Hindi tips for throat pain/throat infection – गले के दर्द हेतु घरेलु नुस्खे

गले में सूजन काफी दर्दनाक होती है। यह इस बात का भी संकेत होती है कि आपको सर्दी लगने वाली है। गले पर दबाव पड़ने से सूजन आ जाती है। इससे और भी गम्भीर बीमारियों का जन्म हो सकता है। अतः इसका इलाज शुरुआत में ही करवा लेना अच्छा होता है। गले में सूजन इतनी पीड़ादायक होती है कि आपका मन तुरंत डॉक्टर के पास जाने का करता है। लेकिन कुछ घरेलू नुस्खों से भी इसका इलाज किया जा सकता है।

गले के दर्द के घरेलू नुस्खे हिंदी में (gale me dard ke gharelu nuskhe in Hindi)

मार्शमैलो की जड़ (Marshmallow root)

एक्जिमा के घरेलू उपचार

मार्शमैलो के पौधे का प्रयोग मध्य युग से गले के दर्द एवं अन्य समस्याओं का इलाज करने के लिए प्रयोग में लाया जाता रहा है। इसकी जड़ में जेलाटीन (gelatin) जैसा पदार्थ होता है जिसे मुसीलाज (mucilage) कहते हैं, जो इसे निगलने पर आपके गले की सुरक्षा करती है। एक लीटर के एक पात्र में ठंडा पानी भरें एवं 28 ग्राम सूखी मार्शमैलो की जड़ लें। इसे एक कपड़े में रखकर अच्छे से बाँध लें। इसे पानी के पात्र में इतना डुबोएं कि यह पूरी तरह नीचे चला जाए। इस गठरी के बंधे सिरे को पात्र के मुख पर रखें। पात्र का ढक्कन लगाएं एवं इसे बंद कर दें। इस गठरी को पानी में सारी रात या फिर आठ घंटों तक डालकर रखें और इसके बाद ही हटाएँ। अब अपनी मनचाही मात्रा एक गिलास में निकालकर इसका सेवन करें। आप चाहें तो इसमें मीठा भी डाल सकते हैं।

सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

सेब का सिरका प्राकृतिक स्वास्थ्यवर्धक तत्व है जिसका प्रयोग सदियों से औषधियों के निर्माण में किया जाता रहा है। इसमें एसिटिक एसिड (acetic acid) होता है जो जीवाणुओं से लड़ने में सहायता करता है। सेब के सिरके में एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) गुण होते हैं और इसका गर्म पानी के साथ कम मात्रा में सेवन करने से गले के दर्द में राहत मिलती है। गले में दर्द से छुटकारा प्राप्त करने के लिए, 1 कप गर्म पानी में एक चम्मच सेब का सिरका मिश्रित करें। आप चाहें तो इसमें एक चम्मच शहद भी मिश्रित कर सकते हैं। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

मुलैठी की जड़ (Licorice root)

मुलैठी का प्रयोग पारम्परिक रूप से कई प्रकार की समस्याओं का इलाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें एस्पिरिन (aspirin) के जैसे गुण होते हैं जो गले के दर्द को कम करने में सहायता करते हैं। एक शोध के अनुसार शल्य क्रिया से पहले मुलैठी मिश्रित पानी से गरारा करने से गले में दर्द होने की संभावना में चीनी युक्त पानी की तुलना में 50% की कमी आती है। आप दुकानों से या ऑनलाइन (online) मुलैठी के जड़ की चाय खरीद सकते हैं। आप इसकी मदद से खुद का पेय पदार्थ भी बना सकते हैं। इसके लिए मुलैठी की पिसी हुई जड़ को गर्म पानी के साथ मिश्रित करके पांच मिनट के लिए छोड़ दें और पीने से पहले इसे छान लें। इससे आपका गले का दर्द गायब हो जाएगा।

गर्म दूध के साथ हल्दी – गले की सूजन का घरेलु इलाज (milk turmeric mixture)

गले का दर्द और गले की सूजन में गर्म चीजें बहुत आराम प्रदान करती हैं. अगर गले में दर्द की वजह से कुछ खाने पीने में भी परेशानी हो रही हो तो गर्म दूध में हल्दी का पाउडर मिलाकर पीने से आराम मिलता है. दूध से आवश्यक पोषण भी मिल जाता है और हल्दी में दर्दनाशक गुण होते हैं साथ ही संक्रमण फैलाने ले बैक्टीरिया भी दूर हो जाते हैं.

