Best pregnancy tips in hindi for women – महिलाओं के लिए गर्भावस्था के उपयोगी नुस्खे

गर्भावस्था के समय एक महिला काफी अच्छा महसूस करती है, क्योंकि इस वक़्त उसकी काफी देखभाल (garbhavastha ki dekhbhal) होती है। नीचे दिए गए नुस्खों का प्रयोग करके आप इस नाज़ुक मौके पर काफी स्वस्थ रह सकती हैं : –

  1. गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य, रोज़ाना करीब 6 प्रकार के संतुलित आहारों का सेवन करें।
  2. अपने आब्स्टिट्रिशन(obstetrician) या दाई द्वारा सुझाए गए गर्भावस्था के पहले लिए जाने वाले (prenatal) विटामिन्स और मिनरल्स का सेवन अवश्य करें।
  3. गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य, काफी मात्रा में द्रव्यों -करीब 8 से 10 गिलास – का सेवन करें। इससे मानव निर्मित कलर (color) तथा कैफीन (caffeine) की शरीर में मात्रा कम होती है।
  4. शराब का सेवन ना करें।
  5. धूम्रपान ना करें और ना ही धूम्रपान करने वालों के बीच में रहें। सिगरेट (cigarette) के धुएं से आपके बच्चे पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है।
  6. व्यायाम (work out) – इससे आपके स्वास्थ्य पर काफी अच्छा असर पड़ता है और आपको तनाव भी कम होता है। गर्भावस्था से जुड़ी हुई क्लासेस (classes) लें या रोज़ाना 15 से 20 मिनट तक वाकिंग (walking) करें। ज़्यादा गर्मी से बचने के लिए घर के अंदर ही रहें।
  7. गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य, सोने का पर्याप्त समय निकालें। इस समय कम से कम 10 घंटे तक अवश्य सोएं। अगर आप रात के समय अच्छे से सोने में असमर्थ हैं तो दिन में सोने का प्रयास करें तथा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  8. पैरों और टख़ने (ankles) की जलन और सूजन से मुक्ति पाने तथा कमज़ोरी दूर भगाने के लिए पैरों को ऊपर करके आराम करें और आरामदायक जूते पहनें।
  9. गाड़ी में बैठते समय सुरक्षा पेटी (safety belt) अवश्य बाँध लें।
  10. डॉक्टर या दाई से बिना सलाह किये दवाई की दुकानों से कोई सामान्य या हर्बल दवाई ना खरीदें।

गर्भावस्था से जुड़े हुए बेहतरीन एप्स

गर्भावस्था के समय शरीर में काफी परिवर्तन होते हैं। ऐसे समय में यह काफी आवश्यक है कि आप सही भोजन करें और ऐसी स्थितियों से बचें जिनसे आपके बच्चे का स्वास्थ्य खतरे में पड़ जाए। नीचे कुछ नुस्खे दिए गए हैं (Pregnancy me dekhbhal – Tips for Pregnants in Hindi)

