Pregnant lady : Number of days likely for pregnancy – गर्भधारण के लिए बचे दिनों की गणना

ओवुलेशन (ovulation) का समय ऐसा सबसे फर्टाइल (fertile) समय होता है जब एक महिला गर्भवती हो सकती है। यहाँ तक कि ओवुलेशन (ovulation) की तिथि से दो से तीन दिन पहले तक भी एक महिला गर्भवती रहती है। कोई महिला जब अपने मासिक धर्म के साइकिल से गुज़र रही होती है, तब भी इसके आधार पर यह पता लगाया जा सकता है कि वह महिला गर्भवती है या नहीं।

जब एक महिला गर्भवती होने के लिए तैयार हो, तो उसे यह जानकारी होनी चाहिए कि वह मासिक धर्म के साइकिल के किस स्तर पर खड़ी है। अगर एक स्त्री का मासिक धर्म सही समय से हो रहा है, तो यह चक्र हर 28 दिन में खुद को दोहराता है। पर आजकल यह हर महिला में अलग अलग होता है। आप यह अपेक्षा नहीं कर सकते कि हर महिला का मेंस्ट्रुअल साइकिल हर 28 दिन में ही होगा। यह समय 23 से 35 दिनों के बीच में किसी भी दिन का हो सकता है।

प्रेगनेंट होने के लिए शरीर को तैयार करना (Body getting prepared)

हर महिला का शरीर खुद को ओवुलेशन (ovulation) तथा फर्टिलाइजेशन (fertilization) के लिए तैयार करता है। गर्भावस्था के शुरू होने के 7 से 11 दिनों के अंदर ही एक महिला का शरीर खुद को फर्टिलाइज़ेशन (fertilization) के लिए तैयार करने लगता है। ओवुलेशन की अवधि आपके पीरियड्स (periods) के शुरू होने की अगली तिथि से 12 से 16 दिन के अंदर होती है। इस अवधि में खुद को गर्भवती बनाने के लिए आप आसानी से सेक्स का सहारा ले सकती हैं।

पहली तिमाही के दौरान देखभाल के नुस्खे

प्रेगनेंट होने के तरीके है ओवुलेशन से पहले के दिन (Days before ovulation)

यह भी हो सकता है कि कोई महिला ओवुलेशन शुरू होने के दिन के 2 या 3 दिन पहले (pregnant hone ke tarike) ही गर्भवती हो जाए। जैसे ही मैच्योर अंडा महिलाओं के गर्भाशय से निकल जाता है, वैसे ही ओवुलेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। यह वह समय होता है जब मैच्योर अंडे गर्भाशय से फैलोपियन ट्यूब में भेज दिए जाते हैं। यह ध्यान में रखने वाली बात है कि ये अंडे काफी आसानी और निपुणता के साथ फर्टिलाइज़ हो जाते हैं। जिस महिला का मासिक धर्म साइकिल 28 से 32 दिनों के बीच का होता है, वे अपने ओवुलेशन की अवधि को 11 से 21 दिनों के बीच मानकर चल सकती हैं। आपको यह बात भी अच्छे से समझनी होगी कि हर महिला का मासिक धर्म साइकिल तथा ओवुलेशन की अवधि अलग अलग होती है। आप ओवुलेशन के किट का भी प्रयोग कर सकती हैं जिससे यह पता चलता है कि आपका अंडा फर्टाइल है और आपके ओवुलेशन की प्रक्रिया शुरू हुई है या नहीं।

प्रेगनेंट होने के उपाय है पीरियड्स के दौरान गर्भधारण की संभावना (Pregnancy during periods)

कई लोगों का यह मानना है कि मासिक धर्म की अवधि के दौरान सेक्स की प्रक्रिया काफी सुरक्षित होती है। जब पिरियोडिक साइकिल के दौरान आपके रक्त का प्रवाह कम होता है तो आप आसानी से सेक्स की क्रिया कर सकती हैं। यह बात सही है कि पीरियड्स के दौरान सेक्स करने पर गर्भवती होने की संभावनाएं काफी कम होती हैं, पर विशेषज्ञों के अनुसार ऐसा होना बिलकुल असंभव भी नहीं है। क्योंकि एक बार सेक्स कर लेने के तीन से पांच दिनों के अंतराल में भी शुक्राणु (sperm) महिलाओं के शरीर में ही रह सकते हैं, अतः भले ही सेक्स करने के समय कोई महिला अपने पीरियड्स पर हो, इन शुक्राणुओं के शरीर में जमा रहने की वजह से उनका गर्भवती होना (pregnant hone ke upay) भी पूरी तरह संभव है।

गर्भावस्था में खुद की देखभाल करने के नुस्खे

गर्भधारण के उपाय है गर्भावस्था के अन्य महत्वपूर्ण कारक (Other factors of pregnancy)

आप गर्भवती होंगी या नहीं, ये बात अन्य कारकों पर भी निर्भर करती है, जैसे आपका स्वास्थ्य, वज़न का नियंत्रण, खानपान आदि। एक स्वस्थ महिला के ही गर्भवती होने की संभावना सबसे ज़्यादा होती है। अगर हम स्वास्थ्य सम्बन्धी ज़रूरतों के बारे में बात करें, तो स्वास्थ्यकर खानपान तथा सही वज़न का होना इस स्थिति में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मानसिक तथा शारीरिक तौर पर पूरी तरह स्वस्थ रहने के लिए निरंतर रूप से सेक्स करना भी काफी आवश्यक है। आपकी फर्टिलिटी पर आपके अच्छे खानपान का भी काफी असर पड़ता है। अगर आप एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देना चाहती हैं, तो आपको ओएस्टर, फैटी मछलियों तथा लीन प्रोटीन का काफी मात्रा में सेवन करना चाहिए। अगर आप अपनी गर्भावस्था को बाद के लिए टालना चाहती हैं, तो आपके लिए हर्बल उपचारों का प्रयोग करना ही सबसे अच्छा रहेगा।