊपर हुए फंगल संक्रमण (fungal infection) को ठीक करता है।

टी ट्री ऑइल (Tea Tree Oil)

टी ट्री ऑइल एक प्राकृतिक तेल है जिसपर हमारे पूर्वज भी त्वचा तथा बालों की समस्याओं को दूर करने के लिए भरोसा करते आए हैं। अगर आप सौन्दर्य उत्पादों के प्रभाव से काफी ज़्यादा चिंतित हैं तो डैन्ड्रफ को दूर करने के लिए टी ट्री ऑइल आपका बेहतरीन विकल्प सिद्ध हो सकता है। टी ट्री ऑइल का रोजाना इस्तेमाल काफी चमत्कारी सिद्ध होता है। यह सिर पर एक एंटी सेप्टिक (antiseptic) की तरह काम करता है जिससे सिर की फंगल एवं एंटी बैक्टीरियल (anti-bacterial) समस्याएं दूर होती हैं। आप हर दूसरे दिन बालों को शैम्पू (shampoo) करने से पहले टी ट्री ऑइल से सिर की मालिश करके डैन्ड्रफ से छुटकारा पा सकते हैं।

हेना (Henna – dandruff ke nuskhe)

बालों को स्‍ट्रेट करने के लिये प्राकृतिक तरीके

भारत में हेना का प्रयोग डैन्ड्रफ दूर करने तथा सिर की अन्य समस्याओं जैसे खुजली एवं तैलियपन से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है। यह बालों को स्वस्थ रखने में भी काफी कारगर साबित होता है। यह बालों के लिए एक बेहतरीन कंडीशनर (conditioner) का काम भी करता है। हेना और आंवला के पाउडर को एक पात्र में बराबर मात्रा में लेकर इनका मिश्रण बनाएं तथा इसमें नींबू का रस और जैतून का तेल (olive oil) भी डालें। इसे थोड़ा सा फैलने वाला बनाने के लिए इसमें पानी भी मिलाएं। अब इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाएं तथा धोने से पहले इसे करीब एक घंटे के लिए छोड़ दें।

तुलसी के पत्ते (Basil Leaves)

तुलसी के पत्तों में एंटी बैक्टीरियल एवं एंटी फंगल गुण होते है, जिनकी मदद से यह डैन्ड्रफ को दूर करने के लिए जाना जाता है। इस विधि का प्रयोग करने के लिए एक चम्मच आंवला पाउडर को तुलसी की पत्तियों के साथ मिश्रित करें। इस बात को सुनिश्चित करें कि तुलसी की पत्तियों का गूदा या पाउडर बन जाना चाहिए। इन दोनों पदार्थों को अच्छे से मिश्रित करने के बाद इस पेस्ट का प्रयोग अपने सिर पर करें तथा इसे धोने से पहले आधे घंटे के लिए छोड़ दें। यह सिर की तैलीय त्वचा तथा डैन्ड्रफ को दूर करने का काफी प्रभावी नुस्खा है।

दही और काली मिर्च (Yogurt & pepper)

दही और काली मिर्च ऐसे दो तत्व हैं जिनका प्रयोग डैन्ड्रफ के उपचार के लिए किया जाता है। दही में मौजूद स्वस्थ बैक्टीरिया सिर पर खमीर (yeast) की बढ़त के फलस्वरूप हुए डैन्ड्रफ को ठीक करता है। काली मिर्च में एंटी फंगल गुण होते हैं। दही और काली मिर्च का मिश्रण डैन्ड्रफ को कम करने, इसे उत्पन्न होने से रोकने तथा दूर करने में काफी कारगर साबित होता है। अच्छे से पिसी हुई काली मिर्च को एक कप दही में मिश्रित करें। इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाएं। ध्यान रहे कि इस मिश्रण का प्रयोग सिर्फ सिर पर करें और बालों पर बिलकुल नहीं। एक घंटे के बाद बालों को अच्छे से धो लें तथा शैम्पू कर लें।

नींबू से धुलाई (Simply lemon wash – dandruff ka desi ilaj)

एक ताज़ा नींबू लें तथा इसे दो हिस्सों में काटकर इससे रस निकाल लें। इससे पर्याप्त मात्रा में रस निकालें तथा सीधे अपने सिर पर इसका प्रयोग करें। आप इसके लिए अपनी उँगलियों का प्रयोग कर सकते हैं, या फिर नींबू के कटे टुकड़े को सीधे ही अपने सिर पर रगड़ सकते हैं। नींबू में मौजूद सिट्रिक एसिड (citric acid) त्वचा की परतों पर पैदा हुए डैन्ड्रफ को प्रभावी रूप से दूर करने में काफी बड़ी भूमिका निभाता है। वैकल्पिक तौर पर आप एक मग पानी में नींबू को निचोड़कर इससे भी अपने बाल धो सकते हैं।

बालों का रेबोंडिंग करने से पहले और बाद के लिए सुझाव

डैन्ड्रफ के लिए अंडे का उपचार (Egg treatment for dandruff)

कच्चा अंडा काफी महत्वपूर्ण डेरी उत्पाद है जो कि आपके बालों के लिए भी काफी महत्वपूर्ण साबित होता है। आप अब अंडे की मदद से एक बेहतरीन कंडीशनर (conditioner) का निर्माण कर सकते हैं, जो जड़ से आपके सिर के डैन्ड्रफ को दूर करता है। इसके लिए एक पात्र में एक अंडा तोड़ें तथा इसे अच्छे से फेंट लें। इसे अपने सिर के ऊपर लगाएं, एक घंटे के लिए इसे छोड़ दें तथा इसके बाद एक सौम्य शैम्पू (shampoo) से इसे धो लें। डैन्ड्रफ को पूरी तरह दूर भगाने के लिए इसका प्रयोग हर 3 दिन में करें।

तुलसी पैक (Tulsi pack)

तुलसी एक ऐसी जड़ीबूटी है जो कि काफी महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि इसमें एंटीसेप्टिक (antiseptic) गुण होते हैं जो संक्रमण को दूर करने में मददगार साबित होते हैं। करीबन हर भारतीय घर में तुलसी का पेड़ होना काफी सामान्य होता है, क्योंकि अन्य भगवानों के साथ इसकी भी पूजा की जाती है। अब आप ग्राइंडर (grinder) में थोड़ी सी तुलसी की पत्तियों को डालकर और इन्हें पीसकर एक पैक तैयार कर सकते हैं। इसका प्रयोग अपने सिर पर करें, इसे 1 घंटे के लिए छोड़ दें तथा इसके बाद इसे सादे पानी से धो लें।

एस्पिरिन का उपचार (Aspirin treatment)

आप सबके घर में एस्पिरिन भी आसानी से उपलब्ध होता है, तथा इसकी मदद से भी आप सिर के डैन्ड्रफ का सफाया कर सकते हैं। एस्पिरिन की दो गोलियां लें और इन्हें रूमाल के बीच में रखकर तोड़ लें। अब रूमाल को मोड़ लें तथा एक हथौड़े की मदद से इसे पीस लें। अब अपना सामान्य शैम्पू अपनी हथेली में लें और इसमें एस्पिरिन का पाउडर मिश्रित करें। इसे अच्छे से मिश्रित करके शैम्पू की तरह ही प्रयोग में लाएं। शैम्पू में बालों को 2 मिनट तक भिगोकर रखें और फिर धो लें।

डैन्ड्रफ के लिए बेबी ऑइल (Baby oil for dandruff)

बेबी ऑइल में एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल (anti bacterial and anti fungal) गुण होते हैं जो बच्चे के सिर को डैन्ड्रफ का शिकार होने से बचाते हैं। इसी तरह डैन्ड्रफ होने की स्थिति में अपने सिर में बेबी ऑइल की मालिश कर लें, जिससे सिर और सिर की त्वचा स्वस्थ हो जाएं। थोड़ा सा तेल अपनी हथेली पर लें और इसका प्रयोग अपने सिर की त्वचा तथा बालों पर करें। अब अपने सिर को तौलिये से ढक लें और रातभर के लिए छोड़ दें। अगले दिन अपने सिर को सादे पानी से धो लें।

शहद और नारियल तेल (Honey and coconut oil)

डैन्ड्रफ दूर करने के इस घरेलू नुस्खे का निर्माण करने के लिए एक पात्र में 2 चम्मच नारियल का तेल लें तथा इसमें 1 चम्मच शहद मिश्रित करें। इन्हें अच्छे से मिलाकर अपने सिर की त्वचा और बालों पर लगाएं। अगर आप इस मिश्रण को गाढ़ा बनाना चाहते हैं तो इसमें दही का भी मिश्रण करें। इसे बालों, जड़ों और सिर की त्वचा में लगाने के बाद 10 मिनट के लिए छोड़ दें और इसके बाद धो लें।

सौम्य शैम्पू का प्रयोग करें और कठोर पानी से परहेज करें (Use mild shampoos & avoid hard water)

सौम्य शैम्पू का ही प्रयोग करने की चेष्टा करें। अगर आपने पहले से ही कोई कठोर शैम्पू खरीद लिया हो तो इसमें थोड़ा सा गर्म पानी मिलाकर इसे सौम्य बनाएं। सिर को धो लेने के बाद इसपर शैम्पू ना रहने दें। सिर पर अतिरिक्त शैम्पू होने से भी डैन्ड्रफ की समस्या जन्म लेती है। अपने सिर की त्वचा और बालों को हलके पानी से धोएं। कठोर पानी से परहेज करें क्योंकि यह आपके सिर की त्वचा को रूखा और जमा हुआ बना देगा। इससे और भी खुजली होगी और डैन्ड्रफ पैदा होगा।

loading...