Hindi tips to treat inner thigh skin rashes – जांघों के नीचे के रैशेस के कारण – भीतरी जांघ पर चकत्ते के लिए प्राकृतिक घरेलू उपचार

आपको अवश्य ही उन लम्हों से काफी चिढ़ होती होगी जब आपको जाँघों के नीचे खुजली का अनुभव हो, पर आप सबके सामने ऐसा नहीं कर सकते और आपको इसके लिए एकांत का सहारा लेना पड़ा हो।

जाँघों के अन्दर के रैशेस – जिसे आमतौर पर जॉक इच (Jock itch) तथा वैज्ञानिक भाषा में टीनिया क्रूरिस (Tinea Cruris) कहा जाता है – काफी आम फंगल (fungal) संक्रमण है।

रैशेस के कारण यह एक काफी परेशान करनेवाला संक्रमण है जो पुरुषों तथा महिलाओं में समान रूप से देखा जाता है एवं हमें इसके कारण सारा दिन काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

Why and how inner thigh rashes are caused? – जाँघों के अंदर रैशेस पनपने के कारण

इस प्रश्न का उत्तर यह है कि जाँघों के बीच का भाग नमी से भरपूर होता है। जांघों के बीच नमी आमतौर पर कसे हुए कपड़े पहनने के कारण आती है जिससे रैशेस के कारण वहाँ फंगल संक्रमण में काफी वृद्धि होती है। इससे आपके लिए एक कदम भी बढ़ा पाना काफी मुश्किल होता है। जाँघों का एक दूसरे के साथ रगड़ने से प्रभावित भाग में काफी खुजली होती है तथा यह लाल हो जाता है।

Post bath care – स्नान के बाद की देखभाल

स्नान करने के बाद अपने शरीर के अंगों को एक साफ तौलिये से पोंछें एवं जाँघों, काँखों, पृष्ठ भाग एवं गुप्तांगों के भाग, जहां रगड़ खाने की संभावना अधिक होती है, को अच्छे से पोंछकर सुखा लें। रैशेस के कारण खुजली को दूर करने के लिए इन स्थानों पर हवा की आवाजाही सुनिश्चित करें एवं पसीने एवं नमी को जमने ना दें।

Obesity – मोटापा

कई लोगों को ढीले कपड़े पहनने एवं अपने गुप्तांगों एवं अन्य ऐसे अंगों को साफ एवं सूखा रखने के बावजूद जाँघों में खुजली का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे लोग आमतौर पर मधुमेह या मोटापे के शिकार होते हैं। जो लोग मोटापे एवं मधुमेह के शिकार हैं, उनके शरीर से काफी मात्रा में पसीना निकलता है जिससे कि उनकी त्वचा के पीएच (pH) स्तर में असंतुलन पैदा होता है, जिससे त्वचा के उखड़ने की समस्या सामने आती है। जांघों के नीचे खुजली की समस्या को दूर करने के लिए आप व्यायाम करने के बाद स्नान कर सकते हैं।

PH balance – पीएच संतुलन

जाँघों में खुजली को दूर करने के लिए पाउडर या तेलों का प्रयोग ना करें, क्योंकि इससे जाँघों में खुजली कम होने की बजाय बढ़ जाती है। काफी लंबे समय तक स्नान करें और त्वचा के उन भागों को अच्छे से धोएं जहां अमूमन हमारा ध्यान नहीं जाता। सुनिश्चित करें कि आपके अंतर्वस्त्र आरामदायक हों एवं कसे हुए अंतर्वस्त्र पहनने से बचें। रैशेस के कारण जांघों के नीचे और बीच के रैशेस की आमतौर पर फैलने की प्रवृत्ति होती है, अतः अपने अंतर्वस्त्र/तौलिये किसी को भी इस्तेमाल के लिए ना दें।

Home remedies for inner thigh rashes – जाँघों के रैशेस ठीक करने के घरेलू नुस्खे

  • जाँघों में खुजली को दूर करने के लिए बेकिंग सोडा (baking soda) में पानी मिश्रित करके शरीर के अँधेरे एवं नम कोनों को धोएं, क्योंकि यह त्वचा का पीएच संतुलन बरक़रार रखने में सहायता करता है।
  • बर्फ की सेंक आपको इस जाँघों में खुजली समस्या से आराम प्रदान करती है। एक साफ़ कपड़े को लेकर इसमें बर्फ के कुछ टुकड़े भरें और सूजन एवं जलन दूर करने के लिए इसे जाँघों के बीच कुछ देर तक रगड़ें।
  • एलो वेरा अपने ठंडक के अहसास से बेचैनी दूर करने में मदद करता है। इससे अपनी त्वचा पर 15 मिनट तक मालिश करें और फिर इसे धो लें।
  • दलिये को पानी में डुबोकर कुछ देर के लिए छोड़ दें तथा इससे प्रभावित भाग की मालिश करें।
  • मुट्ठीभर नीम के पत्तों को उबलते हुए पानी में डालें और तुरंत परिणाम प्राप्त करने के लिए इस पानी से स्नान कर लें।
  • आप हल्दी का भी प्रभावित क्षेत्र पर सीधा प्रयोग कर सकते हैं या फिर संक्रमण को दूर करने के लिए पानी में एक चम्मच हल्दी मिश्रित कर सकते हैं।
  • प्रभावित क्षेत्र को राहत प्रदान करने का सबसे अच्छा तरीका नारियल, जैतून या तिल जैसे तेलों की प्रभावित क्षेत्र पर मालिश करना है। इस प्रकार मालिश करके रातभर के लिए छोड़ दें एवं अगले दिन इसे धो लें। आपको इस समस्या से पूर्णतः आराम प्राप्त होगा।