  1. अतिरिक्त कैफीन (caffeine) का सेवन ना करें। शराब की तरह, जिसे पूरी तरह बंद कर देने की आवश्यकता है, आपको कैफीन लेना बंद नहीं करना है, बल्कि इसकी काफी कम मात्रा लेनी है। ध्यान रखें कि इसकी अतिरिक्त मात्रा ना लें, क्योंकि इससे बच्चे का वज़न कम होने या फिर मिसकैरेज (miscarriage) होने का ख़तरा रहता है।
  2. कच्चा मांस या जानवरों से मिला हुआ बिना पका उत्पाद ना खाएं। इससे आप ऐसी बैक्टीरिया के संपर्क में आ सकती हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक होता है। अगर आप इ कोली (E. Coli), लिस्टेरियोसिस (listeriosis) या फ़ूड पोइज़निंग (food poisoning) से ग्रस्त हैं, तो इससे आपकी गर्भावस्था में गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती है। इसके अलावा बड़ी प्रिडेटर (predator) मछलियाँ मर्क्युरी (mercury) से युक्त होती हैं, जिससे आपके बच्चे का स्वास्थ्य काफी प्रभावित होता है।
  3. ओमेगा 3 फैटी एसिड्स (Omega-3 fatty acids) से भरपूर भोजन ग्रहण करें। इस तरह के भोजन शरीर में खराब कोलेस्ट्रोल (bad cholesterol) की मात्रा को कम करते हैं और स्तनपान तथा गर्भावस्था की अन्य स्थितियों के दौरान बढे हुए कोलेस्ट्रोल (cholestrol) को काफी कम कर देते हैं।
  4. कोको (cocoa) की मात्रा से भरपूर एक औंस डार्क चॉकलेट (dark chocolate) लें, जिसकी मदद से आप उच्च रक्तचाप (high blood pressure) से प्रभावित होने से बच जाएंगी।
  5. गर्भावस्था के दौरान अपनी साफ सफाई (hygeine) का काफी ध्यान रखें। हॉट डॉग्स (hot dogs), नरम मांस, अंडे और अंडे के उत्पाद, सीफ़ूड (seafood), बिना पाश्चरीकृत (unpasteurized) डेरी उत्पाद, स्प्राउट्स (sprouts)तथा फलों के रस आदि का सेवन ना करें।
  6. अपने रसोईघर के फर्श और बर्तनों को काफी साफ रखें, जिससे कि ये आपके स्वास्थ्य को नुकसान ना पहुंचा पाएं। जब तक बर्तनों को गर्म पानी से अच्छे से ना धोया गया हो, तब तक इनका प्रयोग ना करें, क्योंकि ऐसा ना करने पर बैक्टीरिया (bacteria) के उसमें लगे रहने की काफी संभावना होती है।
  7. जितनी जल्दी हो सके किसी दाई या डॉक्टर से अपनी जांच करवाएं। इससे आपको जन्म के पूर्व (antenatal) अच्छी सेवा सुश्रुषा मिल जाएगी। जब आप काफी शुरुआत से अपनी देखभाल के बारे में ध्यान देती हैं तो स्वास्थ्य के विशेषज्ञों से भी आपको सहायता मिलती है। इसके अलावा अगर आप अपने डॉक्टर से बात करें तो वह आपको ऐसे कोई भी परीक्षण (tests) या हानिकारक केमिकल्स (chemicals) के संपर्क में आने से मना करता है जिससे आपकी गर्भावस्था में कोई परेशानी आए।
  8. गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, अपने साथी को स्वस्थ बच्चे के जन्म में आपका हाथ बंटाने के लिए राज़ी करें। ध्यान रखें कि गर्भावस्था की स्थिति आने में एक साल तक का समय भी लग सकता है।
  9. अगर आप अपनी नर्सरी (nursery) की सजावट करने के बारे में सोच रही हैं तो इस काम के लिए अपने दोस्तों को नियुक्त करें तथा उनके लिए चाय नाश्ता बनाने तक खुद को सीमित रखें। ऐसा करना इसलिए आवश्यक है जिससे आपका बच्चा रंगों और हानिकारक केमिकल्स (chemicals) के सीधे चपेट में ना आ जाए।
  10. गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, आपको अपनी गर्भावस्था के शुरूआती दौर में काफी तकलीफों का सामना करना पड़ सकता है। आपको मॉर्निंग सिकनेस (morning sickness) या इससे जुड़ी अन्य समस्याएं घेर सकती हैं। लेकिन इन सबका यह मतलब नहीं कि आप दूसरों के साथ रूखेपन के साथ पेश आएं। सबके साथ प्यार और अपनापन बनाए रखें जिससे कि आपके बच्चे को कोई तकलीफ ना हो।
  11. गर्भावस्था में देखभाल, खुशहाल यादों का निर्माण करें। इसके लिए आपको थोड़ी मेहनत अवश्य करनी पड़ेगी, पर अंततः परिणाम काफी सुखद होंगे। कई बार ऐसा भी लगता है कि गर्भावस्था का समय समाप्त ही नहीं हो रहा, लेकिन आपके लिए खुद को यह विश्वास दिलाना आवश्यक है कि ये समय जल्दी ही ख़त्म हो जाएगा। अगर आप अपनी गर्भावस्था के समय को यादगार बनाना चाहती हैं तो नकारात्मक के बजाय सकारात्मक पहलुओं पर ज़्यादा ध्यान लगाएं।
  12. गर्भावस्था के समय खुद को संभालने के तरीकों के बारे में हमेशा जागरूक रहें। अस्पताल में अन्य गर्भवती महिलाओं से बातचीत करके उनकी स्थिति जानने का प्रयास करें।
  13. शरीर का वज़न इतना रखने का प्रयास करें जितना कि स्वास्थ्यकर साबित हो। ज़्यादा वज़न बढ़ जाने से बच्चे के स्वस्थ रूप से जन्म लेने की संभावनाएं काफी कम हो जाएंगी। लेकिन गर्भावस्था के दौरान अगर आपका वज़न कुछ ज़्यादा ही कम हो गया, तो ऐसी स्थिति में भी आपके बच्चे के जन्म में आपको कई तकलीफों का सामना करना पड़ सकता है।
  14. गर्भावस्था में देखभाल, शरीर को ज़्यादा कष्ट देने वाले व्यायाम न करें, क्योंकि इससे आपकी गर्भावस्था की स्थिति में काफी ख़तरा पैदा हो सकता है।
  15. घर तथा काम के स्थल पर बच्चों के पसंद आने लायक वातावरण का सृजन करें। कार्यस्थल पर केमिकल्स के ज्यादा संपर्क में आने पर बच्चों का स्वास्थ्य काफी हद तक प्रभावित हो सकता है। अगर आप ऐसी किसी जगह काम करती हैं जहां आपको रोज़ाना ही ऐसे तत्वों के संपर्क में आना पड़ता है, तो काम करते वक़्त दस्तानों तथा चेहरे के मास्क (face mask) का प्रयोग करें जिससे कि आप इन हानिकारक केमिकल्स से सही प्रकार से बचे रहें।
  16. गर्भावस्था के दौरान अपने कूल्हों तथा पेट की मांसपेशियों को मज़बूत करने का प्रयास करें। लेकिन पहली तिमाही के समाप्त होने पर क्रंचेस (crunches) या पीठ से जुड़ा कोई भी व्यायाम करने से पूरी तरह परहेज़ करें।
  17. गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर की नसें तथा जोड़ों के भाग काफी कमज़ोर हो जाते हैं। अतः ऐसा कोई भी काम ना करें जिसकी वजह से आपके शरीर के इन भागों को कोई नुकसान पहुंचे।
  18. काम पर जाते समय अपने साथ स्वास्थ्यकर भोजन लेकर जाएं। बाहर का खाना खाने से बिलकुल परहेज करें, क्योंकि इससे आपके बच्चे का स्वास्थ्य काफी बुरी तरह प्रभावित हो सकता है। आप दफ्तर काम करने जा रही हैं, इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है कि आप पोषक भोजन ग्रहण नहीं कर सकती।
  19. खुद को समझाने के लिए हर रोज़ कुछ सकारात्मक विचार अपने मन में लाएं। सकारात्मक विचार आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छे साबित होते हैं।
  20. खुद को आनंद प्रदान करने का एक मौक़ा खोजें तथा अपने मसाज पार्लर (massage parlour) में जाकर अपनी मनपसंद मसाज करवाएं। आप गर्भावस्था के दौरान मसाज करवाने के ख़ास उपाय जानने के लिए किसी रेफ्लेक्सोलोजिस्ट (reflexologist) के पास भी जा सकती हैं।
  21. गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स, अगर आप कामकाज में काफी प्रवीण हैं, तो आपको अपनी गर्भावस्था अपने साथियों और बॉस (boss) से छिपाने की कोई ज़रुरत नहीं है। उनके साथ गर्भावस्था से जुड़ी हर बात साझा करें। अपने काम करने के स्थल को आरामदायक बनाएं। काम करते समय एक फुट स्टूल (footstool) का प्रयोग करें।
  22. कैल्शियम (calcium) युक्त भोजन की पर्याप्त मात्रा लें। अपने ओट्स (oats) को पानी की जगह दूध में पकाएं जिससे कि आपके शरीर में ज्यादा कैल्शियम का संचार हो।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday