Cosmetic treatment for melasma in Hindi – मेलस्मा का कॉस्मेटिक इलाज

मेलस्मा त्वचा से जुडी एक समस्या है जो उम्र के साथ सामने आती है। ये भूरे रंग के पैचेस (patches) होते हैं जो गाल , नाक, ठुड्डी, होंठों के ऊपर एवं सिर पर दिखते हैं। यह उन जगहों पर अधिक होते हैं जो सूरज के संपर्क में आते हैं, जैसे गला एवं हाथ का ऊपरी भाग। मेलस्मा की रोकथाम या इलाज करने तरीका सूरज से सुरक्षा है। इसके लिए आपको रोज़ाना सनस्क्रीन (sunscreen) का प्रयोग करना पड़ता है एवं एसपीएफ (SPF) मात्रा के अनुसार इनका बार बार प्रयोग करना पड़ता है। एसपीएफ क्रीम्स (creams) की गुणवत्ता एवं परिणाम अलग अलग होते हैं, जिसके कारण हैट्स (hats) या छाते का प्रयोग अधिक सुरक्षित होता है। महिलाओं में पुरुषों की तुलना में मेलस्मा होने की संभावना अधिक होती है। यह गर्भावस्था एवं गर्भधारण के बाद काफी आम होता है। कई लोग इसे गर्भावस्था के मास्क्स (masks) कहतर हैं क्योंकि हॉर्मोन (hormone) मेलस्मा में बढ़ोत्तरी करते हैं। आइये हम मेलस्मा की पहचान एवं इलाज की सिलसिलेवार प्रक्रिया के बारे में जानें।

मेलस्मा की पहचान एवं इलाज के तरीके (Steps to detect and treat melasma)

आईना आपका दोस्त है (Mirror is your friend)

ये हैं ऑइली स्किन और ऑइली फेस के मुख्य कारण

एक्ने (acne) या उम्र बढ़ने के शुरूआती निशान आईने में झलकते हैं। जब आपको लगता है कि आपकी त्वचा के साथ कुछ गलत है तो यह आईने में दिख जाता है। अपने आईने से दोस्ती करें एवं ध्यान से देखें। यदि आपकी त्वचा पर असामान्य पैचेज उभर रहे हैं तो इसकी पहचान तुरंत करें। सूरज के संपर्क में आने से ये काफी परेशानी भरे हो जाते हैं। इसे मेकअप (makeup) से ढकना भी काफी मुश्किल है।

निदान (Diagnosis)

क्योंकि अधिकतर महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान हुए हॉर्मोन के परिवर्तनों की वजह से मेलस्मा होता है, गर्भावस्था का मास्क बच्चे के जन्म से जुड़ा एक दुर्भाग्यशाली क्षण है। एस्ट्रोजन (estrogen) या गर्भनिरोधक गोलियों के साथ सूरज के संपर्क में आने से यह समस्या और भी बलवती होती है। एक बार इसके शुरू होने पर यह दोबारा पैदा हो जाती है। मेलस्मा गहरे रूप से रंजक या त्वचा पर रहता है। अतः जितनी जल्दी आप इसका पता लगाएंगे, उतनी ही जल्दी आप इसका इलाज कर सकते हैं।

कॉस्मेटिक इलाज (Cosmetic treatment)

इलाज के दौरान दोनों पहलुओं पर गौर करना होता है;इसके कारक हॉर्मोनल समस्याएं एवं रंजक तत्व को हटाने वाली क्रीम है। सबसे पहला एवं महत्वपूर्ण कदम एक वर्ष के लिए सूरज की रोशनी के लिए बचकर रहना है।यह इस समस्या के कारक हॉर्मोन की उत्पत्ति कम करते हैं। गर्भावस्था समाप्त हो जाने पर भी गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन कई बार जारी रह सकता है, जिसकी वजह से आपकी ये स्थिति भी बनी रह सकती है। ।अतः यदि आपके हॉर्मोन अभी भी कार्यशील हैं एवं आप सूरज की रोशनी के संपर्क में आती हैं तो आपके पैचेज वापस आ सकते हैं या इनमें बढ़ोत्तरी भी हो सकती है। आप अपनी त्वचा का इलाज स्किन लाइटनर्स (skin lighteners) तथा दवाई की दुकान से प्रस्तावित त्वचा के ब्लीचेस(bleaches) से कर सकते हैं। आप रेटिनॉइड क्रीम्स (retinoid creams) एवं अच्छी गुणवत्ता के सनस्क्रीन का प्रयोग कर सकती हैं, जो ना सिर्फ आपकी त्वचा की सुरक्षा करते हैं बल्कि पैचेज की रोकथाम भी करते हैं। सबसे आसान तरीका त्वचा रोग विशेषज्ञ के पास जाना है जो आपको बता सकेंगे कि आपका मेलस्मा कौन से चरण में है। डॉक्टर आपको आयुर्वेदिक क्रीम एवं जेल (gel) देगा जो आपके द्वारा चुनी हुई सामान्य कॉस्मेटिक (cosmetic) से बेहतर होती है।

लेज़र इलाज (Laser treatment)

आप लेज़र इलाज का विकल्प भी इस्तेमाल कर सकती हैं जिससे ये समस्या कुछ ही सेशंस (sessions) में ठीक करने में मदद मिलेगी। सबसे पहले एक अच्छे त्वचा रोग विशेषज्ञ के पास इलाज के लिए जाएं। सबसे प्रसिद्ध डॉक्टरों के पास जाएं या किसी से इस बारे में पूछें। किसी पर इसके लिए निर्भर ना रहें एवं पैसों के लिए समझौता ना करें। लेज़र इलाज अच्छी मशीनों द्वारा किया जाता है जो आपकी त्वचा का अच्छे से मुआयना करते हैं एवं आपकी समस्या का इलाज करते हैं। जब आप पहली सिटिंग (sitting) से बाहर आएंगी तो आपको काफी फर्क नज़र आएगा। इसका पूर्ण इलाज करने में आपको 2 से 3 सेशंस और लगेंगे एवं इसके बाद आपकी त्वचा साफ होगी। इस तरीके के लाभ एवं नुकसान दोनों हैं अतः इसका ज़्यादा प्रयोग नहीं किया जाता है।

loading...