Better digestion and nutrition food for elderly – उम्रदराज लोगों के लिए अच्छे पाचक एवं पोषक भोजन

उम्र बढ़ने के साथ होने वाले परिवर्तन (Changes in Old Age)

जैसे जैसे मनुष्य बूढ़ा होता है वैसे ही उसमें परिवर्तन आना शुरू हो जाता है। कुछ शारीरिक परिवर्तन होते हैं जो कि धीरे धीरे समय के साथ आने शुरू हो जाते हैं। ये परिवर्तन किसी बीमारी, जीवन की किसी घटना, जीन के प्रकार एवं सामाजिक और आर्थिक बातों से जुड़े होते हैं। इन्द्रियों में भी परिवर्तन होते यहीं जिसके अंतर्गत देखने, सुनने, सूंघने तथा स्वादेंद्रियों में आई परेशानी मुख्य है। इन परिवर्तनों का पोषक तत्वों के ग्रहण करने में तथा स्वास्थ्य में बहुत महत्त्व होता है। शरीर का वज़न घटना भी इस समय का एक परिवर्तन है। शरीर का भार कम होने से लिवर, किडनी, फेफड़े तथा दिल की समस्या हो जाती है। शरीर का भार कम होने से उसकी रोगों से लड़ने की शक्ति भी क्षीण पड़ने लगती है। इस समय आपको वज़न बढ़ाने से बचने के लिए अधिक कैलोरी की मात्रा ग्रहण करने से बचना चाहिए। उम्र के साथ हड्डियां भी कमज़ोर हो जाती हैं। इससे हड्डियों की बीमारी तथा हलकी चोट से ही हड्डी टूटने का ख़तरा रहता है।

उम्र के बढ़ने का सामना कैसे करें? (How to face the old problems?)

शरीर के सारे परिवर्तनों में पोषण काफी मुख्य भूमिका निभाता है। वृ‍द्ध व्‍यक्तियों की देखभाल, इस समय पाचन को बढ़ावा देने वाले रस का निकलना बंद हो जाता है जिससे पाचन प्रणाली पर असर पड़ता है। शरीर की सेहत के लिए पोषक तथा संतुलित खुराक लेना आवश्यक है। इसके अंतर्गत मुख्य हैं:-

कुछ स्वस्थ भोजन से बचे: उनमे से कुछ भोजन ज्यादा न खाए

  • फल और सब्ज़ियाँ।
  • ब्रेड, चावल, आलू और अन्य स्टार्च युक्त भोजन।
  • दूध और अन्य डेरी उत्पाद।
  • मटन, अंडा, मछली, दाल तथा प्रोटीन के अन्य स्त्रोत।
  • कम मात्रा में लिए जाने वाले भोजन और पेय पदार्थ जिनमें चीनी की मात्रा कम हो।

उम्र बढ़ने के साथ लोगों की खाने के प्रति जाती है तथा वे खाना कम कर देते हैं। इसका कारण यह होता है कि वे अब पहले की तरह चुस्त और चलायमान नहीं रहते। इसकी वजह से शरीर में कैलोरी की खपत कम होती है। फिर भी शरीर को सारे पोषक पदार्थों की हमेशा ज़रुरत होती है। थोड़ी मात्रा में भोजन ग्रहण करें और फल और सब्ज़ियों का खूब सेवन करें।

उम्र बढ़ने के साथ ही शरीर में पानी की भरपूर मात्रा रखना काफी आवश्यक है। प्यासे न रहे और दिन में कई बार पानी पियें। शराब की मात्रा को कम करें और फलों के रस और दूध लेने की मात्रा को बढ़ाएं। हर बार खाना शरीर में पोषक तत्व बढ़ाने के इरादे से ही खाएं। अपने पसंद के हिसाब से ही इस उम्र में अपने खाने का चयन करें।

वृद्ध व्यक्तियों को स्वस्थ रखने के कुछ नुस्खे (Some special guidelines to maintain healthy eating habits in elderly people)

  • वृद्धावस्था में स्वस्थ रहने के उपाय – नमक का कम इस्तेमाल – अतिरिक्त नमक उच्च रक्तचाप तथा दिल की बीमारी के खतरे को बढ़ा सकता है। बूढ़े लोगों को ऐसे खाने से परहेज करना चाहिए जिसमें नमक ज़्यादा हो जैसे मटन, नाश्ते के भोजन तथा सॉस।
  • वृ‍द्ध व्‍यक्तियों लिए पोषक भोजन – काफी मात्रा में पानी पियें – पानी पीने से शरीर के ज़्यादातर अंग स्वस्थ रहते हैं। शरीर में पानी की सही मात्रा रहने से हाज़मे की परेशानी से भी राहत मिलती है। चाय, कॉफी और फलों के रस के रूप में भी पानी दिन में 6 से 8 बार पियें।

प्रकृति का सबसे अच्छा एस्ट्रोजेन युक्त भोजन

  • उच्च वसा वाले भोजनों से परहेज़ करें – पाई, पेस्ट्री, चॉकलेट तथा अन्य व्यंजन जिनमें वसा की ज़्यादा मात्रा हो, का सेवन ना करें। इन सब वस्तुओं का कभी कभी ही सेवन करें। इनके बदले ताज़े फल तथा लो फैट मीठा दही ज़्यादा अच्छा विकल्प होगा।
  • वृ‍द्ध व्‍यक्तियों लिए पोषक भोजन – विटामिन्स और मिनरल्स – बुढ़ापे में होने वाली ज़्यादातर समस्याओं को ठीक करने में विटामिन और मिनरल काफी बड़ी भूमिका निभाते हैं। इन दोनों पोषक पदार्थों से युक्त भोजन करें।

बुढ़ापे में होने वाली आम बीमारियां (Special considerations for older adults)

वृद्धावस्था की समस्याएं – हड्डियों की बीमारी (Bone health)

ओस्टियोपोरोसिस हड्डियों की एक बीमारी होती है जो बूढ़े लोगों को ज़्यादा प्रभावित करती है। इससे कूल्हे, पैर और कलाई की हड्डी के टूटने का ख़तरा रहता है। यह बीमारी कैल्शियम की कमी की वजह से होती है जिसका विकल्प काफी मुश्किल होता है। दूध और दूध के पदार्थ जैसे दही और पनीर में काफी कैल्शियम होता है। स्वस्थ हड्डियों के लिए विटामिन डी भी काफी आवश्यक है। विटामिन डी का सबसे अच्छा स्त्रोत सूरज है। आप अंडे के पीले भाग से भी विटामिन डी प्राप्त कर सकते हैं।

आर्थराइटिस (Arthritis)

आर्थराइटिस मांसपेशियों के कमज़ोर होने तथा वज़न काफी बढ़ जाने की वजह से होता है। इसके इलाज का सबसे अच्छा तरीका अच्छा खानपान और शरीर का वज़न नियंत्रित करना है।

वृद्धावस्था की समस्याएं – कब्ज़ (Constipation)

नाश्ता आपके दिन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं

बुढ़ापे में कब्ज़ एक आम समस्या है। इस समय आपको फाइबर से भरपूर पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इनमें साबुत अनाज, सूखे फल, बीज और दालें प्रमुख हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

अच्छा खानपान और चलायमान रहना ही बुढ़ापे में अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है। ऐसे भोजन का सेवन करें जिसमें स्टार्च, आयरन और कैल्शियम की भरपूर मात्रा हो। नमक का सेवन कम करें। धूप से शरीर का संपर्क कराएं और विटामिन डी युक्त पदार्थों का सेवन करें। शरीर का वज़न बनाए रखें।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday