Tips in Hindi to take care of baby while you’re pregnant – गर्भावस्था में खुद की देखभाल करने के नुस्खे

एक गर्भवती महिला को काफी अच्छे देखभाल (pregnancy me dekhbhal) और सेवा की आवश्यकता होती है, क्योंकि वह अपने जीवन के सबसे खूबसूरत पर संवेदनशील समय से गुज़र रही होती है। यह काफी आवश्यक है कि उनके जीवन के इस नाज़ुक और महत्वपूर्ण समय में माँ और बच्चे को पूरी तरह से निगरानी में रखा जाए।

एक होने वाली माँ को हमेशा खुश रखने का प्रयास करना चाहिए, क्योंकि वह अपने अंदर भी एक और जीवन को समेटे हुए होती है। मानसिक रूप से तनाव होने पर भी बच्चे के मस्तिष्क पर काफी प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। आप अब कुछ ऐसे तरीकों को अपना सकती हैं, जिनसे आप और आपका बच्चा पूरी तरह स्वस्थ रहेंगे।

सामान्य ब्लड शुगर (Normal blood sugar)

गर्भवती महिलाओं में आमतौर पर ब्लड शुगर की मात्रा या तो काफी ज़्यादा देखी जाती है या फिर काफी कम। अगर आप अपना ब्लड शुगर सामान्य रखने में सफल हो पाती हैं, तो इससे आपका और आपके बच्चे दोनों का स्वास्थ्य बिलकुल अच्छा रहता है। ब्लड शुगर का स्तर ऊंचा रखना ही आपके लिए हितकर होगा, जो कि स्वास्थ्यकर भोजन करने से संभव हो सकता है। अगर आप सारा दिन थोड़ी थोड़ी मात्रा में तथा बार बार भोजन करें, तो इससे आपको अपने ब्लड शुगर को बढ़ाए रखने में काफी मदद मिलती है। अपने खानपान में जितनी हो सके विविधता लाएं जिससे कि आपके ब्लड शुगर के स्तर पर नियंत्रण रखा जा सके।

तीसरी तिमाही के दौरान शरीर में आए परिवर्तन

गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य के लिए आराम करना (Resting)

गर्भवती महिलाओं के लिए ऐसे नाज़ुक मौके पर खुद को ज़्यादा तकलीफ ना देना ही फायदेमंद रहता है। ऐसी स्थिति में वे जितना आराम कर सकें, उतना ही उनके लिए अच्छा होता है। पर्याप्त मात्रा में आराम करने से माँ और बच्चा दोनों का ही स्वास्थ्य बिलकुल अच्छा रहेगा। अगर आप कोई कार्य कर रही हैं तो हर 10 मिनट के अंतराल पर आराम करें। एक ही मुद्रा में ज़्यादा देर तक बैठने या खड़े रहने की कोशिश ना करें, क्योंकि इससे आपको काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। जितना संभव हो सके, सोये या लेटे रहने का प्रयास करें। जल्दी सोने और देर से उठने की भी आदत डालें। अगर संभव हो सके तो दोपहर के तथा रात के खाने से पहले एक छोटी सी नींद ले लें।

गर्भावस्था में देखभाल के लिए दाई या नर्स रखें (Midwife hiring)

आपके या घर के अन्य सदस्यों के लिए एक गर्भवती महिला की हर ज़रुरत का ख्याल रखना तथा उसकी हमेशा देखभाल कर पाना संभव नहीं हो सकेगा। अतः यह काफी आवश्यक है कि आप इसके लिए एक दाई या नर्स रख लें, क्योंकि वे माँ और बच्चे का ख्याल रखने में पेशेवर रूप से काफी निपुण होती हैं। ये नर्स या दाई माँ तथा बच्चे का 6वें महीने से लेकर 9वें महीने तक पूरा ख्याल रखती हैं। आपको दाई या मिडवाइफ को रखते समय काफी सारी बातों का ख्याल करना चाहिए। वह इस कार्य में अनुभवी होनी चाहिए तथा इस तरह की देखभाल और सेवा सुश्रुषा में निपुण होनी चाहिए।

खुद के प्रति आत्मविश्वास (Confidence in body)

गर्भावस्था के समय सुन्दर लगने के नुस्खे

जितना ही आप खुद के शरीर के प्रति आत्मविश्वास से भरपूर रहेंगी, आपके और आपके बच्चे के स्वस्थ रहने की संभावना उतनी ही ज़्यादा प्रबल हो जाएगी। कई लोग आपको बच्चे के जन्म के समय होने वाले दर्द का काफी भय दिखा सकते हैं। ऐसी स्थिति में आपको चाहिए कि आप इस डर को पूरी तरह अपने दिमाग से निकालने का प्रयास करें। इसकी बजाय आप माँ बनने के उस ख़ास अनुभव और अपने और अपने होने वाले बच्चे के सम्बन्ध के बारे में ज़्यादा सोचें। नकारात्मक चिंताओं को अपने मन से निकाल दें। अगर आपको यह लग रहा है कि कोई आपको बच्चे के जन्म से जुड़ी कोई बात बताकर डराने का प्रयास कर रहा है तो उसे ये बातें डिलीवरी हो जाने के बाद कहने के लिए कहें। अपने बच्चे के लिए लड़ने की शक्ति रखें क्योंकि वह ही आपके जीवन में गर्व क्षण लाने में आपकी काफी सहायता करेगा।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,327 other subscribers

गर्भवती महिलाओं के लिए खास टिप्स है शोध (Researches)

अगर आप पहली बार माँ बनने जा रही हैं तो आपको ऐसी बहुत सी बातों का ज्ञान नहीं होगा, जिसकी जानकारी दूसरी बार माँ बनने वाली स्त्री (garbhavastha ki dekhbhal) को हो सकती है। बच्चों की देखभाल से जुड़ी मैगजीन्स, न्यूज़ पेपर तथा लेख पढ़ें जिससे कि आपको इस प्रक्रिया से जुड़े सारे तथ्यों का ज्ञान हो सके। खानपान से लेकर बच्चे के भावनात्मक स्तर की बातों पर भी शोध कर लें। इससे आपके बच्चे की देखभाल काफी अच्छे से होगी, और बच्चे की एक बार देखभाल अच्छी होने पर माँ भी खुश और स्वस्थ रहेगी।

loading...