Ear cleaning tips in Hindi – घर पर कानों को साफ़ करने के बेहतरीन उपाय

खुद की देखभाल और साफ़ सफाई करने की दिशा में एक कदम कानों को साफ़ करना भी है। हम आमतौर पर कानों के अंदर जमे मैल को निकालने की काफी कोशिश करते हैं। कानों का मोम एक चिपचिपा पदार्थ होता है जो कि किसी भी प्रकार की गन्दगी, बैक्टीरिया या धुल के छोटे छोटे कणों से कान के संवेदनशील हिस्सों को बचाने के लिए कान द्वारा ही उत्पन्न किया जाता है।

काफी कम लोग ही कान के इस मोम को सही प्रकार से कान में से निकालने का तरीका जानते हैं। क्योंकि कान का हर हिस्सा काफी मुलायम एवं नाज़ुक होता है, अतः कान के इस हिस्से को स्क्रब करना काफी मुश्किल होता है। अगर आप अपने कानों को साफ़ नहीं करते हैं तो आपके कान का भीतरी भाग दर्द करने लगता है और कई बार तो आपको कान का संक्रमण भी हो सकता है।

कई घरों में कान साफ़ करने के लिए सरसों का तेल कान में डाला जाता है। यह कानों को साफ़ करने का काफी जोखिम भरा और अस्वास्थ्यकर उपचार है। अगर आपको कान साफ़ करने के सही उपचारों के बारे में जानना है तो आगे पढ़ते रहिये।

कानों का मोम एक प्राकृतिक पदार्थ होता है जिसका थोड़ी सी मात्रा में रहना बहुत अच्छा साबित होता है, क्योंकि यह बैक्टीरिया (bacteria) के खिलाफ आपके कानों के सुरक्षा कवच का काम करता है। परन्तु कानों में ज़रुरत से ज्यादा मोम का जम जाना अच्छा नहीं है क्योंकि इससे हमारे कान बंद हो जाते हैं, जिससे हमारे सुनने की शक्ति प्रभावित होती है।

इससे आपको चक्कर आना, सुनने में तकलीफ, चिडचिडापन आदि समस्याएं हो सकती हैं। नीचे कानों के मोम को साफ़ करने के कुछ घरेलू उपाय बताये गए हैं।

कान को साफ़ करने के स्वास्थ्यकर नुस्खे (Best ways to clean ears at home)

कान की सफाई – ग्लिसरीन (Glycerin se kaano ki safai)

कान छिदने के स्थान पर संक्रमण का उपचार कैसे करें?

आप अपने कानों के मोम को नर्म करने के लिए इनपर ग्लिसरीन की कुछ बूंदों का प्रयोग कर सकते हैं। अब ग्लिसरीन को अपना काम करने दें तथा कान के उस भाग पर प्रभाव दिखाने दें, जहां पर मोम जमा है। अब अपने कानों के छेद पर रुई का कपड़ा डालें और इसे इसी तरह कुछ देर के लिए रखें। अब रुई का कपड़ा निकाल दें तथा आप पाएंगे कि आपके कानों का मोम तरल अवस्था में कान से बाहर निकल रहा है।

कान की सफाई – खारा मिश्रण (Saline solution se kaan ki safai kaise kare)

खारे पानी की  मदद से कानों के मोम को साफ़ करने के लिए आधा कप गर्म पानी लें तथा इसमें एक चम्मच नमक का मिश्रण करें। अब इसे अच्छे से हिलाएं और नमक को पानी में अच्छे से घुल जाने दें। अब इस पानी में रुई का कपड़ा  दुबोयें जो एक छड़ी में बंधा हुआ हो। इसे कानों के उस भाग पर अच्छे से रगडें, जहां मोम जमा हुई है। आप पाएंगे कि आपके कानों की मोम खुद ब खुद आपके कानों से निकल रही है।

सिरके और रबिंग अल्कोहल के मिश्रण (Rubbing alcohol solution with vinegar se kaan ko saaf kana)

सिरके और रबिंग अल्कोहल का मिश्रण तैयार करके इसे मोम पर रगड़ना आपके कानों के अतिरिक्त मोम को बाहर निकालने का काफी बेहतरीन उपाय साबित हो सकता है। कानों में आवाज, इसके लिए दो चम्मच सफ़ेद सिरका लें और इतनी ही मात्रा में रबिंग अल्कोहल भी लें। अब इन दोनों को एक ड्रॉपर (dropper) में डालें तथा इसकी मदद से अपने कानों में दो दो बूँदें डालें। कुछ समय के बाद आप देखेंगे कि आपके कानों का मोम खुद ब क्खुद आपके कानों से निकलकर आ रहा है।

कान बंद होना – हाइड्रोजन पेरोक्साइड (Hydrogen peroxide se kan ki safai in hindi)

आप अब हाइड्रोजन पेरोक्साइड के रूप में कानों के अतिरिक्त मोम को निकालने का एक काफी प्रभावी नुस्खा प्रयोग में ला सकते हैं। इसके लिए बराबर मात्रा में पानी और हाइड्रोजन पेरोक्साइड को एक पात्र में लें और इसकी कुछ बूँदें अपने कानों में डालें। अब अपने सिर को विपरीत दिशा की ओर घुमाएं, जिससे आपके कानों का छेद नीचे की तरफ रहे। इस पद्दति का प्रयोग करने से आप काफी आसानी से अपने कानों का अतिरिक्त मोम बाहर निकाल सकेंगे।

