Reasons for nail discoloration – बदरंग नाखून के कारण- बदरंग नाखून के उपचार

क्या आप बदरंग नाखून से पीड़ित हैं? इसे ल्यूकोनिचिआ या ग्रीक भाषा में लियूको के नाम से जाना जा सकता है। ल्युको शब्द का अर्थ सफेद है और ओनिक्स शब्द लोगों के नाखूनों, नाखून को प्रस्तुत करता है। नाखून के रोग, लोगों के नाखून में यह स्थिति होती है, इसमें विटामिन की कमी का कारण प्रमुख रूप से होता है।

लेकिन, घर पर कुछ प्राकृतिक उपचार की सहायता इस स्थिति से बाहर निकलना अब सम्भव हो पाया है। यहाँ तक कि घरेलू उपचारों को लगाना भी बहुत ही आसान है।

बदरंग नाखून के कारण (Causes of nail discoloration)

  • अत्यधिक धूम्रपान
  • आवश्यक विटामिन की कमी
  • नाखून पेंट का निरंतर उपयोग
  • कई बीमारियों के साइड इफेक्ट
  • कवक प्रभाव
  • हर समय बंद जूते को पहनना
  • धूल और गंदगी में ज्यादा समय रहना
  • बैक्टीरिया के कारण पैर या हाथ में गंभीर संक्रमण

नाखून पर सफेद दाग – बदरंग नाखून के लिए घरेलू उपचार (Home remedies for nail discoloration)

मुड़े हुए नाखूनों को ठीक करने के उपाय

नाखून की देखभाल – माउथ वॉश (Mouth wash)

घर में माउथ वॉश का होना बहुत आम है। माउथ वॉश रोगनाशक शक्ति को रखता हैं यह बदरंग नाखून के प्रभावी उपचार में से एक होगा। प्रक्रिया के लिए, बड़े मुंह वाले बर्तन में कुछ पानी को लें जहाँ आप अपने पूरे हाथ को डुबा सकते हैं। अब कटोरी में थोड़ा पानी डालें। इसमें माउथ वॉश की कुछ बूँदें डालें। कमज़ोर नाखूनों को टूटने से बचाएं, वास्तव में अच्छी तरह से पानी और माउथ वॉश का मिश्रण बनाने के बाद,आप अपनी उंगलियों के नाखूनों को, जिनमें सफेद दाग हैं, डुबा दें। आपको 15 से 20 मिनट की अवधि के लिए इस मिश्रण में अपनी उंगली रखने की जरूरत है। अगर आप एक दिन में दो बार ऐसा कर सकते हैं, तो कोई भी सामान्य स्थिति में वापस आने के लिए आपके नाखून को नहीं रोक सकता।

नाखूनों की देखभाल – बेकिंग सोडा (Baking soda se nakhun ka ilaj)

बेकिंग सोडा का उपयोग बदरंग नाखून के उपचार के लिये करना एक अन्य तरीका है। चूंकि यह घर पर तैयार उपलब्ध होता है आप एक चम्मच बेकिंग सोडा को ले सकते हैं और एक बर्तन में डाल दें। समान मात्रा में नींबू रस को डालें। अब इस मिश्रण को अपने नाखून पर अच्छे से लगा लें। आप एक समान मोटी परत में फैला लें। इस लेप को अपने नाखून के ऊपर 15 मिनट के लिये लगा रहने दें। जैसे ही यह सूख जाये आप इसे धुल सकते हैं। धुलने के बाद नाखूनों पर मॉइस्चराइज़र लगाना मह्त्वपूर्ण है।

नाखून की देखभाल – नींबू का रस (Lemon juice)

कई लोगों के बग़ीचे में नींबू का पेड़ तैयार मिलता है। ऐसे मामलों में पेड़ से एक नींबू को तोड़ लें और उससे रस को निकाल लें। यह सिद्ध हो चुका है नींबू दागों को हटाता है। अत:, यह सिद्धांत आपके हाथ के नाखूनों के ऊपर भी प्रभावी हो सकता है। आप अपने उंगली के नाखूनों पर नीबू रस को लगा सकते हैं या इसे सूती कपड़े के साथ रगड़ भी सकते हैं। 10 मिनट की अवधि के बाद धुल कर साफ कर लें।

नाखूनों की देखभाल – खारा पानी (Salt water se nakhun ki bimari ka ilaj)

पीले नाखूनों की समस्या एवं इसके उपचार

नमक भारतीय रसोई घर का एक अनिवार्य अंग है। आप नमक और पानी से एक मिश्रण बना सकते हैं और इसे अपने नाखून पर भी लगा सकते हैं। यह बदरंग नाखून का उपचार करने में वास्तविकता में प्रभावी है। आप अपने नाखून को नमक पानी में भिगो कर ब्रश से साफ कर सकते हैं। अगर आप प्रतिदिन ऐसा करते है तो बेहतर परिणाम मिलेगा।

नाखूनों पर टी ट्री ऑइल का प्रयोग (Application of tea tree oil on your nails)

अगर पॉलिश (polish) की वजह से नाखूनों का रंग ना जा रहा हो तो इसका कारण फंगस (fungus) हो सकता है। इसका एक काफी प्रभावी उपचार यह है कि आप नाखूनों पर टी ट्री ऑइल का प्रयोग करें और इसे कुछ मिनट के लिए छोड़ दें। एक बार जब ये नाखूनों में समा जाए तो इसे गर्म पानी की मदद से धो लें। बेहतर परिणामों के लिए इस तेल का प्रयोग कुछ महीनों तक अपने नाखूनों पर दिन में 2 बार करें जब तक आपको कोई सुधार नहीं दिखता।

दांतों को सफ़ेद करने वाले स्ट्रिप्स (strips) को अपने नाखूनों के आकार में काटें और इन्हें अपना काम करने दें। क्योंकि नाखूनों को सफ़ेद करना आपका मुख्य उद्देश्य है, अतः इस कार्य को दांतों को सफ़ेद करने की स्ट्रिप से किया जा सकता है। वैसे तो आपके नाखूनों के आकार में स्ट्रिप्स को काटना काफी मुश्किल काम है और इनकी कीमत भी काफी ज़्यादा होती है, इसका प्रयोग करने से आपको काफी फायदा होगा।

नींबू के अलावा अन्य फलों का प्रयोग करें। संतरे या जुनिपर बेरीज़ (juniper berries)जैसे फल आसानी से आपके नाखूनों को सफ़ेद बना सकते हैं। रोजाना ताज़े संतरों का सेवन करें और इसे अपने नाखूनों पर 2 से 3 बार रगडें। कुछ ही हफ़्तों में आपको काफी अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। आप जुनिपर बेरीज़ को पीसकर गर्म पानी से भरे एक पात्र में मिश्रित कर दें। इस प्रक्रिया का पालन हर रात सोने जाने से पहले करें।

इसे जल्दी ठीक करने के लिए एक पेंसिल या स्क्रब (pencil or scrub) लें जिससे नाखून सफ़ेद होते हों। अगर आप नेल पॉलिश (nail polish) से परहेज कर रही हैं पर पीले नाखूनों के साथ बाहर जाना नहीं चाहती तो नाखून सफ़ेद करने वाली पेंसिल या अच्छे परिणाम देने वाले स्क्रब का प्रयोग करें।

अपने हाथों को धोएं। फंगल संक्रमण आपके पैरों से आपके हाथों में फ़ैल सकता है। अतः अपने हाथों और पैरों को अच्छे से धोएं। मृत त्वचा को साबुन एवं पानी की मदद से स्क्रब करके निकाल दें, क्योंकि फंगस मृत तथा रूखी त्वचा से खुद को जोड़ लेता है तथा शरीर के अन्य भागों में फ़ैल जाता है। इसमें किसी प्रकार के रैश (rash) या नाखूनों के संक्रमण से बचें।

नाखूनों के उत्पादों पर ख़ास ध्यान दें। नाखूनों की सतह के नीचे जमा होने वाली नमी नाखूनों के स्वरुप के अन्दर प्रवेश करके उड़ जाती है। नाखूनों पर लगाए जाने वाले ऐक्रेलिक नेल (acrylic nail) की मदद से आप इससे बच सकती हैं। नाखूनों के अन्दर जमा नमी अस्वास्थ्यकर होती है एवं फंगस एवं अन्य जीवाणुओं को पनपने का मौक़ा प्रदान करती है।

जो उपचार डॉक्टर द्वारा सुझाए गए ना हों, उनसे किसी प्रकार के अच्छे परिणाम की ज़्यादा आशा ना करें। कई बार नाखूनों पर फंगस का इलाज काम नहीं करता है। ये उपचार काफी बुरे तरीके से असफल होते हैं क्योंकि आपके नाखून मोटे होते हैं और काफी मज़बूत पदार्थ से बने होते हैं। कई बार डॉक्टरों के द्वारा सुझाई गयी फंगस की दवा, जो अन्दर से काम करती है, को सही प्रकार से काम करने में महीनों लग जाते हैं।

loading...