Dandelion root and it’s beauty health benefits – सिंहपर्णी की जड़ें और इसके स्वास्थय एवं सुन्दरता सम्बंधित गुण

सिंहपर्णी (dandelion) को ज्यादातर जंगली घास ही समझा गया है लेकिन रिसर्च के अनुसार इसके अनेक स्वास्थय एवं सुन्दरता सम्बंधित गुण है। इसके औषधीय गुण के कारण चाइनीस लोग इस जड़ को अनेक इलाज करने के लिए उपयोग में लिया करते थे। इस से पाइल्स, पित्त पथरी और अन्य पेट से सम्बंधित रोग का इलाज किया जा सकता है।

गर्भवती महिला के लिए इसका सेवन कारण बहुत ही अनिवार्य है क्योंकि इस से स्तन के दूध की क्वालिटी और मात्रा को बढ़ाया जा सकता है। नीचे इसके स्वास्थय और सुन्दरता सम्बंधित गुण को दर्शाया गया है।

सिंहपर्णी एक पौधा है जिसे अनेक लोग जंगली घास कहते है, यह ज्यादातर बगीचे में भी पाया जाता है। अगर आप बगीचे को ध्यान से देखेंगे तो आप इस पौधे को हर जगह फैलता हुआ पायेंगे। बहुत से लोग इस पौधे का नाम तक नहीं जानते होंगे। लेकिन इस पौधे में मनुष्य के स्वास्थ्य एवं सुन्दरता के लिए लाभ भरे पड़े है।

आज कल लोग कैप्सूल का सेवन कर रहे है जिसमे सिंहपर्णी की जड़ के एक्सट्रेक्ट का उपयोग किया गया है। अब आप इस आर्टिकल को पूर्ण पढ़कर सिंहपर्णी की जड़ के लाभ के बारे में जानकारी प्राप्त कर पायेंगे।

सिंहपर्णी जड़ के स्वास्थय एवं सुन्दरता सम्बंधित गुण (Health and beauty benefits of dandelion root)

पाचन के स्वास्थय को सुधारे (Promotes digestive health)

सिंहपर्णी में अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है जिस से आप अपने पाचन तंत्र को सुधार सकते है। यह पाचन की प्रक्रिया को सुधारने के लिए पित्त (bile) को बढ़ाता है जो की सही पाचन के लिए आवश्यक है। यह लीवर को भी सुरक्षित रखता है और हलके लैक्सेटिव (laxative) की तरह अधिनियम करता है।

सिंहपर्णी के लाभ लीवर की सुरक्षा करे (Protects liver hai sinhaparnee ke gun)

टॉप प्राकृतिक स्वीटनर, चीनी स्थानापन्न

सिंहपर्णी की जड़ में ल्युटीओलिन (luteolin) और विटामिन c मौजूद है जिस से आप लीवर वायरल इन्फेक्शन से सुरक्षित रह सकते है और साथ ही आने से रोक सकते है। यह पीलिया के जोखिम को भी कम करता है। इस जड़ में कोलीन (choline) भी मौजूद है जिसे लीवर स्तिमुलंट (liver stimulant) कहते है और यह हेमरेज (hemorrhage) के इलाज के लिए सहयोगी है।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,326 other subscribers

सिंहपर्णी के गुण यह विटामिन का पदार्थ है (Vitamin source)

सिंहपर्णी की जड़ में विटामिन A और विटामिन k मौजूद है जो शरीर को नियंत्रित बनाए रखने के लिए आवश्यक है। विटामिन A जो सिंहपर्णी की जड़ में मौजूद है इसमें जीअक्सानथिन (zeaxanthin) अर्थात केरोटीनोइड (carotenoid) भी है जो आँखों को हानिकारक UV रेस से सुरक्षित रखती है। इसलिए रोजाना सिंहपर्णी का रस का सेवन करे। सिंहपर्णी की जड़ में मौजूद विटामिन k न्यूरॉन डैमेज से लड़ कर, हमारे शरीर को अल्झाइमर (alzheimer) रोग से सुरक्षित रखता है।

रोग प्रतिरोधक शक्ति को सुधारे (Improves immune system health)

सिंहपर्णी की जड़ से हम हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ा सकते है वो भी अनेक प्रकार से। इस जड़ में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट सेल्स और DNA को सुरक्षित करती ही और इस तरह सेल्स पर फ्री रेडिकल मॉलिक्यूल के प्रभाव को कम किया जा सकता है। इस तरह यह एजिंग की प्रक्रिया को उतपन्न होने में विलंब करता है। बहुत से लोग यह जानते है की सिंहपर्णी के रस एक प्रकार से प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए टॉनिक है जो विषाक्त पदार्थ का नाश करता है और अन्य हानिकारक एसिड को शरीर से निकालता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ा कर उनके लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है और इस तरह शरीर को फंगल और माइक्रोब से दूर रखता है।

स्वस्थ त्वचा के लिए सिंहपर्णी के फायदे (Healthy skin)

सिंहपर्णी एक बेहतरीन पदार्थ है जिस से आप अपनी त्वचा को निखार सकते है और साथ ही स्वास्थय को स्वस्थ बनाता है। इसमें मौजूद एंटी- फंगीसाइडल और एल्कलाइन गुण से आप अनेक फंगल इन्फेक्शन का इलाज कर सकते और साथ ही माइक्रोब्स द्वारा उत्पन्न हुए इन्फेक्शन को भी दूर रख सकते है। सिंहपर्णी की जड़ का पेस्ट बना कर इसे इन्फेक्शन वाली त्वचा पर लगा लें और इस तरह आप इन्फेक्शन से छुटकारा पा सकते है। यह त्वचा से सम्बंधित समस्या जैसे दाद, खुजली से छुटकारा दिलाता है।

एक्ने को निकाले (Acne remover me sinhaparnee ke labh)

बदहजमी के इलाज के लिए पेपरमिंट / पुदीने के जूस का नुस्खा सहित विडियो

आप सिंहपर्णी की जड़ से एक्ने की समस्या को दूर कर सकते है वो भी प्राकृतिक रूप से। इस रस में डाईयुरेटिक (diuretic) और डीटोक्सीफाइंग (detoxifying) गुण है जो हॉर्मोन के स्राव को नियंत्रित करता है और पसीने को बढ़ाता है। इस तरह शरीर से सभी अनचाहे पदार्थ पसीने और मूत्र के रूप में निकल जाते है। आप चाहे तो सिंहपर्णी की जड़ के पेस्ट को अपने त्वचा पर लगा कर माइक्रोब का नाश कर सकते है और इस तरह एक्ने का इलाज प्राकृतिक रूप से कर सकते है।

सिंहपर्णी की जड़ के सुन्दरता सम्बंधित गुण (Beauty benefits of dandelion root)

बालों को बढ़ने में सहायक (Hair growth stimulation)

कुछ व्यक्ति के बाल कुछ लम्बाई के बाद बढ़ने कम हो जाते है या पूर्ण रूप से बंद हो जाते है। यह समस्या हम सब के लिए बढती जा रही है। लेकिन सिंहपर्णी की जड़ के उपयोग से आप अपने बालों को बढ़ने में सहायक प्रदान कर उन्हें पहले की तरह स्थिर बना सकते है। इस से आप अपने बालों को घना बना पायेंगे। आपको इसकी जड़ को लेना है और इसे पीस कर इसका रस निकाल लेना है। इस रस को फिर अपने बालों की जड़ पर लगाए ताकि यह रस हेयर फॉलिकल (hair follicle) तक पहुँच सके। इसे हफ्ते में दो बार करें और आप परिणाम को देख सकेंगे।

सिंहपर्णी जड़ कैंसर को आने से रोके (Prevents cancer)

कैंसर जो सबसे खतरनाक रोग है उसे आज कल मेडिकल साइंस और हर्बल के नुस्खो से दूर किया जा सकता है। आपने सही सुना, आप कैंसर जैसे रोग से अपने आप को सुरक्षित रख सकते है वो भी हर्ब के उपयोग से। सिंहपर्णी की जड़ एक प्रभावशाली हर्ब है जिस से आप शरीर में कैंसर को जड़ से उत्पन्न नहीं होने देंगे। इस सिंहपर्णी की जड़ से आप कैंसर के सेल्स को बढ़ने से भी रोक सकते है। सिंहपर्णी के पत्ते में भी एंटी ऑक्सीडेंट सहित फ्य्तोनुत्रिएन्त (phytonutrient) है। इस से आप आसानी से कैंसर से सुरक्षित रह सकेंगे।

सिंहपर्णी के लाभ ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करे (Controlling blood pressure level)

यूरिक एसिड से भरपूर खाने कौन से है?

नियमित समय से एक व्यक्ति में ब्लड प्रेशर की मात्रा का जांच करना आवश्यक है। आज कल बहुत से लोगो को ब्लड प्रेशर से सम्बंधित समस्या है। यह स्ट्रेस या अनुवांशिक (hereditary) समस्या के कारण हो सकता है। अगर आप सिंहपर्णी की जड़ के रस का सेवन करते है तो आप अपने ब्लड प्रेशर की मात्रा को हाई होने से रोक सकते है। ब्लड प्रेशर को संतुलित बनाए रखना बहुत ही आवश्यक है। इसलिए इसका उपयोग आज ही करें और ब्लड प्रेशर की समस्या से दूर रहें।

loading...