शहद और अदरक का पानी तथा नीम्बू (Honey, ginger, water and lemon for sore throat)

गले के दर्द से निजात प्राप्त करने के लिए अदरक, शहद और पानी का मिश्रण काफी असरदार साबित होता है। इस मिश्रण को और भी ज़्यादा प्रभावी बनाने के लिए पानी को गर्म रखें। एक बार जब आपने शहद और अदरक को पानी के साथ मिश्रित कर दिया तो इसमें नीम्बू के रस का मिश्रण भी कर लें। यह तरल पदार्थ गरारे करने के लिए काफी अच्छा होता है। एक बार जब ये मिश्रण गले में प्रवेश कर जाता है, तो यह तुरंत ही अपना प्रभाव छोड़ने लगता है और कुछ ही देर में आप काफी अच्छा महसूस करने लगते हैं। शहद गले के अंदर एक परत का उत्पादन करता है और इसमें काफी बेहतरीन एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) गुण भी होते हैं। यही कारण है कि आपके गले में दर्द या सूजन होने की स्थिति में यह आपके लिए काफी बेहतरीन मिश्रण साबित होता है।

सॉस और गर्म पानी से गले की सूजन का इलाज (Sauce and hot water relieves throat infection / sore throat)

जोड़ों के दर्द से छुटकारा कैसे पायें

क्या आपके घर में शिमला मिर्च और हॉट पेपर सॉस (hot pepper sauce) उपलब्ध है? ये ऐसे उत्पाद हैं, जो सूजन से लड़ते हैं और गले की सूजन के दर्द को कम करने में आपकी काफी सहायता भी करते हैं। अच्छे प्रभाव के लिए एक कप गर्म पानी लें और इसमें 5 बार ये पेपर सॉस डालें। गले की सूजन से मुक्ति प्रदान करने का यह काफी बेहतरीन उपाय है। इस मिश्रण को लें और हर 5 मिनट के बाद इससे गरारा करें। इससे आपको गले की सूजन से काफी राहत मिलेगी।

गले की सूजन के लिए सेज (Sage for throat infection)

जब आपके गले में दर्द होता है तो नाक से हवा जाने का रास्ता भी बंद हो जाता है, जो कि काफी दर्दभरा अनुभव होता है। इस स्थिति में सेज का सेवन करके आप अपनी स्थिति में सुधार ला सकते हैं। एक घरेलू नुस्खे के रूप में इसका प्रयोग करने के लिए एक चम्मच सेज लें और इसमें आधी चम्मच फिटकरी, एक चौथाई कप ब्राउन शुगर (brown sugar), थोड़ा सा सिरका और एक कप पानी का मिश्रण करें। सूजे गले को दुरुस्त करने के लिए इन सब उत्पादों को अच्छे से मिलाकर इनका सही प्रकार से प्रयोग करें।

हल्दी से गले की सूजन का इलाज (Turmeric for throat infection/sore throat)

हल्दी आपके द्वारा प्रयोग में लाया जाने वाला सबसे अच्छा एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) मानी जाती है। वैज्ञानिकों के अनुसार इस पीले मसाले में शरीर को सही और स्वस्थ रखने के कई गुण पाए जाते हैं। हल्दी आपकी कई प्रकार की गम्भीर बीमारियों से लड़ने में मदद करती है। गले की सूजन से मुक्ति पाने के बेहतरीन उपाय के तौर पर एक कप गर्म पानी लें और इसमें आधा चम्मच हल्दी का पाउडर और आधा चम्मच मिश्रित करें। इस मिश्रण का प्रयोग गले में गरारा करने के लिए करें। यह गले को तुरंत राहत प्रदान करने में काफी अहम भूमिका निभाती है।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,899 other subscribers

गेहूं की घास का रस से गले की सूजन का इलाज (Juice of wheat grass is good for sore throat)

गेहूं के घास का रस गले की सूजन को ठीक करने का काफी कारगर उपाय साबित होता है। इससे अच्छे से गरारा करने और क्लोरोफिल (chlorophyll) को बाहर थूक देने से बैक्टीरिया की बढ़त में कमी आती है और आप आसानी से गले की सूजन से बच सकते हैं। इसके लिए गेहूं की घास के रस को मुंह के अंदर 5 मिनट के लिए रखें। इससे आपके कमज़ोर मसूड़ों में जान आएगी और दांतों का दर्द भी काफी हद तक दूर हो जाएगा। यह गले की सूजन का काफी प्रभावी इलाज है तथा इसी वजह से गेहूं की घास का रस इकठ्ठा करके रखने से आपको काफी फायदा मिलेगा।

लौंग से गले की सूजन का इलाज (Cloves can soothe sore throat gala dard ke liye)

इस उपचार के लिए पिसे हुए या पाउडर वाले लौंग का प्रयोग करें, और इसमें पानी मिलाकर एक पेस्ट तैयार करें। अब इस मिश्रण का प्रयोग गरारा करने के लिए कहें। लौंग में जलनरोधी और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं, और इसी वजह से यह गले की सूजन का काफी प्रभावी रूप से इलाज करता है। आपको सिर्फ इसके लिए ज़रूरी उत्पादों को जमा करना है और कुछ ही समय में आपके गले की हालत में काफी सुधार आ जाएगा।

गले का दर्द आजकल आम बात है। गले के दर्द के कारण, यह दर्द कई कारणों से होता है जैसे ज़ोर से चिल्लाना, वायरल संक्रमण, बैक्टीरिया इत्यादि। गले के दर्द से सर दर्द, बदन का दुखना, खांसी, सर्दी हो सकती है। यह खूब बड़ी समस्या नहीं किन्तु इसका इलाज आवश्यक होता है। आइये इस परेशानी से लड़ने के लिए कुछ घरेलु नुस्खे देखे।

घरेलु नुस्खे (Home remedies for throat infection / sore throat or gale me dard ke liye)

साइनस के घरेलू उपचार, सुझाव और नुस्खे

  • गले के दर्द का उपचार, 1/2 चम्मच नमक और 1/2 चम्मच सेब साइडर सिरका एक कप गर्म पानी में मिलाएं। इसे अच्छी तरह मिला ले। इससे गरारे करने से गले का दर्द ठीक होता है। इसी के साथ 4 चम्मच सिरके को गर्म पानी में मिला कर सादे पानी की जगह पीते रहें।
  • गले के दर्द के उपाय, नमक को एक ग्लास पानी में मिलायें। इस पानी के गरारे करने से गले का दर्द ठीक होता है। नमक एंटीसेप्टिक का काम करता है जो गले की जलन कम करता है। गरारे करने के बाद पानी को थूक दे| यह दिनभर में तीन बार करे।
  • नीबू के रस को पानी में मिलाएं| इस पानी के गरारे करने से भी गले का दर्द ठीक होता है। नीबू के रस में चुटकी भर नमक और 4-5 चम्मच काली मिर्च का पाउडर डालें। इस मिश्रण को अच्छे से मिला लें। यह गरारे दिन में चार बार करें।
  • गरम पानी में 1 चम्मच शहद मिलाएं। शहद में एंटी बैक्टीरियल गुण होते है जो गले की जलन को कम करते है। इससे गले के दर्द में आराम मिलता है।
  • गले के दर्द का इलाज, दो कप पानी को एक दालचीनी के टुकड़े और चुटकी भर काली मिर्च के पाउडर साथ 5-10 मिनट उबालें। इसे छान लें और थोड़ा सा शहद मिला दे। इस पानी को पीने से तुरंत उपचार होगा।
  • 4-5 बूँद लहसुन के तेल को पानी में मिलाकर उससे गरारे करें| आपको अच्छा परिणाम मिलेगा। अदरक के छोटे टुकड़े लें और दिन में तीन से चार बार चबाएं। इससे भी आपके गले का दर्द ठीक होगा| लहसुन में एंटी बैक्टीरियल तत्व होते है जो गले की जलन ठीक करते हैं।
  • गले में दर्द के उपाय, 3 चम्मच मेथी दाना लें और और 6 कप पानी में लिए दे। इस मिश्रण को 20 मिनट तक उबाल कर छान लें। ठंडा होने पर इसे उपयोग में लाएं।
loading...