Disadvantages of obesity in Hindi – अधिक वजन और मोटापे के साथ जुड़े स्वास्थ्य प्रभाव

आजकल मोटापे से ग्रस्त होना काफी गंभीर समस्या बनता जा रहा है, क्योंकि इससे शरीर में कई बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं। आजकल लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर काफी सजग हो गए हैं और वे स्वास्थ्यकर फल और सब्ज़ियों के सेवन में ही विश्वास करते हैं। लेकिन हमेशा उबली सब्ज़ियों का सेवन करने से स्वादेंद्रियों को संतुष्टि प्राप्त नहीं होती, अतः कई लोग फ़ास्ट फ़ूड (fast food) की तरफ आकर्षित होते हैं। ये दिखने में स्वादिष्ट लगते हैं और आपको आनंद देते हैं। परन्तु हमेशा स्वाद के बारे में सोचकर इन अस्वास्थ्यकर भोजनों का सेवन करने से आपको कई बीमारियां हो सकती हैं। इससे एक व्यक्ति का वज़न ज़रुरत से ज़्यादा बढ़ जाता है, जिससे ना सिर्फ वह दिखने में अजीब लगता है, बल्कि इससे उसे कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं। नीचे मोटापे के कुप्रभावों पर चर्चा की गयी है।

ज़्यादा वज़न बढ़ने के स्वास्थ्य पर प्रभाव (List of health side effects of overweight or obesity/ obesity side effects in Hindi)

ज्यादा वेट के नुकसान उच्च रक्तचाप में (High blood pressure hai jaida weight ke nuksan)

जिन लोगों की त्वचा पर चर्बी की काफी मोटी परत होती है, उनके उच्च रक्तचाप की समस्या से ग्रस्त होने की संभावना काफी अधिक होती है। यह स्वास्थ्य की एक ऐसी स्थिति है जो मानव शरीर में तब उत्पन्न होती है, जब शरीर का रक्त मनुष्य के दिल की धमनियों की दीवारों की तरफ ज़्यादा दबाव डालने लगता है। अगर यह दबाव एक ही जगह पर कुछ समय से ज्यादा देर तक पड़ जाता है तो इससे मानव के ह्रदय की कई तरह से क्षति होने की संभावना बनने लगती है।

ज्यादा वेट के नुकसान कोरोनरी दिल की बीमारी (Effectiveness of obesity in Hindi causes coronary heart disease)

मोटापा के नुकसान, यह शरीर को होने वाला एक और बड़ा नुकसान है, जो ऐसी स्थिति में होता है जब शरीर में चर्बी के ज़रुरत से ज्यादा जम जाने से कोलेस्ट्रोल की मात्रा (cholesterol level) में काफी हद तक वृद्धि हो जाती है। मोटापा के नुकसान, इसके अंतर्गत प्लाक (plaque) नामक एक मोम जैसा पदार्थ मनुष्य की धमनियों के अन्दर काफी मात्रा में जमने लगता है। हमारे शरीर की धमनियों का साफ़ रहना दिल के लिए काफी आवश्यक है, क्योंकि ये हमारे रक्त में ऑक्सीजन (oxygen) का संचार करती हैं और यही रक्त हमारे ह्रदय में जाता है, जिससे इसका धड़कना जारी रहता है। पर यह प्लाक कोरोनरी धमनियों को बंद कर देता है, जिसके फलस्वरूप दिल का दौरा पड़ने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

अधिक वजन के नुकसान टाइप 2 मधुमेह में (Overweight effectiveness in Hindi leads to Type 2 diabetes se adik vajan ke nuksan)

अनियमित और अस्वस्थ खाने की आदतों की वजह से एक अन्य गंभीर स्वास्थ्य समस्या आपके सामने पेश आ सकती है, और वह है टाइप 2 मधुमेह। यह एक ऐसी स्थिति होती है, जिसके अंतर्गत आपके शरीर के रक्त में ग्लूकोस (glucose) की मात्रा काफी बढ़ जाती है। हमारे शरीर की एक तय प्रक्रिया होती है, जिसके अंतर्गत यह भोजन को ग्लूकोस के रूप में तोड़ता है। यहाँ से भोजन को तंतुओं (cells) में ले जाया जाता है, जहां रक्त में शुगर (sugar) की मात्रा को नियंत्रण में लाने के लिए इसमें इन्सुलिन (insulin) नामक हॉर्मोन (hormone) का संचार किया जाता है।

अधिक वजन के स्वास्थय नुक्सान, अत्याधिक वज़न के कारण कैंसर (Cancer due to overweight)

मोटे व्यक्तियों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी कई बीमारियों में से एक जानलेवा बीमारी, जिससे अत्याधिक वज़न वाले बुरी तरह प्रभावित हो सकते हैं, कैंसर है। कैंसर के कई प्रकार होते हैं, जिनसे अलग अलग कारणों की वजह से लोगों को निपटना पड़ता है। जिन व्यक्तियों का वज़न ज़रुरत से अधिक है, उन्हें कोलन कैंसर, एंडोमेट्रियल कैंसर, स्तन कैंसर तथा गॉल ब्लैडर के कैंसर (colon cancer, endometrial cancer, breast cancer and gallbladder cancer) का सामना करना पड़ता है।

ज्यादा वेट के स्वास्थय नुक्सान गॉलस्टोन्स (Gallstones hai jaida weight ke nuksan)

ऐसे कई लोग जो मोटापे से त्रस्त होते हैं, शरीर में गॉलस्टोन्स पैदा होने की समस्या से परेशान रहते हैं। गॉलस्टोन पत्थर का एक कड़ा टुकड़ा है, जो गॉल ब्लैडर के ऊपर जम जाता है। मोटापे के नुकसान (jada vajan ke nuksan), अतः आपके लिए बचाव के उपाय तैयार रखना काफी ज़रूरी है, जिससे कि आपके शरीर में गॉलस्टोन का उत्पादन ना हो सके। यह एक दर्दनाक स्वास्थ्य समस्या है, जिसके अंतर्गत पीड़ित व्यक्तियों को मूत्र का निकास (urination) करने के वक़्त काफी दिक्कतों एवं प्रचंड पीड़ा का सामना करना पड़ता है। मोटापे के नुकसान, जिन लोगों का वज़न ज्यादा होता है, वे भी ब्लैडर के बड़े हो जाने की समस्या से ग्रसित हो जाते हैं।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday