Hindi tips to cure bad breath – सांसो की बदबू रोकने के लिए टिप्स

साँसों की बदबू, मुँह की दुर्गंध एक काफी गंभीर समस्या है और ताज़ी साँसों के लिए आपको थोड़ा जतन करने की ज़रुरत है। अगर आप किसी सामाजिक कार्यक्रम या पार्टी में गए हुए हैं और आपकी साँसों से बदबू आ रही है तो यह आपके लिए काफी शर्मनाक हो सकता है। ऐसे समय में आपको कुछ महत्वपूर्ण नुस्खों की आवश्यकता होगी जिनसे आप अपने साँसों की ताज़गी को बनाए रख सकें।

बुरी सांसों को ठीक करना आपके व्यवसाय, सम्मान, और दूसरे लोगों के पास जाने के लिये बहुत ही महत्तवपूर्ण है। मुंह की देखभाल और मसूढ़ों की किसी बिमारी का इलाज के द्वारा कीटाणुओं को खत्म करके इसे आप सम्भव बना सकते हैं। यह भी सम्भव है कि अपने शरीर में पोषण करने वाले कीटाणुओं की संख्या बढाकर और अपने आपको जलयोजित कर मुंह की बदबू को ठीक कर सकते हैं।

स्वयं को कैसे मुंह की दुर्गंध के बारे में सूचित करे (How to inform themselves about undesirable breathing)

मुंह की दुर्गंध के इलाज़ में सबसे बड़ी समस्या यह है कि व्यक्तियों को मुंह की दुर्गंध के बारे में पता नहीं चलता है। मुंह की दुर्गंध जीभ के चारों ओर के कीटाणुओं के कारण होता है। जिन लोगों को बुरी सांस को बतलाना हो उन्हें हाथ के पिछले हिस्से को पूरी जीभ से चाटने के लिये कहें। 3 सेकेण्ड के पश्चात अपने हाथ को सूंघने के लिये कहें। अगर यह महक बुरी है तो मुंह की दुर्गंध को ठीक करने के लिये आपको निम्न सलाह को करना चाहिये।

स्वस्थ मुँह की देखभाल की सलह अच्छी मुस्कान के लिए

सांसो की दुर्गंध से बचने के घरेलू उपाय – नमक या नीम्बू से कुल्ला करना (Salt rinse out or of lemon rinse out)

सोडियम से मुंह का कुल्ला करना आपके मुंह से कीटाणुओं को खत्म कर और मुंह की दुर्गंध का इलाज़ भी होगा। आधा चम्मच सोडियम को 50% पानी में मिलाकर मुंह साफ करें यह उपाय सोने से पहले करना फायदेमंद होगा। इसे कुछ रातों तक प्रयोग करने के बाद आपके मसूढ़े लाल के बजाय गुलाबी हो जायेंगे और मुंह की दुर्गंध मुक्ति मिल जायेगी।

मुंह की दुर्गंध (moo ki badboo) को नीम्बू की सहायता से भी ठीक कर सकते हैं, क्योंकि नीम्बू में पाया जाने वाला अम्ल जीभ और मसूढ़े पर पैदा होने वाले कीटाणुओं के विकास को रोक देगा। आप नीम्बू और सोडियम के मिश्रण का भी प्रयोग बिस्तर पर जाने से पहले कर सकते हैं।

सांसो की दुर्गंध से बचने के घरेलू उपाय हैं बेकिंग सोडा (Baking soda)

बेकिंग सोडे का झाग मुंह की दुर्गंध के इलाज़ में महत्तवपूर्ण है इसमें पाया जाने वाला रसायन आपके जीभ पर पाये जाने वाले कीटाणुओं को रोकता है। अपने दांतों को बेकिंग सोडा भरपूर टूथपेस्ट या नियमित टूथपेस्ट के बाद नुस्खे के झाग का उपयोग कर सकते हैं। यह भी सम्भव है कि आप नुस्खे के झाग को सभी समस्याओं का अंत करने के लिये भी प्रयोग कर सकते हैं।

सूर्यमुखी के बीज या मिंट की पत्तियों को चबायें (Chew sunflower seeds or mint leafs)

अच्छी महक के लिये बेहतरीन मुंह फ्रेशनर

ये दोनों घरेलू उपाय आपके मुंह के क्षेत्र को साफ कर नई खुशबू बिखेरते हैं। रात्रि भोजनोपरान्त सूर्यमुखी के बीज को कुतरना बुरी सांसों के लिये अच्छा रहेगा। मिन्ट की पत्तियों को चबाना मुह के क्षेत्र में नई खुशबू लायेगा। जो बुरी सांसों के इलाज में बेहतर समाधान लायेगा।

चीनी से बचें (Prevent sugar)

संशोधित चीनी आपके दांतों के लिये हानिकारक है और कैविटी को बनाकर बुरी सांसें परिणाम के रूप में देगी। बिस्किट, कैंडी आदि को छोड़ना कुछ अच्छे उपाय है। भूरी चीनी का उपयोग करें। चीनी आपके मुंह के क्षेत्र में सूखेपन को बढ़ाती है जो मुंह से बदबू आना का मुख्य कारक है।

प्रोबायोटिक दही लें (Probiotic curd)

प्रोबायोटिक, असिडोफाइलस के समान कार्य कर मुंह से बदबू का उपाय करता है जब यह नियमित उपयोग किया जाये। दही में पाये जाने वाले पोषक कीटाणुओं का उपभोग मुंह की दुर्गंध को ठीक करने में सहायता करेगा।

मेंथी की चाय पियें (Drink fenugreek tea)

मेथी बीज के उत्पाद (मेथी बीज) हमेशा से मुंह से बदबू के लिये अच्छे माने गये हैं। एक चम्मच मेंथी उत्पाद को 3 कप पीने के पानी में एक घंटे तक धीमी आंच पर पकायें जिससे एक चौथाइ बचा रहे। इसे उपयोग करें।

मिनरल पानी, चाय या अनन्नास फल का रस पियें (Drink mineral water, tea or pineapple veggie juice)

ठीक अन्यों की तरह बुरी सांसों के इलाज़ के लिये पानी एक सीधा तरीका है जो आपके लिये लाभकारी है। मिनरल पानी आपके पेट को ठीक रखता है और जीभ को जलयोजित करता है और कीटाणुओं को नष्ट और साफ कर बुरी सासों को खत्म करता है।

मसूड़ों को साफ़ रखने के लिए आयल पुलिंग की विधि

गर्म चाय भी अच्छा परिणम देती है। अनन्नास रस में पाया जाने वाला उच्च अम्ल भी बुरी सांसों के इलाज़ में लाभ देता पाया गया है।

कब्ज से बचें (Keep constipation)

नियमित रूप से व्यायाम करें और उच्च मात्रा में फाइबर आधारित भोजन को लें यह आपके पेट को ठीक रखकर मुंह से बदबू आना का इलाज़ करेगा।

इलायची बीज या लौंग को चबायें (Chew cardamom seeds, cloves for moo ki badboo)

दोनो ही समान रूप से मुंह की दुर्गंध को ठीक करने में लाभदायक हैं। खासतौर पर ठीक भोजनोपरांत इसे चबाना अच्छा है।

मुंह की सफाई (Mouth cleanliness)

यह एक काफी सामान्य बात लग सकती है, परन्तु मुंह की सही देखभाल साँसों की बदबू को दूर करने के लिए काफी आवश्यक है। फ्लॉस करना बिलकुल ना भूलें क्योंकि इसकी मदद से मसूड़ों की समस्या के फलस्वरूप साँसों की बदबू की दूर करने में सहायता मिलती है। इसके अलावा ऐसा टूथपेस्ट चुनें जो मुंह के अंदरूनी भाग को सूखा न बनाता हो।

प्याज और लहसुन खाने से परहेज़ करें (Avoid eating onions and garlic hai muh se badbu ka ilaj)

ज़्यादातर समय हम लहसुन और प्याज का सेवन करते हैं। ये वे उत्पाद हैं जिनसे हमारी सांसों में बदबू उत्पन्न होती है। अतः जब भी आप इन उत्पादों का सेवन करें, तो इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि आपने अपने दांतों को अच्छे से साफ़ कर लिया हो, जिससे कि आपके मुंह खोलने या किसी से बात करने पर आपके साँसों की बदबू ना आए। आमतौर पर यह काफी आवश्यक है कि आप दिन में दो बार अपने दांतों की सफाई करें। इससे आपको निरंतर साँसों की बदबू से दूर रहने में काफी मदद मिलेगी।

मुंह के स्वास्थ्य के लिए दांतों को ब्रश करने के नुस्खे

गार्गल करने के लिए पेरोक्साइड का प्रयोग (Using peroxide to gargle)

अगर आपको प्लाक की समस्या है तो आपको ऐसे एंटी माइक्रोबियल माउथवाश की ज़रुरत है जो आपको इस समस्या से पूरी तरह निजात दिला सके। सांसों को तरोताज़ा रखने के लिए यह काफी ज़रूरी है कि आप पेरोक्साइड से गार्गल करें। यह बिलकुल साँसों को माउथवाश की मदद से ठीक करने जैसा ही होता है, तथा इस प्रक्रिया के बाद आप अपने शरीर के उस भाग को काफी परफेक्ट महसूस करेंगे।

बुरी सांसो को ताज़ा सांसों में बदलने के इलाज के लिये फ्लोराइड काफी फायदेमंद (Fluoride is good for bad breath)

अगर आप अपनी साँसों को खुशबूदार बनाना चाहते हैं तो यह काफी ज़रूरी है कि अपने मुंह की सफाई अच्छे से करने के लिए आप फ्लोराइड का प्रयोग करें। अगर आपकी दांतों में सड़न आ गयी है तो साँसों की बदबू कायम रहेगी। इसके अलावा, एक बार आपके दांत खराब हो जाएं तो इनमें काफी दर्द होता है और ऐसी स्थिति में आपके लिए सबसे अच्छा यही रहेगा कि आप निरंतर रूप से फ्लोराइड का इस्तेमाल करें। इस बात का ध्यान रखें कि आपके टूथपेस्ट में फ्लोराइड की मात्रा हो। इससे आपके दांतों को लम्बे समय तक फायदा मिलता रहेगा।

पेट की गड़बड़ी पर नियंत्रण करें (Avoid upset stomach for bad breath)

अगर आपके पेट में गड़बड़ है तो यह बात बिलकुल पक्की है कि आपके मुंह से बड़ी भयंकर बदबू आएगी। पेट के खराब होने से साँसों में भी बदबू, मुंह की बदबू (moo ki badboo) पैदा हो जाती है। इस स्थिति से निपटने के लिए रोज़ाना एंटासिड लें, जिससे कि आपको पेट में बन रही गैस और अन्य गड़बड़ियों से छुटकारा मिलेगा। जब आपका पेट अच्छी स्थिति में ना हो तो आपको डकार लेने के वक़्त हेलीटोसिस की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप दूध पीना सहन नहीं कर सकते और आपको GI की समस्या है तो आप साँसों की बदबू से लड़ने के लिए लैक्टेस टेबलेट्स का अच्छा प्रयोग कर सकते हैं।

इलेक्ट्रिक ब्रश के लाभ और हानि

इन्फेक्शन का इलाज (Treating the infection to cure bad breath)

अगर आपको साइनस का इन्फेक्शन है तो आपके मुंह से साँसों की बदबू आना कोई आश्चर्य की बात नहीं है। जब यह इन्फेक्शन कायम रहता है तो खराब साँसों की समस्या आपको काफी तकलीफ देती है। ऐसी स्थिति में आपको किसी के साथ बात करना तो दूर, किसी के सामने खड़े होने में भी काफी संकोच होता है। इस इन्फेक्शन को दूर करने के लिए आप प्यूरुलेन्ट पोस्ट नेसल ड्रिप (purulent post nasal drip) का प्रयोग करते हैं और यही आपकी साँसों में बदबू होने का कारण होता है। अतः सुबह आप जैसे ही नींद से जागें तो तुरंत वाशरूम जाएं, ब्रश उठाएं और दांतों की सफाई करना शुरू करें। इस विधि से आप आसानी से साँसों की बदबू की समस्या से दूर रहेंगे। एक बार दांतों को अच्छे से ब्रश कर लेने पर आपको किसी से भी बात करने में किसी प्रकार का संकोच नहीं होगा।

loading...