Best benefits of horsetail – अश्वा पुच्छा के श्रेष्ठ लाभ

अश्वा पुच्छा को बायोलोजिकली इक्वीस्टेम (equistem) कहते है। बीजाणु से बनता है ना की बाकी पौधों की तरह बीज से, यह दिखने में अल्फाल्फा की तरह है। अश्वा पुच्छा एक विशेष पौधा है जिसमे कम सिलिका मौजूद होता है। इसमें बहुत से गुण भी है जैसे एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी सेप्टिक और एंटी माइक्रोबियल गुण है। ज्यादातर इसमें औषधीय गुण है और यह बहुत ही उपयोगी पौधा है।

आप धरती पर अनेक प्रकार के पौधे और जड़ी बूटी को उगते हुए देखते है। क्या आप जानते है की बहुत से हर्ब और पौधे हमारे लिए बहुत ही लाभकारी है? लेकिन इन लाभ को प्राप्त करने के लिए आपको सही पौधे के सही गुणों को पहचानना होता है। अश्वा पुच्छा एक ऐसा पौधा है जिसके बहुत ही पतले और बारीक पत्ते होते है।

सबसे ख़ास बात इस पौधे यह है की इसकी जड़ एक दम पक्षी की पूँछ की तरह दिखती है। इस पौधे का रिप्रोडक्शन बीजाणुओं द्वारा होता है ना की बीज द्वारा। आपने इस पौधे को बगीचे या गलियों में देखा होगा लेकिन आप इसका नाम नहीं जानते होंगे और ना ही इसके स्वास्थय सम्बंधित लाभ।

अश्वा पुच्छा के स्वास्थय एवं सुन्दरता सम्बंधित लाभ (Health and beauty benefits of horsetail)

स्वस्थ लीवर और किडनी (Healthy liver and kidneys)

अश्वा पुच्छा किडनी की समस्या का इलाज करता है। यह किडनी स्टोन को निकालने में प्राकृतिक रूप से सहायक है। इसके साथ अश्वा पुच्छा मूत्राशय इन्फेक्शन (bladder infections), स्टोंस और जेनेरिक ग्लैडर की समस्या (generic gladder problems) का इलाज करता है।

हड्डियों को मजबूत बनाए (Strengthens bones)

अश्वा पुच्छा में कैल्शियम भरपूर होता है जिस से यह हड्डियों को मजबूत बनाता है और साथ ही नाखूनों को भी, यह नाज़ुक उँगलियों और कमज़ोर हड्डियों का इलाज करता है।

नियंत्रित माहवारी को बनाए रखने में सहयोगी (Helps for regular menstruation)

महिलाए जिन्हें सही नियंत्रण रूप से माहवारी नहीं आ रहा है और जिन्हें ज्यादा बहाव होता है इस दौरान, उन महिलाओं को अश्वा पुच्छा के सप्लीमेंट या अश्वा पुच्छा के एक्सट्रेक्ट का सेवन कर अपनी समस्या का इलाज करना चाहिए।

Subscribe to Blog via Email

Join 45,328 other subscribers

अन्य समस्या (Others problems)

समस्या जैसे पेट से सम्बंधित रोग, पीलिया, ट्यूबरक्लोसिस, हेपेटाइटिस, लंग से सम्बंधित समस्या और शीतदंश है उन्हें प्राकृतिक अश्वा पुच्छा का एक्सट्रेक्ट का सेवन करना चाहिए और इन समस्या का इलाज करना चाहिए।

एंटी- सेप्टिक गुण (Antiseptic properties)

अश्वा पुच्छा में एंटी सेप्टिक गुण भरे हुए है जिस से आप अपने घाव पर दे गंद के रिएक्शन को उत्पन्न होने से रोक सकते है। घाव वाली त्वचा पर सीधे अश्वा पुच्छा को लगाए और उसे गंद से बचाए।

एंटी- इंफ्लेमेटरी गुण (Anti-inflammatory properties)

अश्वा पुच्छा में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण है जिस से आप अपने निशान / रैशस का इलाज कर सकते है जो कपडे या कोई प्रकार के रिएक्शन से उत्पन्न होते है। ठंडा और पानी मिलाया हुआ अश्वा पुच्छा को अपने पिम्पल औए एक्ने वाले स्थान पर लगाए और इनसे छुटकारा पाए। अश्वा पुच्छा की चाय को एक्ने वाली त्वचा या रैशस / निशान पर लगाए और फिर पानी से अच्छे से धो लें।

एंटी- एजिंग गुण (Anti-aging properties)

अश्वा पुच्छा एक सबसे मुख्य पदार्थ है जिसका उपयोग मैन्युफैक्चरिंग कंपनी अपने प्रोडक्ट में उपयोग करती है क्योंकि इसमें एंटी- रिंकल और एंटी- एजिंग के गुण मौजूद है। इसे इसलिए उपयोग में लिया जाता है क्योंकि इसमें क्षमता है की यह शरीर के कनेक्टिव टिश्यू (connective tissue) को स्वस्थ बनाता है और इनका विकास करता है।

स्वस्थ बालों का ग्रोव्थ (Healthy hair growth)

जो लोग अपने बालों को स्वस्थ और प्राकृतिक रूप से बढ़ाना चाहते है वे अश्वा पुच्छा का उपयोग कर सकते है। इसे अनेक प्रकार में उपयोग में लिया जाता है और यह गंजेपन (baldness) की समस्या को दूर करता है। इसे अपने गंजेपन के स्थान पर लगाए या इसके सप्लीमेंट का सेवन कर अपने बालों की ग्रोव्थ को बढाए। आप अश्वा पुच्छा के एक्सट्रेक्ट से रस निकाल लें और इसमें थोडा एक्स्ट्रा वर्जिन आयल या नारियल के तेल को मिलाए और अपने सिर की त्वचा पर इस से मसाज करें। इस से आपके बाल स्वस्थ रूप से बढ़ते है और घने बनते है।

बालों की समस्या (Hair problems)

एक और ख़ास लाभ इसका यह है की यह बहुत से बालों से सम्बंधित समस्या का इलाज करता है और इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं है। इसके उपयोग से आप रूसी और दोमुंहे की समस्या का इलाज कर सकते है। इसके साथ ही इस से आप सुन्दर बालों को प्राप्त कर सकते है।

प्राकृतिक रूप से बालों को कंडीशन करे (Conditions the hair naturally)

सबसे सामान्य समस्या जैसे सूखे और गांठ से भरपूर बालों का इलाज आप इस अश्वा पुच्छा के उपयोग से आसानी से कर सकते है। अश्वा पुच्छा को कंडीशनर के रूप में उपयोग में लें और शैम्पू के बाद इसे लगाए।

गले की समस्या का इलाज करे (Cures throat problem)

गले से सम्बंधित समस्या है जो आगे जा कर हानिकारक साबित हो सकते है। आपको इसको लेकर बहुत ध्यान से रहना चहिये और इसका नियंत्रित रूप से इलाज कराना चाहिए। आप इस समस्या का शिकार जुकाम के कारण भी बन सकते है। इस से आपको थ्रोट इन्फेक्शन होता है और आपको बोलने में परेशानी होती है। लेकिन अश्वा पुच्छा नामक हर्ब से आप अपनी इस समस्या का इलाज करा सकते है। यह सबसे प्रसिद्ध हर्ब है जो मुंह और गले की समस्या का इलाज करता है।

नाज़ुक नाखून (Brittle nails)

लोग अनेक कारणों के कारण अस्वस्थ नाखूनों का शिकार बन जाते है। कभी आप अपने नाखून पर सफ़ेद स्पॉट / दाग को देख सकते है तो कभी आप अपने नाखून को नाज़ुक महसूस कर सकते है। आप इस समस्या को अश्वा पुच्छा के उपयोग से कम कर सकते है। इसके लिए आपको अश्वा पुच्छा के पौधे से उसके पत्ते लेने है और इसका पेस्ट निकाल लेना है। अब इस पेस्ट में थोडा पानी मिलाए और एक कटोरे में डाल लें। अब अपने उँगलियों को इस सलूशन में डुबोए। इसे 10 से 20 मिनट के लिए रखें और आप मजबूत नाखूनों को प्राप्त कर सकते है।

पैरों में इन्फेक्शन (Foot infection)

आप अश्वा पुच्छा से एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल के गुणों का लाभ उठा सकते है। आज कल अनेक प्रकार के इन्फेक्शन पैरों में उत्पन्न हो रहे है, जिसका इलाज आप अश्वा पुच्छा हर्ब से कर सकते है। समस्या जैसे एथलिट फूट को निकाल सकते है, इस बेहतरीन हर्ब के उपयोग से। इस हर्ब का उपयोग अनेक प्रकार की त्वचा और स्वास्थय सम्बंधित समस्या का इलाज कर सकते है।

loading...