Foods to eat and avoid for anemia patient in Hindi – एनीमिया के मरीज़ के लिए खाने एवं परहेज़ करने वाले खाद्य पदार्थ

शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी एनीमिया का एक प्रमुख कारण होता है। आपका शरीर आमतौर पर विटामिन बी-12 (Vitamin B-12) की कमी की वजह से लाल रक्त कोशिकाओं को उत्पन्न करने की क्षमता खो बैठता है, एवं कई बार लाल रक्त कोशिकाओं का क्षय भी एनीमिया का कारण बनता है। एनीमिया से ग्रस्त मरीजों को ऐसे भोजन का सेवन करना चाहिए जो आयरन (iron) एवं अन्य विटामिन्स से भरपूर हो, जिससे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की उत्पत्ति मों सहायता मिल सके।

ऐसे खाद्य पदार्थ जिनका एनीमिया के दौरान सेवन आवश्यक है –

समुद्री भोजन (Seafood)

कैल्शियम एवं आयरन युक्त खाद्य पदार्थ

समुद्री भोजन, जैसे डिब्बाबंद साल्मन (salmon), आयरन एवं कैल्शियम (calcium) से भरपूर होते हैं। साल्मन में मौजूद कैल्शियम आयरन के साथ मिश्रित होकर सोखने की क्षमता में वृद्धि करते हैं। आयरन से भरपूर अधिकतर मछलियाँ हैं ताज़ी हैडोक, डिब्बाबंद टूना, सारडाइन्स एवं ताज़ी पर्च (fresh haddock, canned tuna, sardines and fresh perch)।

सोयाबीन (Soybeans)

सोयाबीन में वसा की मात्रा काफी कम होती है। इसे सदाबहार भोजन कहा जाता है, क्योंकि आप इसे किसी भी दूसरे व्यंजन के साथ मिश्रित कर सकते हैं या इन्हें अलग से भी खा सकते हैं। सोयाबीन आयरन का अच्छा स्त्रोत होते हैं एवं इनमें काफी मात्रा में प्रोटीन (protein) भी होता है। सोयाबीन के अलावा आप मटर, किडनी बीन्स (kidney beans), काले बीन्स एवं पिंटो बीन्स (pinto beans) का भी सेवन कर सकते हैं।

लाल मांस (Red meat)

लाल मांस उन प्रमुख खाद्य पदार्थों में से एक है जिसे एनीमिया से ग्रसित मरीज़ को अपनी खानपान तालिका में रखना चाहिए। इसमें काफी अधिक मात्रा में आयरन होता है। आप अपने शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ाने के लिए लाल मांस के साथ हरी पत्तेदार सब्जियों का मिश्रण करें।

शहद (Honey)

शहद प्राकृतिक रूप से मिठास पैदा करने वाले तत्व के रूप में प्रयोग किया जाता है। प्रति 100 ग्राम शहद में 0.42 मिलीग्राम आयरन मौजूद होता है। आप सुबह की चाय में इसका प्रयोग कर सकते हैं। इसके फलस्वरूप आप हर सुबह आयरन की थोड़ी सी खुराक ले सकते हैं।

पोल्ट्री (Poultry)

मधुमेह के रोगियों के लिए श्रेष्ठ खाद्य पदार्थ

पोल्ट्री उत्पाद जैसे अंडे, दूध आदि में काफी मात्रा में आयरन होता है। ये एंटीऑक्सिडेंट्स (antioxidants) एवं विटामिन्स से भी भरपूर होते हैं, जिसकी आवश्यकता एनीमिया से ग्रस्त मरीज़ को होती है।

निम्नलिखित भोजन से परहेज करें –

टैनिस (Tannis)

टैनिस शरीर की आयरन सोखने की काबिलियत को कम करती है जो एनीमिया से ग्रस्त व्यक्ति के लिए काफी हानिकारक हो सकता है। कॉफी, वाइन, ग्रीन टी एवं ब्लैक टी (coffee, wine, green tea and black tea) के सेवन से परहेज करें, क्योंकि उनमें टैनिस की थोड़ी सी मात्रा होती है।

Subscribe to Blog via Email

Join 44,882 other subscribers

अल्कोहल (Alcohol)

फोलेट (folate) की कमी से होने वाले एनीमिया से ग्रस्त लोगों को अल्कोहल के सेवन से पूर्णतः परहेज करना चाहिए। अल्कोहल फोलेट सोखने की शरीर की क्षमता को काफी मात्रा में बाधित करता है।

डेयरी उत्पाद (Dairy products)

डेयरी उत्पादों जैसे दूध, योगर्ट (yogurt) एवं पनीर के सेवन से कुछ हद तक परहेज करना चाहिए। कई बार कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ शरीर में आयरन के कम मिश्रित होने का कारण होते हैं।

फाइटिक एसिड युक्त खाद्य पदार्थ (Foods rich in phytic acid)

भोजन जिनसे होता है माइग्रेन या होती है रोकथाम

फाइटेट युक्त खाद्य पदार्थों में फाइटिक एसिड होता है। ये फाइटेट्स रक्त के प्रवाह में आयरन के कम मिश्रित होने के लिए उत्तरदायी होते हैं। अनाज एवं लेग्यूम्स (legumes) फाइटिक एसिड से युक्त कुछ भोजन हैं।

एनीमिया से प्रभावित हर व्यक्ति को अपने खानपान पर पूर्ण ध्यान देना चाहिए। उपरोक्त खाद्य पदार्थों के अलावा, आयरन से भरपूर अन्य खाद्य पदार्थों का भी सेवन अनिवार्य है। तरबूज़, किशमिश, आलूबुखारे एवं करंट्स (currants) को अपने खानपान में शामिल करें। असंतुलित आहार आपको कमज़ोर एवं थका हुआ बना सकता है। खानपान सही प्रकार से करने पर आप एनीमिया का मुकाबला अच्छे से कर सकते हैं।