इयर कैण्डल द्वारा कान के खूंट को निकालने की प्रक्रिया

कान बंद होना – जैतून का तेल (Olive oil se kaan saaf karne ka tareeqa)

आज के  दौर में ज़्यादातर लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर काफी जागरूक हो गए हैं, अतः वे अपना भोजन जैतून के तेल की मदद से पकाना पसंद करते हैं। आप अब अपने घर में जैतून का तेल बिना किसी परेशानी के प्राप्त कर सकते हैं। यह तेल भी आपके कानों का अतिरिक्त मोम निकालने की काफी प्रभावी विधि साबित होती है। कानों में खुजली, इसके लिए अपने कानों में जैतून के तेल की 3 से 4 बूँदें डालें और इसके बाद रातभर के लिए छोड़ दें। यह तेल आपके कानों के अन्दर रातभर काम करता रहेगा तथा सुबह तक आपको एक बेहतरीन उपचार प्रदान करने में सफल होगा। सुबह आप पाएंगे कि इस तेल की मदद से आपके कानों का सारा मोम नर्म होकर कान से बाहर निकल चुका है।

बेबी ऑइल (Baby oil kaan ki mail ke liye)

अगर आपके घर में नवजात शिशु मौजूद है, तो आपके लिए घर में ही बेबी ऑइल प्राप्त करना काफी आसान हो जाएगा। इसके अलावा कई महिलाएं भी, जिनकी त्वचा काफी संवेदनशील होती है, अपने सारे शरीर पर बेबी ऑइल का इस्तेमाल करती हैं, जिससे उनकी त्वचा बच्चों की तरह कोमल बनी रहे। आप अब इसका फायदा उठा सकते हैं। इसके लिए थोड़ा सा बेबी ऑइल लें तथा इसे अपने दोनों कानों में डालें। इसके अलावा कान के दोनों तरफ रुई का एक कपड़ा भी रखें और अपना सिर दाईं से बाईं ओर घुमाते रहें। आप पाएंगे कि कानों का मोम आसानी से  निकलकर रुई के कपडे पर जमा हो रहा है।

पानी (Water se kan ki safai)

जब हम नहाते हैं तो पानी के प्रयोग से तरोताज़ा महसूस करते हैं। यह आपके कानों को साफ़ करने का भी काफी प्रभावी तरीका है। अपने कानो को साफ़ करने से पहले पानी में पेरोक्साइड की दो बूँदें डालें। अगर आपके कान पानी की वजह से दर्द कर रहे हैं तो अपने कान में पानी ना जाने दें। किसी स्वास्थ्य विशेषज्ञ से संपर्क करें। कई लोगों को काफी ठन्डे पानी की वजह से सिर घूमने की तथा कान में दर्द होने की समस्या होती है।

गीले कपडे का टुकड़ा (Wet cloth)

कान दर्द के लिए घरेलू उपचार

किसी प्रकार का गीला कपड़ा आपके पास होने से आप कानों के बाहरी हाग से कान का मोम निकाल सकते हैं। कई ENT डॉक्टरों के मुताबिक़ कानों के बिलकुल अंदर से मोम निकालने की कोशिश करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। जो माँ कान के बाहरी हिस्से में होती है उसे ही निकालने का प्रयास करें। अपने गीले कपडे को मोड़ें और उसे कान के अंदर धीरे धीरे ले जाकर कान के बाहरी भाग से गन्दगी निकालने की प्रक्रिया पूरी करें।

गर्म तेल (Hot oil se kaan saaf karna)

कान का मैल, एक सीरिंज की मदद से 2 से 3 बूँद गर्म तेल सीधे अपने कान के अंदर डालें। यह प्रक्रिया सोने से पहले पूरी करें। सुबह उठते ही कानों को एक गीले कपडे से तथा ईयरबड से अच्छे से साफ़ कर लें। अगर आपके पास किसी भी प्रकार की सीरिंज नहीं है तो कानों में हलके से तेल डालें। उसके बाद किसी पतले सूती के कपडे से साफ कर लें।

ईयरबड (Earbud kaan ka mail ke liye)

कानों को साफ़ करने का यह सबसे आम और जाना माना तरीका है। परन्तु ईयरबड को कानों के बिलकुल अंदरूनी भागों में ले जाते समय सावधान रहे। कान का मैल, इससे आप कानों के अंदर की मोम को बाहर लाने की जगह और अंदर ही धकेलने में सफल होंगे। ईयरबड का प्रयोग करते समय काफी प्यार तथा सावधानी से काम लें। थोड़ी सी चूक से ही आपको काफी ख़तरा हो सकता है और इससे आपके सुनने की क्षमता में भी कमी आ सकती है। सावधानी से रहने के लिए कान के बिलकुल अंदर तक ईयरबड को ना लेकर जाएं बल्कि इसे बाहर की तरफ से साफ़ करें। ये आमतौर पर सही प्रकार से कान साफ़ करने के कुछ तरीके हैं।

सिर्फ तभी अपने कानों को अंदर तक साफ़ करें जब आपको खुजली महसूस हो रही हो या फिर आपको काफी कम सुनाई दे रहा हो। रोज़ाना कानों को साफ़ करने की आदत ना डालें क्योंकि इससे कानों को नुकसान भी हो सकता है। कानों के हेडसेट कानों को बैक्टीरिया और अन्य जीवाणुओं से बचाते हैं। अगर आप खुद से कानों को साफ़ करने में असमर्थ साबित हो रहे हैं तो आज ही किसी अच्छे डॉक्टर से संपर्क करें।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday