How to Gargle do’s and don’ts – कुल्ला (गार्गल) करने के तरीके – कुल्ले कैसे करे, कैसे ना करे?

यह काफी आवश्यक है कि आपको कुल्ला करने की सही विधियों का ज्ञान हो। ऐसे कुछ नुस्खे यहाँ बताये गए हैं। गार्गल करने के लिए एक साफ़ सुथरे और अच्छे गिलास का चुनाव करें। इसे गार्गल करने का एक स्थाई गिलास बना लें। अगर आपको कोई साफ़ सुथरा गिलास ना मिले तो आप माउथवाश (mouthwash) का सहारा भी ले सकते हैं।

माउथवाश मुंह में डालें और अच्छे से गार्गल करें। इससे मुंह के सरे कीटाणु और बैक्टीरिया (bacteria) समाप्त हो जाएंगे। आपको सावधानी से गार्गल करना होगा, अन्यथा आप कई बीमारियों को भी दावत दे सकते हैं। अतः यह सुनिश्चित कर लें कि आप इस प्रक्रिया को सही तरीके से कर रहे हैं।

गार्गल द्रव्य को कम लें (Take less and not more, gargle karne ke tarike)

अपनी पसंद का द्रव्य चुनें और गिलास को इस द्रव्य से भर लें। शुरुआत में मुंह में ज़्यादा द्रव्य ना भरें क्योंकि आपको इस प्रक्रिया की आदत नहीं है, अतः आप इसे लम्बे समय तक नहीं कर पाएंगे। शुरुआत में गिलास को पूरा भरने की अपेक्षा द्रव्य की मात्रा कम ही रखें।

गार्गल द्रव्य को मुंह के हर कोने में ले जाएं (The liquid reaching all corner of the mouth, kulle kaise kare)

ठुड्डी के पास कालेपन से छुटकारा कैसे पाएँ?

मुंह में इस द्रव्य को भर लें तथा इसके बाद इसे मुंह के हर कोने में ले जाएं। इसे मुंह के किनारों तथा सामने के भाग में स्पर्श करवाएं। गालों की गतिविधि अच्छे से करें और अपने जीभ को आगे पीछे घुमाएं। इस द्रव्य का संचार मुंह के हर कोने में होना चाहिए। ऐसे कई लोग हैं जो कुल्ला करने के लिए गर्म पानी का प्रयोग करते हैं। अगर आप माउथवाश का प्रयोग करते हैं तो यह करना संभव नहीं होगा। अगर आप नमक युक्त पानी का प्रयोग कर रहे हैं तो इसे गर्म करके कुल्ले गरारे करने के लिए प्रयोग करें। गर्म पानी आपके मुंह में काफी आराम का अहसास करवाएगा।

कुल्ला करने की विधि (The method of doing the gargling, kulla karna)

अपना सिर पीछे की ओर करें, अन्यथा आप इस द्रव्य गले तक नहीं पहुंचा पाएंगे। आपको अपना मुंह जितना बड़ा करके हो सके खोलने की कोशिश करनी चाहिए। इसके बाद मुंह से आह की आवाज़ निकालें। यह सुनिश्चित करें कि यह द्रव्य गले तक पहुंचे, पर इसे निगल ना लें। यह सिर्फ अभ्यास से ही संभव है। अगर आप इसे सही तरीके से करें तो आपके मुंह के पीछे एक अच्छा अहसास होगा, जिससे कुल्ले की विधि ठीक से चलेगी। इससे यह द्रव्य उबलता सा लगेगा और आपके मुंह के हर कोने में जाएगा। इस प्रक्रिया से आप अपनी पसंद के द्रव्य से मुंह के पिछले भाग को ढक सकते हैं। इससे बैक्टीरिया (bacteria) समाप्त होते हैं और गले में खराश भी ठीक होती है।

कुल्ला करके द्रव्य को फेंक दें (Throw away the liquid once the gargling is finished)

एक बार गरारे कर लेने के बाद मुंह में भरे द्रव्य को बेसिन (basin) में फेंक दें। इससे मुंह के सारे हानिकारक तत्व निकल जाएंगे और आप काफी तरोताजा महसूस करेंगे। अब समय आ गया है कि आप इस प्रक्रिया का अच्छे से पालन करें जिससे कि मुंह की स्वच्छता बरकरार रहे।

अपना मनपसंद द्रव्य चुनें (Select the liquid as par your choice, garare karna)

आप गरारे करने के द्रव्य का चुनाव अपनी मर्ज़ी से कर सकते हैं। आप साधारण नमक के पानी से भी कुल्ला कर सकते हैं। इसके लिए आधा चम्मच नमक लें तथा इसे एक कप गर्म पानी में अच्छे से मिलाएं। इसके बाद इसे अच्छे से हिलाकर एक मिश्रण का रूप दें। अगर आप दिन में तीन बार नमक युक्त पानी से गरारे करेंगे तो आप साँसों की नली के संक्रमण को दूर कर सकते हैं। यह गले की खराश और इसके संक्रमण को दूर गरारे करें करने का काफी प्रभावी तरीका है।

एक्ने के दाग हटाने के प्रभावी नुस्खे

माउथवाश के विभिन्न प्रकार (The variety in mouth washes, garare kaise kare)

आप बाज़ार में मिलने वाले किसी माउथवाश या किसी घरेलू माउथवाश का भी प्रयोग कर सकते हैं। माउथवाश आपकी साँसों को तरोताजा करने में आपकी सहायता करता है तथा इसे साफ़ सुथरा रखने में भी कारगर सिद्ध होता है। यह आपको विभिन्न संक्रमणों से भी बचाता है और लोग मुंह के अच्छे स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए इसका गरारे करने प्रयोग सुबह और रात को करते हैं। गरारे करें, अल्कोहल आधारित माउथवाश (alcohol based mouthwashes) काफी प्रभावी सिद्ध होते हैं। इससे आपको मुंह के छालों से मुक्ति मिलती है तथा कैंसर (cancer) के खतरे से भी छुटकारा मिलता है।

loading...