The ultimate pregnancy first trimester to – do list – श्रेष्ठ प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही के लिए करने की सूची

गर्भावस्था के दौरान, आपके भीतर एक करिश्मा प्रकाशित हो रहा होता है। आपके बच्चे का विकास, बच्चे में बदलाव और आपके हार्मोन्स में लहरों की तरह का आवेग होता है। और भी कई प्रकार से यह इस तरह होता है मानो आप किसी सवारी पर हों। पर ऐसी बहुत सी चीज़ें हैं जिनको करके आप अपने इस सफर को जितना संभव हो उतना सुरक्षित और आनंदमय बना सकते हैं और साथ ही जो आने वाला है उसके लिए तैयार हो सकते हैं।

श्रेष्ठ प्रेग्नेंसी के लिए करने वाले कार्यों की लिस्ट आपको अपने सभी ज़रूरी कामों या जिम्मेदारी जैसे जन्म के पहले की सामग्री, बेबी शॉवर की जांच परख और बच्चे का नामकरण से लेकर बेबीमून यानि जन्म के पहले बच्चे और होने वाले माता पिता की एक साथ पिकनिक इत्यादि के साथ नियत पाठ पर बनाए रखता है।

इस लिस्ट में आपकी प्रेग्नेंसी को यादगार बनाने के लिए आपके और आपके बच्चे के स्वस्थ्य के साथ मौजमस्ती भी ज़रूर शामिल होनी चाहिए। हर वक़्त आप इस सूची को जाँचने के लिए परेशान न होंऔर आने वाले नौ महीनों तक इसे केवल मदद के लिए एक गाइड के रूप में इस्तेमाल करें।

The ultimate pregnancy to – do list : first trimester (श्रेष्ठ प्रेग्नेंसी के लिए की जाने वाली लिस्ट : पहली तिमाही)

गर्भावस्था की पहली तिमाही, इस सूची का प्रयोग पहली तिमाही के सभी नियत कार्यों को करने के साथ पथ पर बनें रहने के लिए करें आश्वस्त होते हुये कि आप सचमुच प्रेग्नेंट हैं जिसे आप सुरक्षाकवच बनकर बच्चे रूपी पूंजी को आकार दे रहीं हैं।

पहली तिमाही की गतिविधियां (Activities for your first trimester)

गर्भावस्था के दौरान मुंह का कड़वा स्वाद कैसे हटाएं ?

तय कर लें कि आप सचमुच प्रेग्नेंट हैं (Make sure you’re really pregnant)

प्रेग्‍नेंसी केयर, अधिकांश घर में किए जाने वाले प्रेग्नेंसी टेस्ट कि सहायता से जब आपके अंदर अंडे का उत्सर्जन हो जाता है तो मासिक धर्म के बाद एक हफ्ते के भीतर ही यह प्रेग्नेंसी का पता लगा लेते हैं। प्रेग्नेंसी का पहला महीना, अगर टेस्ट का परिणाम निगेटिव या थोड़े प्रयास से पॉज़िटिव मिलता है तो कुछ दिन या एक सप्ताह इंतज़ार कर दोबारा टेस्ट करें। अगर आपके पीरियड्स नहीं आ रहें तो ऐसी अवस्था में फिर से जांच करें।

प्रसव के पहले ज़रूरी विटामिन्स लें (Take your prenatal vitamins)

अगर आपने अभी तक बच्चे के जन्म के पहले ज़रूरी विटामिन्स लेना शुरू नहीं किया है तो इसे अभी शुरू करें। अतिरिक्त मात्रा में फॉलिक एसिड का सेवन तब बहुत ज़रूरी होता है जब आप गर्भधारण की तैयारी कर रहें हो या आप अपनी प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही पर हों। फॉलिक एसिड आपके बच्चे के जन्म के समय रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करने वाले खतरे को कम करता है जिससे द्विमेरुता (Spina bifida) जैसे रोग होते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

हेल्थ इंश्योरेंस की जांच करें (Investigate Health insurance)

आपको सुनिश्चित होना चाहिए की आपका स्वस्थ्य बीमा प्रसव के पूर्व आपकी देखभाल और आपकी डिलिवरी के खर्चे के साथ आपके नवजात बच्चे का ख्याल रखने में हुये खर्चे को भी कवर करता हो। इन प्रश्नों का उत्तर पाने के लिए आप अपने बीमा दिलाने वाले व्यक्ति या कंपनी के लाभ देने वाले विभाग से संपर्क करें। अगर आपके पास कोई स्वास्थ्य बीमा नहीं है तो पता लगाए की आप इससे कैसे लाभ पा सकते हैं।

सहायता के लिए किसी को रखें (Choose a caregiver)

अगर आपके पास पहले से ही कोई मौजूद है जो आपका और आपके होने वाले बच्चे का ख़याल रख सकता हो, तब आपको किसी तरह की चिंता की ज़रूरत नहीं। अगर भी है तो आप अपने किसी दोस्त या संबंधी से बात करें। साथ ही आपको स्वास्थ्य सुविधा देने वालों से आपके लिए ऐसे किसी व्यक्ति को उपलब्ध करने के लिए कहें। बीमा उपलब्ध करने वालों से अपने लिए किसी उचित प्लान का पता लगायेँ या फिर ऑनलाइन सर्च करें।

गर्भावस्था से जुड़े हुए बेहतरीन एप्स

प्रसवपूर्व के सारे ज़रूरी काम करें (Make prenatal appointment)

बहुत सी आया या आपका ध्यान रखने वाली आपकी केयरगिवर यह तब तक नहीं देखती जब तक आपकी प्रेग्नेंसी को लगभग 8 हफ्ते नहीं हो जाते। पर यह आपको खुद उनके कैलेंडर में नोट करवा देना चाहिए ताकि इन ज़रूरी कामों को जल्दी व नियमानुसार पूरा किया जा सके।

इसकी तैयारी के लिए, संक्षेप में अपने पिछले पीरियड्स कि तारीख लिखें जिससे आपकी आया आपकी ड्यू डेट (due date) जान सके। इसके अलावा आपके मन में जो भी प्रश्न उठते हों, उन्हे लिख लें। आपके परिवार के दोनों पक्षों से बात कर उनके मेडिकल हिस्ट्री के बारे में पूछें। आपका केयरगिवर आपसे यह जानना चाहेगा कि क्या आपके परिवार में कभी किसी को कोई दीर्घकालीन या कोई आनुवंशिकी असामान्यता कि शिकायत थी?

दवा संबंधी सलाह के लिए केयरगिवर से परामर्श लें (Consult your caregiver about medications you are taking)

बहुत सी दवाएं, यहाँ तक की कुछ बिना पर्ची वाली। गर्भावस्था (garbhavastha) के दौरान शरीर के लिए ठीक नहीं होते। अगर आप लंबे समय से किसी बीमारी को ठीक करने के लिए दावा ले रहें हैं तो इसे न छोड़ें बल्कि अपने केयरगिवर को बताएं और सही तरीके से अपनी दवाओं की सूची द्वारा जानें की क्या लेना आपके शरीर के लिए सुरक्षित हो सकता है और क्या नहीं? हर चीज़ का उल्लेख करें, यहाँ तक की प्रत्येक विटामिन, सप्लीमेंट्स और हर्ब्स का भी।

अगर धूम्रपान करते हो, तो इसे छोड़ दें (If you smoke, quit)

धूम्रपान आपके शरीर में परेशानियों को बढ़ाने में मदद करता है जिनमें गर्भपात, गर्भनाल से संबंधी समस्या और समय से पहले प्रसव आदि शामिल हैं। इसके साथ ही यह भ्रूण के विकास को धीमा करता है और मृतजन्म व नवजात शिशु में मृत्यु के खतरे को बढाता है। कुछ रिसर्च में यह बात भी जोड़ी गयी है कि यह बच्चे में कटे होंठ और तालु के खतरे को भी बढ़ाता है।

इसे छोडने और इससे पीछा छुड़ाने के लिए अभी देर नहीं हुई है, आपके द्वारा ना जलाया गया प्रत्येक सिगरेट आपके बच्चे को स्वस्थ रहने का बेहतर मौका देता है।

गर्भावस्था के दौरान अपनी खूबसूरती और अपनी देखभाल

अल्कोहल लेना बंद करें (Stop drinking alcohol)

नियमित रूप से ली जाने वाली अल्कोहल कि अति अल्प मात्रा आपके बच्चे में जन्म के समय कम वज़न के खतरे को बढ़ा देता है। इसके साथ ही बच्चे में सीखने, बोलने, ध्यान केन्द्रित करने और भाषागत समस्याओं के साथ अतिसक्रियता जैसे खतरे बढ़ने कि आशंका होती है। कोई नहीं जानता कि अल्कोहल कि थोड़ी सी मात्रा भी बच्चे के विकास में कितना नुकसान पहुंचा सकती है। तो इस बुरी आदत को छोड़ दें।

कैफीन कि मात्रा कम करें (Cut down the caffeine)

स्टडी में ये बात जोड़ी गयी है कि अधिक मात्रा में कैफीन का सेवन गर्भपात और प्रेग्नेंसी से जुड़ी समस्याओं को बढ़ाती है। इसीलिए मार्च ऑफ डीम्स

(March of Dimes) जो माँ और बच्चों के स्वास्थ्य के लिए काम करने वाली संस्था है, ने भावी माँओं को प्रतिदिन 200 मिलीग्राम से कम कैफीन के सेवन कि सलाह दी है।

ध्यान रखें कि आपकी गतिविधियां आपकी प्रेग्नेंसी के लिए सुरक्षित हो (Make sure your activities are pregnancy safe)

कुछ क्रियाकलाप जैसे नौकरी और बाकी आदतें आपके और आपके विकास करते हुये बच्चे के लिए खतरनाक हो सकती है। ऐसे उबाऊ कामों को अब आपको परे रखना होगा। और प्रत्येक दिन आपके घर में सफाई के उत्पाद, रसायन, कोई तरल पदार्थ और किसी पुराने पाइप से टपकती हुई पानी कि बूंदों को साफ करना चाहिए।

अगर आप रोज़ किसी तरह के रसायन, किसी भरी धातु जैसे सीसा या मर्करी, जैव तत्व या रेडिएशन का सामना करते हैं तो कुछ रिसर्च और विज्ञान का कहना है कि आपके लिए जल्द से जल्द ऐसी दिनचर्या को बदलना ज़रूरी है।  अपने डॉक्टर अथवा प्रसाविका से अपनी दिनचर्या के बारे में बात करें, ताकि आप इन खतरों को अपने घर और कार्यस्थल से बाहर निकालने का रास्ता प्राप्त कर सकें।

गर्भावस्था के दौरान कुछ स्वास्थ्य समस्याएँ

नुकसानदायक भोजन से दूर रहें (Start avoiding hazardous foods)

खासकर प्रेग्नेंसी के दौरान यह बहुत ज़रूरी है कि आप ऐसे भोजन से दूर रहें जिनमें बैक्टीरिया, पैरासाइट्स और टॉक्सिन हों। कच्चा मांस, अनपॉश्चुराइड चीज़, कोई भी ऐसा उत्पाद जिसमें कच्चे अंडे हों, कच्ची मछली से तैयार सूशी, कच्चा घोंघा या कोई भी ऐसे कवचधारी जीव के साथ ऐसी मछलियाँ जिनमें मर्करी कि मात्रा ज़्यादा हो और कच्चे अंकुरित अनाज इत्यादि चीजों को नहीं खाना चाहिए। डेली स्टाइल सलाद जिनमें अंडे, मांस और सी फूड होता है, इन्हे खाने से बचना चाहिए। इसके साथ हॉटडॉग, दोपहर के खाने के साथ मांस, स्मोक्ड मीट और मीट स्प्रेड्स का प्रयोग नही करना चाहिए।

अच्छा खाने के बेहतर प्रयास करें (pregnancy me kya khaye – Do your best to eat well)

अगर आप पहले 3 महीने में अच्छा आहार का सही डाइट प्लान फॉलो न कर पाएँ हों तो आपको चिंता करने कि ज़रूरत नहीं। मतली कि वजह से ऐसा हो सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान अच्छा खाने के सात नियमों का बेहतर ढंग से पालन कर आप लाभ पा सकते हैं।

किचन में सेहतमंद चीज़ें रखें (Stock your kitchen with healthy stuff)

अपने भोजन के स्थान, फ्रिज और फ्रीज़र को फल, नट्स और ड्राईफ्रूट्स, मल्टीग्रेन पास्ता और दही के साथ प्रेग्नेंसी-फ्रेंडली रखें।

सुबह की बीमारी से निजात पाएँ (Get relief from morning sickness)

गर्भावस्था के सप्ताह में दुर्भाग्यवश, “सुबह की बीमारी” का प्रभाव सारे दिन रह सकता है। और यह समस्या एक तिहाई महिलाओं को प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही में होती है। अगर थोड़ी बहुत आपकी स्थिति भी ऐसी है तो कुछ आसान उपचारों से आपको मदद मिल सकती है। छोटे छोटे टुकड़ों में खाना और नाश्ता बार बार खाएं, अरुचिकर खाने से ना बचें उन पर बनें रहें। सामान्य तापमान वाला भोजन लें। अदरक और एक्यूप्रेशर बैंड कुछ महिलाओं पर कारगर होता है। अगर ये चीजें आपको फायदा नहीं दे रहीं तो अपने चिकित्सक से विटामिन बी6 और मतली रोकने वाली दवा लें। ये दवाएं प्रेग्नेंसी के दौरान मान्य और सुरक्षित होती हैं।

गर्भावस्था के दौरान ज़्यादा वज़न ना बढ़ने देने के 10 उपाय

जल्दी सोएँ (Go to bed early)

प्रेग्नेंसी के शुरुआती दौर में आप इतनी जल्दी थक जाते हैं, जिसकी आप खुद कल्पना नहीं कर सकते। जल्दी सोकर आप अधिक आराम कर सकते हैं फिर भले ही इससे आपको दादीमाँ की तरह क्यों न महसूस हो।

प्रसव पहले के सारे टेस्ट करवाएँ (Consider your options for prenatal testing)

अपनी पहली तिमाही के दौरान आपकी केयरगीवार आपको कई तरह की स्क्रीनिंग टेस्ट के लिए सुझाव दे सकती है जो आपको बच्चे को डाउन सिंड्रोम, जन्म और क्रोमोसोम से संबन्धित खतरों के बारे में जानकारी देता है। इसके लिए डाइग्नोस्टिक टेस्ट जिसे CVS (कोरियोनिक वीलस सैंपलिंग) कहते हैं का सुझाव दिया जा सकता है। यह समान्यतः 11 से 12 हफ्ते में किया जाता है। या गर्भाशय की जांच के लिए आपको दूसरी तिमाही का इंतज़ार करना होगा।

प्रेग्नेंसी से जुड़ी समस्याओं के लक्षणों को समझने का प्रयास करें (Learn the sign of a pregnancy problem)

प्रेग्नेंसी के दौरान कई तरह की अकड़न, दर्द और अजीब तरह के एहसास होते हैं। यह निर्णय करना बहुत कठिन होता है की क्या सामान्य है और क्या नहीं। इस पेछेड़ा मामले में कुछ लक्षण कम या ज़्यादा मात्रा में परेशानी भरे हो सकते हैं, जब गर्भधारण ठीक तरह से स्थापित हो चुका हो तो गर्भपात आशंका कम हो जाती है। पर यदि आप सुबह की बीमारी और प्रेग्नेंसी की परेशानियों का अभी भी सामना कर रहें हों या आपका काम बहुत श्रमपूर्ण और खतरनाक है तो आपको अपने किसी वरिष्ठ से अपनी प्रेग्नेंसी से संबन्धित योजना के बारे में  बात करनी चाहिए।

अपने बच्चे को बढ़ता हुआ देखें (Follow your baby’s development)

बेबी सेंटर के फ्री ई-मेल, न्यूज़ लेटर और हर सप्ताह आप देखेंगे वास्तव में प्रेग्नेंसी के दौरान आप और आपके बच्चे में क्या होता है।

गर्भावस्था के दौरान परहेज करने वाले भोजन और पेय पदार्थ

अपना बर्थ क्लब जॉइन करें (Join birth club)

कोई नहीं समझ सकता कि इस दौरान आपके साथ क्या हो रहा है सिवाय उनके जो आपकी ही तरह एक ही समय में माँ बनने वाली हैं। उस महीने वाली  महिलाओं से जुड़ें जो आपका भी हो।

पेट कि तस्वीरें लेना शुरू करें (Start taking belly photos)

किसी के द्वारा हर हफ्ते अपने  पेट कि तस्वीरें लें या फिर आईने के सामने खड़े होकर अपनी खुद कि तस्वीरें लें। यह अपने अंदर हो रहे विकास को देखने का बेहतर तरीका है और ये यादगार चीज़ें आपको पसंद आएंगी।

बेहतर शॉट के लिए टिप: हर तस्वीर में वही कपड़े, वही जगह और वही पोज़ दें।

बच्चे से जुड़ने का एक नियम बनाएँ (Start a daily ritual to connect with your baby)

दिन में एक बार 5 से 10 मिनट के लिए बैठें और इस दौरान केवल अपने बच्चे के बारे में सोचें। सुबह उठने के बाद या रात को सोने से पहले अधिकांश भावी माँओं में यह बहुत अच्छा परिणाम देता है। इस दौरान आप शांत भाव में अपना हाथ पेट पर रखकर आराम से बैठें। अपनी साँसों पर ध्यान केन्द्रित करें और सिर्फ अपने बच्चे के बारे में सोचें (आपकी आशाएँ, आपके सपने माँ के रूप में आपके उद्देश्य और बच्चे के रूप में उसके उद्देश्य जैसा कि आप चाहतीं हों)।  यह आपके और बच्चे के बीच संबंध स्थापित करने कि शुरुआत का श्रेष्ठ तरीका है और आप जैसे मातापिता बनना चाहते हैं उसमें यह आपकी मदद करता है।

खरीदें नए अंदरगारमेंट्स (Buy some new bras and undies)

गर्भावस्था के दौरान आने वाले विभिन्न सपने

अगर आपके ब्रेस्ट्स में दर्द रहता है तो आपको कॉटन कि नयी सपोर्टिव ब्रा लेनी चाहिए। मेटरनिटी ब्रा आपको ज़्यादा सपोर्ट दे सकती है। तो एक जोड़ी नए ब्रा खरीद लीजिये, यह आपको पसंद आएंगे। आपके ब्रेस्ट एक या दो साइज़ बड़े हो सकते हैं, खासकर तब, जब यह आपकी पहली प्रेग्नेंसी हो। बिक्री से जुड़ा हुआ कोई ऐसा व्यक्ति जिसे अच्छी जानकारी हो वह सही साइज़ के चुनाव में आपकी मदद कर सक ता है। साथ ही आपके बढ़े हुये पेट के लिए मेटनिटी ब्रिफ़्स, बिकीनी या थोंग, जो भी लेने के बारे में सोचते हों, यह आराम के मामले में आपको भिन्न एहसास दिला सकता है, जिसे आप महसूस कर सकते हैं।

चाहें तो सेक्स करें (Have sex if you feel up to it)

अपनी पहली तिमाही में आप बहुत थके हुये, तुनकमिजाज हो सकते हैं और आपका जी मिचला सकता है। अगर आप प्रेमातुर हैं तो आगे बढ़िए, आप बच्चे को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकते। क्योंकि गर्भाशय की एम्नियोटिक कोशिका और मजबूत मांसपेशियाँ आपके बच्चे की सुरक्षा करती है। और मोती म्यूकस प्लग (Mucus plug) गर्भाशय के मुख को बंद कर होने वाले संक्रमण से बचाती है।

loading...