Hindi tips to treat dry skin under your feet and palms – आपके पैरों और आपकी हथेली के नीचे की त्वचा के सूखेपन का उपचार कैसे करें

सूखी त्वचा (ज़ेरॉसिस चर्म) (Dry skin (xerosis cutis)

यह मौसम में बदलाव, सूर्य की रोशनी में जाने से या उम्र का परिणाम हो सकता है। आपकी त्वचा तब सूखी हो सकती है जब बाह्यत्वचा से प्राकृतिक तेल, नमी और पानी निकल जाता है जो त्वचा की बाहरी परत होती है। सूखी त्वचा का आधारिक लक्षण खुजली है। शुष्क त्वचा में लोग लाल चकत्ते को पाते है जो प्राय: खुजलाता है। ज्यादा प्रभावित क्षेत्र बांह, हाथ, पेट, हथेली के पीछे और पैरों के तला है।

रूखी त्वचा के उपाय – दिन प्रतिदिन त्वचा के सूखने का कारण (Reasons for the skin getting dry day by day)

  • मधुमेह के प्रारम्भिक लक्षणों में से एक त्वचा का सूखापन है जो विशेषत: हाथों और पैरों में होता है।
  • सूर्य क्षतिग्रस्त त्वचा, सूखेपन का कारण हो सकता है सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणें त्वचा को सूखा और परतदार बना सकता है।
  • लम्बे समय तक नियमित तैराकी त्वचा को सूखा बना सकती है क्योंकि पानी में क्लोरीन होता है।
  • चालीस साल की उम्र के बाद पुरूषों और महिलाओं में त्वचा का सूखना पाया जाता है।
  • पुरानी बीमारियों के इलाज के कारण भी हाथ की त्वचा और पैरों में दरार ला सकता है।
  • त्वचा की स्थितियां जैसे एक्ज़िमा और सोराइसिस विकसित हो सकती है जिनकी त्वचा सुखी होती है।
  • लम्बा और लगातार गर्म स्नान भी त्वचा को सूखा बना सकता है।
  • हाइपोथाइरॉयडिज़्म त्वचा के सूखेपन का कारण हो सकता है। यह ऐसी स्थिति है जिसमें थायरॉयड ग्रंथि कम थायरॉयड का उत्सर्जन करती है जो तेल और पसीने की ग्रंथियों की सक्रियता कम करती है।

सूखी त्वचा के उपचार – सूखी हथेलियों और पैरों के उपचार के तरीके (Methods to treat dry palms and feet)

  • सूखी त्वचा का बेहतर इलाज क्रीम और लोशन के उपयोग द्वारा त्वचा को नम रखना है।
  • रूखी त्‍वचा के लिए घरेलू नुस्‍खे, घृतकुमारी और विटामिन ई त्वचा को सूखा और पपड़ीदार बनाने से बचाता है।
  • जैतून तेल और नारियल तेल त्वचा को पपड़ीदार और सूखने से बचाता है।
  • रूखी त्‍वचा के लिए घरेलू नुस्‍खे, सनस्क्रीन लोशन के प्रयोग से तेज़ धूप के कारण होने वाली क्षति से बचा जा सकता है। पैरों के तलों को चप्पल या सैण्डल पहनने के द्वारा भी बचाया जा सकता है।
  • रूखी त्वचा का इलाज, रात में पेट्रोलियम जेली को लगाने और दस्तानों और मोज़ों के प्रयोग से भी सूखेपन से बचा जा सकता है। हाथ और पैर को गुनगुने पानी से धुलने के बाद खुरदुरे कपड़े या मुलायम स्क्रबर से रगड़कर मृत त्वचा को हटा दें।
  • रूखी त्वचा का इलाज (dry skin ke liye gharelu nuskhe), अच्छी मात्रा में मॉइस्चराइज़र या कोकोआ मक्खन को हाथ और पैर पर लगायें। शुष्क त्वचा, ऐसी कई सारी क्रीमे है जो सूखेपन के कारण होने वाली दरारों से बचाने में सहायता करती है।
  • रूखी त्वचा का इलाज, मॉइस्चराइज़र या लोशन को लगाने से पहले झांवा पत्थर से हथेली और पैरों को रगड़कर मृत त्वचा को हटा दें।
  • प्रतिदिन 7 से 8 ग्लास पानी आपके शरीर को नम रखेगा और सूखेपन से भी बचायेगा।

रूखी त्वचा के घरेलू उपाय – मैनीक्योर और पैडीक्योर (Manicures and Pedicures)

घर पर या स्पा में नियमित मैनीक्योर हाथ मालिश, मृत त्वचा को हटाना, उपत्वचा उपचार, कान की मैल उपचार और बफिंग को शामिल करता है। मैनीक्योर हाथों को सर्दियों के मौसम में भी चिकना और मुलायम बनाये रखता है। ठीक इसी तरह पैडीक्योर पैर भिगोना, मृत त्वचा को हटाना, मालिश और मॉइस्चराइज़र को शामिल करता है। पैडीक्योर का उपयोग पैर से मृत त्वचा को हटाकर क्षति को कम करना है। पैडीक्योर बिना गोखरू और घट्टों के स्वस्थ त्वचा देता है। पैरों का सामान्य मसाज तनाव को कम करता है और थकान के कारण पैरो के दर्द को कम करता है।

मैनीक्योर और पेडीक्योर कभी कभी घर पर, नियमित स्पा उपचार की लागत को कम करने के लिये भी, किया जाता है। लेकिन साल में कम से कम दो बार किसी पेशेवर से पेडीक्योर और मैनिक्योर करना चाहिये। इसे करने के लिये किताबों या इंटरनेट से पूरी जानकारी प्राप्त करें। घर पर पेडीक्योर और मैनीक्योर को करने के लिए आवश्यक उचित साधनों को खरीदा जाना चाहिए। इसमें फ़ाइलें, बफ़र्स, कुटिकल क्लीनर, क्लिपर्स स्क्रबर और मॉइस्चराइज़र्स शामिल हैं। हाथ और पैर शरीर के सबसे अधिक इस्तेमाल किये जाने वाले अंग हैं इसलिये नियमित रूप से ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अत: मैनीक्योर और पेडीक्योर एक महीने में एक बार किया जाना फायदेमंद है। यह व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता और स्वास्थ्य को भी सुधारेगा।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday