History of vitamins essential for human body in hindi – मानव शरीर के लिए आवश्यक विटामिन्स का इतिहास

पूरक पदार्थ आमतौर पर जैविक और प्राकृतिक होते हैं और शरीर में इनकी एक निर्धारित मात्रा में मौजूदगी अनिवार्य है।हमें खाद्य पदार्थों से विटामिन्स मिलते हैं क्योंकि मानव शरीर खुद से इनका उत्पादन करने में पूर्णतः असमर्थ है।एक जैविक पदार्थ में कार्बन डाइऑक्साइड मौजूद होता है। जब कोई मनुष्य कुछ पदार्थों का स्वतः उत्पादन करने में असमर्थ होता है जिसकी उसके शरीर को ज़रुरत होती है, तो उसे वो चीज़ें कुछ ख़ास खाद्य पदार्थों की मदद से ग्रहण करनी पड़ती हैं।इन्हीं पदार्थों को विटामिन्स एवं मिनरल्स कहते हैं।कोई भी विटामिन और मिनरल एक जैविक उत्पाद होता है जिसमें कार्बन की मात्रा होती है। ये विटामिन और मिनरल शरीर को खाद्य पदार्थों से प्राप्त करने पड़ते हैं।

कुछ विटामिन और मिनरल ऐसे भी होते हैं जो कि,मनुष्यों के लिए तो विटामिन और मिनरल ही होते हैं, परन्तु कई अन्य जानवरों के लिए नहीं होते। उदाहरण के तौर पर विटामिन और मिनरल एच यानी कि एस्कॉर्बिक एसिड मनुष्यों के लिए तो विटामिन तथा मिनरल की श्रेणी में आता है परन्तु कुत्तों के लिए नहीं, क्योंकि कुत्ते अपने शरीर की निर्धारित मात्रा के हिसाब से ये पदार्थ उत्पन्न कर सकते हैं, जबकि मनुष्यों के लिए ये करना संभव नहीं है। मेडिलेक्सिकोन की स्वास्थ्य आधारित पुस्तिका विटामिन और मिनरल जैविक और प्राकृतिक पदार्थ होते हैं। खाने में इनके होने से पाचन क्रिया में सुधार आता है। शरीर में इनकी मात्रा कम होने से कई प्रकार की बीमारियां हो सकती हैं।

वसा तथा पानी में घुलने वाले विटामिन के उत्पाद (Balanced vitamins and minerals are required)

साइनस के घरेलू उपचार, सुझाव और नुस्खे

कभी भी खानपान की सूची बनाते समय इस बात का ध्यान रखें कि किसी भी चीज़ की कमी हानिकारक हो सकती है। परन्तु किसी भी विटामिन या खनिज पदार्थों का ज़रुरत से ज़्यादा सेवन करने से भी शरीर को हानि ही होती है। शरीर में खून का उत्पादन करने के लिए आयरन (iron) एक काफी अच्छा विकल्प साबित होता है। खून एक ऐसी चीज़ है, जिसके बिना हम ज़िंदा नहीं रह सकते। अगर हम पर्याप्त मात्रा में शरीर में आयरन की खपत नहीं करते, तो हमें अनीमिया (anaemia) होने का ख़तरा हो सकता है। पर एक और खतरे की बात यह भी है कि अगर हम ज़रुरत से ज़्यादा मात्रा में आयरन का सेवन कर लेते हैं, तो इससे कई तरह की बीमारियों जैसे कोलोरेक्टल कैंसर (colorectal cancer), संक्रमण, जलन और सूजन की अवस्था, दिल की बीमारी, न्यूरो डीजेनेरेटिव समस्या (neurodegenerative disorder) और इसी तरह की अन्य समस्याएं पैदा होती हैं। शरीर में विटामिन की पर्याप्त मात्रा होने से खनिज पदार्थ की सही मात्रा आसानी से शरीर में समा जाती है। फॉस्फोरस (phosphorus) जैसे विटामिन शरीर की आतंरिक सुरक्षा, विकास और मरम्मत के लिहाज से काफी कारगर साबित होते हैं। शरीर में सही और संतुलित मात्रा में खनिज पदार्थों के होने से शरीर की सामान्य कार्यशीलता में बढ़ोत्तरी होती है और उसमें एक नयी जान आती है। खनिज पदार्थों का एक और गुण यह होता है कि वे हड्डियों का घनत्व बढ़ाकर इसे मज़बूती प्रदान करते हैं। आयरन काफी महत्वपूर्ण खनिज पदार्थों में से एक है और यह लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है। यह कोशिकाओं को क्रियाशील रखने में मदद करता है। आयरन हमारे शरीर में शक्ति में भी वृद्धि करता है, अतः आयरन की शरीर में कमी होने से आपको हमेशा कमज़ोरी लगती रहती है। अतः अपने खानपान में लेग्यूम्स (legumes), नट्स (nuts) तथा हरी पत्तेदार सब्ज़ियाँ शामिल करें।

आपको वसा में घुलने वाले तथा पानी में घुलने वाले विटामिन उत्पादों के बारे में पता होगा।वसा में घुलने वाले विटामिन उत्पाद आमतौर पर हमारे शरीर के अतिरिक्त चर्बी वाले भागों में, जैसे कि लिवर में मौजूद होते हैं। वसा में घुलने वाले विटामिन उत्पादों को पानी में घुलने वाले उत्पादों की तुलना में जमा करना आसान होता है जिससे कि वे शरीर की हर क्रिया में कई महीनों तक अपना सहयोग कर सकें।

त्वचा तथा सौंदर्य की देखभाल के लिए विटामिन्स

पानी में घुलने वाले विटामिन के उत्पाद शरीर में जमा नहीं रह पाते क्योंकि वे मूत्र द्वारा निकल जाते हैं । इसी वजह से शरीर को निरंतर पानी में घुलने वाले विटामिन उत्पादों को ग्रहण करने की आवश्यकता होती है। विटामिन ए, डी, इ और के वसा में घुलने वाले विटामिन उत्पाद होते हैं, वहीँ विटामिन सी और विटामिन बी के सारे अंश पानी में घुलने वाले विटामिन उत्पाद होते हैं।

सही खानपान के पूरक चुनें (Choose the correct food supplements for you or vitamin ke labh)

हीमे आयरन (heme iron) बीफ और चिकन के लिवर (liver), टर्की (turkey) और लाइट टूना (light tuna) में पाया जाता है। आयरन बीन्स, किडनी, मज़बूत टोफू, बीज और नट्स (beans, kidney, firm tofu, seeds and nuts) दालों और सीरियल्स (cereals), पालक आदि में पाया जाता है। विटामिन और मिनरल का सेवन सबको करना चाहिए। सिर्फ बच्चों ही नहीं, बल्कि उनकी माओं और परिवार के अन्य सदस्यों को भी इनके सेवन से काफी फायदा होगा। विटामिन की मदद से आप अपने वज़न में भी काफी कमी ला सकते हैं। यह एक जाना माना तथ्य है कि हमारे शरीर में 103 पोषक तत्व, खनिज और विटामिन होते हैं। खूबसूरत त्वचा और लम्बे एवं घने बाल प्राप्त करने के लिए पर्याप्त मात्रा में विटामिन और खनिज लेने ज़रूरी हैं। कुछ ख़ास जड़ीबूटियों और पूरक पदार्थों के सेवन से आपको खूबसूरत त्वचा और सुन्दर बाल प्राप्त होंगे। अच्छी गुणवत्ता के लिए बायोटिन (biotin) नामक विटामिन की ज़रुरत होती है। यह विटामिन बी (vitamin B) का एक प्रकार है। बायोटिन बालों की बढ़त को नियंत्रित करता है तथा उन्हें झड़ने से रोकता है। कीमोथेरेपी (chemotherapy) में काफी मात्रा में बाल झड़ते हैं, अतः मरीजों को बाल बढ़ाने के लिए बायोटिन की सलाह दी जाती है। बाल पतले होने की समस्या भी बायोटिन द्वारा दूर की जा सकती है। इसके कई गुण होते हैं। यह प्रोटीन, वसा और कार्बोहाइड्रेट्स (protein, fat and carbohydrates) को तोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बकरी के दूध, लिवर, स्विस चार्ड (swiss chard) आदि में बायोटिन पाया जाता है।

विटामिन से बालों को चमक दें (Vitamins can make your hair shinny hai vitamin ke fayde)

लीवर में फैट

एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) और विटामिन स्वस्थ बालों का राज़ है। एक और राज़ यह है कि अगर आप उम्रदराज त्वचा को दोबारा से खूबसूरत बनाना चाहती हैं तो विटामिन और खनिज पदार्थों का प्रयोग करें। एंटी एजिंग कॉस्मिस्युटिकल्स (anti-aging cosmeceuticals) में भी काफी मात्रा में विटामिन और खनिज पदार्थ होते हैं। ये टॉपिकल (topical) सौंदर्य उत्पाद होते हैं, जो अंदर से आपकी सुंदरता को बढ़ाते हैं और शरीर की कार्यशीलता में काफी इज़ाफ़ा करते हैं। इस प्रतियोगी बाज़ार में ऐसी कई कंपनियां हैं, जो आपके लिए बेहतरीन पूरक पदार्थ निर्मित करने का दावा करती हैं। भोजन के पूरक लेना काफी ज़रूरी है, पर इसी के साथ आपके अच्छे स्वास्थ्य और पूरे विकास में सहायता करने के लिए सही विटामिन के पूरक पदार्थ लेना ज़रूरी हैं। अच्छी गुणवत्ता वाले वीर्य के उत्पादन के लिए भी विटामिन्स काफी ज़रूरी हैं। अतः अपने सेक्स जीवन को सुखमय बनाने के लिए विटामिन और इसके पूरक पदार्थों का अवश्य सेवन करें। खनिज पदार्थ दो तरह के होते हैं – एक जैविक और दूसरा अजैविक। खनिजों का स्त्रोत आमतौर पर पानी आधारित होता है। यह हमें भोजन और पानी से प्राप्त होता है। पानी से प्राप्त खनिजों को अजैविक खनिज कहा जाता है।

विटामिन कितने प्रकार के होते है (Types of vitamins or vitamin ke prakar)

विटामिन ए (Vitamin A)

1. केमिकल ब्रांड (विटमिनर्स)- रेटिनॉल, रेटिनल और 4 करेटोनोइड्स जिसमें बीटा कैरोटीन प्रमुख है।

2. वसा में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से आपको रतौंधी और केराटोमलासिया हो सकता है। ये आँखों की एक ऐसी बीमारी है जिसमें आपका कॉर्निया सूख जाता है।

4. यह लिवर, कोड लिवरतेल, गाजर, गोभी, मक्खन, पालक, कद्दू, पनीर, आड़ू, अंडे आदि में पाया जाता है।

कमज़ोरी के असरदार घरेलू उपाय

विटामिन बी 1 (Vitamin B 1)

1. केमिकल ब्रांड या विटमिनर्स – थियामाईन

2. विटामिन बी के फायदे, पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से बेरीबेरी तथा वरनिक- कोरसाकॉफ सिंड्रोम हो सकता है।

4. यह फंगस, सूअर, अनाज, सूरजमुखी के बीज, काले चावल, फाइबर युक्त राई, फूलगोभी, अंगूर आदि में पाया जाता है।

विटामिन बी 2 (Vitamin B 2)

विटामिन ए का महत्त्व

1. केमिकल ब्रांड या विटामिनर- राइबोफ्लेविन

2. पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से अराइबो फ्लेविनोसिस हो सकता है।

4. यह ऐस्पैरागस, केले, ओकरा, पनीर, दही, मांस, समुद्री भोजन तथा प्राकृतिक एस्प्रेसो बीन्स में पाया जाता है।

विटामिन बी 3 (Vitamin B 3)

1. केमिकल ब्रांड्स या विटामिनर- नियासिन, नियासिनामाइड

2. पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से आपको पॅलाग्रा हो सकता है।

4. यह लिवर, किडनी, मांस, पत्तेदार सब्ज़ियों एवं फलों, समुद्री भोजन, गोभी, गाजर, मशरुम आदि में पाया जाता है।

विटामिन बी 4 (Vitamin B 4)

1. केमिकल ब्रांड या विटामिनर- पैन्टोथेनिक एसिडिटी

2. पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से पेरेस्थिसिया हो सकता है।

4. यह मटन, साबुत अनाज, गोभी, नाशपाती आदि में पाया जाता है।

विटामिन बी 6 (Vitamin B 6)

विटामिन सी -महत्त्व, कमी के कारण तथा लक्षण

1. केमिकल ब्रांड्स या विटामिनर- पाइरीडोक्सिन,पाइरिडॉक्सामाईन, पाइरीडॉक्सल

2. पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से अनीमिया तथा पेरीफेरल न्यूरोपैथी

4. यह मटन, केले, साबुत अनाज, फल और सब्ज़ियाँ आदि में पाया जाता है।

विटामिन बी 7 (Vitamin B 7)

1. केमिकल ब्रांड या विटमिनर- बायोटिन

2. पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से डर्मटाइटिस तथा एंटेराइटिस हो सकता है।

4. विटामिन के स्रोत, यह अंडे के पीले भाग, लिवर तथा कई फलों एवं सब्ज़ियों में पाया जाता है।

विटामिन के लाभ, विटामिन बी 8 (Vitamin B 8)

1. केमिकल ब्रांड्स या विटमिनर- फोलिक एसिडिटी, फोलिनिक एसिडिटी

2. पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. इसकी कमी से गर्भावस्था से जुडी एवं बच्चे के जन्म से जुडी समस्याएं हो सकती हैं।

4. यह पत्तेदार सब्ज़ियों एवं फलों में, सूखे बीन्स, लिवर, सूरजमुखी के बीज आदि में पाया जाता है।

खुबसूरत त्वचा पाने के लिए विटामिन

विटामिन बी 12 (Vitamin B 12)

1. केमिकल ब्रांड्स या विटमिनर्स – सियनोकोबालामिन, हाइड्रोक्सिकोबालामिन, मेथाइलकोबालामिन

2. पानी में घुलने वाला विटामिन उत्पाद।

3. विटामिन बी 12 की कमी के कारण से मेगालोब्लास्टिक अनीमिया हो सकता है।

4. विटामिन बी 12 के स्रोत, यह मांस, समुद्री भोजन तथा दुग्ध उत्पादों में पाया जाता है।

Subscribe to Blog via Email

Get Hindi tips to your inbox everyday