Types of waxing in Hindi – वैक्सिंग के विभिन्न प्रकार और उसके फायदे और नुकसान

वैक्स कैसे करे और वैक्सिंग (Waxing)

वैक्सिंग बाल हटाने की एक पद्धति का नाम है। वैक्सिंग किये गए क्षेत्र में नए बाल 2-9 हफ्तों के लिए वापस विकसित नहीं होते। शरीर पर आंख की भौहें, चेहरा, बिकनी पहनने का क्षेत्र, पीठ, पेट और पैर पर से बाल हटाये जाते हैं। विद्युत उपकरणों से अनचाहे बालों को हटाया जा सकता है। कई वर्षों के लिए नियमित रूप से वैक्सिंग करने से स्थायी बालों की संख्या में कमी पायी जा सकती है। वैक्सिंग करने का तरीका, वैक्सिंग के दौरान त्वचा पर मोम का मिश्रण लगाया जाता है। यह मिश्रण तौलिये से दबाया जाता है। फिर यह तौलिया खींचकर निकाला जाता है। इससे सभी बाल हटाये जाते हैं। जिनकी त्वचा संवेदनशील हो उन्हें विशेषज्ञ की मदद से वैक्सिंग कराना चाहिए।

वैक्सिंग के प्रकार (Types of waxing)

बाल हटाने के लिए वैक्सिंग के बेहतरीन नुस्खे

  • भौहों की वैक्सिंग
  • छाती की वैक्सिंग
  • घुटनों की वैक्सिंग
  • पैरों की वैक्सिंग
  • हाथों और काँखों की वैक्सिंग
  • पीठ की वैक्सिंग
  • ब्राजीलियन बिकिनी वैक्सिंग
  • पुरे शरीर की वैक्सिंग

वैक्सिंग के प्रकार (Types of waxing)

ठंडी और गर्म वैक्सिंग दो मुख्य तरह की वैक्सिंग होती है। इन दोनों तरीकों में वैक्स के बेस (base) के रूप में पैराफिन या बीसवैक्स, रेसिन तथा लुब्रिकेटर (paraffin or beeswax, resin and lubricator) का प्रयोग होता है। रेसिन का प्रयोग बालों को स्ट्रिप से जोड़ने के लिए किया जाता है। तेल या वसा का प्रयोग त्वचा को लुब्रिकेट करने के लिए होता है, जिससे बालों को निकालने की प्रक्रिया आराम और आसानी से हो सके। इन दोनों तरह की वैक्सिंग में त्वचा पर महसूस किये जाने वाले तापमान का अंतर है। गर्म वैक्सिंग में वैक्स को गर्म किया जाता है और पिघले वैक्स को त्वचा पर लगाया जाता है। इसपर एक कपड़े को दबाया जाता है। जब तापमान घटता है तो ये मोम बालों के साथ कड़ा हो जाता है। इसके बाद कपड़े को बाल उगने की उल्टी दिशा में खींच दिया जाता है।

ठंडी वैक्सिंग में हल्का कठोर वैक्स पहले से स्ट्रिप्स पर लगा होता है। इन स्ट्रिप्स को चेहरे पर बाल के बढ़ने की दिशा में ज़ोर से दबाया जाता है और फिर बाल बढ़ने की उल्टी दिशा में खींच दिया जाता है।

गर्म वैक्सिंग के फायदे (Advantages of hot waxing)

  • गर्म वैक्सिंग की प्रक्रिया में वैक्सिंग ज़्यादा अच्छे तरीके से होती है।
  • यह थोड़ी दर्दभरी प्रक्रिया है और इसके परिणाम पहली बार प्रयोग करने पर ही पता चल जाता है। इसे दोहराने की कोई आवश्यकता नहीं है।

गर्म वैक्सिंग के नुकसान (Disadvantages of hot waxing)

घर बैठे ब्राज़ीलियन बिकनी वैक्स कैसे करे?

  • गर्म वैक्सिंग काफी उलझी हुई प्रक्रिया है।
  • गर्म वैक्स का प्रयोग शरीर के छोटे हिस्सों जैसे होंठों और भौंहों पर करना काफी मुश्किल है।

ठंडी वैक्सिंग के फायदे (Advantages of cold waxing)

  • ठंडी वैक्सिंग गर्म वैक्सिंग की तुलना में ज़्यादा साफ़ प्रक्रिया है।
  • ठंडी प्रक्रिया का पालन करना ज़्यादा आसान है।
  • ठंडी वैक्स की स्ट्रिप्स अलग आकार प्रकार में उपलब्ध होती है और इनका प्रयोग शरीर के विभिन्न भागों पर किया जा सकता है।
  • यह प्रक्रिया गर्म वैक्सिंग से कम दर्दनाक होती है, पर अच्छे परिणामों के लिए इसका प्रयोग बार बार करना पड़ता है।

ठंडी वैक्सिंग के नुकसान (Disadvantages of cold waxing)

  • ठंडी वैक्सिंग के परिणाम हमेशा सही नहीं होते।
  • इस प्रक्रिया को बार बार दोहराने से त्वचा में जलन और अंदरूनी रूप से बालों के फोलिकल (follicle) के बढ़ने की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है।

वैक्सिंग के तरीके (Wax karne ka tarika)

वैक्स का प्रयोग त्वचा पर पतली परतों के रूप में किया जाता है। एक पतला कपड़ा या कागज़ की स्ट्रिप त्वचा पर लगाईं जाती है। इसके बाद स्ट्रिप को तुरंत तेज़ी से बालों की बढ़त की उल्टी दिशा में खींच दिया जाता है। वैक्स बालों को निकाल देता है। इसे स्ट्रिप वैक्सिंग कहा जाता है। एक और तरीका है जो स्ट्रिप वैक्सिंग के उलट है। इसके अंतर्गत त्वचा के अधिक बाल वाले भाग पर वैक्स की मोटी परत लगाईं जाती है और इसके सूखने का इंतज़ार किया जाता है। जैसे जैसे बाल कड़ा होता है, वैसे वैसे ये वैक्स की परतों में फंसता जाता है। वैक्स को फिर आसानी से बालों के साथ निकाला जा सकता है। इस विधि को स्ट्रिप लेस वैक्सिंग (strip less waxing) कहा जाता है और यह स्ट्रिप वैक्सिंग से कम दर्दनाक होता है। आप इसका प्रयोग बिना किसी चिंता के कर सकती हैं।

वैक्सिंग के फायदे (The advantages of waxing, wax karne ke fayde)

वैक्सिंग के पहले और बाद में त्वचा की देखभाल के नुस्खे

  • शरीर का चाहे कोई भी हिस्सा हो – बड़ा या छोटा – वैक्सिंग की मदद से हर जगह के बाल निकाले जा सकते हैं।
  • वैक्सिंग के अंतर्गत रंग, स्वरुप और त्वचा के प्रकार में भेदभाव नहीं किया जाता। यह हर तरह की त्वचा से हर प्रकार के बाल निकाल सकता है। वैक्सिंग होंठों के ऊपर के नरम बाल निकालने में भी उतना ही प्रभावी है, जितना बिकिनी (bikini) के भाग के खुरदुरे बाल निकालना।
  • वैक्सिंग बाल हटाने के अन्य तरीकों से काफी ज़्यादा प्रभावी है, क्योंकि इसके अंतर्गत आपके बाल काफी लम्बे समय तक वापस नहीं आते।
  • ज़्यादातर सैलून्स (salons) में वैक्सिंग की प्रक्रिया पूरी की जाती है और इसे घर पर भी पूरा किया जा सकता है।
  • वैक्सिंग से त्वचा के अनचाहे बाल निकलने के अलावा एक्सफोलिएशन (exfoliation) की प्रक्रिया भी संपन्न होती है।

वैक्सिंग के लाभ और वैक्सिंग के गुण (Other advantages of waxing)

  • मुलायाम और अच्छे प्रति के बाल
  • लम्बे समय तक साफ़ और मुलायम रंध्र
  • नए बालों का विकास रुक जाता है
  • सस्ता होता है
  • त्वचा को कोई नुकसान नहीं होता
  • वैक्सिंग का तरीका, बालों की सेहत सुधरती है और त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाता है
  • सरल विधि और घर पर किये जानेवाली

वैक्सिंग के नुकसान (Disadvantages of waxing, wax karne ke nuksan)

  • वैक्सिंग बालों को निकालने का काफी दर्दभरा तरीका है। दर्द की मात्रा हर व्यक्ति में अलग अलग होती है।
  • इससे लाल दाग हो जाते हैं, हालांकि वे कुछ दिनों में गायब भी हो जाते हैं।
  • वैक्सिंग तभी प्रभावी होता है, जब बालों की लम्बाई 1 सेंटीमीटर से ज़्यादा हो। इस प्रक्रिया को 6 हफ्ते के बाद दोबारा अपनाएं।
  • वैक्सिंग का सबसे बड़ा ख़तरा अंदरूनी बाल निकलना है। ऐसा तब होता है जब बालों को स्ट्रिप से निकालते हुए वे बीच से टूट जाएँ।

वैक्सिंग के परिणाम (Side results of waxing or wax ke labh)

वैक्सिंग के बाद दानों से छुटकारा कैसे पाएं?

  • त्वचा में लाली
  • साफ़ उजली त्वचा
  • एलर्जी के लक्षण दिख सकते हैं
  • त्वचा का कसाव कम हो सकता है
  • लाल फोड़ी बन सकती हैं
  • त्वचा में जलन हो सकती है
  • त्वचा में इन्फेक्शन हो सकता है
loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday