Tips in hindi – What is photo aging? How to treat it? – फोटो एजिंग क्या है? इसका इलाज कैसे इलाज करें?

प्रकाश उम्र बढ़ना नाम त्वचा के उस बद्लाव की विशेषता को दिया जाता है जो लम्बे समय तक यूवीबी और यूवीए किरणों के कारण होता है। इसके प्रमुख कारणों में से एक है उम्र बढ़ने के साथ चयापचय, तनाव प्रबंध की कमी के साथ जैविक क्रियाओं में क्षय है।

प्रकाश उम्र एक प्रकार की उम्र बढ़ने के प्रक्रिया है जो त्वचा पर कई कार्यात्मक और सौंदर्यात्मक परिवर्तनों को प्रोत्साहित करता है। लोग लम्बे समय तक सूर्य की अल्ट्रा वॉयलेट विकिरण में रहने के कारण प्रकाश उम्र प्रक्रिया से पीड़ित होते हैं।

आपको ऐसे लक्षणों के बारे में पता ही होगा, जिनके दिखने पर यह बात निश्चित हो जाती है कि एक व्यक्ति की उम्र बढ़ रही है। फोटो एजिंग त्वचा की एक ऐसी स्थिति है, जिसके अंतर्गत एक व्यक्ति काफी उम्रदराज लगता है। इसका मुख्य कारण मानव त्वचा के सूरज की UVA किरणों के संपर्क में आना है। फोटो एजिंग की वजह से एक व्यक्ति काफी बूढ़ा लगने लगता है और उसके सारे शरीर एवं चेहरे पर झुर्रियां आ जाती हैं।

इसके प्रभाव से 30 वर्ष की महिलाएं भी 50 वर्ष की लगने लगती हैं। जो व्यक्ति ही फोटो एजिंग की समस्या का शिकार होते हैं, उनके लिए ज़िन्दगी काफी मुश्किल और दयनीय हो जाती है। उम्र बढ़ने (umar ka badhna) की यह प्रक्रिया शरीर के मेटाबोलिज्म (metabolism) के तनाव को झेल ना पाने की दशा में भी हो सकती है। नीचे इसके उपचार के कुछ उपाय दिए गए हैं।

प्रकाश उम्र/फोटो एजिंग बढ़ने के लिए उपचार प्रक्रिया (Treatment procedure for photo aging – photo ageing la illaj)

उपचार केवल दवाओं तक ही सीमित नहीं है। इसमें कदम दर कदम बचाव के तरीके हो सकते हैं जो अच्छी आदतों को शामिल करते हैं ये कदम है:

प्राथमिक रोकथाम (Primary prevention)

यह एक ऐसा तरीका है जिसमें शारीरिक स्थिति या रोग की घटना से पहले जोखिम के कारकों को कम किया जाता है। मुख्य जोर सूर्य से सुरक्षा करना है। आपको अपनी त्वचा की सुरक्षा सन्‌स्क्रीन के उपयोग द्वारा सूर्य किरणों से, गर्म और चिलचिलाती मौसम स्थितियों के दौरान बाहर जाने से बचने के द्वारा, सुरक्षा कपड़ों को पहनने के द्वारा आदि से करनी चाहिये। तथ्य के रूप में यूवी 10 पूर्वाह्न से 4 अपराह्न तक सबसे ज्यादा प्रभावी होता है। आपको इस मौसम स्थिति से अवश्य बचना चाहिये।

जीभ के छाले का इलाज कैसे करें?

आप सूर्य चश्मों, टोपी, पूरी बांह के कपड़े को पहनना आदि का उपयोग करने के द्वारा मध्य दिन के समय सूर्य की किरणों के प्रभाव से बच सकते हैं। सन्‌स्क्रीन एसपीएफ 30 के साथ लगाना एक अच्छा विचार होगा।

फोटो एजिंग बढ़ने से संरक्षण (Protection from photo aging)

एक बार आपने इस रोग को प्रारम्भिक चरण में विकसित कर लिया है तो द्वितीयक सुरक्षा वास्तविकता में काम करेगा। सुरक्षा कारक त्वचा के अंदर घुसकर तीव्रता को कम करते, सुरक्षा देते और चिकित्सकीय स्थिति आने में देरी कराते है। यह एस्ट्रोजेन, साइटोकिंस, रेटिनॉयड और अन्य वृद्धि कारकों की सहायता से हो सकता है।

तृतीयक रोकथाम (Tertiary prevention)

रोकथाम और कुछ नहीं है बल्कि त्वचा स्थिति को रासायनिक दवाइयों के उपयोग से देरी कराना है। ये तकनीकें है पुन:सतह तकनीक, कोमल ऊतक वृद्धि, रेडियों फ्रीक्वेंसी तकनीक आदि। ये तकनीके लेज़र विधि को भी उपयोग करती है। प्रत्येक व्यक्ति इस तथ्य को जानता है कि त्वचा दो परतों से बना है बाहरी परत एपीडर्मिस, सब्क्यूटिस (आधारिक परत) और डर्मिस (मध्य परत)। डर्मिस त्वचा की वह परत है जो फाइबर के साथ साथ कोलेजन इलास्टीन को शामिल करता है। डर्मिस परत त्वचा में मेलानिन का उत्पादन करता है जो त्वचा की रंगत के लिये जिम्मेदार है।

तथ्य की बात यह है कि यूवीबी किरणें, यूवीए किरणों की अपेक्षा छोटी होती हैं लेकिन इसा प्रकार के विकिरण सूर्य से जलने की प्रमुख दोषी है। लेकिन यूवीए किरणों में ज्यादा नकारात्मक प्रभाव होते हैं क्योंकि इनके कारण प्रकाश से उम्र पर ज्यादा प्रभाव पड़ता है। चूंकि यह त्वचा के डर्मिस तक घुसती हैं इसलिये कोलेजन फाइबर की क्षति होगी। इन किरणों के द्वारा असामान्य इलास्टीन का उत्पादन स्तर बढ़ जाता है। इलास्टीन की असामान्य मात्रा मेटालोप्रोटीनेसिस नामक विशेष एंजाइम का उत्पादन करता है। इन एंजाइम के पुनर्निमाण और कोलेजन की क्षति नुकसान को बढाने के साथ साथ कोलेजन को कम करती है। पुनर्निर्माण तरीके के साथ गलत त्वचा को जन्म देगी। यह विशेष रूप से त्वचा में झुर्रियों को जन्म देगी और कोलेजन समाप्त होने के परिणामस्वरूप यह ढीली त्वचा मिलेगी।

बायो ऑइल क्या है? इसे कौन इस्तेमाल कर सकता है?

आप अपनी त्वचा पर उम्र के चिन्हों को पायेंगे जिसका दूसरा नाम प्रकाश उम्र होना है। विशेषज्ञ इसे यकृत दाग भी कहते है लेकिन इसका यकृत से कुछ भी लेना देना नहीं है। प्रकाश उम्र की त्वचा स्थिति के कारण आपकी त्वचा में रंजकों को आसानी से देखा जा सकता है।

अन्य उपचार (Other treatments)

प्रकाश उम्र प्रक्रिया से बचने के क्रम मे आप उष्णकटिबंधीय उपचार के लिये भी जा सकते हैं। इस त्वचा स्थिति से बचने के लिये आप त्वचा रोग विशेषज्ञ के पास अवश्य जायें। आप घर से बाहर जाने के पहले सूर्य से जलने और उम्र बढने की प्रक्रिया से बचने के लिये सन्‌स्क्रीन का उपयोग करें। डीएनए क्षति मरम्मत एक अन्य महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जिससे हानिकारक सूर्य की किरणों को रोका जा सकता है।

फोटो एजिंग ठीक करने के तरीके (Ways to treat photo aging)

फोटो एजिंग क्र लिए ट्रेटिनॉइन (Tretinoin for photo aging)

शोधकर्ताओं का यह कहना है कि फोटो एजिंग का उपचार ट्रेटिनॉइन की मदद से किया जा सकता है। यह फोटो एजिंग की प्रक्रिया के इलाज के लिए सबसे अच्छे रेटिनॉइड (retinoid) के रूप में जाना जाता है। फोटो एजिंग की प्रक्रिया का शिकार होने के पीछे एक कारण मेटाबोलिक तनाव का स्तर भी होता है। आजकल कामकाज के क्षेत्र में दिन प्रतिदिन दबाव और तनाव में काफी इज़ाफ़ा हो रहा है। इसमें आपकी मानसिक और शारीरिक दोनों तरह की शक्ति चली जाती है। इसके लिए आप ट्रेटिनॉइन का उपचार प्रयोग में ला सकते हैं।

लेज़र उपचार (Laser treatment)

आजकल के दिन में ज़्यादातर लोग लेज़र के उपचार पर काफी भरोसा करते हैं। फोटो एजिंग की समस्या को हल करने के  लेज़र के उपचार की सहायता लेते हैं। कई लोगों ने लेज़र के उपचार की प्रक्रिया का प्रयोग करके सकारात्मक परिणाम हासिल किये हैं। यहाँ तक कि डॉक्टर भी 20 से 30 वर्ष के लोगों को, जो कि फोटो एजिंग की वजह से त्वचा में लालपन या रंग उड़ने की समस्या के शिकार हुए हैं, लेज़र की पद्दति के उपचार की सलाह देते हैं।

उपचार के लिए एंटीऑक्सीडेंट्स (Antioxidants for treatment)

कई बार हमारे द्वारा ग्रहण किये जाने वाले भोजन से भी हम काफी बूढ़े और उम्रदराज लगने लगते हैं। मिलावट वाले भोजन में ऑक्सीडेंट्स (oxidants) मिश्रित होते हैं, जो हमारी त्वचा पर झुर्रियों और महीन रेखाओं की सृष्टि करते हैं। आपको उम्र के निशानों को दूर करने के लिए अपने शरीर से ऑक्सीडेंट्स को दूर करना होता है। इसके लिए आप आयोनिक (ionic) उपचार का प्रयोग कर सकते हैं, जिसके अंतर्गत आपके पेअर को नमक वाले पानी में डुबोया जाता है। यह विधि आपके शरीर से सारे विषैले पदार्थों को निकाल देती है और उन्हें पानी में मिश्रित कर देती है। यह प्रक्रिया ज़्यादा महँगी नहीं होती, पर फोटो एजिंग की समस्या को दूर करने में काफी प्रभावी साबित होती है। ऐसे कई एंटीऑक्सीडेंट से युक्त खाद्य पदार्थ भी होते हैं, जो आपकी फोटो एजिंग को नियंत्रित करने में काफी सहायता करते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday