Get answer from the experts for all your breastfeeding worries – जानें स्तनपान से जुड़ी कुछ खास बातें, स्तनपान के दौरान क्या करें क्या न करें

अपने शिशु को स्तनपान करना हर माँ का एक सबसे खास अनुभव होता है जो शिशु के लिए बहुत ज़रूरी भी है। स्तनपान न केवल माँ और शिशु के बीच एक संबंध निर्मित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है बल्कि यह शिशु के शुरुआती समय में उसकी प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करने के लिए भी ज़रूरी होता है। बच्चे के जन्म के बाद से छः महीने तक स्तनपान करना बहुत आवश्यक है जिसे आप आने वाले कुछ महीनों से लेकर एक साल की अवधि तक अपनी सुविधानुसार बढ़ा सकते हैं।

खैर जो भी, लेकिन जब नई माताओं के लिए स्तनपान की बात होती है उनके मन में इससे संबन्धित ढेरों सवाल उत्पन्न होते हैं जो स्वाभाविक भी हैं। स्तनपान से जुड़ी कई तरह की सुनी व अनसुनी बातें इस चिंता को बढ़ा देती है कि क्या करें और क्या न करें। यह आलेख आपको ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब ढूँढने में आपकी मदद करेगा जिसके बाद आप निश्चिंत होकर स्तनपान से जुड़ी भ्रांतियों से भी मुक्त हो जाएंगी और आपके मन में उठ रहे चिंताजनक प्रश्नों का सही हल भी मिल जाएगा।

क्या बुखार के दौरान भी माँ अपने शिशु को स्तनपान करा सकती है? (Can i breast feed my baby when i am sick?)

यह नई माताओं के लिए एक बहुत ही सामान्य और सबसे ज़्यादा पूछा जाने वाला सवाल है कि क्या बुखार या ज्वर होने पर भी इस दौरान बच्चे को स्तनपान कराया जा सकता है? तो हम आपको बता दें कि बुखार होने पर भी माँ अपने शिशु को निःसंकोच स्तनपान करा सकती है इसका बच्चे की सेहत पर कोई भी विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता। आपको इस बात को जानना भी बहुत ज़रूरी है कि बुखार या सर्दी जुकाम के दौरान आपके बच्चे में भी इन रोगों के जीवाणु पाहुच जाते हैं और आपको इस बात से और भी ज़्यादा हैरानी होगी कि जिस समय आपको किसी तरह का रोग जैसे सर्दी इत्यादि के लक्षण दिखने शुरू होते हैं तभी से ये जीवाणु आपके बच्चे के शरीर पर भी हमला बोल देते हैं लेकिन आपके शरीर के एंटीबॉडीज़ जब आपके शरीर में रोगों से लगते हुये उनका सामना करते हैं, उसी दौरान ये एंटीबॉडीज़ आपके बच्चे के शरीर में भी स्तनपान के माध्यम से पहुँच कर उसे भी रोगों से लड़ने में मदद करते हैं इस प्रकार शिशु भी आपकी ही तरह जल्दी सामान्य हो जाता है।

पर इसमें एक बात का ध्यान अवश्य रखें, अगर आपको लगातार तीन दिन या इससे ज़्यादा समय तक बुखार आता रहे तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और उनसे सलाह लेकर ऐसी दवाओं का सेवन करें जिससे आपके स्तनपान पर कोई प्रभाव न पड़े। तब तक बच्चे को दूध पिलाना बंद न करें जब तक की आपको या बच्चे को कोई गंभीर संक्रमणजनित रोग न हो।

क्या स्तनपान के दौरान गर्भनिरोधक गोलियां लेना सुरक्षित है?
(Is it safe to take birth control pills during breastfeeding?)

ज़्यादातर गर्भनिरोधक गोलियां ही स्तनपान के दौरान सुरक्षित पाई गई हैं। हालांकि इस दवालों में एस्ट्रोजेन नामक एक तत्व पाया जाता  है जो दूध के निर्माण को कम कर देता है। इसके अलावा कुछ दवाओं में प्रोजेस्टेरोन मौजूद होता है जिन्हें स्तनपान कराने के दौरान बहुत ही सावधानीपूर्वक डॉक्टर कि सलाह के बाद ही लेना चाहिए। वैसे यह प्रोजेस्टेरोनयुक्त दवाएं माँ के शरीर में दूध निर्माण की प्रक्रिया को तेज करने में भी मदद करती है लेकिन इनका सेवन करने के पहले डॉक्टर से उचित परामर्श लेने के बाद ही इन्हें प्रयोग में लाएँ।

सर्दी जुकाम की दवाएं स्तनपान के दौरान सही या गलत? (Cold medications are safe during breastfeeding?)

सर्दी जुकाम होना एक आम बात है और यह स्तनपान की अवधि के दौरान हो तो भी यह एक सामान्य सी बात है। सर्दी जुकाम होने पर आप सामान्य कफ सिरप का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह आपके शरीर से बच्चे में इसके  जीवाणुओं को ज़्यादा देर तक फैलने से रोकेगा और आपके सर्दी जुकाम को भी ठीक करेगा। लेकिन जब आप इनका सेवन करें तो इस बात का ध्यान रखें कि आप जो सिरप या दवाएं ले रही हैं वो केवल सर्दी जुकाम को ठीक करने के लिए ही हो, बहुत ही दवाओं में कुछ ऐसे तत्व सम्मिलित होते हैं जो सर्दी के साथ होने वाली अन्य तकलीफों के लिए भी असरकारक होते हैं। ऐसी दवाओं को लेने से बचें और केवल सामान्य सर्दी दूर करने वाले सिरप का ही इस्तेमाल करें। इन्हें लेने के पहले डॉक्टरी परामर्श लेना न भूलें।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,330 other subscribers

स्तनपान के दौरान दर्दनिवारक दवाएं लें या नहीं? (Painkillers are safe during breastfeeding?)

ज़्यादातर दर्दनिवारक दवाएं ही स्तनपान के दौरान सुरक्षित मानी जाती हैं। वैसे प्रसव के बाद 3 से 4 दिनों तक दर्द से राहत के लिए दर्दनिवारक दवाओं का सेवन किया जा सकता है और इस दौरान घबराने या चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं होती क्योंकि इस समय माँ के शरीर में दूध का निर्माण कम होता है। नार्कोटिकरहित (non-narcotic) पेनकिलर या दर्दनिवारक गोलियां स्तनपान के समय सुरक्षित मानी जाती हैं लेकिन इनकी ली जाने वाली मात्रा पर विशेष ध्यान देना ज़रूरी है।

सबसे अच्छी बात यह होगी कि स्तनपान के दौरान नार्कोटिकरहित पेनकिलर का ही इस्तेमाल किया जाए। इसे लेने के पहले अपने डॉक्टर से अच्छी तरह परामर्श लेने के बाद इसका सेवन शुरू करें।

क्या स्तनपान के दौरान वजन कम किया जा सकता है? (Is it safe to lose weight while breastfeeding?)

यह एक बहुत ही आम प्रश्न है जो नई माताएँ अक्सर पूछना चाहती हैं, क्या स्तनपान के दौरान वजन कम करने के लिए कोई उपाय किया जाना सेहतमंद है? प्रेग्नेंसी के दौरान वजन बढ़ना एक सामान्य प्रक्रिया है जिसे प्रसव के बाद कम किया जाना चाहिए। अगर आप प्रसव के बाद अपने शरीर में कुछ अतिरिक्त वसा या चर्बी का अनुभव कर रही हैं तो आपको निश्चित तौर पर अपने पुराने शेप में वापस आने की कोशिश करनी चाहिए। इसके लिए आपको दस महीने से लेकर एक साल तक का समय लग सकता है।

बच्चे के जन्म के बाद तुरंत वेट कम करना सेहतमंद नहीं है, बल्कि आपको इसके लिए धीरे धीरे प्रयास करने होंगे। जल्दी वेट कम करने से आपके दूध में टॉक्सिन की मात्रा में बढ़त आ सकती है जो आपके और आपके शिशु के लिए हानिकारक है। वजन घटाने के उपायों के लिए एक छोटी सी शुरुआत करें और इसे धीरे धीरे आगे बढ़ाएँ। यह कोई मुश्किल काम नहीं है बल्कि स्तनपान कराते हुये वजन कम करना और भी आसान होता है क्योंकि स्तनपान से आपके शरीर की कैलोरी अपने आप बर्न होती है और आपकी अतिरिक्त वसा को कम करने में मदद मिलती है। डाइटिंग या बहुत सख्त मेहनती शारीरिक परिश्रम की जगह हल्के फुल्के एक्सरसाइज करें। अपने रोज के आहार में सभी आवश्यक पोषकतत्व लें। इस सब के साथ स्तनपान कराते हुये आपका वजन कम हो जाएगा।

क्या स्तनपान के दौरान किसी भी तरह की वैक्सीन ली जा सकती है? (Can I get a vaccine while breastfeeding my child?)

अगर आपको किसी तरह की ज़रूरी वैक्सीन लेनी है जिसे आप स्तनपान के दौरान टाल रही हैं तो देर किए बिना इसे समय पर लगवाएँ। बल्कि शिशु के जन्म के बाद और स्तनपान के दौरान समय से पहले ही वैक्सीन लगवा लेनी चाहिए, यह आपके शरीर को रोगजनित जीवाणुओं से बचाने में मदद तो करता हई है साथ ही यह आपके शिशु के शरीर में इन जीवाणुओं के प्रवेश को भी रोकता है। स्तनपान के दौरान वैक्सीन लेना माँ के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है।

एलर्जी के लिए ली जानें वाली दवाएं स्तनपान के दौरान सुरक्षित हैं या नहीं? (Allergy medications are safe during breastfeeding?)

अगर आप स्तनपान कराने के दौरान किसी तरह की एलर्जी का शिकार हैं और उसके लिए दवा लेना चाहती हैं तो ऐसी दवाओं के इस्तेमाल के पहले डॉक्टर से अपनी जांच करा कर ही दावा लें। वैसे तो एलर्जीरोधी दवाएँ स्तनपान में कोई नुकसान नहीं पहुँचती और कुछ हिस्टामिन्स माँ के साथ शिशु के शरीर में भी पहुँचकर उसे सामान्य महसूस करने में मदद करते हैं, लेकिन इनका सेवन करने के पहले अपने डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।

स्तनपान के दौरान कॉफी का सेवन सुरक्षित है या नहीं? (Is it safe to drink coffee while I am breastfeeding my child?)

कॉफी के द्वारा लिया गया कैफीन स्तनपान के माध्यम से शिशु के शरीर में पहुँच जाता है लेकिन इसकी मात्रा एक प्रतिशत से भी कम आँकी गई है। रोजाना एक कप कॉफी आपके और शिशु के लिए किसी तरह से हानिकारक नहीं हो सकता लेकिन दिन्न भर में ली जाने वाली कॉफी की मात्रा भी इसके प्रभाव पर विशेष रूप से निर्भर करती है। स्तनपान के दौरान आपको ज़्यादा कॉफी पीने से बचना चाहिए कुछ शिशुरोग विशेषज्ञों के अनुसार दिनभर में आपके द्वारा ली जाने वाली कॉफी की मात्रा तीन कप से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए, आप दिन भर में 300 मिलीग्राम तक कॉफी का सेवन कर सकती हैं।

क्या अल्कोहल का सेवन स्तनपान के दौरान किया जा सकता है? (Is it safe to have alcohol while breastfeeding?)

वैसे तो अल्कोहल का सेवन किसी भी प्रकार से लाभदायक नहीं होता, लेकिन अगर आप स्तनपान और शिशु के लालन पालन के दौरान अल्कोहल का सेवन करना चाहती हैं तो किसी ऐसे ड्रिंक का सेवान्न करें जिसमें अल्कोहल कि मात्रा अतिनिम्न हो जैसे वाइन या कोई अन्य कम अल्कोहल वाले ड्रिंक्स। जब आप अल्कोहल का सेवन करती हैं तो आपके स्तनपान के द्वारा यह बच्चे के शरीर में भी चला जाता है इस समय शिशु का लीवर इतना मजबूत नहीं होता कि अल्कोहल को पचा पाये जिसका अन्य तरह से बुरा प्रभाव शिशु के शरीर पर दिखाई देता है। अल्कोहल लेने के बाद कम से कम 3 से 5 घंटे के भीतर शिशु को स्तनपान नहीं कराना चाहिए।

सबसे बेहतर उपाय यह है कि स्तनपान के दौरान अल्कोहलयुक्त पेय पदार्थों से पूर्णतः दूर रहा जाए, यह माँ और शिशु की सेहत के लिए अच्छा होगा।

loading...