Hindi tips to get rid of crows feet eye – आँखों के पास की झुर्रियों को हटाने के उपाय

आँखों के पास की झुर्रियां, या क्रोज फ़ीट, उन पतली झुर्रियों और महीन रेखाओं को कहते हैं जो आँखों के बाहरी कोने में होती हैं। इन्हें हंसी की रेखाएं या चालचलन की रेखाएं भी कहा जाता है। ये रेखाएं आम तौर पर ३० वर्ष की उम्र के बाद दिखती हैं।

इस उम्र के आसपास कोलाजेन तथा इलास्टिन बनना कम हो जाते हैं जिसकी वजह से त्वचा में खिंचाव होता है। इससे उम्र के निशान चेहरे पर पड़ते हैं तथा उनमें से एक आँखों के पास की झुर्रियां हैं। इसके अंतर्गत आँखों के पास की त्वचा पतली हो जाती है और वहां महीन झुर्रियां पड़ जाती हैं।

उम्र बढ़ने के अलावा आँखों के पास झुर्रियां पड़ने के अन्य कारण हैं सूरज की रौशनी के ज़्यादा संपर्क में रहना, पर्यावरण का प्रदूषण, धूम्रपान, ज़्यादा मुस्कुराना या भौंहें चढ़ाना। इस परिस्थिति के लिए आनुवांशिकता भी ज़िम्मेदार होती है।

क्रो फीट आइ झुर्रियों की पहचान कैसे करें? (How to identify the crow’s feet?)

इस सम्बन्ध में ध्यान देने वाली बात यह है कि हमारे मुस्कुराने के समय हमारी आँखों के पास जो रेखाएं बनती हैं, उसे ही क्रोज फ़ीट या आँखों की झुर्रियां कहते हैं। इसे पहचानने के लिए मुस्कुराते वक्त अपने चेहरे पर बनने वाली रेखाओं की ओर ध्यान दें। अगर मुस्कुराने के बाद ये रेखाएं चली जाती हैं तो वे मुस्कुराने वाली रेखाएं हैं, और अगर वे रह जाती हैं तो वे आँखों की झुर्रियां हैं।

क्रोज फ़ीट की निशानी (What are the signatures of crow’s feet?)

छोटी आंखों के लिए मेकअप के नुस्खे

इस समस्या के शिकार लोगों की उम्र आमतौर पर 34 से 40 के बीच होती है। इनके चेहरे पर इस समय छोटी महीन रेखाएं आती हैं जो कि रह जाती हैं। पर आजकल कम उम्र के लोग भी क्रोज फ़ीट के शिकार हो रहे हैं।

क्रोज फ़ीट के कारक (What are the trouble makers of crow’s feet?)

क्रोज फ़ीट के 3 कारक हैं – मुस्कुराना, आँख सिकोड़ना तथा सोना। इनको बार बार करने से त्वचा में दाग की सृष्टि होती है जिससे इलास्टिक फाइबर्स टूट जाते हैं और चेहरे पर झुर्रियां पड़ जाती हैं। ये झुर्रियां सिर्फ चेहरे पर नहीं, बल्कि शरीर में कहीं भी हो सकती हैं।

मुस्कुराना (Smile) – हर व्यक्ति के मुस्कुराने की अपनी अदा होती है। झुर्रियों से छुटकारा, जो लोग आँखों की झुर्रियों के शिकार होते हैं, वे मुस्कुराते समय आँखों के पास की मांसपेशियों का काफी ज़्यादा प्रयोग करते हैं। झुर्रियों को कम करने के लिए कोशिश करें कि आँखों के पास दबाव ज़्यादा न पड़े।

आँख सिकोड़ना (Squinting) – आँख सिकोड़ने का अर्थ है कुछ देखते समय आँखें छोटी करके देखना। हम सूरज की रौशनी में ऐसा प्रायः करते हैं, पर इसे ज़्यादा बार करने से कोलेजन की मात्रा कम होती है और इलास्टिक फाइबर टूटकर झुर्रियों की शुरुआत होती है।

सोना (Sleeping) – सही तरह सोने से झुर्रियों की समस्या से निजात मिल सकती है। झुर्रियों से छुटकारा, सोते समय पीठ के पीछे यू आकार का तकिया रखें। आप रेशमी तकिये का भी प्रयोग कर सकते हैं। इससे झुर्रियों की परेशानी दूर होती है।

झुर्रियों से निपटने के उपाय (How to get rid of crow’s feet?)

