Fever Diet tips in Hindi – बुखार के आहार – बुखार के दौरान कौन से खाद्य पदार्थ ले और किसे ना ले

जब आप बुखार से पीड़ित होते हैं, तो यह काफी ज़रूरी होता है कि आप पर्याप्त मात्रा में पोषक पदार्थ ग्रहण करें। लेकिन इसके साथ साथ आपका भोजन इतना सादा होना चाहिए कि आपकी पाचन प्रणाली को इस भोजन को हज़म करने में कोई मुश्किल ना हो। ऐसा भोजन करना, जो हज़म करने में आसान और पौष्टिक पदार्थों से भरपूर हो, ज़्यादा मुश्किल नहीं है और इस लेख को पढ़ने के बाद आप आसानी से बुखार के दौरान सही भोजन करने के बारे में जान जाएंगे।

फीवर डाइट – बुखार के दौरान कौन से खाद्य पदार्थ ले और किसे ना ले! (Foods to take and avoid during Fever)

  • बुखार के दौरान पानी अधिक से अधिक पीए, इसका कारण यह है की बेक्टीरिया हमारे शरीर में पानी की कमी से ज्यादा पनपते है। अधिक पानी पीने से सफ़ेद रक्त कोशिकाए ठीक से अपना काम करती है और इनकी संख्या भी बढती है। तरल के सेवन से अन्य विषाक्त पदार्थों को अधिक सहजता से हटा सकते है।
  • गुदे वाले फल व सब्जियों का सेवन अधिक करे! बुखार के समय कैफीन का सेवन बंद या कम कर दे।
  • कच्चे खाद्य पदार्थ की तुलना में पके हुए भोजन को खाए! भोजन में बीज, भाप में पकाई हुई सब्जियों, सूप और फलो के पतले रस को शामिल करे।
  • बुखार से पीड़ित होने पर फलो व सब्जियों के रस, आयुर्वेदिक चाय, ठन्डे फल,शोरबा और जिलेटिन की तरह तरल पदार्थ लेने की ज्यादा कोशिश करे। यदि बुखार दस्त के साथ है तो, दलीया, दही,खिचड़ी, भाप में पकाई हुई सब्जियों, उबले हुए अंडे, सब्जियों के सूप, आधे पके हुए या नरम पदार्थो का सेवन करे।

बुखार में कैसा हो खाना, खाद्य पदार्थ जिनसे बचना चाहिए (Foods which you should be avoided)

डेंगू बुखार को नियंत्रित करने के लिए कुछ निवारण और लक्षण

  • क्रीम दूध या दूध के उत्पादों के सेवन से बचना चाहिए।
  • लाला मांस, मछली, सीप या किसी भी प्रकार के मांस को खाने से बचना चाहिए क्युकी, इन सभी खाद्य पदार्थो से कोलेस्ट्रोल बढता है और ये पचाने में भी आसान नहीं होते है।
  • ऐसे तरल पदार्थ जिनमे सोडा होता है तथा चाय या कॉफ़ी के सेवन से बचना चाहिए।
  • जब भी बुखार का तापमान बहुत ज्यादा हो शराब, तम्बाखू और सिगरेट से बचना चाहिए।

खाद्य पदार्थ में आप तरल पदार्था को जोड़ सकते है (Foods that you can add to the liquids that you take)

बुखार के दौरान आप निचे दिए गए इन तरल पदार्थो को जोड़ सकते है यह आपके खाद्य पदार्थ को जरुरी बनाएगा और आप के इलाज में मदद करेगा।

एंजेलिका जड़ (Angelica root)

बुखार का उपचार, यह बुखार के दौरान बहुत ही प्रभावी भोजन है। इसे सूप या चाय के  साथ मिलाकर लिया जा सकता है। जब यह गर्म हो तब इसका सेवन करना चाहिए यह आपके तापमान को कम करती है और आपके भोजन को पचाने में सहायता करती है।

किशमिश (fever main kya khaye – Raisins)

सूखी अंगूर को किशमिश कहा जाता है। ये एंटीऑक्सीडेंट होते हैं और यह आपके शरीर के भीतर किसी भी प्रकार के संक्रमण से लड़ने के लिए मदद करते हैं। किशमिश में विटामिन c होता है और यह बुखार से लड़ने में मदद करता है।

लहसुन (Garlic)

इसे आप बुखार के दौरान किसी भी प्रकार के ठोस या तरल भोजन के साथ ले सकते हैं, क्यों की यह सबसे अच्छा होता है इसमें एंटी ऑक्सीडेंट बहुत अधिक है यह आपके शरीर को संक्रमण से लड़ने की ताकत को बढ़ा देता है। एक दिन में दो बार गर्म पानी के साथ लहसुन की लौंग का प्रयोग करें। यह बुखार को कम करने में मदद करेगा।

माँ को बुखार होने पर बच्चों को स्तनपान देते समय की सावधानियाँ

तुलसी (Basils)

बुखार के लिए आहार, एक भारतीय जड़ी बूटी है। यह बीमारियों में मदद करता है। इस पत्ती के सेवन से आपके शरीर की चिकित्सा शक्ति बढ़ जाती है। अगर आप शहद और गर्म पानी के साथ मिश्रित तुलसी का रस ले तो आपका बुखार तेजी से ठीक हो जाएगा।

नाश्ता (Breakfast for fever patients)

नाश्ते में रस का सेवन करें। रस में विटामिन c होता है जो की आपके शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करेगा। गर्म दूध भी बुखार के दौरान अच्छा है। बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए केसर की एक चुटकी और एक चम्मच शहद ले। आप नाश्ते में ज्यादा नहीं लेना चाहते  है तो आप बादाम या अन्य सूखे मेवे खा सकते है। ज्यादा नाश्ते का सेवन ना करे और हल्के खाद्य पदार्थो का सेवन करे जिससे बुखार को ठीक होने में मदद मिलेगी।

दोपहर का खाना (लंच) (Lunch during fever)

भोजन में कुछ कार्बोहाइड्रेट ले जैसे रोटी! अपच को दूर करने के लिए ब्राऊन ब्रेड ले। सब्जियों के सूप,दही,सोया,उबली सब्जियों भी आप ले सकते है। प्रोटीन आपके शरीर के लिए अच्छा है! सफ़ेद रक्त कोशिकाओ को बढाने के लिए आप अंडे ले सकते है।

रात का खाना (डिनर) (bukhar mai khana – Dinner during fever)

रात का खाना हल्का होना चाहिए!अपच वाली चीज़े ना खाए। सलाद व उबली सब्जिया अच्छा  विकल्प है। अंकुरित या सेम फली आपको पसंद है तो आप इन्हें भी ले सकते है!चिकन सूप और सब्जियों का सूप भी आप ले सकते है।

चिकन स्टू एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है (Chicken stew can be a good option)

ग्रीन टी की मदद से त्वचा, बाल और शरीर की यूं करें देखभाल

डॉक्टरों का कहना है कि जब आप बुखार से पीड़ित होते हैं तो आपको चिकन के सामान्य और उबले हुए व्यंजनों का सेवन करना चाहिए। चिकन प्रोटीन (protein) का अच्छा स्त्रोत होता है जो आपके शरीर को शक्ति देता है और आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। यह आपको पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा देता है, पर यह सामान्य चिकन के व्यंजनों की तुलना में हज़म करने में काफी आसान होता है। चिकन स्टू का सेवन बुखार के दौरान लोग और भी ज़्यादा इसलिए करते हैं, क्योंकि यह इस तरह बनाया जाता है कि यह आसानी से हज़म हो जाए। अतः अगर आप बुखार से पीड़ित हैं और आपको यह समझ नहीं आ रहा है कि आप भोजन में क्या ग्रहण करें कम मात्रा में मक्खन, काली मिर्च और नमक से मिश्रित चिकन सूप (soup) आपके स्वाद ग्रंथियों और आपके कमज़ोर शारीर दोनों के लिए काफी फायदेमंद होता है।

फल और सब्ज़ियों के प्रति सावधानी (Precautions about fruits and veggies)

बुखार एक ऐसा लक्षण है जिसके अंतर्गत आपका शरीर एक संक्रमण से लड़ रहा होता है, और इस समय आपके लिए यह सुनिश्चित करना काफी ज़रूरी है कि आप किसी नए तरीके के संक्रमण के शिकार ना हों। हमारे द्वारा ग्रहण किये गए भोजन और पेय पदार्थ ही हमारे शरीर में पैदा होने वाले संक्रमणों का मुख्य कारण होते हैं, अतः अगर आप पहले से ही बुखार से पीड़ित हैं तो इस बात को सुनिश्चित करें कि आप ऐसा कुछ भी ना खाएं पिएं जो जीवाणुओं से संक्रमित हो।

अगर आप किसी ताज़ा सब्ज़ी का सेवन कर रहे हैं तो इस बात को सुनिश्चित करें कि यह साफ़ पानी में डुबोया हुआ हो। इसका सेवन करने से पहले इसे अच्छे से धोकर छील लें। इसके अलावा फलों को नमक के पानी से साफ़ करना एक अच्छा विकल्प साबित होता है, क्योंकि यह सादे पानी की तुलना में फलों की सतह से ज़्यादा मात्रा में जीवाणुओं को मारता है। जब आप बीमार हों तो ऐसे फल का सेवन ना करें जिन्हें काटकर लम्बे समय के लिए छोड़ दिया गया हो।

जब बात सब्ज़ियों की आए तो इस बात को सुनिश्चित करें कि सिर्फ अच्छे से पकी सब्ज़ियों का ही सेवन करें, जिन्हें पकाने से पहले अच्छे से जमा करके और धोकर रखा गया हो। इसके अलावा हर बार भोजन करने से अपने हाथों को भी अच्छी तरह साफ करें।

पानी से जुड़ी सावधानियां (Precautions about water)

स्वास्थ्य और सौंदर्य के लिए गुड़हल के फूल के आश्चर्यजनक लाभ

खुद को किसी नए प्रकार के संक्रमण से बचाने के लिए  ज़रूरी है कि बीमार होने के समय आप केवल पूरी तरह से स्वच्छ पानी का ही प्रयोग करें। अगर आप अपने घर में नवीनतम वाटर प्यूरीफायर (water purifier) का प्रयोग नहीं कर रहे हैं तो इस समय उबले पानी पर निर्भर रहना ज़्यादा अच्छा साबित होता है। इसके अलावा इस बात को भी सुनिश्चित करें कि जितनी बार हो सके मुंह धोने के लिए पीने के पानी का ही इस्तेमाल करें, क्योंकि कई बार मुंह धोते समय पानी से पैदा होने वाले संक्रमण हमारे मुंह में प्रवेश कर जाते हैं।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday