Eye infection types and remedies in Hindi – आँखों के संक्रमण के प्रकार और उपचार

आँखें शरीर का काफी नाज़ुक अंग होती हैं और कई तरह की समस्याएं ऐसी हैं जिनसे ये प्रभावित हो सकती हैं। आँखों के संक्रमण के कई कारण हो सकते हैं, पर इनके मुख्य कारण होते हैं छोटे जीवाणु और वायरस से हुआ संक्रमण। कभी कभी ऐसे संक्रमण आँखों में कुछ चले जाने की वजह से होते हैं जैसे धुल या गन्दगी। जो लोग खराब लेंस पहनते हैं उनके भी इस संक्रमण के शिकार होने की संभावना काफी ज़्यादा रहती है।

नेत्र रोग – आँखों के कुछ मुख्य संक्रमण (Types of eye infection with remedies)

आँखों के रोग – कंजक्टिवाइटिस (Conjunctivitis)

यह सबसे आम संक्रमणों में से एक है जिससे आँखों में जलन होती है और आँखें लाल होने की शिकायत भी सामने आती है। यह आमतौर पर हवा से पैदा होने वाली समस्या है अतः आपको हमेशा बचकर रहना पड़ेगा।

आँखों के रोग – स्टाइ (Sty eyes infection treatment in hindi)

इसे डॉक्टरी भाषा में होर्डियोलम कहते हैं। यह आँखों की पलकों के नीचे छोटी सी सूजन के रूप में सामने आती है।

आँखों के रोग – ब्लेफेराइटिस (Blepharitis)

आँखों की खुजली की घरेलू चिकित्सा

यह एक प्रकार की आँखों की सूजन है जो आँखों की पलकों को ज़्यादा प्रभावित करती है तथा इससे लोगों को खुजली,जलन तथा काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

आँखों में दर्द – ऑर्बिटल सेलुलाइटिस (Orbital cellulitis me aankh ka ilaj hindi)

यह आँखों के पास हुई एक प्रकार की जलन या संक्रमण (aankhon mein jalan) है। यह काफी गंभीर रूप धारण कर सकती है और अगर सही समय पर इलाज ना किया गया तो आँखों की रौशनी के लिए भी ख़तरा बन सकती है।

केराटाइटिस या कॉर्निया की अल्सर (Keratitis eye infection ka ilaj)

आँखों की देखभाल, यह किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा आँखों के कॉर्निया में आघात पहुंचाने की वजह से होती है।

आँखों के रोग – डेकरियोसिस्टाइटिस (Dacryoadenitis hai aankh me infection)

आँखों की देखभाल, यह आंसुओं की ग्रंथियों के पास हुए संक्रमण को कहते हैं।

लक्षण (How to diagnose eye infection?)

आँखों का लाल होना,पीला या हरा द्रव्य निकलना, आँखों में खुजली, आँखों के अंदर दर्द, नज़र धुंधली होना, आँखों से पानी आना, सूजन, फोटोफोबिया, लगातार आँखों का खुजलाना।

नेत्र रोग घरेलू उपचार – आँखों के संक्रमण के उपचार (gharelu upay for eye infection in Hindi )

1. स्टाइ हटाने के लिए उभरी हुई सूजन पर गर्म कपडे से गर्म भाप करें।

2. स्टाइ का उपचार आप चाय के बैग को पानी में डुबोकर भी कर सकते हैं। इस बैग को स्टाइ पर रखें तथा कुछ देर रहने दें। इससे स्टाइ का आकार 50% तक कम हो जाता है क्योंकि चाय में टैनिक एसिड होता है। स्टाइ के सूख जाने के बाद भी इस प्रक्रिया का प्रयोग करें।

आँखों के लाल होने की समस्या को ठीक करने के उपाय

3. आँख की बीमारी (aankh ke rog), आप अमरुद की पत्तियों को स्टाइ के उपचार के लिए प्रयोग में ला सकते हैं। इन पत्तियों को गर्म करें और एक अारामदायक गीले कपडे में रखें। अब इस गीले कपडे का उपयोग भाप के रूप में आँखों का लालपन और सूजन हटाने के लिए करें।

4. आप एक चम्मच हल्दी को दो गिलास पानी में मिलाकर आई ड्रॉप्स भी बना सकते हैं। सूजन जाने तक इसे रोज़ दिन में 3 बार प्रयोग करें।

5. आँख की बीमारी, 2 गिलास पानी में अकाशिया के पत्तों को 5 मिनट तक उबालें। इसको आँखों की भाप के रूप में प्रयोग करके आँखों की पलकों पर 4 से 5 मिनट तक रखें।

6. आप धनिये को 1 गिलास पानी में उबालकर आँखों के लिए अच्छा घोल बना सकते हैं। यह स्टाइ के उपचार का काफी बढ़िया तरीका है।

7. आँख की बीमारी, एलोवेरा का प्रयोग आँखों की कई समस्याओं और स्टाइ के उपचार के लिए किया जा सकता है। एलोवेरा की एक पत्ती तोड़ें एवं उसके रस को आँखों पर लगाएं।

8. क्लोरीन युक्त पानी में तैराकी ना करें।

9. आप कैमोमिल, लैवेंडर एवं गुलाब की वसा का प्रयोग करके गर्म पट्टी बना सकते हैं एवं कंजक्टिवाइटिस का इलाज कर सकते हैं।

loading...