The top foods rich with zinc – क्या हैं ज़िंक से भरपूर भोजन

ज़िंक (zinc) एक ऐसा सूक्ष्म मिनरल (micro mineral) है जो शरीर के लिए बहुत ज़रूरी है। आहार के साथ नियमित रूप से ज़िंक का सेवन करने पर होने वाले लाभ इस प्रकार हैं,

  • बेहतर इम्यून सिस्टम
  • संतुलित ब्लड शुगर
  • स्वाद और गंध को पहचानने के लिए न्यूरोट्रांसमीटर की भांति कार्य करता है।
  • एंजाइम उत्प्रेरक
  • मेटाबोलिस्म की संख्या को बढ़ाता है।

इन लक्षणों से पता करें कि, शरीर में ज़िंक की कमी है (Symptoms that indicate your body requires zinc)

  • स्वाद और गंध को पहचानने में दिक्कत
  • भूख में कमी
  • अवसाद
  • बच्चों में विकास का रुक जाना
  • बार बार सर्दी जुकाम आदि इन्फेक्शन
  • बाल झड़ना
  • त्वचा और आँखों में घाव
  • नपुंसकता

हमेशा इस बात पर विशेष ध्यान दें कि, आहार के साथ लिए जाने वाले जिंक की मात्रा न तो बहुत ज़्यादा हो न ही बहुत कम। मानव शरीर को रोजाना अल्प मात्रा में ही जिंक की ज़रूरत होती है, रोजाना के हिसाब से केवल 15 मिलीग्राम की  मात्रा का सेवन पर्याप्त होता है। हरी सब्जियों की अपेक्षा पशु मांस ज़िंक का बेहतर स्रोत होता है।

पशु मांस ज़िंक के बेहतर स्रोत (Animal foods rich in zinc)

अगर आप मांसाहारी हैं तो आपके लिए मांस के सेवन द्वारा ज़िंक की पूर्ति करना ज़्यादा आसान होता है। विभिन्न प्रकार के मांस और समुद्री जीवों से बनने वाले भोजन में भी ज़िंक की पर्याप्त मात्रा होती है।

घोंघे ज़िंक का प्रमुख स्रोत (Oysters)

हर प्रकार के घोंघों की लगभग 100 ग्राम की मात्रा में 16 से 182 मिलीग्राम तक ज़िंक मौजूद होता है।

जिंक के बेहतरीन स्रोत – लीवर (Liver)

किसी भी पशु का लीवर विटामिन, प्रोटीन और ज़िंक से भरा होता है। लीवर की 100 ग्राम की मात्रा में लगभग 12 मिलीग्राम ज़िंक मौजूद होता है।

जिंक से भरपूर मटन (Mutton)

भेड़ के मांस में ज़िंक की अतिरिक्त मात्रा पाई जाती है। इस मांस के 100 ग्राम की मात्रा में 4.2 से 8.7 मिलीग्राम तक ज़िंक उपस्थित होता है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

केकड़े (Crab)

केकड़ा (crab) समुद्र में पाया जाने वाला जीव है। जो बाज़ार में आसानी से दिखाई दे जाता है। सी फूड की श्रंखला में इसका विशेष स्थान है। केकड़े के 100 ग्राम की मात्रा में 7.6 मिलीग्राम तक ज़िंक मौजूद होता है। इसके अलावा झींगा (prone), रेड मीट (red meat) , पोल्ट्री उत्पाद, बड़ी सीप, शंबूक या छोटी सीप (mussels) आदि भी जिंक की उच्च मात्रा वाले स्रोत हैं जिनके माध्यम से शरीर में ज़िंक की कमी पूरी की जा सकती है।

जिंक से भरपूर आहार हिन्दी में मेवे और सूखे बीज़ (Nuts & seeds)

अगर आप शाकाहारी हैं तो भी आपको चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं क्योंकि ऐसे कई पदार्थ हैं जिनके सेवन से ज़िंक की कमी को पूरा किया जा सकता है। ये सभी तत्व आसानी से हमारे पास उपलब्ध होते हैं और इनमें ज़िंक की भरपूर मात्रा पाई जाती है।

जैसे तरबूज के बीज, कद्दू के बीज़, तिल, बादाम, मूँगफली, काजू, पाइन नट्स (pine nuts) और सूरजमुखी के बीज आदि में भरपूर मात्रा में प्राकृतिक रूप से जिंक तत्व पाया जाता है। इनके सेवन से शरीर में जिंक (zinc) का स्तर संतुलित रहता है। कम फैट वाले इस सूखे मेवों और कम कोलेस्ट्रॉल वाले मांस का खाने के साथ प्रयोग कर अपने शरीर में ज़िंक की कमी को पूरा कर सकते हैं।

चॉकलेट (Chocolate)

चॉकलेट या डार्क चॉकलेट शुगररहित बेक किए हुये चॉकलेट या कोको पाउडर का एक रूप है। इसके अलावा मिल्क चॉकलेट से भी शरीर में ज़िंक का स्तर बढ़ जाता है। इन सब के अलावा ओट्स या जौ से बने पदार्थ, दही, हरे मटर और पालक आदि जो आसानी से उपलब्ध होते हैं, ये सभी ज़िंक के बेहतरीन स्रोत हैं। आप अपने दैनिक जीवन में इनका प्रयोग आसनी से बजट के अंदर कर सकते हैं।

सेहत के लिए ज़िंक के फायदे (Top health benefits of Zinc)

प्रतिरक्षा तंत्र प्रणाली (Zinc benefits in hindi for Immune function)

शरीर में घटता इम्यूनिटी का स्तर चिंता का कारण हो सकता है जो ज़िंक की कमी की वजह से भी होता है, इसके लिए आपको ज़िंक से भरपूर आहारों का उचित सेवन करना ज़रूरी है। अगर आप केवल 4 हफ्तों तक ही कम ज़िंक वाली चीजों का सेवन करते हैं या अपने आहार में ज़िंक की मात्रा कम कर देते हैं तो अप खुद इसके प्रभावों को शरीर में महसूस कर पाएंगे। ज़िंक का भोजन में प्रयोग और इसकी सही मात्रा का होना बहुत अधिक ज़रूरी है। यहाँ तक कि ज़िंक की निम्न मात्रा वाले भोजन में जहां 2 से 3.5 मिलीग्राम जिंक होता है वह भी हमारे शरीर में एक दिन में जिंक की आवश्यकता की पूर्ति के लिए कम है, इसीलिए मेडीटेरेनियन स्टाइल डाइट (mediterranean-style diet) को जिंक की कमी की पूर्ति का सबसे बेहतर विकल्प माना गया है, इसके लिए आपको हरी पत्तेदार सब्जियों, फल, ड्राय फ्रूट्स, मेवे, सलाद आदि पर निर्भर रहने की ज़रूरत पड़ती है। एक शोध में यह पाया गया है कि ज़िंक के साथ साथ कई तरह की अन्य कमियों को भी इसकी मदद से बेहतर किया जा सकता है।

स्किन के लिए ज़िंक के फायदे (Zinc deficiency skin symptoms and skin health)

त्वचा पर मुँहासे आदि युवावस्था में आम तौर पर चेहरे में देखे जा सकते हैं जो लड़के व लड़कियों में समान रूप से दिखाई देते हैं। शोध के अनुसार त्वचा के लिए भी ज़िंक को प्रभावी माना गया है, जिंक तत्व की कमी से त्वचा की समस्याएँ जैसे पिंपल, रैश, त्वचा संबंधी संक्रमक रोग आदि दिखाई देते हैं, फंगस की वजह से होने वाले त्वचा संबंधी रोग भी इन्हीं में से एक हैं। ज़िंक की कमी के ये सभी लक्षण प्रत्येक व्यक्ति की त्वचा पर भिन्न भिन्न रूप में दिखाई दे सकते हैं। इसके निवारण के लिए केवल ज़िंक का भोजन में ज़रूरी उपयोग ही है जो इस तरह की स्किन से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में सहायक हो सकता है। त्वचा के जुड़ी ये समस्याएँ केवल चेहरे ही नहीं बल्कि शरीर के किसी भी अंग में हो सकती है। अपनी त्वचा सी सेहत से कोई समझौता किए बिना आपको अपने आहार में ज़िंक की मात्रा सुनिश्चित कर इन रोगों से दूर रहने की कोशिश करनी चाहिए।

ज्ञानेन्द्रियों के लिए ज़िंक के लाभ (Sensory organ)

हमारी ज्ञानेन्द्रियां जिनकी मदद से हम विभिन्न तरह के आभास को महसूस कर पाते हैं, उनका स्वस्थ रहना बहुत ज़रूरी है। भूख और स्वाद के पहचानने की क्षमता में कमी निश्चित रूप से ज़िंक की कमी का संकेत है। इसकी कमी से भूख के एहसास को समझने की क्षमता कम या खत्म हो जाती है और जीभ द्वारा हम स्वाद का भी सही पता लगा पाने में असमर्थ हो जाते हैं। वैसे ये समस्याएँ अन्य कई कारणों जैसे कैंसर और एनोरेक्सिया आदि का भी परिणाम हो सकती हैं, लेकिन शोध के मुताबिक जनसंख्या के 15 प्रतिशत लोगों यह समस्या जिंक की कमी का नतीजा है। और डॉक्टरों के अनुसार यह आपके साथ भी हो सकता है जिसमें आभास करने के लिए काम करने वाले अंग निष्क्रिय हो जाते हैं। रेड मीट, कुछ खास सब्जियाँ, सलाद, अखरोट और फ्रेंच ड्रेसिंग रेसिपी आदि इसमें खास रूप में सहायक पाई गई है। ज़िंक न केवल शरीर के लिए आवश्यक तत्व है बल्कि यह खाने का स्वाद बढ़ाने वाले मसालों के रूप में भी काम में आता है। विटामिन ए के साथ मिलकर यह दृष्टि क्षमता को बेहतर करता है और मस्तिष्क की समझने की शक्ति को भी मजबूत बनाता है।

पुरुषों के प्रजनन अंगों की सेहत के लिए जिंक के फायदे (Zinc deficiency – Male productive health)

उच्च स्तर में पुरुषों के शरीर के शुक्राणुओं की गतिशीलता शरीर में ज़िंक की मात्रा पर निर्भर करती है। शोधकर्ताओं के एक समूह द्वारा किए गए मुक्त सर्वेक्षण में यह पाया गया कि जिन लोगों ने दैनिक ज़रूरत में ज़रूरी ज़िंक की मात्रा का केवल 10 प्रतिशत ही लिया तो एक महीने बाद उनके शुक्राणुओं की संख्या में परिवर्तन देखे गए। इस तरह यह साबित होता है कि ज़िंक की मात्रा का प्रभाव पुरुषों के शुक्राणुओं पर भी पड़ता है, मशरूम आदि कुछ ऐसे आहार हैं जो ज़िंक की उच्च मात्रा से युक्त होते हैं।

loading...