Hindi tips for Paronychia – पेरोनिसिया का घरेलू इलाज, नाख़ून में संक्रमण

पेरोनिसिया नाख़ून में एक तरह का संक्रमण है जो पैर या हाथ के नाख़ून को मैनीक्योर अथवा पैडीक्योर करते समय टूटने के दौरान होता है. अत्यधिक लम्बे नाखूनों को काटते वक़्त या उन्हें अधिक लम्बा रखने की वजह से भी यह संक्रमण नाखूनों को प्रभावित करता है. इसके साथ ही डायबिटीज के मरीजों में इसके प्रभाव बहुत भयानक रूप में देखे जा सकते हैं. इसमें नाख़ून को घेरे हुए लालिमा और दर्द के साथ सूजन भी बना रहता है. नाख़ून के रोग का उपचार दवाओं के द्वारा भी संभव है जिसमें एक लम्बे समय के बाद राहत मितली है लेकिन अगर आप इस नाख़ून की समस्या को दूर करने का उपाय घर पर खोज रहे हैं तो इसके लिए कुछ देसी और घरेलू उपाय भी मौजूद हैं.

अगर यीस्ट, बैक्टीरिया या फंगल की वजह से संक्रमण होता है तो पेरोनिसिया (Paronychia) कहा जाता है. मैनीक्योर के दौरान या नाखूनों में गन्दगी के जमा होने की वजह से पेरोनिसिया नामक फंगस विकसित होने लगते हैं जो नाखूनों को नुकसान पहुंचाते है, आइये जानें पेरोनिसिया के घरेलू उपाय हिंदी में.

नाख़ून में संक्रमण का इलाज (Home remedies for Paronychia in Hindi)

गर्म पानी (Soaking)

नाखूनों में होने वाले संक्रमण की वजह से सूजन और नाख़ून के आस पास के हिस्से में दर्द बना रहता है. इसके इलाज में गर्म पानी में नाखूनों को डुबो कर रखने से बहुत राहत मिलती है. आप इस उपाय को दिन में कई बार कर सकते हैं जो दर्द में आराम देता है. इसके अलावा हाथ या पैरों के नाखूनों के आस पास दर्द होने पर गर्म पानी के बैग या पट्टी से भी सेंक ली जा सकती है.

बचाव और सुरक्षा (Prevention and Protection)

जब भी आपको महसूस हो कि नाख़ून में किसी तरह का संक्रमण अपनी जगह बना रहा है तो इसकी शुरूआती समय में ही बचाव का कार्य शुरू कर दें. अपने हाथों को अधिकांश समय सूखा रखने की कोशिश करें. नमी संक्रमण को बढ़ाने में मदद करती है. अगर आवश्यक हो तो हाथों को ड्रायर से सुखा लें.

दस्तानों का प्रयोग करें (Use gloves)

अगर आप अधिक पानी से जुड़ा कोई काम कर रहे हैं तो हाथों में दस्ताने पहन लें. इसके अलावा जब भी आपको लगे कि किसी चीज के संपर्क में जाने पर संक्रमण बढ़ सकता है तब भी हाथों में दस्तानें पहनें.

विनेगर (Vinegar)

विनेगर का प्रयोग रसोई में कुछ खास व्यंजनों को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है. इस नाख़ून के रोग में विनेगर का प्रयोग रोग को कम करने में मदद करता है. हाथ या पैर के नाख़ून में पेरोनिसिया होने पर एक गहरे पात्र में विनेगर में कुछ मात्रा में पानी मिलाकर इस पानी में प्रभावित हिस्से को कुछ देर डुबो कर रखें. इससे बैक्टीरिया और फंगस का प्रभाव कम होता है.

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

ओरेगेनो ऑइल (Oregano Oil)

कई लोग बरसात के दिनों में होने वाले संक्रमण से बचने के लिए ओरेगेनो ऑइल का इस्तेमाल करते है. यह संक्रमण को दूर करने का प्राकृतिक उपाय है. प्रभावित हिस्से में इसकी 2 से 3 बूंदे लगाने से संक्रमण का प्रभाव कम होता है. इस प्रयोग को कुछ दिनों तक नियमित रूप से करें.

नींबू का रस (Lemon Juice)

एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू काटकर उसकी कुछ बूँदें मिला लें. इस पानी में नाखूनों को डुबो कर रखें. यह भी बैक्टीरिया इंफेक्शन को कम करता है.

पान (Betel leaves)

पान के पत्ते के कई औषधिय गुण है जिसकी वजह से प्राचीन काल से इसका प्रयोग खाने के अलावा दवा के रूप में भी किया जाता रहा है. पानी के कुछ पत्तों को पीस कर इसमें बिना बुझा चूना मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें. इसे नाख़ून में प्रभावित जगह पर लेप की तरह लगाकर रुई से लपेट कर रखें इसे लम्बे समय तक ऐसे ही लगा रहने दें जब तक यह सूख न जाये. इस उपाय को कुछ दिनों तक लगातार करना चाहिए.

नमक पानी का उपाय (Salt water)

पेरोनिसिया के दर्द और संक्रमण को कम करने के लिए गुनगुने पानी में नमक मिलाकर अच्छी तरह घोल लें. इस पानी में हाथ या पैर, जहाँ भी प्रभाव हो, उस हिस्से को कुछ देर डुबो कर रखें. इससे दर्द में आराम मिलता है.

हाइड्रोजन पैराक्साइड (Hydrogen Peroxide)

हाइड्रोजन पैराक्साइड का प्रयोग घर में विभिन्न कामों में किया जाता है. नाख़ून में संक्रमण और दर्द होने पर इसका उपाय भी आरामदायक होता है. इसके लिए नाख़ून में हाइड्रोजन पैराक्साइड को सीधे इस्तेमाल किया जा सकता है.

नीम (Indian Lilac)

नीम एक औषधिय पेड़ है, यह हम सभी को ज्ञात है. नीम एंटीसेप्टिक गुणों से भरपूर होता है और संक्रमण को दूर करता है. नीम की ताज़ा पत्तियों को पानी में उबाल लें, जब पानी का रंग हरा सा दिखाई देने लगे तब इस पानी से पत्तियों को अलग कर पानी का प्रयोग प्रभावित हिस्से पर करें. इससे नाख़ून को नियमित रूप से धोया जा सकता है.

loading...