1. जैतून, जोजोबा तथा बादाम का तेल झुर्रियां हटाने में सहायक होते हैं। आँखों के आसपास के भाग की उँगलियों की मदद से मालिश करें।

खूबसूरत आंखों के लिए ग्रीष्मकालीन नेत्र देखभाल टिप्स

2. रात के समय ग्लिसरीन और नींबू के रस के मिश्रण को आँखों के पास लगाएं। इससे जल्दी ही आँखों की झुर्रियां दूर हो जाएंगी।

3. विटामिन इ का कैप्सूल भी इन झुर्रियों का अच्छा इलाज है। विटामिन इ के कैप्सूल को काटें और इसे आँखों के आसपास लगाएं।

4. अंडे का सफ़ेद भाग त्वचा में कसावट लाता है जिससे झुर्रियों की रेखाएं भी मिटती हैं। अंडे के सफ़ेद भाग को मसलकर उसे आँखों और गालों की हड्डियों पर लगाएं। इसे सूखने दें तथा इसके बाद पानी से धो लें।

5. एक धातु के चम्मच को रातभर फ्रिज में रखें। सुबह इसके उभरे हुए भाग को आँखों के नीचे रखें। धीरे धीरे आँखों के नीचे की त्वचा में कसावट आएगी।

6. पपीते में विटामिन सी की मात्रा होती है जिसकी मदद से यह फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करता है। इसमें मौजूद पपेन एंजाइम कोलेजन की मात्रा में वृद्धि करता है। इससे त्वचा की मृत कोशिकाएं निकलती हैं तथा त्वचा में कसावट आती है। सिर्फ एक कच्चे पपीते को आँखों के आसपास की त्वचा पर रगड़ें। इसे सूखने के लिए छोड़ दें तथा ठन्डे पानी से इसे धो लें।

7. दूध की मदद से आप आँखों के आसपास की झुर्रियों को आसानी से हटा सकते हैं। दूध में मौजूद ग्लाइकोलिक एसिड मृत कोशिकाओं को हटाते हैं तथा कोलेजन की मात्रा को बढ़ाते हैं। रोज़ाना दूध पीने से चेहरे पर निखार आता है। आँखों के पास की झुर्रियों से छुटकारा पाने के लिए एक पात्र में ठंडा दूध लें तथा उसमें बादाम के तेल की कुछ बूँदें डालें। अब इसमें ब्रेड के दो टुकड़े मिलाएं। हर एक टुकड़े को मुस्लिन के कपडे में लपेटें तथा आँखों के ऊपर रखें। इसे १० मिनट तक छोड़ दें। यह प्रक्रिया हर रोज़ दोहराएं।

8. एलो वेरा में एंटी ऑक्सीडेंट्स के गुण होते हैं जो उन फ्री रेडिकल्स को हटाते हैं जो आँखों के पास झुर्रियां पैदा करते हैं। यह झुर्रियां हटाने के लिए सबसे अच्छे प्राकृतिक उत्पादों में से एक है क्योंकि इसमें त्वचा को टोन करने वाले विटामिन और मिनरल होते हैं। एलो वेरा की पत्तियों से जेल निकालें और सोने से पहले आँखों के आसपास लगाएं। सुबह ठन्डे पानी से इसे धो लें।

9. नारियल तेल एक प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र है जो त्वचा को पोषण देता है जिससे त्वचा में झुर्रियां नहीं आती। सोने से पहले हर रोज़ आँखों के पास शुद्ध नारियल का तेल लगाएं।

आंखों के नीचे डार्क सर्कल को ऐसे हटाएँ

10. अरंडी का तेल ऐसा शांत करने वाला तेल है जो आँखों के पास की झुर्रियों को होने से रोकता है। सोने से पहले हर रोज़ झुर्रियों पर अरंडी के तेल की कुछ बूँदें लगाएं। सुबह इसे धो दें।

11. नाशपाती में एंटी बैक्टीरियल और ऑक्सीडेंट्स के गुण होते हैं जो सूखी और बेजान त्वचा में जान डालते हैं। यह कोलेजन के उत्पादन को भी बढ़ाता है जिससे झुर्रियां कम होती हैं। नाशपाती के गूदे को झुर्रियों पर लगाएं और 20 मिनट बाद धो दें।

12 खीरा त्वचा को पोषण देता है। खीरे के आराम प्रदान करने वाले गुण झुर्रियों को कम करने में सहायक होते हैं। खीरे को किसकर उसका रस निकालें तथा आँखों के आसपास लगाएं। 10 मिनट बाद इसे ठन्डे पानी से धो लें।

13. नींबू का रस सिट्रिक एसिड से भरपूर होता है और त्वचा की मृत कोशिकाएं निकालने और झुर्रियां दूर करने में काफी सहायक होता है। नींबू के रस को झुर्रियों वाले स्थान पर रगड़ें। इसे 10 मिनट बाद धो दें।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday