Importance and foods highest in vitamin A – विटामिन ए की आवश्यकता तथा इससे युक्त भोजन

विटामिन ए के गुण (Importance of vitamin A or vitamin a ke gun)

आँखों का स्वास्थ्य सही रखने के लिए आपको निरंतर तथा सही मात्रा में विटामिन ए (vitamin A) का सेवन करना चाहिए। विटामिन ए के फायदे यह आँखों के लिए काफी ज़रूरी विटामिन है। विटामिन ए के गुण, यह जीन्स की प्रतिलिपि (gene transcription) में भी सहायता करता है तथा प्रतिरोधक तंत्र (immune system) की कार्यशीलता में भी वृद्धि करता है। विटामिन ए आपके त्वचा की देखभाल भी काफी प्रभावी तरीके से करता है। विटामिन ए के गुण, यह आपके सेहत का कई तरीकों से ध्यान रखता है। विटामिन ए का लाभ, विटामिन ए की सही खुराक शरीर को विभिन्न प्रकार के वायरस (virus) से निपटने की शक्ति देती है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि विटामिन ए की आवश्यकता से ज़्यादा खुराक ना लें। इसका अतिरिक्त सेवन करने पर मतली (nausea), भूख ना लगना, बालों का झड़ना, जॉन्डिस (jaundice) तथा चिड़चिड़ापन जैसी समस्याएं हमें घेर लेती हैं। विटामिन ए के लाभ, अतः इसका सही समय पर सही मात्रा में सेवन करें।

विटमिन ए से भरपूर भोजन (Foods rich in vitamin A or vitamin a ke source)

आवश्यक विटामिन्स का इतिहास

विटमिन ए उन विटामिन्स के अंतर्गत आता है जो फैट सॉल्युबल (fat soluble) होते हैं, और इसी लिए ज़्यादा मात्रा में इसे सोखने के लिए आप इसका फैट्स (fats) के साथ सेवन कर सकते हैं। विटामिन ए से युक्त कई प्रकार के भोजन होते हैं। पके हुए गाजर विटामिन ए का काफी अच्छा स्त्रोत होते हैं। इन्हें काटकर या जमाकर खाने पर भी काफी फायदा होता है। बटरनट (butternut) के रूप में स्क्वाश (squash) पकाकर खाने से हमें काफी मात्रा में विटामिन ए प्राप्त होता है। इसके लिए हब्बार्ड (hubbard) का सेवन करें, और इसके अलावा ठण्ड में मिलने वाले सभी तरह के स्क्वाश का भी सेवन कर सकते हैं। सूखी खुबानी (dried apricot) विटामिन ए का एक और अच्छा स्त्रोत है। आप अपने भोजन में प्रून्स (prunes) तथा सूखे पीच (dried peaches) भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

विटमिन ए के गुण, मीठी लाल मिर्च (sweet red peppers) विटामिन ए का काफी अच्छा स्त्रोत होती है। आप स्वीट ग्रीन पेपर (sweet green pepper) तथा स्वीट येलो पेपर (sweet yellow pepper) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आम भी विटामिन ए का काफी प्रभावी स्त्रोत होता है। विटमिन ए के गुण, पपीते में भी इस विटामिन के काफी ज़्यादा अंश होते हैं। विटामिन ए के स्त्रोत पालक का सेवन कच्चे या पके, दोनों ही रूपों में करने से आपको अच्छी खासी मात्रा में विटमिन ए के लाभ की प्राप्ति होती है। स्विस चार्ड (swiss chard), हरी शलजम (turnip greens), कलार्ड्स (collards) और केल (kale)में भी विटामिन ए भरपूर मात्रा में होती है।

विटामिन ए की कमी के कारण (The causes of vitamin A deficiency)

शरीर में विटामिन ए की कमी होने के कई कारण होते हैं। जो लोग अच्छे से भोजन नहीं करते, वे निश्चित रूप से इसकी कमी के शिकार हो सकते हैं। अगर आप समय से भोजन नहीं करते, तब भी आपको इस विटामिन की कमी का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे कई लोग हैं जो मुख्य रूप से सिर्फ चावल ही खाते हैं। इससे उन्हें कैरोटीन (carotene) प्राप्त नहीं होता, जो कि इस विटामिन की कमी से ग्रस्त होने का काफी बड़ा कारण है। अगर आप हरी पत्तेदार सब्ज़ियाँ खाना पसंद नहीं करते, तो इस बात की काफी संभावना है कि आप भी विटमिन ए की कमी से ग्रस्त होंगे। शरीर में प्रोटीन से प्राप्त ऊर्जा की कमी हो जाए, तो ज़ाहिर तौर पर आपको विटमिन ए की कमी भी होगी। मारास्मस (marasmus) या क्वाशियोरकोर (kwashiorkor) की समस्या से ग्रस्त होने की स्थिति में भी आपके शरीर में विटामिन ए की कमी हो सकती है।

यह कमी तब भी हो सकती है, जब आपका शरीर सोखे गए कैरोटीन को विटामिन ए में परिवर्तित करने में सक्षम ना हो पा रहा हो। कई विकासशील देशों (developing countries), जैसे एशिया (asia), अफ्रीका  (africa) और कई अन्य पश्चिमी देशों में विटामिन ए की कमी काफी सामान्य बात है।

विटामिन ए की कमी के लक्षण (Symptoms of vitamin A deficiency)

खूबसूरत त्वचा पाने के लिए 5 सर्वोत्तम विटामिन

विटमिन ए की कमी आँखों की रौशनी कम होना इस विटामिन की कमी का एक प्रमुख लक्षण है। इस स्थिति के गंभीर हो जाने की स्थिति में आपको रतौंधी (night blindness) भी हो सकती है। इसके अंतर्गत आपको अँधेरे में कुछ नहीं दिखता। इस स्थिति के और भी गंभीर चरण में पहुँचने पर आपको कन्जंकटिवा (conjunctiva) नामक बीमारी हो सकती है। विटमिन ए की कमी, इसके अंतर्गत आपकी आँखों के सफ़ेद भाग पर धब्बे पड़ जाते हैं। इस स्थिति में आपकी आँखें पूरी तरह सूख जाती हैं और आपको कॉर्नियल अलसर (corneal ulcer) हो सकता है। इसे नज़रअंदाज़ करने पर आपके अंधे होने का भी ख़तरा हो जाता है।

loading...

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday